COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
22nd January, 20198 min read

उच्च रक्तचाप: कारण, लक्षण और बचाव

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

अपने स्वास्थ्य को लेकर लापरवाह होना आम बात है, विशेष रूप से तब जब आपके शरीर पर तुरंत कोई स्पष्ट प्रभाव न दिखे।

अस्वस्थ दिनचर्या के कारण उच्च रक्तचाप ((hypertension)) की समस्या उत्‍पन्न हो सकती है, लेकिन इसके स्‍पष्ट लक्षण कम ही पता चलते हैं।

ब्लड प्रेशर यूके (Blood Pressure UK),के अनुसार उच्च रक्तचाप से पी‍ड़ित केवल एक तिहाई लोग यह जानते हैं कि वे उन्हें इसकी समस्या है, हाँलाकि दुनिया भर में लगभग एक अरब लोग इससे प्रभावित हैं।

इससे आपके दिल और धमनियों पर अतिरिक्त दबाव उत्‍पन्न हो सकता है, जिससे दिल का दौरा (heart attack) और स्ट्रोक (stroke) जैसी जानलेवा स्थिति पैदा हो सकती है।

निम्न रक्तचाप या हाइपोटेंशन (hypotension) भी आपके शरीर को नुकसान पहुँचा सकता है, हालाँकि यह उतनी बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित नहीं करता है और आमतौर पर कोई दीर्घकालिक बीमारी या आपके द्वारा ली जा रही दवाओं के सेवन के कारण उत्पन्न होता है।

इस लेख में, आप रक्तचाप परीक्षण के बारे में जानेंगे, कि उच्च रक्तचाप की रोकथाम किस प्रकार की जा सकती है और इसका उपचार कैसे किया जा सकता है।

ब्लड प्रेशर जाँच (Blood pressure testing)

किसी विशेषज्ञ से अपने ब्लड प्रेशर की जाँच कराना

UK गाइडलाइंस के अनुसार, 40 वर्ष से अधिक आयु वाले सभी पुरुषों को प्रत्येक पाँच वर्षों में अपने ब्लड प्रेशर की जाँच करानी चाहिए।

आप निम्न में से किसी की भी सहायता से अपने ब्लड प्रेशर की जाँच करा सकते हैं:

  • अपने डॉक्टर की सहायता से
  • किसी फार्मासिस्ट की सहायता से

अपने ब्‍लड प्रेशर के परीक्षण से पहले आपके रक्तचाप में होने वाली अचानक वृद्धि से बचने के लिए आप कुछ तरीके अपना सकते हैं, जैसे परीक्षण से एक घंटे पहले खाना खाने, कैफ़ीन वाले पदार्थों का सेवन करने, धूम्रपान या व्यायाम करने से बचें।

आपको अपने पैरों को तनावमुक्त कर लगभग पाँच मिनट आराम से बैठना चाहिए, ताकि आप शांत हो सकें।
आमतौर पर एक ऑटोमैटिक ब्लड प्रेशर डिवाइस का उपयोग किया जाएगा। आपको अपनी किसी एक आस्तीन को ऊपर चढ़ाकर बाँह को सामने रखना होगा ताकि यह हृदय के समानांतर आ जाए। इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए छोटी या ढीली आस्तीन वाले कपड़े पहनें। डिवाइस के कफ़ को आपकी बाँह के ऊपरी हिस्से पर कसा जाता है।

कफ़ को कुछ सेकंड कसने के बाद इसे ढीला छोड़ दिया जाता है। ऐसा करने दौरान आपको असहज महसूस हो सकता है, लेकिन यह प्रक्रिया ज्यादा देर तक नहीं चलेगी। इसके बाद परीक्षण का परिणाम डिवाइस पर देखा जा सकता है।

यदि आपका रक्तचाप बढ़ा है, तो आपको घर पर और भी कई बार इसे जाँचने की आवश्यकता हो सकती है या 24-घंटे मॉनीटर करने वाला डिवाइस पहनना शुरु करें। ऐसा इसलिए क्योंकि ब्लड प्रेशर दिन भर बदलता रहता है और आपको अपने परिणामों की पुष्टि के लिए एक से अधिक बार परीक्षण करने की आवश्यकता हो सकती है।
ऐसे व्यक्ति जिनमें उच्च रक्तचाप की पुष्टि की गई हो उन्हें अपने ब्लड प्रेशर की जाँच अक्सर करते रहना चाहिए।

घर पर अपने रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) की जाँच करना

यदि आप अपने ब्लड प्रेशर की जाँच बार-बार करना चाहते हैं, तो निजी ब्लड प्रेशर मॉनीटर डिवाइस खरीद लेना एक अच्छा विकल्प है।

