COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
8 min read

बच्चों में डायबिटीज होने पर क्या उम्मीद करें (Diabetes in children: what to expect)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

अगर आपके बच्चे को डायबिटीज (diabetes) होने का पता चलता है तो आप भविष्य को लेकर व्याकुल, क्रोधित और चिंतित हो सकते हैं। इसमें आने वाली चुनौतियों से आपके डॉक्टर आपकी मदद कर सकते हैं।

ज़्यादातर बच्चे जिन्हें डायबिटीज (diabetes) होता है उन्हें टाइप 1 डायबिटीज (diabetes) होती है। जिसमें शरीर इंसुलिन (insulin) के निर्माण में असमर्थ हो जाता है, इसका मतलब उन्हें नियमित इंसुलिन इंजेक्शन (insulin inejction) की ज़रूरत पड़ती है।

कम लेकिन बढ़ती हुई संख्या में बच्चों में टाइप 2 डायबिटीज़ पाया जा रहा है, जो वज़न बढ़ने से संबंधित हो सकता है।

टाइप 1 डायबिटीज़, जिसके बारे में हम अभी बात करेंगे, वज़न बढ़ने के कारण नहीं होता है।

जब आपके बच्चे में डायबिटीज़ का पता चलता है, दुःखी या चिंतित होना पूरी तरह सामान्य है लेकिन इस स्थिति में अपने बच्चे की आज़ादी छीनने या अपने सामान्य जीवन को खत्म करने की ज़रूरत नहीं है।

इसका क्या मतलब है कि आपको दैनिक जीवन के हिस्से के रूप में अपने बच्चे की स्थिति का सावधानीपूर्वक ख्याल रखना होगा।

लंदन में यूनिवर्सिटी कॉलेज हॉस्पिटल के प्रोफेसर पीटर हिन्डमार्श बतातें हैं कि अगर आपके बच्चे में टाईप 1 डायबिटीज का पता चलता है तो क्या करना चाहिए।

शुरुआत के कुछ दिन

पता लगने के एक दिन के भीतर आप और आपका बच्चा स्पेशलिस्ट मेडिकल टीम से मिल सकते हैं।

इस टीम के द्वारा अस्पताल में मरीज़ की तरह या आपके घर में आपके बच्चे का ख्याल रखा जाएगा। यह आपकी पसन्द और आपके बच्चे की ज़रूरत पर निर्भर करता है।

अगर आपका बच्चा अस्पताल में भर्ती होता है तो वहां आपके रुकने की भी सुविधा हो सकती है।

प्रोफेसर हिन्डमार्श बताते हैं कि "अपनी केयर टीम के साथ पहले के कुछ दिन डायबिटीज़ की जानकारी लेने का शुरुआती चरण होता है।"

“ब्लड ग्लूकोज़ की जांच और अपने बच्चे को इंसुलिन देना उसे खाना खिलाना और व्यायाम कराना आप इन स्थितियों के बारे में जानने लगेंगे। “

आपकी केयर टीम में ये शामिल हो सकते हैं

  • एक कंसल्टेंट पीडियाट्रिशियन (consultant paediatrician) जो डायबिटीज विशेषज्ञ हो
  • बच्चों में डायबिटीज की विशेषज्ञ नर्स
  • एक डायटीशियन (dietitian) जो बच्चे की ज़रूरतों से परिचित हो
  • एक साइकोलॉजिस्ट (psychologist) जो बाल विशेषज्ञ हो

प्रोफेसर हिन्डमार्श कहते हैं हमारा लक्ष्य है कि माता पिता को उस स्तर पर लाया जा सके जहाँ वह अपने बच्चे के साथ घर जाने को सुरक्षित महसूस करें। इसमें 5 दिन का समय लग सकता है लेकिन यह समय अलग-अलग भी हो सकते हैं। प्रक्रिया आपकी गति से की जाती है।

केयर टीम से क्या उम्मीद रखें? (What can I expect from the care team)

आप सम्पूर्ण प्रायोगिक सेशन की उम्मीद कर सकते हैं कि फिंगर प्रिक जांच (finger prick test) का इस्तेमाल करके कैसे और कब अपने बच्चे के ब्लड शुगर स्तर की जांच करें और इंसुलिन इंजेक्शन (insulin injection) कैसे दें।

