22nd April, 202010 min read

कोरोना वायरस: लॉकडाउन आपके मानसिक स्वास्थ्य पर असर क्यों डाल सकता है

कोरोना वायरस: लॉकडाउन आपके मानसिक स्वास्थ्य पर असर क्यों डाल सकता है
मेडिकली रिव्यूड

कोरोना वायरस की वजह से लोगों मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता नज़र आ रहा है और कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि मानसिक सेहत पर लॉकडाउन का प्रभाव लंबे समय तक रहेगा।

द लांसेट में हाल ही में प्रकाशित सर्वेक्षण परिणामों से पता चला है कि रोजमर्रा के काम जैसे कि किसी दुकान पर जाना या दवा ख़रीदना भी कुछ लोगों के लिए चिंता का विषय बन गया है। कुछ लोग उदासी, बोरियट, अकेलापान और निराशा से भी जूझते नज़र आए।

यदि घर पर रहना और अपने दोस्तों और परिवार से दूर रहना आपको प्रभावित कर रहा है, तो यह समझना आपके लिए मददगार हो सकता है कि आपको यह क्यों महसूस हो रहा है और आप अपनी सुरक्षा के लिए क्या कर सकते हैं।

कम सामाजिक संपर्क

मनुष्य सामाजिक प्राणी हैं जिसे दूसरों के साथ बातचीत करने की एक बुनियादी आवश्यकता है। ऐसा करने में असमर्थ होने से हम में से कुछ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, खासकर अगर यह लंबे समय तक चले।

सप्ताह या महीनों के लिए घर पर रहने से अकेलेपन की भावनाओं ट्रिगर हो सकती है, खासकर यदि आप अकेले रहते हैं। इससे कई मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य स्थितियों का खतरा बढ़ सकता है।

अध्ययन बताते हैं कि अकेलापन से अवसाद, चिंता, तनाव, नींद की खराब गुणवत्ता और दिल की समस्याएँ जुड़ी हुई हैं। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी प्रभावित कर सकता है।

अध्ययन यह भी बताते हैं कि अकेलापन धूम्रपान के ही जितना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।

यह एक ऐसा मुद्दा नहीं है जो सिर्फ़ वृद्ध लोगों को प्रभावित करता है - [युवा लोग अकेलेपन का भी अनुभव कर सकते हैं](/ ब्लॉग / अकेलापन)।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन द्वारा एक अध्ययन ने 55,000 से ज़्यादा लोगों के लॉकडाउन में मनोवैज्ञानिक और सामाजिक अनुभवों का आकलन किया। लॉकडाउन शुरू होने के बाद से, अकेलेपन का स्तर इनमें अधिक रहा है:

  • युवा वयस्क
  • अकेले रहने वाले लोग
  • कम घरेलू आय वाले लोग
  • मौजूदा मानसिक स्वास्थ्य स्थिति से ग्रस्त लोग

हाल ही में किए गए एक ही अध्ययन में पाया गया कि सभी आयु समूहों के लोगों पर इसका विपरीत असर पड़ा है, लेकिन 18-19 वर्ष की आयु के लोगों में ये सबसे अधिक है।

यदि आप अकेला महसूस कर रहे हैं तो घर पर आप ये चीज़ें कर सकते हैं

आप कैसा महसूस कर रहे हैं, इसपर ध्यान दें। यदि आप अपने दोस्तों या परिवार या गतिविधियों को मिस कर रहे हैं, तो फोन, ईमेल, वीडियो कॉल या सोशल मीडिया का उपयोग करके उनसे जुड़े रहने का प्रयास करें।

उदाहरण के लिए, किसी नए शौक को अपनाने में व्यस्त रहने में मदद मिल सकती है।

लाक्डाउन से समय काम सोशल कांटैक्ट

दैनिक जीवन पर नियंत्रण कम होना

घर में रहने से व्यावहारिक चुनौतियां सामने आती हैं।

सर्वेक्षणों में, लोगों ने कई चीजों के बारे में चिंतित महसूस करने की सूचना दी, जिसमें रोज़मर्रा के कार्य शामिल हैं जैसे कि भोजन की खरीदारी, दवा प्राप्त करना, सुरक्षित रहना, अपनी नौकरी, पर्याप्त पैसा कमाना और अपने भविष्य के लिए योजना बनाना।

