COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
15 min read

ब्लड टेस्ट (Blood test)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

ब्लड टेस्ट क्या है? (What is a blood test)

ब्लड टेस्ट (Blood test) के कई उपयोग हैं और ये सबसे आम प्रकार के मेडिकल टेस्ट में से एक है।

उदाहरण के लिए, ब्लड टेस्ट का उपयोग किया जा सकता है:

● आपके स्वास्थ्य की सामान्य स्थिति का आकलन करने के लिए

● यह जानने के लिए कि क्या आपको संक्रमण है

● यह देखने के लिए कि लिवर (Liver) और गुर्दे (Kidneys) जैसे कुछ अंग कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं

● कुछ आनुवंशिक स्थितियों को स्क्रीन करने के लिए

अधिकांश ब्लड टेस्ट को पूरा करने में केवल कुछ मिनट लगते हैं और ये स्थानीय अस्पताल में एक डॉक्टर, नर्स या फ्लेबोटोमिस्ट (Phelebotomist) (रक्त के नमूने लेने के विशेषज्ञ) द्वारा किया जाता है।

कुछ सामान्य ब्लड टेस्ट के बारे में पढ़ें।

ब्लड टेस्ट की तैयारी (Preparing for a blood test)

आपके ब्लड टेस्ट की व्यवस्था करने वाले स्वास्थ्यकर्मी आपको बताएंगे कि क्या टेस्ट से पहले किसी विशेष निर्देश का पालन करने की आवश्यकता है।

उदाहरण के लिए, ब्लड टेस्ट के प्रकार के आधार पर, आपको ये कहा जा सकता है:

● 12 घंटे तक पानी के अलावा कुछ भी खाने या पीने से बचें (उपवास) - पूछें कि ब्लड टेस्ट होने से पहले क्या मैं खा-पी सकता हूं?

● कुछ निश्चित दवाओं का सेवन बंद करें - पूछें कि ब्लड टेस्ट होने से पहले क्या मैं दवा ले सकता हूँ?

आपको दिए गए निर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह टेस्ट के परिणाम को प्रभावित कर सकता है और इसका मतलब है कि टेस्ट को विलंबित करने या फिर से किए जाने की आवश्यकता हो सकती है।

ब्लड टेस्ट के दौरान क्या होता है? (What happens during a blood test)

ब्लड टेस्ट में आमतौर पर आपकी बाजू में से एक रक्त वाहिका से रक्त का एक नमूना लेना होता है।

बाजू उपयोग करने के लिए शरीर का एक सुविधाजनक हिस्सा है क्योंकि बाजू से कमीज आसानी से ऊपर किया जा सकता है। सैंपल लेने का सामान्य स्थान कोहनी या कलाई के अंदर होता है, जहाँ की नसें सतह के करीब होती हैं।

बच्चों से रक्त के नमूने अक्सर हाथ के पीछे से लिए जाते हैं। नमूना लेने से पहले उनकी त्वचा को एक विशेष स्प्रे या क्रीम के साथ सुन्न किया जा सकता है।

आमतौर पर आपकी बांह के ऊपर चारों ओर एक तंग बैंड (टूर्निकेट - Tourniquet) लगाया जाता है। यह हाथ को निचोड़ता है, अस्थायी रूप से रक्त के प्रवाह को धीमा कर देता है और इससे नस सूज जाती है; इसकी वजह से नमूना लेना आसान हो जाता है।

नमूना लेने से पहले, डॉक्टर या नर्स एंटीसेप्टिक वाइप (Antiseptic wipe) के साथ त्वचा के हिस्से को साफ कर सकते हैं।

एक सिरिंज या विशेष कंटेनर से जुड़ी सुई को नस में डाला जाता है। सिरिंज का उपयोग आपके रक्त का एक नमूना निकालने के लिए किया जाता है। सुई के अंदर जाते ही आपको हल्की चुभन या खरोंच महसूस हो सकती है, लेकिन यह दर्दनाक नहीं होनी चाहिए। यदि आप सुई और खून पसंद नहीं करते हैं, तो उस व्यक्ति को बताएं जो नमूना ले रहा है ताकि वो आपको अधिक सहज कर सके।