इसे खरीदने से पहले, यह जाँच लें कि यह क्लिनिकली अप्रूव्ड है।
आप ब्रिटिश हाइपरटेंशन सोसायटी - British Hypertension Society (BHS) की वेबसाइट पर विधिमान्य रक्तचाप मॉनीटर की सूची प्राप्त कर सकते हैं।

ब्लड प्रेशर का मापन पारे (mercury) के मि‍लीमीटर (mmHg) में किया जाता है। यदि आप नीचे दिए गए दो मॉनीटरों में से किसी एक का उपयोग कर अपने ब्लड प्रेशर की जाँच करते हैं, तो आपको दो आंकड़े दिखाई देंगे:

  • सिस्टॉलिक प्रेशर (Systolic pressure) (आपके हृदय द्वारा बाहर की ओर रक्त फेंके जाने के दौरान मापा गया प्रेशर)
  • डायस्टॉलिक प्रेशर (Diastolic pressure) (आपके हृदय के धड़कने के बीच हृदय के आराम करने के दौरान मापा गया प्रेशर)

सिस्टॉलिक प्रेशर ((Systolic pressure) आपके ब्लड प्रेशर मापन की उच्च रीडिंग है और डायस्टॉलिक प्रेशर (Diastolic pressure) निम्न संख्या है।

एक सामान्य गाइडलाइन के रूप में:

  • आदर्श ब्लड प्रेशर 90/60 mmHg और 120/80 mmHg के मध्य होता है
  • उच्च ब्लड प्रेशर 140/90 mmHg या इससे अधिक को माना जाता है
  • निम्न ब्लड प्रेशर 90/60 mmHg या इससे कम को कहा जाता है

यदि आपने अपने ब्लड प्रेशर की जाँच घर पर की है और यह उच्च या निम्न है तो आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

उच्च रक्तचाप के लक्षण

उच्च रक्तचाप (ब्‍लड प्रेशर) वाले अधिकांश लोगों में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। उच्च रक्तयाप की पुष्टि के लिए आमतौर पर इसकी जाँच कराने की आवश्यकता होती है।
हालाँकि, यदि कुछ मामलों में जहाँ किसी व्यक्ति का रक्तचाप अधिक बढ़ा होता है, तो उन्हें निम्न लक्षण अनुभव हो सकते हैं:

  • सिरदर्द
  • धुँधला या दोहरा दिखाई देना
  • नाक से खून का बहना

यदि आप निम्न में से कोई लक्षण अनुभव करते हैं तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।

उच्च रक्तचाप के कारण

उच्च रक्तचाप आमतौर पर 140/90 mmHg या इससे अधिक के मापन को कहा जाता है।
ऐसे मुख्य कारक जो आपके शरीर में उच्च रक्तचाप के जोखिम को बढ़ाते हैं, उनमें शामिल हैं:

  • आयु (उम्र बढ़ने के साथ इसका खतरा भी बढ़ता जाता है)
  • अफ्रीकी या कैरेबियाई मूल का होना
  • व्यायाम नहीं करना
  • मोटापा (obese)
  • रोज़ाना अल्कोहल का अत्‍यधिक सेवन करना
  • धूम्रपान
  • बार-बार नींद में कमी होना (sleep deprivation)
  • रोज़ाना बहुत ज्यादा नमक का सेवन करना (प्रतिदिन 6g से अधिक)
  • उच्च रक्तचाप का पारिवारिक इतिहास होना

यदि आपको खतरा अधिक है, तो आपको बार-बार रक्तचाप की जाँच करानी चाहिए। स्वस्थ जीवनशैली का पालन कर उच्च रक्तचाप की रोकथाम करने में मदद मिल सकती है।

ऐसा कम ही देखा गया है, कि किसी पुरानी बीमारी, दवाई या नशीली दवाई (recreational drug) के उपयोग से उच्च रक्तचाप की समस्या उत्‍पन्‍न हो।

ऐसी कुछ परिस्‍थितियाँ निम्न हैं, जिनके कारण उच्च रक्तचाप की समस्या पैदा हो सकती है:

  • गुर्दे के रोग
  • ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (Obstructive sleep apnoea )
  • ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस (Glomerulonephritis)
  • हार्मोन समस्याएँ (जिसमें अंडरएक्टिव थाइरॉइड (underactive thyroid), ओवरएक्टिव थाइरॉइड (overactive thyroid), कुशिंग्‍स सिंड्रोम (Cushing's syndrome, acromegaly), एक्रोमेगली (acromegaly), हाइपरएल्डोस्‍टीरोनिज्‍म (hyperaldosteronism), और फाइक्रोमोसीटॉमा (phaeochromocytoma) शामिल हैं
  • स्कलेरोडर्मा (Scleroderma)

