COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
19 min read

अंतर्गर्भाशयी प्रणाली (आईयूएस (IUS) - इंट्रायूटेराइन सिस्टम

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

आईयूएस (IUS) क्या है?

इंट्रायूटेराइन सिस्टम (IUS) यानी अंतर्गर्भाशयी प्रणाली एक छोटा टी आकार का गर्भनिरोधक उपकरण होता है जिसे बच्चेदानी (गर्भाशय) के अंदर लगाया जाता है और यह शरीर को महिला हार्मोन प्रोजेस्टोजेन देता है।

आईयूएस (IUS) एक दीर्घकालिक और हटाई जा सकने वाली गर्भनिरोधक प्रणाली है लेकिन यह पूरी तरह से सुरक्षा देने वाला तरीका नहीं है। इसका अर्थ यह हुआ कि यह आपको यौन संचारित संक्रमणों (एसटीआई) से सुरक्षित रखने में मदद नहीं करती।

आईयूएस (IUS) वैसे तो इंट्रोयूटेराइन डिवाइस (आईयूडी) https://www.your.md/condition/intrauterine-device-iud), के समान होती है लोकिन यह उससे अलग तरीके से काम करती है। आईयूडी की तरह कॉपर रिलीज करने के स्थान पर आईयूएस (IUS) हार्मोन प्रोजेस्टोजेन रिलीज करती है जो किसी महिला के अंडाशय में उत्पन्न होने वाले प्राकृतिक हार्मोन प्रोजेस्टोजेन के समान ही होता है। यह बच्चेदानी में उर्वर अंडाणु को स्थापित होने से रोककर गर्भ ठहरने से बचाती है।

यह ऐसा बच्चेदानी की लाइनिंग को पतला करके करती है जिससे बच्चेदानी उर्वर अंडाणु को स्वीकार नहीं कर पाती। यह गर्भ ग्रीवा (बच्चेदानी के मुखद्वार) से उत्पन्न होने वाले म्यूकस को मोटा कर देता है जिससे शुक्राणु का हिलना-डुलना कठिन हो जाता है और वह अंडाणु तक पहुंचने में नाकाम रहता है। कुछ महिलाओं में आईयूएस (IUS) गर्भाशय से अंडाणु को जारी करने (Ovulation) की प्रक्रिया को भी रोक देती है लेकिन ज्यादातर महिलाओं में अंडोत्सर्ग जारी रहता है।

अगर आप 45 वर्ष या उससे ज्यादा उम्र वाली महिला हैं और आपने आईयूएस (IUS) लगवाई है तो जब तक आप रजोनिवृत्ति तक नहीं पहुंचती तब तक लगाए रह सकती हैं या जब आपको गर्भनिरोधक की जरूरत नहीं होगी तब तक लगाए रह सकती हैं।

मैं आईयूएस (IUS) कॉइल कैसे फिट करवा सकती हूं?

आईयूएस (IUS) लगाने से पहले आपका डॉक्टर या क्लीनिक गर्भ के स्थिति को जानने के लिए एक आंतरिक जांच करेगा। आपकी संक्रमण के लिए भी जांच हो सकती है और एंटीबायोटिक्स भी लेने को कहा जा सकता है।

आईयूएस (IUS) को प्रवेश करवाने में लगभग 15 से 20 मिनट का समय लगता है। इसमें योनि को खोल कर रखा जाता है जैसे सर्विकल स्मीयर टेस्ट में होता है और आईयूएस (IUS) को सर्विक्स के रास्ते बच्चेदानी में प्रवेश करवाया जाता है।

कुछ महिलाओं को यह प्रक्रिया थोड़ी असहज और दर्दभरी लग सकती है इसलिए आपको दर्दनिवारक लेने को कहा जा सकता है। हो सकता है आपको इसके बाद थोड़ी ऐंठन महसूस हो सकती है लेकिन धीरे-धीरे यह खत्म हो जाती है।

आईयूएस (IUS) लगवाने के बारे में और अधिक पढ़ें।

कौन आईयूएस (IUS) का प्रयोग कर सकता है?

