COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
16 min read

हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

हाइपोग्लाइसीमिया क्या है

हाइपोग्लाइसीमिया, या "हाइपो", आपके रक्त में ग्लूकोज का असामान्य रूप से निम्न स्तर है (प्रति लीटर चार मिलीमोल्स से भी कम)।जब आपका ग्लूकोज (चीनी) का स्तर बहुत कम होता है, तो आपके शरीर में अपनी गतिविधियों को पूरा करने के लिए पर्याप्त ऊर्जा नहीं होती है।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia), आमतौर पर डायबिटीज़ (diabetes) के साथ जुड़ी होती है और मुख्य रूप से तब होती है जब कोई डायबिटीज़ (diabetes) वाला व्यक्ति बहुत अधिक इंसुलिन ले लेता है, आहार नहीं लेता है य बहुत अधिक व्यायाम करता है।दुर्लभ मामलों में, किसी ऐसे व्यक्ति के लिए हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) संभव है जिसे डायबिटीज़ (diabetes) नहीं है। ये कुपोषण, अनियंत्रित शराब पीना या कुछ विशेष स्थितियों जैसे एडिसन डिसीज़ (Addison’s disease) की वजह से संभव है।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के कारणों के बारे में और पढ़ें।

हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण (Symptoms of hypoglycaemia)

अधिकांश लोगों को महसूस होगा कि उनका रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम है, ऐसा महसूस होने पर इसे नियंत्रित करने का समय मिल जाता है। लक्षण आमतौर पर तब नजर आते हैं जब ब्लड शुगर का स्तर चार मिलीमोल्स (mmol) प्रति लीटर से कम हो जाता है।शुरूआती चेतावनी के संकेत आमतौर पर भूख, कंपकंपी या थरथराहट महसूस करना, और पसीना आना हैं। अधिक गंभीर मामलों में आप भ्रमित भी महसूस कर सकते हैं और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है। बहुत गंभीर मामलों में, हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) का अनुभव करने वाला व्यक्ति अपनी चेतना खो सकता है।नींद के दौरान हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) होना भी संभव है, जिससे अधिक पसीना आना, नींद में गड़बड़ी और जागने पर थकान और उलझन महसूस हो सकती है।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के लक्षणों के बारे में और पढ़ें

हाइपोग्लाइसीमिया को ठीक करना (Correcting hypoglycaemia)

हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) का तत्काल उपचार कुछ ऐसा भोजन या पेय लेना है जिसमें शक्कर हो, जैसे कि आपके रक्त शर्करा के स्तर को सही करने के लिए डेक्सट्रोज़ की गोलियां या फलों का रस।कुछ मीठा खाने के बाद, आपको सैंडविच या कुछ बिस्कुट जैसे लंबे समय तक रहने वाले "स्टार्चयुक्त" कार्बोहाइड्रेट भोजन की आवश्यकता हो सकती है।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) आपके चेतना खोने का कारण बनता है, तो रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाने और चेतना को फिर से लौटाने के लिए हार्मोन ग्लूकागोन (glucagon) का एक इंजेक्शन दिया जा सकता है। यह केवल तब जब इंजेक्शन उपलब्ध हो और इंजेक्शन देने वाला व्यक्ति इसका उपयोग करना जानता हो।आपको आपातकाल सेवा द्वारा एंबुलेंस मँगवाने के लिए संपर्क करना चाहिए, यदि:

  • ग्लूकागोन इंजेक्शन किट उपलब्ध ना हो।
  • कोई भी इंजेक्शन देने के के लिए प्रशिक्षित नहीं है।
  • इंजेक्शन 10 मिनट के बाद अप्रभावी है।

कभी भी किसी ऐसे व्यक्ति को कुछ खिलाने या पिलाने की कोशिश ना करें जो नींद में हो या फिर बेहोश हो, क्योकि इससे चोकिंग या सांस कि नली में खाना फँसने कि समस्या हो सकती है। इसमें कुछ उच्च चीनी की साम्रगी शामिल है जो गाल के अंदर लीपने के लिए विशेष रूप से तैयार की गईं हैं।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के इलाज के बारे में और पढ़ें।

हाइपोग्लाइसीमिया से बचाव (Preventing hypoglycaemia)