जब नमूना ले लिया गया हो, तो सुई को हटा दिया जाएगा। कॉटन-वूल पैड (Cotton wool pad) का उपयोग करके कुछ मिनटों के लिए त्वचा पर दबाव डाला जाता है। छोटे घाव को साफ रखने के लिए इस पर प्लास्टर लगाया जा सकता है।

टेस्ट के बाद (After the test)

टेस्ट के दौरान केवल थोड़ी मात्रा में खून लिया जाता है ताकि इसके बाद आपको कोई महत्वपूर्ण प्रभाव महसूस न हो।

हालांकि, कुछ लोगों को टेस्ट के दौरान और बाद में चक्कर और बेहोशी महसूस होती है। यदि आपके साथ अतीत में ऐसा हुआ है, तो टेस्ट करने वाले व्यक्ति को बताएं ताकि वो ध्यान रखे और आपको अधिक सहज महसूस करने में मदद कर सके।

टेस्ट के बाद, सुई लगने कि जगह पर एक छोटा चोट का निशान (Bruise) पड़ सकता है। जो दर्दनाक हो सकता है, लेकिन आमतौर पर हानिरहित होता है और अगले कुछ दिनों में फीका पड़ जाता है।

ब्लड टेस्ट के परिणाम (Blood test results)

ब्लड का नमूना ले लेने के बाद, इसे एक बोतल में डाल दिया जाएगा और आपके नाम और विवरण के साथ लेबल किया जाएगा। फिर इसे एक प्रयोगशाला में भेजा जाएगा जहां इसकी जांच माइक्रोस्कोप से या रसायनों के साथ की जाएगी, जो कि इस पर निर्भर करता है कि किस चीज़ की जाँच करनी है ।

परिणाम वापस अस्पताल या आपके डॉक्टर को भेजे जाते हैं। कुछ परीक्षण परिणाम उसी दिन या कुछ दिनों बाद तैयार होंगे, हालांकि अन्य में कुछ हफ्ते लग सकते हैं। आपको बता दिया जाएगा कि आपके परिणाम कब तैयार होंगे और आपको कैसे दिए जाएंगे।

कभी-कभी, परिणाम प्राप्त करना तनावपूर्ण और परेशान करने वाला हो सकता है। यदि आप परीक्षण के परिणाम को लेकर चिंतित हैं, तो आप अपने साथ एक विश्वसनीय दोस्त या रिश्तेदार ले जा सकते हैं। कुछ परीक्षणों, जैसे HIV के लिए, आपको अपने परिणामों से सहज होने में मदद करने के लिए विशेषज्ञ के परामर्श की पेशकश की जाएगी।

ब्लड टेस्ट - उदाहरण

ब्लड टेस्ट

उदाहरण

ब्लड टेस्ट्स का कई स्थितियों में उपयोग किया जा सकता है, जैसे कि किसी बीमारी का परीक्षण करने में मदद करने के लिए, कुछ अंगों के स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए या कुछ आनुवंशिक स्थितियों की स्क्रीनिंग करने के लिए।

यह पृष्ठ आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले निम्नलिखित ब्लड टेस्ट्स का वर्णन करता है:

● ब्लड कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (blood cholesterol test)

● ब्लड कल्चर (blood culture)

● ब्लड गैस टेस्ट (blood gases test)

● ब्लड ग्लूकोस (रक्त शर्करा) परीक्षण (blood glucose test)

● ब्लड टाइपिंग (blood typing)

● कैंसर ब्लड टेस्ट (cancer blood test)

● गुणसूत्र परीक्षण (करियोटाइपिंग) (chromosome testing)

● जमावट परीक्षण और अंतर्राष्ट्रीय सामान्यीकृत अनुपात (INR) (coagulation tests & international normalised ratio)

● सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) टेस्ट (C-reactive protein test)

● इलेक्ट्रोलाइट टेस्ट (Electrolyte test)

● एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन रेट (ESR) (Erythrocyte sedimentation rate)

● फुल ब्लड काउंट (FBC) (full blood count)

● आनुवंशिक टेस्टिंग और स्क्रीनिंग (genetic testing & screening)

● लीवर फंक्शन टेस्ट (liver function test)

● थायराइड फंक्शन टेस्ट (thyroid function test)

ब्लड में कोलेस्ट्रॉल का टेस्ट (Blood cholesterol test)

कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) एक वसायुक्त पदार्थ है जो ज्यादातर आपके भोजन में वसायुक्त खाद्य पदार्थों से लीवर द्वारा बनाया जाता है और यह शरीर के सामान्य कामकाज के लिए महत्वपूर्ण है।

कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) का उच्च स्तर होने से गंभीर समस्याओं जैसे कि हार्ट अटैक (/ हालत / हार्ट-अटैक) और [स्ट्रोक] के खतरे में वृद्धि हो सकती है।

ब्लड में कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) के स्तर को एक साधारण ब्लड टेस्ट से मापा जा सकता है। आपको यह कहा जा सकता है कि टेस्ट से पहले 12 घंटे तक कुछ न खाएं (जिसमें आमतौर आपके सोने का समय भी शामिल होता है) ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सभी भोजन पूरी तरह से पच गए हैं और परिणाम को प्रभावित नहीं करेंगे, हालांकि यह हमेशा आवश्यक नहीं है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) के निदान के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें और लैब टेस्ट ऑनलाइन यूके पर कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) टेस्ट्स के बारे में पढ़ें।

ब्लड कल्चर (Blood culture)

इसमें आपकी बाजू पर एक नस में से और आपके शरीर के अन्य एक या अधिक हिस्सों से ब्लड का एक छोटा सा नमूना लेना शामिल है।

इन नमूनों को बैक्टीरिया (Bacteria) के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए बनाये गए पोषक तत्वों के साथ मिलाया जाता है। ये यह दिखाने में मदद कर सकता है कि आपके रक्त में कोई बैक्टीरिया मौजूद है या नहीं।

आमतौर पर दो या दो से अधिक नमूनों की जरूरत होती है।

लैब टेस्ट ऑनलाइन यूके पर ब्लड कल्चर (Blood culture) के बारे में और पढ़ें।

ब्लड गैस टेस्ट (Blood gases test)

ब्लड गैसों का एक नमूना आमतौर पर कलाई पर धमनी से लिया जाता है। इसके दर्दनाक होने की संभावना है और ऐसा केवल अस्पताल में ही किया जाता है।

आपके ब्लड में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के संतुलन और अम्ल और क्षार के संतुलन (पीएच संतुलन) की जांच के लिए एक ब्लड गैस टेस्ट (Blood gas test) का उपयोग किया जाता है।

पीएच (pH) असंतुलन के कारण हो सकते है:

● आपके श्वसन तंत्र (Respiratory system) की समस्याएं, जैसे निमोनिया (Pneumonia) या क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD)

● आपके मेटाबोलिज्म (भोजन को ऊर्जा में तोड़ने के लिए शरीर द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली रासायनिक प्रतिक्रियाएं) (metabolism) को प्रभावित करने वाली समस्याएं जैसे कि मधुमेह (diabetes), किडनी फेल होना या लगातार उल्टी।

ब्लड ग्लूकोस (ब्लड सुगर) टेस्ट्स (Blood glucose tests)

ब्लड में सुगर (ग्लूकोज) के स्तर की जाँच करके मधुमेह (Diabetes) के परीक्षण और निगरानी के लिए कई परीक्षणों का उपयोग किया जा सकता है।

इनमें शामिल हैं:

● खाली पेट ग्लूकोज टेस्ट (Glucose test) - जहां आपके ब्लड में ग्लूकोज (glucose) का स्तर कम से कम आठ घंटे तक के उपवास (पानी पीने के अलावा कुछ भी नहीं खाना) के बाद जांचा जाता है

● ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (Glucose tolerance test) - जहां आपके ब्लड में ग्लूकोज का स्तर उपवास के बाद जांचा जाता है, और फिर ग्लूकोज युक्त पेय देने के दो घंटे बाद जांचा जाता है

● HbA1C परीक्षण - पिछले तीन महीनों में आपके औसत ब्लड सुगर के स्तर की जांच करने के लिए आपके डॉक्टर या अस्पताल में किया गया टेस्ट

ब्लड ग्लूकोस टेस्ट किट (Blood glucose test kit) घर पर उपयोग करने के लिए उपलब्ध हो सकते हैं। परीक्षण के लिए सुई को हल्के से चुभोने की आवश्यकता होती है।॰

ब्लड टाइपिंग (Blood typing)