ज्यादातर महिलाएं आईयूएस (IUS) लगवा सकती हैं जिनमें वे महिलाएं भी शामिल हैं जो कभी गर्भवती नहीं हुई हैं या जो एचआईवी पॉजिटिव हैं। इसे किसी प्रशिक्षित डॉक्टर या नर्स, परिवार नियोजन क्लीनिक या सेक्सुअल हेल्थ क्लीनिक द्वारा लगाया जाना चाहिए। आईयूएस (IUS) उस स्थिति में कारगर नहीं होगा जब आप पहले से गर्भवती हों, अउपचारित यौन संचारित संक्रमण की शिकार हों या आपकी गर्भाशय या गर्भग्रीवा में किसी तरह की कोई समस्या हो। आईयूएस (IUS) कब इस्तेमाल की जा सकती हैं इसके बारे में और अधिक पढ़ें।

अगर इसे आपके मासिक चक्र के पहले सात दिनों में लगाया जाता है तो आईयूएस (IUS) गर्भावस्था से तत्काल सुरक्षा प्रदान करती हैं। अगर इसे किसी दूसरे समय पर लगाया जाता है तो पहले सात दिनों में किसी दूसरी ]=[तरह के गर्भनिरोधक का प्रयोग करना होगा।

आईयूएस (IUS) को हटाना

आईएसयू को किसी प्रक्षिशित डॉक्टर या नर्स द्वारा कभी भी हटाया जा सकता है। अगर आप अगला आईयूएस (IUS) नहीं लगवाना चाहतीं और आप गर्भ भी धारण नहीं करना चाहतीं तो आईयूएस (IUS) को हटवाने से सात दिन पहले गर्भनिरोध का अन्य माध्यम (जैसे कंडोम) प्रयोग में लाएं। शुक्राणु शरीर में सात दन तक जीवित रह सकते हैं और आईयूएस (IUS) को हटाने के बाद भी अंडाणु को उर्वर कर सकते हैं।

जैसे ही आप आईयूएस (IUS) को निकलवा लेती हैं आपकी सामान्य प्रजनन क्षमता वापस लौट आती है।

आईयूएस (IUS) कितना प्रभावकारी होता है?

आईयूएस (IUS) गर्भ रोकने में 99 फीसदी से भी ज्यादा कारगर होता है। इसका अर्थ यह हुआ कि आईयूएस (IUS) का प्रयोग करने वाली हर 100 में केवल एक महिला ही अगले पांच साल में गर्भवती हो पाएगी।

एक दीर्घ अवधि के गर्भनिरोधक के रूप में आईयूएस (IUS) सुरक्षित और प्रभावी माध्यम है। एक बार इसे लगाने के बाद आपको गर्भ ठहरने से रोकने के लिए गर्भनिरोधक लेने या इस्तेमाल करने की बात याद रखने की जरूरत नहीं होती। इससे आपका मासिक धर्म भी हल्का, छोटा हो जाता है और कई बार पहले वर्ष के बाद पूरी तरह से बंद भी हो जाता है। भारी मासिक धर्म या दर्दभरे मासिक वाली महिलाओं के लिए यह काफी मददगार हो सकता है।

बहरहाल, आईयूएस (IUS) के कुछ विपरीत असर भी होते हैं जैसे कुछ महिलाओं को सिरदर्द, स्तनों के मुलायम होने और एक्ने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आपको यौन संचारित संक्रमणों (STIs) को रोकने के लिए अन्य प्रकार के गर्भनिरोधकों का प्रयोग भी करना होगा। आईयूएस (IUS) को लगवाने से पहले जिन बातों पर विचार करना चाहिए उनके बारे में और अधिक पढ़ें।

कुछेक मामलों में आईयूएस (IUS) को लगवाने के बाद भी कुछ जटिलताएं हो सकती हैं। इसमें इसे लगवाने के पहले 20 दिन के बाद पेल्विक इंफेक्शन या आईयूडी का अपनी जगह से खिसकना शामिल हो सकता है जिसकी जांच करनी पड़ती है। आईयूएस (IUS) को लगवाने के बाद होने वाले जोखिमों के बारे में और अधिक पढ़ें।