डायटीशियन आपके बच्चे के आहार का मूल्यांकन करेगा और चर्चा करेगा कि परिवार का आहार इस स्थिति के अनुकूल कैसे हो सकता है।

अगर ज़रूरत पड़ी तो आपकी केयर टीम आपसे बात कर सकती है कि आप स्कूल या नर्सरी में अपने बच्चे के खाने का ख्याल कैसे रखेंगे। आपकी केयर टीम स्कूल या नर्सरी में सम्पर्क कर सकती है आमतौर पर टीम का एक सदस्य इस बात की चर्चा करने स्कूल जाता है कि आपके बच्चे को कैसे देखभाल की ज़रूरत पड़ेगी।

अगर आपका बच्चा पांच साल से छोटा है तो टीम इंसुलिन पंप की सहायता से इलाज करने के बारे में आपसे चर्चा करेगी। यह शुरू में डरावना लगता है लेकिन छोटे बच्चों को इंसुलिन देने का यह एक अच्छा तरीका है।

आपके बच्चे की भावनात्मक प्रतिक्रिया (Your child's emotional response)

प्रोफेसर हिन्डमार्श कहते हैं इसका पता लगाना बहुत ज़रूरी है कि आपके बच्चे पर कितना प्रभाव डालता है। इसमें एक समय तक सदमा, फिर गुस्सा फिर अस्वीकृति हो सकती है और धीरे-धीरे स्थिति को स्वीकार लेते हैं।

माता-पिता और बच्चों को पूर्ण रूप से मनोवैज्ञानिक से अपनी भावनाओं के बारे में बात करनी चाहिए।

शुरुआत के कुछ महीने (The first few months)

कुछ दिनों के बाद अपने बच्चे के डायबिटीज़ (diabetes) का ख्याल रखने की तरफ पहला कदम उठाने को लेकर आप में बहुत आत्मविश्वास आ सकता है। इसका मतलब अगर उन्होंने अपना शुरुआती इलाज अस्पताल में करवा लिया है, तो आप उन्हें घर ले जा सकते हैं।

आपको नियमित रूप से अपने डायबिटीज केयर टीम के सम्पर्क में रहना चाहिए।

प्रोफेसर हिन्डमार्श कहते हैं इस चरण पर, माता-पिता और बच्चों को अपने केयर टीम से मिलने के लिए हर एक-दो हफ्ते पर अस्पताल आना पड़ सकता है । हम बात कर सकते हैं कि आप और आपके बच्चे कैसी प्रगति कर रहे हैं और किसी भी सवाल का जवाब दे सकते हैं।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि माता पिता कभी भी जरूरत पड़ने पर टीम से बात कर सकते हैं, उन्हें नियमित ईमेल और फोन से सम्पर्क किया जाता है।

आपातकालीन स्थिति में डायबिटीज केयर टीम

आपको नम्बर देगी जो 24 घण्टे उपलब्ध रहेगा।

शुरुआत में डायबिटीज के साथ ज़िन्दगी को ठीक करने में आप और आपके बच्चे को परेशानी हो सकती है

  • आप अपने परिवार का आहार बदल सकते हैं
  • आपके बच्चे को अपने दोस्तों से अलग होने की चिंता हो सकती है
  • आप दोनों को ब्लड ग्लूकोज़ जांच और इंसुलिन इंजेक्शन की एक नई दिनचर्या के लिए अभ्यस्त होना पड़ सकता है।

एक समय के बाद यह सब आसान लगने लगेगा। अपने केयर टीम से किसी भी सवाल या चिंता के बारे में सम्पर्क करने में हिचकिचाए नहीं।

एक बार हालत स्थिर होने पर

आखिरकार, आप आश्वस्त महसूस करेंगे कि आप केयर टीम की नियमित सहायता के बिना अपने बच्चे के डायबिटीज की देखरेख कर सकते हैं।

इस समय, आपमें अच्छी समझ होनी चाहिए कि खाना और व्यायाम आपके बच्चे पर कैसे असर डाल सकते हैं और इंसुलिन कैसे दिया जा सकता है।