ऐसी कुछ दवाइयाँ जिनसे उच्च रक्तचाप उत्‍पन्‍न हो सकता है, निम्न हैं:

  • स्‍टेरॉइड दवाइयाँ (Steroid medication)
  • ओरल कंट्रासेपटिव गोली (The oral contraceptive pill)
  • हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी (Hormone replacement therapy)
  • कुछ प्राकृतिक दवाइयाँ (विशेष रूप से जिनमें मुलेठी का उपयोग किया गया हो)
  • कुछ नशीली दवाइयाँ (जैसे कोकेन और एम्फेटामाइंस)
  • कुछ कीमोथैरेपी ( chemotherapy) और इम्‍यूनोसप्रेसेंट(immunosuppressants) (जैसे टेक्रोलीमस (Tacrolimus) और सायक्लोस्पोरिन (cyclosporine))

उच्च रक्तचाप से बचाव

उच्च रक्तचाप की रोकथाम करने का सबसे अच्‍छा तरीका है स्वस्थ जीवनशैली की आदतें अपनाना, जैसे:

  • संतुलित आहार लेना
  • कम मात्रा में वसा का सेवन करना
  • दिन में 6 ग्राम (एक छोटा चम्मच) से अधिक नमक का सेवन न करना
  • नियमित रूप से व्यायाम करना (प्रति सप्ताह - कम से कम 2 घंटे 30 मिनट की मॉडेरेट-इंटेंसिटी एक्सरसाइज जैसे जॉगिंग करना)
  • यदि आपका वज़न सामान्य से अधिक है, तो इसे कम करना
  • अल्कोहल का कम सेवन करना (प्रति सप्ताह 3 दिनों में 14 पैग से अधिक नहीं लेना)
  • धूम्रपान नहीं करना
  • कैफ़ीन से बचना (जो चाय, कॉफ़ी और एनर्जी ड्रिंक में पाया जाता है)
  • रोज़ाना रात में पर्याप्त नींद लेना (प्रति रात्रि कम से कम 6 घंटे)

यदि उपरोक्त तरीके अपनाने के बाद भी आपको उच्च रक्तचाप की शिकायत रहती है, तो डॉक्टर की सलाह लें।

उच्च रक्तचाप को कम कैसे करें

यदि आपके शरीर में उच्च रक्तचाप की पुष्टि की गई है, तो आपको यथासंभव स्वस्थ जीवन शैली अपनाने का प्रयास करना चाहिए, जैसा ऊपर के खंड में बताया गया है।

आपका डॉक्टर आपको दवा लेने की सलाह दे सकते हैं, जिसे आपको अनिश्चित काल तक लेना पड़ सकता है।
हालाँकि, यदि पिछले कई वर्षों से आपका रक्तचाप आदर्श रहा है, तो आपका डॉक्टर आपकी खुराक को कम कर सकता है या इसे पूरी तरह से बंद कर सकता है। यद्यपि आपके रक्तचाप की जाँच समय-समय पर की जाती रहेगी।

कुछ लोगों को साइड इफ़ेक्ट्स की समस्या होती है, लेकिन यदि आपको लगता है कि आपकी दवाई आपके लिए उपयुक्त नहीं है तो अपने डॉक्टर की सलाह लें।

यदि किसी पुरानी बीमारी या दवाई के कारण उच्च रक्तचाप की समस्या पैदा होती है, तो थैरेपी या उपचार के तरीके में परिवर्तन करने से लाभ मिलने की संभावना होती है।

निष्कर्ष

स्वस्थ जीवन शैली अपनाने से आपको एक सामान्य रक्तचाप बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

यदि आपको उच्च रक्तचाप का अधिक जोखिम है, तो ऐसा करना और भी अधिक महत्‍वपूर्ण हो जाता है। अधिक जोखिम वाले लोगों को समय-समय पर रक्तचाप की जाँच कराते रहना चाहिए।

यदि आपके लक्षण उच्च या निम्न रक्तचाप के हैं, या आपके घर पर किए गए परीक्षण के परिणाम आदर्श सीमा से परे हैं, तो अपने डॉक्टर की सलाह लें।

वे इस बात का पता लगा सकते हैं कि क्या कोई मौजूदा बीमारी या दवाई इसका कारण बनी है।

उच्च रक्तचाप का निदान करने के लिए आपको आमतौर पर अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करने होंगे। डॉक्टर आपको दवा लेने की सलाह भी दे सकते हैं।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।