आईयूएस (IUS) के दुष्प्रभाव

आईयूएस (IUS) से होने वाली जटिलताएं काफी दुर्लभ होती हैं और आमतौर पर इसको लगाने के पहले छह महीने के दौरान ही होती हैं।

पेल्विक इंफेक्शंस

आईयूएस (IUS) को प्रवेश करवाने के पहले 20 दिन के अंदर ही पेल्विक इंफेक्शन हो जाते हैं।

आईयूएस (IUS) से होने वाले संक्रमण का जोखिम काफी छोटा होता है ( 100 में से एक महिला में यौन संचारित संक्रमण (STIs) का काफी कम जोखिम होता है)। डॉक्टर या क्लीनिक आमतौर पर आईयूएस (IUS) को लगाने से पहले आंतरिक परीक्षण की सलाह देते हैं ताकि वे इस बात को लेकर सुनिश्चित हो सकें कि वहां पर पहले से तो कोई संक्रमण मौजूद नहीं है।

आईयूएस (IUS) लगवाने के पहले तीन सप्ताह के अंदर आपको अगर पेट के निचले हिस्से में किसी तरह का दर्द होता है या तेज बुखार या गंधभरा स्राव होता है तो शीघ्र अपने डॉक्टर या क्लीनिक से संपर्क करें। यह पेल्विक इंफ्लेमेट्री रोग (pelvic inflammatory disease) हो सकता है जिससे बांझपन (infertility) की समस्या हो सकती हैं।

अस्वीकारना

कई बार बच्चेदानी द्वारा आईयूएस (IUS) को अस्वीकार कर दिया जाता है (बाहर निकल आना) या यह हिल सकता है (अपने स्थान पर न रहना)। यह आम नहीं होता और लगाने के बाद इसके होने की संभावना हो जाती है। आपका डॉक्टर या नर्स आपको वह तरीका बता देंगे जिससे आप खुद जांच कर सकती हैं कि आपकी आईयूएस (IUS) सही स्थान पर है या नहीं।

बच्चेदानी को क्षति

काफी दुर्लभ मामलों में आईयूएस (IUS) बच्चेदानी या बच्चेदानी की ग्रीवा (Cervix), जहां इसे रखा जाता है, को क्षतिग्र्सत कर देती है। इससे पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है लेकिन इसके आमतौर पर कोई और लक्षण नहीं दिखाई देते। अगर आईयूएस (IUS) लगाने वाले आपके डॉक्टर या नर्स अनुभवी हैं तो इस तरह के खतरे की संभावना काफी कम होती हैं।

अगर किसी तरह की क्षति होती है तो डिवाइस को निकालने के लिए सर्जरी करने की जरूरत पड़ती है। अगर आईयूएस (IUS) लगवाने के बाद आपको काफी दर्द हो रहा हो तो सीधे अपने डॉक्टर से मिलें। इसका इलाज तुरंत करने की जरूरत होती है।

अस्थानिक गर्भावस्था

अगर गर्भनिरोधक विफल हो जाता है और आप गर्भधारण कर लेती हैं और आप उसे जारी रखना चाहती हैं तो आपका आईयूएस (IUS) जितना जल्दी हो सके निकलवा लेना चाहिए। आईयूएस (IUS) का प्रयोग करते हुए गर्भधारण करने वाली महिला में अस्थानिक गर्भावस्था (ectopic pregnancy) का जोखिम बढ़ जाता है।

पूछे जाने वाले सवाल

आईयूएस (IUS) को मीरेना के नाम से भी जाना जाता है। यह संयुक्त गर्भनिरोधक गोली की तुलना में काफी प्रभावशाली गर्भनिरोधक है। गर्भ को रोकने के लिए आईयूएस (IUS) को लगवाना लंबी अवधि का समाधान है। यह आपके मासिक धर्म को भी रोक सकता है जो कई महिलाओं के लिए फायदेवाली बात हो सकती है।

हमने स्त्री रोग विशेषज्ञ से बात की कि अगर कोई महिला आईयूएस (IUS) लगवाना चाहती है तो वह उससे क्या जानकारी हासिल करना चाहेंगी।

आईयूएस (IUS) और आईयूडी के बीच क्या अंतर है?