आपमें हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) की समझ होनी चाहिए, जब आपके बच्चे का शुगर स्तर बहुत नीचे चला जाता है और उनमें कांपने, पसीने, थकान, सिरदर्द और बर्ताव में परिवर्तन जैसे लक्षण दिख सकते हैं। आपको सिखाया जाएगा कि आप हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) और अन्य स्थितियों को कैसे रोकें।

प्रोफेसर हिन्डमार्श कहते हैं, ‘एक बार जब माता-पिता और बच्चा पूरी तरह स्थिर हो जाते हैं तो मैं उनसे हर तीन महीने पर मिलने की उम्मीद रखता हूँ।’

12 साल की उम्र से साल में एक बार विस्तृत स्वास्थ्य जांच के लिए मिलना शामिल किया जा सकता है। आपके बच्चे के आंख, पैर, प्रवाह और किडनी खराब होने के संकेतों की जांच की जा सकती है।

जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होने लगता है तो अपने केयर टीम के साथ काम करना ज़रूरी है; जिसमें आपके बच्चे को यह बताया जाए कि वह अपनी हालत खुद से कैसे ठीक कर सकते हैं।

जब आपका बच्चा बहुत छोटा होता है, तो उन्हें इंजेक्शन किट लाने, या इंजेक्शन लगाने के दौरान उनकी त्वचा को पिंच करने जैसे काम करने के लिए कह सकते हैं।

मिलने के दौरान अपने बच्चे को केयर टीम से अपनी भावनाओं और चिंताओं पर चर्चा करने देना चाहिए, क्योंकि उन्हें धीरे-धीरे डायबिटीज (diabetes) के साथ बड़े होने की आदत पड़ जाती है।

किशोरों में डायबिटीज (Diabetes in teenagers)

इसमें कोई आश्चर्य वाली बात नहीं कि स्कूल या कॉलेज पर बहुत कुछ होने के कारण किशोर दिए गए सलाह का पालन करने में ग़लतियाँ कर सकते हैं; जिसमें इंसुलिन इंजेक्शन लेना भूल जाना और वह खाना जो नहीं खाया जाना चाहिए जैसी चीजें शामिल होती हैं।

इसमें दिन के हर मिनट ध्यान देना एक सामान्य अभिभावक की प्रतिक्रिया होती है लेकिन यह आपके बच्चे की आत्मनिर्भरता की सोच को कमज़ोर कर सकता है। कुछ विशेषज्ञ आपके किशोर में आत्मनिर्भरता की भावना को बढ़ावा देने की कोशिश करते हैं, खुले और वयस्क तरीके से उनकी स्थिति पर चर्चा करते हैं।

आपके किशोर के लिए यह समझना जरूरी है कि बहुत ज़्यादा धूम्रपान या शराब पीना आपके डायबिटीज (diabetes) के लक्षणों को और खराब कर सकता है।

वह अपनी उम्र के लोगों से बात करना उपयोगी समझ सकते हैं जो अपनी स्थिति को उनके साथ साझा करें। जेडीआरएफ (JDRF) वेबसाइट आपको सहयोग समूह और आयोजनों की जानकारी उपलब्ध कराती है।

किशोरियों में गर्भवस्था और डायबिटीज (Teenage pregnancy and diabetes)

वह महिला जिसे टाइप 1 डायबिटीज (diabetes) हो वह गर्भावस्था के दौरान परेशानियों को महसूस कर सकती है, जिसका मतलब है किसी भी गर्भावस्था की योजना सावधानीपूर्वक बनानी चाहिए।

इस कारण से, यह उन किशोरियों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जो यौन रूप से सक्रिय हैं और गर्भावस्था की योजना नहीं बना रही हैं, उन्हें गर्भनिरोधक के विश्वसनीय तरीकों से अवगत होने की जरूरत है।

डायबिटीज सहयोग समूह (Diabetes support groups)

आप और आपके बच्चे को Upbete पर भी नज़र डालनी चाहिए, यह एक ऑनलाइन फोरम है जो डायबिटीज वाले कम उम्र के लोगों का सहयोग करता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।