कुछ लोगों को ये स्थिति काफ़ी व्याकुल करने वाली लगी मानो उनका अपने जीवन पर नियंत्रण नहीं।

इस चिंता से राहत देने में मदद करने के कुछ तरीके हैं। माइंडफुलनेस या ध्यान लगाना मदद कर सकता हैं, या प्राणायाम।

किसी ऐसे व्यक्ति से बात करना आपके लिए मददगार साबित हो सकता है, जिसपर आप विश्वास करते हैं और अपनी भावनाएँ व्यक्त कर सकते हैं, जैसे कि एक दोस्त या परिवार का सदस्य। ऐसा ना हो सके तो, यदि आप अपने स्थानीय या राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य या हेल्पलाइन पर भी कॉल कर सकते हैं या ऑनलाइन मदद माँग सकते हैं।

पिता घर पर काम करते हुए

परिवार पर ज़्यादा दबाव

पूरे दिन घर पर बच्चों के साथ रहना काफ़ी मुश्किल हो सकता है, खासकर यदि आप घर से काम भी कर रहे हैं।

चाइल्डकैअर की मदद के बिना, दादा-दादी और परिवार के अन्य सदस्यों की मदद के बिना, और अपने घर से निकालने की स्वतंत्रता के बिना, तनाव महसूस करना आम है।

और इस परिस्थिति में बच्चों के लिए अपने माता-पिता के साथ अधिक मांग करना और माँ बाप को ज़्यादा परेशान करना भी आम है।

यह सब आपकी मानसिक भलाई और पारिवारिक जीवन का सामना करने की आपकी क्षमता को प्रभावित कर सकता है। आपको:

  • मूड स्विंग हो सकता है
  • अपने बच्चों की जरूरतों को पहचानने में कठिनाई हो सकती है
  • एक दिनचर्या का पालन करने में कठिनायी हो सकती है, जैसे समय पर भोजन और सोना

बढ़ी हुई पेरेंटिंग मांगों के साथ सामना करने के लिए आप इन बातों की कोशिश कर सकते हैं:

  • अपने बच्चों को खेल या ड्राइंग के माध्यम से रचनात्मक रूप से अपनी भावनाओं को साझा करने में मदद करें
  • बच्चों की एकाग्रता और दिनचर्या बनाए रखने में मदद करने के लिए घर पर ही पढ़ाई करवाएँ
  • व्यवहार में बदलाव को स्वीकार करें
  • चीजों को धीरे धीरे बदलें

सोफ़े पर आदमी-लाक्डाउन में व्यायाम की कमी

व्यायाम की कमी

अध्ययन बताते हैं कि शारीरिक गतिविधियों की कमी मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है और खराब नींद, नकारात्मक मूड, तनाव, चिंता को जन्म दे सकती है।

उदाहरण के लिए, दी लैन्सेट में 2018 के एक अध्ययन में अमेरिका भर में 1.2 मिलियन लोगों पर व्यायाम के प्रभाव का पता लगाया गया और पाया कि जो लोग व्यायाम नहीं करते थे वे मानसिक स्वास्थ्य की समस्या से अधिक जूझते हैं, उन लोगों की तुलना में तो व्यायाम करते हैं।

जब आप अपने घर तक ही सीमित रहते हैं, तो सक्रिय रहना कठिन हो सकता है, लेकिन व्यायाम का कोई भी रूप फायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह आपके मस्तिष्क को एंडोर्फिन नामक रसायन जारी करने में मदद करता है, जो तनाव को दूर करने में मदद करते हैं।

बिना जिम के व्यायाम और घर पर व्यायाम करने से आपको ऐक्टिव रहने में मदद मिलेगी और आपका मूड, नींद का पैटर्न और सेहत अच्छा रहेगा।