दोनों इंट्रायेटराइन सिस्टम (आईयूएस (IUS)) और इंट्रायूरेटाइन डिवाइस (आईयूडी) टी आकार के गर्भनिरोधक उपकरण हैं, जो डेढ़ इंच लंबे होते हैं और उन्हें बच्चेदानी में स्थापित किया जाता है। आईयूडी (क्वायल) कॉपर से बनी होती है और उसमें किसी तरह के हार्मोन्स नहीं होते। आईयूएस (IUS) आपकी बच्चेदानी में हार्मोन प्रोजेस्टोजेन की छोटी मात्रा जारी करता है। इससे बच्चेदानी में गर्भ नहीं ठहरता।

मेरे लिए क्या बेहतर है?

ज्यादातर महिलाएं इनमें से किसी का चयन कर सकती हैं।

  • जिन महिलाओं के बच्चे नहीं होते वे आमतौर पर आईयूडी को वरीयता देती है क्योंकि आईयूएस (IUS) का आकार थोड़ा बड़ा होता है।
  • अगर आपके नियमित मासिक धर्म आ रहे हैं तो आपको भरोसा होता रहता है, इसलिए आईयूडी लगवाने पर विचार करें।
  • अगर आपको किसी भी तरह के मासिक धर्म न होने का आइडिया बेहतर लगता है तो आईयूएस (IUS) के बारे में विचार करें। आईयूएस (IUS) से पहले तीन से छह माह तक काफी अनियमित मासिक धर्म हो सकते हैं। लेकिन एक वर्ष के बाद मासिक धर्म 90 फीसदी तक हल्के होते हैं और एक तिहाई महिलाओं को तो बिल्कुल भी पीरियड्स नहीं होते।

आईयूएस (IUS) गर्भनिरोधक के रूप में कितना कारगर है?

लगभग 99.9 फीसदी ( स्टेरिलाइजेशन के समान कारगर) और पूरी तरह से वापस वाली स्थिति में लाने योग्य।

मैं कहां से आईयूएस (IUS) को लगवा सकती हूं?

आपकी नजदीकी क्लीनिक में डॉक्टर इसे लगा सकते हैं। वैकल्पिक रूप से अपने परिवार नियोजन क्लीनिक में फोन करके पता कर सकते हैं कि वे ये सुविधा प्रदान करते हैं या नहीं।

क्या इससे किसी तरह की चोट लगती है या मुझे महसूस होता रहता है कि अंदर कुछ है?

आईयूएस (IUS) को लगवाना स्मीयर टेस्ट से थोड़ा असहज ही होता है और इसमें ज्यादा समय भी लगता है। कई बार डॉक्टर इस लगाते हुए लोकल एनेस्थेटिक का प्रयोग करते हैं। एक बार अंदर जाने के बाद आपको पीरियड जैसी ऐंठन महसूस हो सकती है। यह दो से तीन दिन में शांत हो जाती है। इसके बाद यह महसूस भी नहीं होता कि अंदर कुछ है।

क्या सेक्स के दौरान मेरा साथी इसे महसूस कर सकता है?

ऐसा होना बिल्कुल भी संभव नहीं है। बहरहाल, हम बच्चेदानी के बाहर जो धागे छोड़ देते हैं (ताकि उन्हें खींच कर बाहर नकाला जा सके) उन्हें वह महसूस कर सकते हैं। अगर यह स्थिति हो तो जब आप आईयूएस (IUS) की जांच के लिए वापस जाएं तो अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या वे उन्हें काट कर छोटा कर सकते हैं।

हम उन्हें पहले कुछ हफ्ते थोड़ा लंबा रखते हैं कि कहीं बच्चेदानी उन्हें खींच कर अपने अंदर न ले जाए।

क्या यह कभी बाहर गिर सकती है या किसी अन्य जगह जा सकती है?

