1 min read

बाइकार्बोनेट टेस्ट

मेडिकली रिव्यूड

बाइकार्बोनेट परीक्षण(Bicarbonate Test), इसे CO2 टेस्ट के रूप में भी जाना जाता है। इसका उपयोग इलेक्ट्रोलाइट या एसिड-बेस (pH) के असंतुलन को देखने के लिए किया जाता है। गुर्दे की जांच के लिए होने वाले टेस्ट में इसे भी शामिल किया जाता है।

आपकी नियमित शारीरिक जांच के लिए लिखे गए टेस्ट में, बाईकार्बोनेट टेस्ट भी हो सकता है। इसे करने की सलाह उस दौरान भी दी जा सकती है, जब आप इन लक्षणों का अनुभव कर रहे हों:

  • कमजोरी
  • उलझन
  • बार-बार उल्टी होना
  • साँस लेने की परेशानी

ये लक्षण इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन(electrolyte imbalance) या एसिडोसिस(acidosis) या अल्कलोसिस(alkalosis- जब शरीर के तरल पदार्थों और तिशयूस में एसिड या ऐल्कलायन स्तर असामान्य रूप से अधिक हो) का परिणाम हो सकते हैं।

इस संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
टीपीएमटी(TPMT) टेस्ट
किसी व्यक्ति का टीपीएमटी(TPMT) टेस्ट उस समय करवाया जाता है, जब इस बात की जांच करनी हो कि क्या उसे थियोफ्यूरिन(thiopurine) नामक दवा लेने के बाद गंभीर द...
संपूर्ण प्रोटीन टेस्ट(Total protein test)
आपके खून में प्रोटीन की मात्रा को मापने के लिए एक सम्पूर्ण प्रोटीन टेस्ट किया जाता है ।
टोटल आयरन बाइंडिंग कैपेसिटी टेस्ट (TIBC)
हमारे शरीर में मौजूद आयरन की मात्रा को मापने के लिए जो टेस्ट किया जाता है उसे टोटल आयरन बाइंडिंग कैपेसिटी टेस्ट(टीआईबीसी) या ट्रांसफिरिन टेस्ट कहा जात...