लाक्डाउन में सेहतमंद और पौष्टिक आहार

आहार में बदलाव

अध्ययनों से पता चलता है कि आप जो खाते हैं वह न केवल आपके शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, बल्कि यह आपको भावनात्मक रूप से भी प्रभावित करता है ।

फिलहाल, आप उन खाद्य पदार्थों को प्राप्त करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं जिन्हें आप या आपके परिवार आमतौर पर खाना पसंद करते हैं और इसलिए आप संतुलित भोजन नहीं खा सकते हैं। यह इन बातों को प्रभावित कर सकता है:

  • आपकी ऊर्जा का स्तर
  • आपकी मनोदशा
  • आप कितना स्पष्ट रूप से सोच सकते हैं

आप क्रिस्प, पाई, सॉसेज, केक और तैयार भोजन जैसे प्रॉसेस्ड फ़ूड ज़्यादा खा रहे हो सकते हैं। इस तरह के भोजन का अधिक सेवन मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं, जैसे अवसाद से जुड़ा हुआ है।

लेकिन इससे बचने के उपाय हैं। 2019 के एक अध्ययन में पाया गया कि आपके आहार में एक संक्षिप्त सुधार भी युवा वयस्कों में अवसाद के लक्षणों को कम कर सकता है।

संतुलित भोजन खाने की कोशिश जारी रखें, जहाँ सम्भव हो। यदि सम्भव नहीं, तो आप स्वस्थ शाकाहारी भोजन या स्वास्थ्यवर्धक टेकअवेस लेने की कोशिश कर सकते हैं।

यदि आप एक विशिष्ट आहार का पालन करते हैं या एक चिकित्सीय स्थिति जैसे कि मधुमेह से पीड़ित हैं, तो इस समय जितना संभव हो उतना स्वस्थ आहार लेते रहना और भी महत्वपूर्ण है।

यदि आपको स्वस्थ भोजन प्राप्त करने में सहायता की आवश्यकता है, तो स्थानीय स्वयंसेवक समूहों की तलाश करें जो समुदाय के सदस्यों की मदद कर रहे हों। कई देशों में सुपरमार्केट भी अतिरिक्त समर्थन की जरूरत में ग्राहकों के लिए एक प्राथमिकता सेवा प्रदान कर रहे हैं।

! नकारात्मक समाचार - कोरोनावायरस

नकारात्मक समाचार

कोरोनोवायरस संकट के अपडेट हर जगह हैं - समाचार वेबसाइट, सोशल मीडिया, रेडियो और टीवी पर - और यह आपको चिंतित या व्यथित महसूस करने के लिए पर्याप्त है।

हाल के एक अध्ययन में पता चला है कि 17 देशों के 1,000 से अधिक लोगों ने उन खबरों पर प्रतिक्रिया की, जिन्हें उन्होंने देखा और पाया कि लोग औसतन, सकारात्मक समाचारों की तुलना में नकारात्मक पर अधिक ध्यान देते हैं। यह आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

द लांसेट में प्रकाशित सर्वेक्षण परिणामों में, लोगों ने न्यूज़ प्रोग्राम को लेकर चिंता जतायी। न्यूज कवरेज के कारण कुछ लोगों को घबराहट भी महसूस हुई।

यदि समाचार आपको प्रभावित कर रहा है, तो केवल भरोसेमंद स्रोतों से जानकारी प्राप्त करने का प्रयास करें और अफवाहों से बचें जो आपको असहज महसूस कराते हैं। यह दिन के कुछ निश्चित समय पर समाचार देखकर किया जा सकता है।

सोशल मीडिया के इस्तेमाल से भी सावधान रहें। हालांकि यह आपको दूसरों के साथ जोड़े रखने में मदद कर सकता है, यह एक ऐसी जगह है जहाँ लोग अक्सर नकारात्मक समाचार साझा करते हैं और अपनी चिंताओं के बारे में बात करते हैं।

लॉकडाउन के दौरान (अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल कैसे करें के बारे में और पढ़ें।


यदि आपको लगता है कि आपके पास कोरोना वायरस हो सकता है, तो आप अपने लक्षणों की जांच करने के लिए हमारे COVID-19 सिम्पटम मैपर का उपयोग कर सकते हैं और दुनिया भर के अन्य लोगों के साथ उनकी तुलना कर सकते हैं।

इससे आपको एक बेहतर समझ मिल सकती है कि बीमारी किस तरह से आपको प्रभावित कर रही है और हमें इस बीमारी के प्रसार का आकलन करने में मदद मिलेगी।


References:

The benefits of social connections | Age UK [Internet]. Ageuk.org.uk. 2020 [cited 6 April 2020]. Available here.