इस बात की संभावना नहीं है कि वह वहा पर हिल-डुल सके लेकिन बेहतर होगा कि आप दो उंगली अंदर डालकर यह जांच करते रहें कि वह अपनी जगह पर है या नहीं। कई बार पहले कुछ महीनों में यह बाहर निकल कर गिर सकती है लेकिन इसके बाद ऐसा होना संभव नहीं होता।

क्या इससे किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या हो सकती है जैसे संक्रमण?

अगर आपमें पहले से कम दर्जे का संक्रमण है तो आईयूएस (IUS) लगवाने से यह संभावना है कि संक्रमण उपर चढ़कर बच्चेदानी और उसके बाद ट्यूब्स में पहुंच जाए। यह काफी बड़ी समस्या को जन्म दे सकती है। आईयूएस (IUS) लगाने से पहले आपका डॉक्टर या नर्स आमतौर पर कुछ स्वैब टेस्ट करेंगे और फिर आपका रिजल्ट निगेटिव आने पर ही आपको आईयूएस (IUS) लगाएंगे। सिर्फ आईयूएस (IUS) लगवाने से संक्रमण नहीं होता।

क्या मैं टैम्पोन्स का प्रयोग कर सकती हूं?

पूरी तरह से सामान्य तरीके से।

मैं कितने समय तक इन्हें रख सकती हूं?

आईयूएस (IUS) को पांच साल तक रखा जा सकता है। अगर आपने 45 की आयु के बाद आईयूएस (IUS) लगवाया है (या 40 की आयु के बाद आईयूडी लगवाया है) तो आप इसे जब तक रजोनिवृत्ति नहीं हो जाती तब तक रख सकती हैं जब आपको गर्भनिरोधक की कोई जरूरत नहीं होगी।

क्या इसे आसानी से हटाया जा सकता है?

इसे आसानी से हटाया जा सकता है। इसे हटाना इसे लगाने से भी आसान है और इसमें केवल कुछ ही सेकेंड लगते हैं। जब हम आईयूएस (IUS) को लगाते हैं तो कुछ छोटी तारों जैसे धागे बाहर छोड़ देते हैं ताकि इन्हें खींच कर ही बाहर निकाला जा सके।

क्या इसे निकालने के बाद मैं फिर से प्रजनन लायक हो जाऊंगी?

हां, जैसे ही इसे आप बाहर निकालेंगे, फौरन आपकी प्रजनन क्षमता फिर से लौट आएगी।

अगर अभी तक मेरे कोई बच्चा नहीं हुआ है तो क्या मैं भी इसे लगवा सकती हूं?

हां, कुछ महिलाएं बच्चा न होने की स्थिति में इसे लगवाने को लेकर असहज हो सकती हैं और आईयूएस (IUS) को लगवाना आईयूडी की तुलना में थोड़ा असहज भी हो सकती है क्योंकि आईयूएस (IUS) का आकार थोड़ा बड़ा होता है। लेकिन इन्हें न लगवाने का कोई कारण नहीं है।

क्या इससे मेरे मासिक धर्म पर कोई असर पड़ेगा?

आईयूएस (IUS) को लगवाने से पहले तीन से छह माह में अनियमित रक्तस्राव की समस्या हो सकती हैं लेकिन इसके बाद आपके मासिक धर्म थोड़े हल्के पड़ जाते हैं। कई महिलाओं को एक साल के बाद तो बिल्कुल भी मासिक धर्म नहीं होते।

आईयूएस (IUS) गर्भनिरोधक का कौन इस्तेमाल कर सकता है?

अधिकांश महिलाएं आईयूएस (IUS) का प्रयोग कर सकती हैं। इनमें वे महिलाएं भी शामिल हैं जो पहले कभी गर्भवती नहीं हुईं या जो एचआईवी पॉजिटिव हैं। आपका डॉक्टर या क्लीनिक आपकी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में जांच करेंगे और पता लगाएंगे कि क्या आईयूएस (IUS) आपके लिए गर्भनिरोध का सबसे कारगर तरीका है या नहीं। आपकी पारिवारिक और मेडिकल हिस्ट्री इस बात का निर्धारण करेगी कि आप आईयूएस (IUS) का प्रयोग करें या नहीं। उदाहरण के लिए गर्भविरोध का यह तरीका उस स्थिति में ठीक नहीं होगा जब आप सोचती हैं कि आप पहले से गर्भवती हैं या आपको इनमें से कुछ है-