यह रक्त दान करने या रक्त संचार करने से पहले किया जाता है, ताकि यह जांचा जा सके कि आपका ब्लड ग्रुप क्या है।

यदि आपको ऐसा ब्लड दिया गया था जो आपके ब्लड ग्रुप से मेल नहीं खाता था, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) पर हमला कर सकती है, जो संभावित रूप से जानलेवा जटिलताओं का कारण बन सकता है।

गर्भावस्था के दौरान भी ब्लड टाइपिंग (Blood typing) का उपयोग किया जाता है, क्योंकि इस बात का एक एक छोटा सा ख़तरा है कि अजन्मे बच्चे का ब्लड ग्रुप अपनी माँ से अलग हो सकता है, जिससे माँ की प्रतिरक्षा प्रणाली उसके बच्चे की लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) पर हमला कर सकती है। इसे रीसस (rhesus) रोग के रूप में जाना जाता है।

यदि आपको पहले से ही अपने ब्लड टाइप का पता नहीं है, तो आपके ब्लड का गर्भावस्था के दौरान कम से कम एक बार परीक्षण किया जाएगा ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि क्या रीसस (rhesus) बीमारी का खतरा है। रीसस (rhesus) रोग के निदान के बारे में और पढ़ें।

यदि टेस्टिंग से पता चलता है कि रीसस (rhesus) रोग का खतरा है, तो एक दवा का इंजेक्शन दिया जा सकता है जो मां की प्रतिरक्षा प्रणाली को बच्चे की रक्त कोशिकाओं (Blood cells) पर हमला करने से रोकता है। रीसस (rhesus) रोग को रोकने के बारे में और पढ़ें।

कैंसर ब्लड टेस्ट्स (Cancer blood tests)

यदि आपको किसी खास तरह के कैंसर होने का खतरा है, तो कुछ कैंसर का पता लगाने या जांचने में मदद के लिए कई ब्लड टेस्ट्स किए जा सकते हैं।

इनमें निम्न के लिए परीक्षण शामिल हैं:

● प्रोस्टेट-स्पेसिफिक एंटीजेन (PSA) - इससे प्रोस्टेट कैंसर का निदान करने में मदद मिल सकती है, हालांकि यह अन्य समस्याओं जैसे कि बढ़े हुए प्रोस्टेट या प्रोस्टेटाइटिस का भी पता लगा सकता है

● CA125 प्रोटीन - CA125 नामक प्रोटीन डिम्बग्रंथि (Ovarian) के कैंसर का संकेत कर सकता है, हालांकि यह गर्भावस्था या पेल्विक इन्फ्लेमेट्री बीमारी (pelvic inflamatory disease) जैसी अन्य चीजों का संकेत भी हो सकता है।

● BRCA1 और BRCA2 जीन - इन जीनों के कुछ संस्करण एक महिला में स्तन कैंसर और डिम्बग्रंथि (Ovarian) के कैंसर के विकास की संभावनाओं को बढ़ा सकते हैं; यदि आपके परिवार में इस प्रकार के कैंसर होते हैं तो यह टेस्ट किया जा सकता है।

गुणसूत्र टेस्टिंग (karyotyping) (Chromosome testing)

यह क्रोमोसोम (Chromosome) (गुणसूत्र) नामक आनुवंशिक (genetic) सामग्री की जांच करने के लिए एक टेस्ट है।

गुणसूत्रों की गिनती करके (प्रत्येक कोशिका में 23 जोड़े होने चाहिए) और उनके आकार की जांच करके, आनुवंशिक असामान्यताओं का पता लगाना संभव हो सकता है।

गुणसूत्र परीक्षण (Chromosome testing) का उपयोग किया जा सकता है:

● सेक्स विकास (DSDs) के विकारों, जैसे एंड्रोजन (androgen) असंवेदनशीलता सिंड्रोम के निदान में मदद करने के लिए

● उन जोड़ों के लिए, जिन्होंने बार-बार गर्भपात का अनुभव किया है, यह देखने के लिए कि क्या एक क्रोमोसोमल समस्या इसकी जिम्मेदार हो सकती है।

रक्त जमावट परीक्षण (Coagulation tests)

रक्त जमावट परीक्षण (Coagulation test) का उपयोग यह देखने के लिए किया जा सकता है कि आपका रक्त सामान्य तरीके से जमता है या नहीं।

