COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
24th March, 20205 min read

कोरोना वायरस: तथ्य और भ्रांतियाँ

कोरोना वायरस: तथ्य और भ्रांतियाँ
मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

विश्व में कोरोना वायरस का प्रसार तेज़ी से हो रहा है। जब इस तरह की परिस्थिति का सामना होता है, तो चिंता करना स्वाभाविक है- और यही चिंता कई भ्रामक बातों को जन्म देती है।

लेकिन जो कुछ भी आप सुनते हैं उस पर विश्वास न करें।

नए कोरोना वायरस और इससे होने वाली बीमारी COVID-19 के कारण के बारे में कई निराधार और भ्रामक जानकारियाँ हैं, जो सही नहीं।

आपको यह समझाने में मदद करने के लिए कि किस बात पर विश्वास करना है और किसपर नहीं, Your.MD की मुख्य मेडिकल अधिकारी और UK के रॉयल कॉलेज ऑफ़ जनरल प्रैक्टिशनर्स के पूर्व अध्यक्ष, प्रो डॉ मौरीन बेकर ने कोरोना वायरस के मिथकों के बारे में बताया है।

मिथ 1: COVID-19 से बचाव के लिए टीका उपलब्ध है

चूंकि COVID-19 एक नयी बीमारी है, इसलिए वर्तमान में इससे बचाव के लिए कोई टीका नहीं है। वैज्ञानिक और दवा कंपनियां नए टीके को विकसित करने के लिए काम कर रही हैं, लेकिन इस प्रक्रिया में कई महीने लग सकते हैं।

जब कोई टीका बन कर तैयार जाए, तो यह सुनिश्चित करने के लिए परीक्षण किया जाना चाहिए कि इसका कोई दुष्प्रभाव तो नहीं जो नुकसानदायक हो। यदि इसका उपयोग सुरक्षित पाया जाता है, तो वैक्सीन को बड़ी मात्रा में उत्पादित किया जाएगा और दुनिया भर में वितरित किया जाएगा। इन सभी में समय लगता है, जिसका अर्थ है कि COVID-19 वैक्सीन अगले साल तक आम लोगों के लिए उपलब्ध हो सकता है।

चाईनिज़ खाना

मिथ 2: आप चाईनीज खाना खाकर नए कोरोनो वायरस से संक्रमित हो सकते हैं

आम धारणा के विपरीत, चीनी खाना खाकर आपको COVID-19 नहीं हो सकता। इस भ्रम का कोई सबूत नहीं है। यह महज़ एक विचार है जो शायद शुरुआती रिपोर्ट से आया है कि ये बीमारी चीन के वुहान में एक समुद्री भोजन के बाजार में शुरू हुई थी।

यह माना जा रहा है कि इस वायरस का इंसानों में प्रसार किसी जीवित जानवर के माध्यम से हुआ है, ना कि खाने से।

मिथ 3: चीन से पत्र या पैकेज प्राप्त करना सुरक्षित नहीं है

कोरोना वायरस कुछ घंटों से अधिक समय तक सतहों, जैसे कि पत्र या पैकेज पर जीवित नहीं रहते हैं। इसका मतलब है कि चीन से आए पोस्ट के माध्यम से COVID -19 से संक्रमित होना संभव नहीं है।

मिथ 4: हैंड ड्रायर्स वायरस को मार सकते हैं

हैंड ड्रायर या अन्य स्रोतों से निकली गर्म हवा वायरस को नहीं मारती है। कम से कम 20 सेकंड के लिए साबुन और पानी के साथ लगातार हाथ धोने से आप सुरक्षित रह सकते हैं और दूसरों को भी रख सकते हैं।
बाथरूम जाने से पहले, खाना खाने से पहले, नाक साफ़ करने, खांसने या छींकने के बाद आपको अपने हाथ धोने चाहिए, और तब भी जब वो देखने में गंदे लगें।

यदि आपके पास साबुन और पानी उपलब्ध नहीं है, तो अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें जिसमें कम से कम 60% अल्कोहल हो।