  • À°पिछले पांच साल से स्तन कैंसर(Breast Cancer) या पहले हुआ हो
  • सर्विकल कैंसर (Cervical Cancer)
  • लिवर से जुड़े रोग
  • मासिक धर्म या सेक्स के बाद बिना किसी कारण योनि से रक्त आना
  • आर्टिरियल डिजीज या गंभीर हार्ट डिजीज या स्ट्रोक की हिस्ट्री
  • नस या आर्टेरी में थ्रोम्बोसिस (thrombosis)
  • अउपचारित यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) या पेल्विक इंफेक्शन
  • आपके गर्भाशय या सर्विक्स में समस्या

यूआईडी के समान ही आईयूएस (IUS) भी महिलाओं के लिए अनुप्युक्त हो सकता है जिन्होंने एसटीआई का उपचार नहीं करवाया है। आमतौर पर डॉक्टर आंतरिक परीक्षण कर या सुनिश्चित करेगा कि आपको पहले से ही किसी तरह का कोई संक्रमण तो नहीं है।

जन्म देने के बाद आईयूएस (IUS) का इस्तेमाल

आईयूएस (IUS) को आमतौर पर जन्म देने के चार से छह हफ्ते ( योनि या सीजेरियन) के बाद लगवाया जा सकता है। जन्म देने के तीसरे हफ्ते से (21 दिन) से आप आईयूएस (IUS) लगाए जाने तक वैकल्पिक गर्भनिरोधकों को प्रयोग कर सकती हैं। कुछ मामलों में आईयूएस (IUS) को बच्चे के जन्म के 48 घंटे के भीतर लगाया जा सकता है।

जब आप स्तनपान करवा रही हैं तो आईयूएस (IUS) को लगवाना भी सुरक्षित होता है और इससे आपके दूध की आपूर्ति में कोई बाधा नहीं पहुंचती।

गर्भपात के बाद आईयूएस (IUS) का प्रयोग करना

आईयूएस (IUS) को गर्भपात की स्थिति में किसी अनुभवी डॉक्टर या नर्स द्वारा लगाया जा सकता है तब तक जब तक आप 24 हफ्ते से कम समय के लिए गर्भवती थीं। अगर आप 24 हफ्ते से ज्यादा समय के लिए गर्भवती थीं तो आपको आईयूएस (IUS) लगवाने से पहले कुछ हफ्तों तक इंतजार करना होगा।

इन बातों पर विचार करना होगा

हालांकि आईयूएस (IUS) गर्भनिरोध का एक प्रभावी तरीका है, आईयूएस (IUS) लगवाने से पहले कई बातों पर विचार करना जरूरी है।

आईयूएस (IUS) के लाभ

  • यह पांच साल तक काम करता है
  • इससे सेक्स करने में कोई बाधा नहीं होती
  • आईयूएस (IUS) उस स्थिति में भी लाभकारी हो सकती है जब आपके मासिक धर्म भारी या दर्दभरे हो रहे हों क्योंकि इसे लगवाने के बाद आपके मासिक धर्म हल्के, कम अवधि वाले और थोड़े कम दर्द वाले हो जाएंगे। इस्तेमाल के पहले साल के बाद ये पूरी तरह से बंद भी हो सकते हैं।
  • अगर आप स्तनपान करवा रही हैं तो इसका प्रयोग करना सुरक्षित है
  • अगर आप ओएस्ट्रोजेन्स (हार्मोन्स) जिनका संयुक्त गर्भनिरोधक गोलियां में इस्तेमाल होता है, का प्रयोग नहीं कर सकती हैं तो यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है।
  • जब आप आईयूएस (IUS) को निकलवा लेंगी तो आपकी प्रजनन क्षमता सामान्य हो जाएगी।

इस बात का कोई साक्ष्य नहीं है कि आईयूएस (IUS) शरीर के वजन पर असर डालती है या आईयूएस (IUS) लगवाने से सर्विकल कैंसर, यूरेटाइन कैंसर (गर्भ की लाइनिंग) या ओवेरियन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। कुछ महिलाओं में मूड और लिबिडो में बदलाव होता है लेकिन ये काफी छोटे होते हैं।