Mental health and parenting [Internet]. NSPCC. 2020 [cited 6 April 2020]. Available here.

Mental health and psychosocial considerations during the COVID-19 outbreak [Internet]. Who.int. 2020 [cited 6 April 2020]. Available here.

Association between physical exercise and mental health in 1·2 million individuals in the USA between 2011 and 2015: a cross-sectional study [Internet]. Thelancet.com. 2018 [cited 9 April 2020]. Available here.

About food and mood [Internet]. Mind.org.uk. 2020 [cited 6 April 2020]. Available here.

How to manage family tensions whilst self isolating together - Family Action [Internet]. Family Action. 2020 [cited 6 April 2020]. Available here.

Coronavirus and your wellbeing [Internet]. Mind.org.uk. 2020 [cited 6 April 2020]. Available here.

Soroka S, Fournier P, Nir L. Cross-national evidence of a negativity bias in psychophysiological reactions to news [Internet]. Pnas.org. 2019 [cited 7 April 2020]. Available here.

Fancourt D, Bu F, Wan Mak H, Steptoe A. UK COVID-Mind Study [Internet]. Marchnetwork.org/research. 2020 [cited 11 April 2020]. Available here.

The difference between loneliness and isolation - and why it matters [Internet]. Ageuk.org.uk. 2020 [cited 7 April 2020]. Available here.

Physical activity and your mental health [Internet]. Mind.org.uk. 2020 [cited 9 April 2020]. Available here.

A brief diet intervention can reduce symptoms of depression in young adults – A randomised controlled trial | Public Library Of Science [Internet]. Journals.plos.org. 2019 [cited 9 April 2020]. Available here.

About loneliness [Internet]. Mind.org.uk. 2020 [cited 9 April 2020]. Available here.

Perceived social isolation, evolutionary fitness and health outcomes: a lifespan approach | Philosophical Transactions of the Royal Society B: Biological Sciences [Internet]. Royalsocietypublishing.org. 2020 [cited 9 April 2020]. Available here.

Social Relationships and Mortality Risk: A Meta-analytic Review [Internet]. Journals.plos.org. 2020 [cited 9 April 2020]. Available here.

Coronavirus: How to look after your mental health [Internet]. Your.MD. 2020 [cited 11 April 2020]. Available here.

Survey results: Understanding people’s concerns about the mental health impacts of the COVID-19 pandemic [Internet]. Acmedsci.ac.uk. 2020 [cited 16 April 2020]. Available here.

Multidisciplinary research priorities for the COVID-19 pandemic: a call for action for mental health science [Internet]. Thelancet.com. 2020 [cited 16 April 2020]. Available here.

Anxiety and panic attacks [Internet]. Your.MD. 2020 [cited 14 April 2020]. Available here.

Your.MD द्वारा लिखा गया कॉंटेंटYOURMD लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
कोरोना वायरस और गर्भावस्था
यदि आप गर्भवती हैं और लॉकडाउन चल रहा है तो स्वास्थ को लेकर चिंता हो सकती है। लेकिन ऐसे कोई चिंता नहीं करनी चाहिए
कोरोना वायरस: क्या कॉंटैक्ट लेंस पहनना सुरक्षित है?
जाने क्या कोरोना वायरस के वक़्त कॉंटैक्ट लेंस पहनना सुरक्षित है या नहीं।
कोरोना वायरस: तथ्य और भ्रांतियाँ
नए कोरोना वायरस और इससे होने वाली बीमारी COVID-19 के बारे में कई निराधार और भ्रामक बातें चर्चा में हैं, जो सही नहीं हैं।