एक बार जब आपके हाथ साफ हो जाएं, तो उन्हें पेपर नैप्किन या गर्म हवा के ड्रायर से अच्छी तरह से सुखा लें।

हैंड ड्रायर का उपयोग करता व्यक्ति

मिथ 5: अपने शरीर पर ब्लीच डालने से वायरस को मार सकते हैं

आपके शरीर पर ब्लीच डालना खतरनाक हो सकता है और ये वायरस से रक्षा नहीं करेगा।

मिथ 6: पालतू जानवर वायरस फैला सकते हैं

इस बात का कोई सबूत नहीं है कि पालतू जानवर कोरोना वायरस फैला सकते हैं। मीडिया रिपोर्टस से पता चलता है कि हांगकांग में एक कुत्ते में ये वायरस पाया गया, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि कुत्ते को COVID-19 था - सम्भव है कि यह बस वायरस के संपर्क में रहा हो और जाँच में ये बात सामने आ गयी हो।

विश्व में कहीं भी पालतू जानवरों के माध्यम से से नए कोरोना वायरस से संक्रमित होने की अभी तक कोई घटना सामने नहीं आयी है।

भले ही इसकी संभावना कम है कि आप एक पालतू जानवर के माध्यम से COVID-19 के शिकार हो सकते हैं,पर आपको हमेशा पालतू जानवरों को छूने या उनसे खेलने के बाद अपने हाथों को साबुन और पानी से धोना चाहिए। यह आपको बैक्टीरिया से बचाने में मदद करेगा, जैसे कि ई.कोली(E.coli) और साल्मोनेला(Salmonella), जो पालतू जानवरों और मनुष्यों के बीच पारित होने के लिए जाने जाते हैं।

मिथ 7: वायरस चमगादड़ से आया था

एक प्रकार का कोरोनो वायरस जो पहले सिर्फ़ जानवरों में पाया जाता था, उसके लिए ये संभव है मनुष्यों में भी पारित होने लगे और इसकी पूरी संभावना है कि इस तरह इस नए कोरोना वायरस का प्रकोप शुरू हुआ हो । हालाँकि, इस बात की पुष्टि करने के लिए वर्तमान में कोई स्पष्ट सबूत नहीं है कि वायरस किस प्रकार के जानवर से आया है।

लहसुन

मिथ 8: लहसुन या तिल के तेल जैसे प्राकृतिक उपचार आपको वायरस से बचा सकते हैं

लहसुन कुछ कीटाणुओं के खिलाफ प्रभावशाली हो सकता है, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि लहसुन खाने से आप इस नए कोरोना वायरस से सुरक्षित रह सकते हैं। इसी तरह, आपके शरीर पर तिल के तेल को रगड़ने से भी आपको वायरस के संक्रमण का ख़तरा कम नहीं होगा।

याद रखें कि COVID-19 संक्रमण के अपने जोखिम को कम करने के लिए नियमित रूप से हैंडवाश करना सबसे अच्छा तरीका है।

यदि आप COVID-19 के बारे में अधिक और अप्डेटेड जानकारी चाहते हैं, हमारे कोरोनावायरस हबपर जाएँ।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
कोरोनावायरस (COVID-19): आप कौन सी दवा ले सकते हैं?

कोरोनावायरस (COVID-19): आप कौन सी दवा ले सकते हैं?

आप कोरोनोवायरस का इलाज या रोकथाम करने के लिए ले आप कौन सी दवाएं (यदि कोई हो) ले सकते हैं?
कोरोना वायरस: महत्वपूर्ण जानकारी

कोरोना वायरस: महत्वपूर्ण जानकारी

नए कोरोनो वायरस के बारे में जानकारी प्राप्त करें, यह क्या है, यह कैसे फैलता है, क्या लक्षण दिखते हैं और क्या अभी यात्रा करना सुरक्षित है।
COVID-19 वैक्सीन: तथ्य

COVID-19 वैक्सीन: तथ्य

दुनिया भर के लोगों ने COVID-19 (कोरोनावायरस) का टीका लेना शुरू कर दिया है। जानकारी प्राप्त करें कि विभिन्न टीके कैसे काम करते हैं, आप कब उसे ले सकते ह...