आईयूएस (IUS) के नुकसान

  • कुछ महिलाएं इस बात को लेकर नाखुश हो सकती हैं कि इनके मासिक धर्म में बदलाव हो सकता है। उदाहरण के लिए ये हल्के और अनियमित हो सकते हैं या कुछ मामलों में पूरी तरह से खत्म भी हो सकते हैं।
  • कुछ महिलाओं को आईयूएस (IUS) लगवाने के बाद सिरदर्द, एक्ने और स्तनों के मुलायम होने की समस्या का अनुभव हो सकता है।
  • आईयूएस (IUS) का एक असामान्य दुष्प्रभाव गर्भाशय पर छोटे तरल भरी गांठों का उभरना भी हो सकता है। आमतौर पर ये बिना किसी उपचार के गायब हो जाते हैं।
  • आईयूएस (IUS) आपको यौन संचारित संक्रमणों (एसटीआई) से सुरक्षा नहीं देते हैं इसलिए यौन संबंध बनाते समय आपको कंडोम का भी प्रयोग करना चाहिए। आईयूएस (IUS) लगे होने के बाद भी अगर आपको एसटीआई हो जाती है इसका इलाज न करवाने पर पेल्विक इंफेक्शन भी हो सकता है।

महिलाओं द्वारा आईयूएस (IUS) का इस्तेमाल बंद करने का सबसे आम कारण योनि से निकलने वाला रक्तस्राव और दर्द है हालांकि यह काफी असामान्य होता है। हार्मोन से जुड़ी समस्या भी हो सकती है लेकिन यह काफी कम होती हैं।

आईयूएस (IUS) को लगवाना

आईयूएस (IUS) लगवाने से पहले आपकी आंतरिक जांच की जाएगी जिसमें आपके गर्भ के आकार और स्थिति का पता लगाया जाएगा। इससे यह सुनिश्चित हो सकेगा कि आईयूएस (IUS) को सही स्थान पर स्थापित किया जा सके।

किसी मौजूदा संक्रमण जैसे यौन संचारित संक्रमणों के लिए भी आपकी जांच की जा सकती है। आईयूएस (IUS) लगवाने से पहले इस करवाना उचित रहेगा ताकि किसी भी मौजूद संक्रमण का उपचार किया जा सके। कई बार आईयूएस (IUS) लगवाते समय आपको एंटीबायोटिक्स भी दी जा सकती हैं।

आईयूएस (IUS) लगाने में 15 से 20 मिनट का समय लगता है। इसमे योनि को खोलकर रखा जाता है जैसे सर्विकल स्मीयर टेस्ट (cervical smear test) में होता है, और सेरविक्स के रास्ते बच्चेदानी में आईयूएस (IUS) का प्रवेश करवाया जाता है।

इसे लगाने की प्रक्रिया कुछ महिलाओं के लिए असहज और दर्दभरी हो सकती है खासकर उनके बच्चे न हुए हों और आपका सर्विक्स खिंचा हुआ न हो। इसके बाद आपको ऐंठन की समस्या भी हो सकती हैं।

आईयूएस (IUS) लगवाने से पहले आप लोकल एनेस्थेटिक्स या दर्दनिवारकों की मांग भी कर सकती हैं जैसे आईब्रुप्रोफेन। इस लगवाने से पहले अपने डॉक्टर या नर्स से बात कर लें। एनेस्थेटिक इंजेक्शन अपने आप में दर्दभरा हो सकता है इसलिए ज्यादातर महिलाएं इसके बिना ही यह प्रक्रिया पूरी करवाती हैं।

आईयूएस (IUS) लगवाने के बाद छह माह तक अनियमित रक्तस्राव और दाग लगना आम बात है।

जांच

एक बार आईयूएस (IUS) लगवा लिया तो तीन से छह सप्ताह के बाद डॉक्टर से इसकी जांच करवानी होगी कि सब ठीक जगह पर है।