यदि आपके रक्त के थक्के बनने में लंबा समय लगता है, तो यह रक्तस्राव विकार जैसे हीमोफिलिया (Haemophilia) या वॉन विलेब्रांड रोग (von Willebrand disease) का संकेत हो सकता है।

एक प्रकार का रक्त जमावट (Coagulation test) परीक्षण जिसे अंतरराष्ट्रीय सामान्यीकृत अनुपात (INR) कहा जाता है, का उपयोग एंटिकोआगुलंट्स (anticoagulants) की खुराक पर नज़र रखने के लिए किया जाता है, जैसे कि वारफारिन] (/ condition / anticoagulants-warfarin), और जाँच करने के लिए कि आपकी खुराक सही है। अपनी थक्कारोधी खुराक की निगरानी के बारे में और पढ़ें।

सी-रिएक्टिव प्रोटीन (सीआरपी) टेस्ट (C-reactive protein test)

यह एक और परीक्षण है जो सूजन का कारण बनने वाली स्थितियों का पहचान करने में मदद करता है।

सीआरपी लीवर द्वारा निर्मित होता है और यदि सामान्य से अधिक सीआरपी इकट्ठी होती है, तो यह आपके शरीर में सूजन का संकेत है।

इलेक्ट्रोलाइट टेस्ट (Electrolyte test)

इलेक्ट्रोलाइट्स वैसे खनिज हैं जो शरीर में पाए जाते हैं; जिनमें सोडियम, पोटेशियम और क्लोराइड शामिल हैं।

जो आपके शरीर में एक स्वस्थ जल संतुलन बनाए रखने जैसे कार्य करते हैं।

इलेक्ट्रोलाइट्स (Electrolytes) के स्तर में परिवर्तन के विभिन्न संभावित कारण हो सकते हैं, जिसमें निर्जलीकरण, मधुमेह (diabetes) या कुछ दवाएं शामिल हैं।

एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन रेट (ESR) (Erythrocyte sedimentation rate)

यह टेस्ट यह माप कर काम करता है कि लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) को एक परीक्षण ट्यूब के नीचे गिरने में कितना समय लगता है। जितनी जल्दी वे गिरते हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि सूजन के उच्च स्तर हैं।

ESR का उपयोग अक्सर सूजन से जुड़ी स्थितियों के निदान में मदद करने के लिए किया जाता है, जैसे:

● गठिया (arthritis)

एन्दोकार्दितिस (endocarditis)

क्रोन रोग (Crohn’s disease)

● विशाल कोशिका धमनीशोथ (giant cell arteritis)

●पोलिमेल्जिया रुमेटिका ( polymyalgia rheumatica)

अन्य परीक्षणों के साथ, एक ESR यह पुष्टि करने में भी उपयोगी हो सकता है कि आपको संक्रमण है या नहीं।

फुल ब्लड काउंट (Full blood count (FBC))

यह आपके रक्त में कोशिकाओं के प्रकार और संख्या की जांच करने के लिए एक टेस्ट है, जिसमें लाल रक्त कोशिकाएं (Red blood cells), सफेद रक्त कोशिकाएं (White blood cells) और प्लेटलेट्स (Platelets) शामिल हैं।

यह आपके सामान्य स्वास्थ्य का संकेत देने में मदद कर सकता है, साथ ही साथ आपको कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में महत्वपूर्ण सुराग प्रदान कर सकता है।

उदाहरण के लिए, एक FBC निम्नलिखित के संकेतों का पता लगा सकता है:

● आयरन की कमी से एनीमिया या विटामिन बी 12 की कमी से होने वाला एनीमिया (iron deficiency anaemia or vitamin B12 deficiency anaemia)

● संक्रमण या सूजन (infection or inflamation)

● रक्तस्राव या क्लॉटिंग विकार (bleeding or clotting disorders)

आनुवंशिक टेस्टिंग और स्क्रीनिंग (Genetic testing & Screening)

इसमें आपके रक्त से DNA का एक नमूना निकालना और फिर उस नमूने में एक विशिष्ट आनुवंशिक परिवर्तन (उत्परिवर्तन) खोजना शामिल है।

इस तरह से निदान की जा सकने वाली आनुवंशिक स्थितियों में शामिल हैं:

