3 min read

मैं बैचेन और भयभीत क्यों अनुभव करता हूँ?

मेडिकली रिव्यूड

बैचेनी, एक असहजता या डर का अनुभव है। अपने जीवन में हर कोई एक समय बैचेनी का अनुभव करता है, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह एक लगातार रहने वाली समस्या होती है।

थोड़ी बहुत बैचेनी लाभदायक होती है, उदहारण के रूप में परीक्षा से पहले होने वाली चिंता आपको अधिक सावधान बना सकती है। इससे आपकी कार्यकुशलता व प्रदर्शन में सुधार हो सकता है, लेकिन बहुत अधिक चिंता से आप थकान महसूस करने लगते हैं । इसके चलते आप अपने काम पर पूरा ध्यान नहीं लगा पाते ।

बैचेनी होने के लक्षण

बैचेनी होना शारीरिक एवं मानसिक बीमारी दोनों प्रकार के संकेत हो सकते हैं। मनोवैज्ञानिक संकेतों में निम्नलिखित सम्मिलित हो सकते हैं:

  • परेशान रहना या बहुत देर तक असहज होना, ढंग से नींद न आना जिस कारण आप थके-थके से रहते हैं

  • किसी वस्तु पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकना

  • चिड़चिड़ापन

  • बहुत अधिक सावधानी बरतना या शंका करना

  • असंतुलित रहना या आराम से नहीं रह पाना

  • दूसरे लोगों से बार-बार आश्वासन या सहयोग मांगने की जरूरत पड़ना

  • आंखों में आँसू महसूस होना

    जब आप तनाव में होते हैं तो आपका शरीर तनाव वाले हॉर्मोन अड्रेलिन(adrenaline) और कोर्टिसोल(cortisol) बनाने लगता है, जिसके कारण चिंतित होने के शरीरिक लक्षण प्रकट होने लगते हैं। जैसे कि दिल की धड़कनों का बढ़ जाना और अधिक पसीना निकलना।

शरीरिक लक्षण के निम्न संकेत होते हैं:

  • दिल की धड़कन का तेज होना
  • जल्दी जल्दी सांस लेना
  • कपकपी होना
  • ऊबकायी आना
  • सीने में दर्द
  • सरदर्द
  • पसीना आना
  • भूख मर जाना
  • बेहोशी का अनुभव करना
  • बार बार बाथरूम जाने की आवश्यकता पड़ना
  • पेट गड़बड़ होना

हमेशा बैचेन रहना अन्य बीमारियों का भी संकेत हो सकता है, जैसे कि अचानक डर जाने की बीमारी (जब आप को पैनिक अटैक आए) आघात लगने के बाद तनाव में बने रहना, जो कि किसी भयानक घटना के होने के बाद होता है।

क्या चिंतित रहना आप के लिए बुरा है?

थोड़ी मात्रा में चिंता करना तो ठीक है लेकिन लगातार चिंता-ग्रस्त रहने से कई जटिल शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं जैसे कि ब्लड प्रेशर का बढ़ जाना (hypertension)। आपको संक्रमण का खतरा होने की संभावना भी बढ़ सकती है।यदि आप हमेशा चिंतित रहते हैं या यह आप के दैनिक कार्यकलापों में प्रभाव डालने लगती है तो आपको ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर हो सकता है।

बैचेन रहने या पैनिक करने पर सहायता

अब बैचेनी या घबराने की समस्या के लिए प्रभावशाली उपचार उपलब्ध है। यदि आप को उपरोक्त इलाज करना है तो अपने डॉक्टर से बात करें।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
सामाजिक चिंता(सामाजिक भय, social phobia)
विभिन्न सामाजिक परिस्थितियों तथा लोगों के आसपास होने से स्थाई रूप से पैदा होने वाले डर या चिंता को ही सामाजिक चिंता विकार या सोशल फोबिया कहा जाता है। ...