प्रारंभिक जांच के बाद आपको किसी तरह की समस्या आती है या आप इस डिवाइस को निकलवाना चाहती हैं तो अपने डॉक्टर या क्लीनिक वालों से बात करें। अगर आप या आपका साथी किसी तरह की एसटीआई से संपर्क में आने के जोखिम में है तो अपने डॉक्टर से अवश्य बात करें क्योंकि इससे पेल्विस में संक्रमण का खतरा हो सकता है।

आईयूएस (IUS) लगवाने के बाद बीमार महसूस करना

आईयूएस (IUS) को लगवाने के बाद अगर आप खुद को बीमार महसूस कर रही हैं, आपके पेट के निचले हिस्से में दर्द है, तेज बुखार है या दुर्गंधयुक्त स्राव हो रहा है तो जितना जल्दी संभव हो सके अपने डॉक्टर से मिलें या उस क्लीनिक में संपर्क करें जहां पर इसे लगाया गया था। आपको संक्रमण हो सकता है।

कैसे पता करें कि आईयूएस (IUS) अपनी जगह पर ही है

एक बार लगाए जाने के बाद आईयूएस (IUS) में दो पतले धागे होते हैं जो आपकी योनि के ऊपरी हिस्से में आपके गर्भ से थोड़ा दूर लटके रहते हैं। आपके आईयूएस (IUS) को लगाने वाले डॉक्टर और क्लीनिक वाले आपको सिखा देंगे कैसे इन धागों को महसूस करें और जांच करें कि आईयूएस (IUS) अपने स्थान पर ही मौजूद है।

पहले महीने में कई बार यह जांच करें कि आईयूएस (IUS) अपने स्थान पर है या नहीं और उसके बाद हरेक मासिक धर्म के बाद या नियमित अंतराल पर इसकी जांच करती रहें।

इसकी कोई संभावना नहीं है कि आपका आईयूएस (IUS) बाहर निकल आएगा लेकिन आप धागों को महसूस कर सकती हैं या आपको लगता है कि आईयूएस (IUS) अपनी जगह से हिल गया है तो आप गर्भ रोकने में पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं।

सीधे अपने डॉक्टर या नर्स से मिलें और जब तक आपके आईयूएस (IUS) की जांच नहीं हो जाती अतिरिक्त गर्भनिरोधकों को प्रयोग करें। अगर आपने हाल ही में यौन संबंध स्थापित किया है तो आपको आपात गर्भनिरोधक इस्तेमाल करने की जरूरत होगी।

यौन संबंध

यौन संबंध के दौरान आपके साथी को आईयूएस (IUS) की मौजूदगी का अहसास नहीं होना चाहिए। अगर उसे इन धागों का होना महसूस होता है तो अपने डॉक्टर या क्लीनिक में जाकर जांच करवाएं कि आपका आईयूएस (IUS) सही जगह पर लगा है या नहीं। अगर यौन क्रिया के दौरान आपको किसी तरह का दर्द होता है तो अपने डॉक्टर या क्लीनिक से जांच करवाएं।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां या मॉर्निंग आफ्टर पिल(Morning-after pill)

आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां या मॉर्निंग आफ्टर पिल(Morning-after pill)

आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां , जिन्हें मॉर्निंग आफ्टर पिल (morning-after pill) या पोस्ट कोइटल पिल (post-coital pill) के नाम से भी जाना जाता हैं। इनका ...
आपातकालीन गर्भनिरोधक (मॉर्निंग आफ़्टर पिल, IUD)

आपातकालीन गर्भनिरोधक (मॉर्निंग आफ़्टर पिल, IUD)

असुरक्षित यौन संबंध बनाने या गर्भनिरोधक तरीकों के विफल होने की स्थिति में एक महिला गर्भधारण को रोकने के लिए आपातकालीन गर्भनिरोधक का उपयोग कर सकती है।
मर्दों की गर्भनिरोधक गोली

मर्दों की गर्भनिरोधक गोली

अगर पुरुषों के गर्भनिरोधकों की बाजार में मौजूद महिला गर्भनिरोधकों के विकल्पों की श्रेणी से तुलना करें तो बीते 50 सालों में पुरुषों के गर्भनिरोधकों मे...