COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
25th March, 20204 min read

फिजिकल डिस्टेंसिंग (Physical distancing): जानकारी

Medical Reviewer:Healthily's medical team
Author:Meera Senthilingam
मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है। यह Meera Senthilingam द्वारा लिखा गया है और Healthily's medical team ने इसकी मेडिकल समीक्षा की है।

जैसा कि कोरोना वायरस (coronavirus) दुनिया भर में फैलता जा रहा है, आपको अन्य लोगों से अपनी दूरी बनाए रखने के लिए कहा गया होगा।

ऐसा करने को फिजिकल डिस्टेंसिंग के रूप में जाना जाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), राष्ट्रीय स्वास्थ्य एजेंसियाँ और दुनिया भर की सरकारें, कोविड-19 (COVID-19), बीमारी कोरोनावायरस की वजह से होती है, के प्रसार को सीमित करने में मदद करने के लिए फिजिकल डिस्टेंसिंग रखने को कह रहे हैं।

लेकिन इसका मतलब क्या होता है और आपको यह क्यों करना चाहिए?

फिजिकल डिस्टेंसिंग क्या है?

फिजिकल डिस्टेंसिंग, जिसे सोशल डिस्टेंसिंग (social distancing) के रूप में भी जाना जाता है, का अर्थ है अन्य लोगों से दूर रहना - अपनी दूरी बनाए रखना।

विभिन्न संगठनों की इसके लिए अलग-अलग परिभाषाएँ हैं, लेकिन सबका यही कहना है कि अपने और अन्य लोगों के बीच कम-से-कम 1 मीटर (3 फीट) की फिजिकल दूरी रखें।

यूके सरकार और अमेरिका में रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (Centers for Disease Control and Prevention) का कहना है कि दूसरों से कम से कम 2 मीटर (6 फीट) की दूरी रखना सबसे अच्छा होता है।

फिजिकल डिस्टेंसिंग की सलाह विशेष रूप से तब दी जाती है, जब आप 70 वर्ष से अधिक के हों, गर्भवती हों या आपको कोई अंदरूनी हेल्थ कंडीशन हो।

क्यों जरूरी है फिजिकल डिस्टेंसिंग?

ऐसा माना जाता है कि कोरोनोवायरस संक्रमित (इन्फेक्टेड) व्यक्ति के मुँह या नाक से निकलने वाली बूंदों (droplets) से फैलता है, जब वे खाँसते, छींकते या साँस छोड़ते हैं। यदि आप उनके पास में खड़े हों, तो ये ड्रॉपलेट्स आपकी साँसों द्वारा आपकी नाक में आसानी से चले जाते हैं।

यदि आप संक्रमित (इन्फेक्टेड) होते हैं, तो आप वायरस को किसी ऐसे व्यक्ति तक फैला सकते हैं, जो शारीरिक रूप से आपके करीब होते हैं।

फिजिकल डिस्टेंसिंग के अलावा, आपको वायरस से बचने के लिए या उससे इन्फेक्टेड होने के जोखिम को कम करने के लिए अपने हाथ भी अच्छे से धोने चाहिए (practice good hand hygiene)।

ऐसा इसलिए क्योंकि यह वायरस कई घंटों से लेकर कुछ दिनों तक टेबल और दरवाज़े के हैंडल जैसी कठोर सतहों पर कहीं भी जीवित रह सकता है, जिसका अर्थ है कि यह वस्तुओं या सतहों को छूने के बाद आपकी आँख, नाक या मुँह को छूने से फैल सकता है।

दूसरों से अपनी दूरी कैसे बनाए रखें?

कोरोनावायरस के प्रकोप के दौरान दूसरों से सुरक्षित दूरी बनाए रखने के कई तरीके हैं। कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:

  • जब तक यह अति-आवश्यक ना हो, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग नहीं करना
  • जहाँ भी संभव हो, घर से काम करना
  • दोस्त, परिवार या अपने घर के बाहर किसी से भी नहीं मिलना
  • छोटे-बड़े सभी सार्वजनिक समारोहों से बचना
  • अपने डॉक्टर या हेल्थकेयर प्रोवाइडर से संपर्क करने के लिए फोन या ऑनलाइन सेवाओं का उपयोग करना

सामान्य तौर पर, कोरोनावायरस से बचने का या इसे फैलाने से बचने का सबसे अच्छा तरीका घर पर रहना है और केवल अति-आवश्यक काम के लिए बाहर जाना चाहिए, जैसे कि खाने की चीजें खरीदने के लिए।

आप इसे कैसे कर सकते हैं और अपने मानसिक स्वास्थ्य को कैसे बनाए रख सकते हैं?

अन्य लोगों से, विशेषकर मित्रों और परिवार के लोगों से अपनी दूरी बनाए रखना कठिन होता है। और अगर ऐसा लंबे समय तक करना हो, तो यह और भी कठिन होता है।

लेकिन ऐसे तरीके हैं, जिनसे आप फिजिकल डिस्टेंसिंग प्रैक्टिस कर सकते हैं और एक्टिव रह सकते हैं तथा दूसरों से जुड़े रह सकते हैं।

आप घर से ही वर्कआउट कर सकते हैं, अपनी पसंदीदा गतिविधियाँ जैसे खाना बनाना या पढ़ना, और जितना हो सके लोगों के संपर्क में रहने के लिए तकनीक का उपयोग कर सकते हैं।

यदि आपको लगता है कि आपको कोरोना वायरस हो सकता है, तो आप अपने लक्षणों की जांच करने के लिए हमारे COVID-19 सिम्पटम मैपर का उपयोग कर सकते हैं और दुनिया भर के अन्य लोगों के साथ तुलना कर सकते हैं।

इससे आपको एक बेहतर समझ मिल सकती है कि बीमारी किस तरह से आपको प्रभावित कर रही है और हमें इस बीमारी के प्रसार का आकलन करने में मदद मिलेगी।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।