● हीमोफिलिया (Haemophilia) - एक ऐसी स्थिति जो रक्त के थक्के बनने की क्षमता को प्रभावित करती है

● सिस्टिक फाइब्रोसिस (Cystic fibrosis) - एक ऐसी स्थिति जो फेफड़ों में चिपचिपे बलगम के निर्माण का कारण बनती है

● स्पाइनल पेशी शोष (Spinal muscular atrophy) - एक ऐसी स्थिति जिसमें मांसपेशियों में कमजोरी और चलने फिरने की दिक्कत होती है

● सिकल सेल एनीमिया (Sickle cell anaemia) - एक ऐसी स्थिति जो सामान्य लाल रक्त कोशिकाओं (Red blood cells) की कमी का कारण बनती है।

पॉलीसिस्टिक किडनी रोग (Polycystic Kidney disease) - एक ऐसी स्थिति जिसके कारण किडनी में तरल पदार्थ से भरे सैक विकसित होते हैं, जिन्हें सिस्ट कहते हैं।

जेनेटिक स्क्रीनिंग (Genetic screening) का उपयोग यह जांचने के लिए भी किया जा सकता है कि क्या किसी व्यक्ति में कोई विशेष जीन है जो आनुवंशिक स्थिति विकसित करने के उनके जोखिम को बढ़ाता है।

उदाहरण के लिए, यदि आपके भाई या बहन में बाद के वर्षों में आनुवंशिक स्थिति विकसित हुई है, जैसे कि हंटिंगटन (Huntington’s) की बीमारी, तो आप यह पता लगाना चाह सकते हैं कि क्या कोई जोखिम है कि आपमें भी ऐसी स्थिति विकसित हो सकती है।

जेनेटिक टेस्टिंग (Genetic testing) के बारे में और पढ़ें।

लीवर फंक्शन टेस्ट (Liver function test)

जब लीवर क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो यह एंजाइम नामक पदार्थ को रक्त में छोड़ देता है और लीवर द्वारा उत्पादित प्रोटीन का स्तर गिरना शुरू हो जाता है।

इन एंजाइमों (enzymes) और प्रोटीनों (proteins) के स्तर को मापने से, लीवर कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है, इसकी एक तस्वीर बनाना संभव है।

यह लीवर की कुछ स्थितियों का निदान करने में मदद कर सकता है, जिसमें हेपेटाइटिस (hepatitis), सिरोसिस (Cirrhosis) (लीवर स्कारिंग), और शराब से संबंधित लीवर रोग शामिल हैं।

थायराइड फंक्शन टेस्ट (Thyroid function test)

इस टेस्ट का उपयोग आपके ब्लड में थायराइड-उत्तेजक हार्मोन (TSH) और, जहां आवश्यक हो, थायरोक्सिन (Thyroxine) और ट्रायोडोथायरोनिन (Triiodothyronine) (थायरॉयड हार्मोन) के स्तर का परीक्षण करने के लिए किया जाता है।

यदि आपमें इन हार्मोनों के निम्न या उच्च स्तर हैं, तो इसका मतलब हो सकता है कि आपमें थायरॉयड (Thyroid) की स्थिति हो सकती है, जैसे कि एक अंडरएक्टिव थायरॉयड (Underactive thyroid) या ओवरएक्टिव थायरॉयड (Overactive thyroid)।

लैब टेस्ट ऑनलाइन यूके पर थायराइड फ़ंक्शन टेस्ट्स के बारे में और पढ़ें।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें

क्लोराइड टेस्ट(Chloride test)

खून में क्लोराइट की जांच एक नियमित शारीरिक टेस्ट का हिस्सा हो सकता है।

CEA - कार्सिनोएंब्रियोनिक एंटीजन टेस्ट(Carcinoembryonic antigen test)

कार्सिनोएंब्रियोनिक एंटीजन टेस्ट (Carcinoembryonic antigen test), कुछ प्रकार के कैंसर के इलाज का आकलन के लिए किया जाता है। खासतौर पर कोलोन कैंसर को (...

रक्त समूह

मुख्य रूप से चार रक्त समूह होते हैं (रक्त के प्रकार) - ए, बी, एबी और ओ। आपका रक्त समूह उन जीनों द्वारा निर्धारित होता है जिन्हें आप अपने माता-पिता से ...