यदि आपको मधुमेह है जिसमें इंसुलिन के साथ उपचार की आवश्यकता होती है, तो हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) से बचने का सबसे सुरक्षित तरीका नियमित रूप से अपने रक्त शर्करा के स्तर की जांच करना और शुरुआती लक्षणों को पहचानना सीखना है।भोजन न करना या हल्का-फुल्का खाना या योजना से कम कॉर्बोहाइड्रेड खाना हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के खतरे को बढ़ा सकता है। आपको शराब पीते समय सावधान रहना चाहिए क्योकि कई बार शराब पीने के कईं घंटों बाद हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) हो सकता है।व्यायाम या गतिविधि एक अन्य संभावित कारण है, और इससे निपटने के लिए आपके पास एक योजना होनी चाहिए, जैसे कि व्यायाम करने से पहले या बाद में कार्बोहाइड्रेट खाना, या अपनी इंसुलिन खुराक को नियंत्रित करना।आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि आप शरीर में इंसुलिन कहां लगा रहे हैं, इसे नियमित रूप से बदलना चाहिए। क्योंकि इस बात पर निर्भर करते हुए कि इसे कहाँ लगाया जा रहा है, आपके शरीर द्वारा अवशोषित इंसुलिन की मात्रा अलग-अलग हो सकती है।खून में ग्लूकोज़ का स्तर कम होने के लक्षण महसूस होने कि स्थिति से निपटने के लिए हमेशा अपने साथ रैपिड-एक्टिंग कार्बोहाइड्रेट रखे, जैसे कि ग्लूकोज़ टैबलेट्स, फलों के जूस का डिब्बा (जिसमें चीनी हो), और कुछ मिठाइयां।सुनिश्चित करें कि आपके मित्रों और परिवार को आपके मधुमेह और हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के खतरे के बारे में पता हो। अपने साथ किसी तरह का पहचान पत्र रखने मददगार साबित हो सकता है, जो आपातकाल में लोगों को आपकी स्थिति के बारे में बता सके।जब हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) डायबिटीज़ के अलावा किसी बुनियादी स्थिति के फलस्वरूप होता है, तो आगे हाइपो को रोकने के लिए इलाज की ज़रूरत होगी।

लक्षण

हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के लक्षण सामान्य रूप से तब दिखते हैं जब आपका ब्लड शुगर लेवल चार मिलिमोल्स (mmol) प्रति लीटर से कम हो जाता है।यदि आपको मधुमेह है, जिसका इंसुलिन के साथ इलाज किया जाता है, तो आपको नियमित रूप से ब्लड शुगर के स्तर की जांच करने के लिए ब्लड ग्लूकोज़ मीटर नामक एक छोटे उपकरण का उपयोग करने की सलाह दी जा सकती है।इसके लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकते हैं, और शुरुआती चेतावनी संकेतों से अवगत होना महत्वपूर्ण है ताकि आप उनका इलाज कर सकें।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं-

  • भूख लगना
  • पसीना आना
  • सिर चकराना
  • थकान
  • धुंधला विजन
  • सिरहन औऱ कांपना
  • पीला पड़ना
  • तेज़ पल्स या घबराहट
  • होंठ फटना
  • चिड़चिड़ापन
  • एकाग्रता में मुश्किल
  • भ्रम होना
  • अव्यवस्थित या तर्कहीन व्यवहार, जिसे नशा समझा जा सकता है।

अगर हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) का तुरंत इलाज नहीं किया जाता है और आपके रक्त शर्करा का स्तर काफी कम हो जाता है, तो आप सुन्न हो सकते हैं या बेहोश सकते हैं।इंसुलिन-उपचारित मधुमेह वाले अधिकांश लोग नोटिस करते हैं कि हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) के लक्षण बदलते हैं और जब वो इस स्थिति के साथ रहने लगते हैं तो कम दिखाई देते हैं।कुछ लोगों के लक्षण बहुत कम होते हैं, जो उन्हे गंभीर घटना होने के विशेष जोखिम में डाल देता है, जहां वे मदद के लिए दूसरों पर निर्भर होते हैं।अपनी डायबिटीज़ केयर टीम को बताएं अगर आपको ये परेशानी होती है क्योंकि जोखिम को कम करने के लिए आपके उपचार को बदलना पड़ सकता है।हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia) का इलाज कैसे किया जाता है, इस बारे में और पढ़ें

नींद में हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycaemia while sleeping)

सोते वक्त हाइपो की स्थिति को नॉकटर्नल हाइपोग्लाइसीमिया (nocturnal hypoglycaemia) के रूप में जाना जाता है। यह उन लोगों में अधिक आम है जो इंसुलिन से मधुमेह का इलाज करते हैं।हालांकि कुछ लोग जब रात के हाइपोग्लाइसीमिया का अनुभव करते हैं तो उनकी नींद खराब होती है, आप केवल सुबह उठने पर लक्षणों को नोटिस कर सकते हैं।रात के हाइपोग्लाइसीमिया (nocturnal hypoglycaemia) के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं-

  • सिरदर्द- अक्सर हैंगओवर होने से तुलना की जाती है।
  • सुबह असामान्य रूप से थकान महसूस करना
  • पसीने से चादरों या कपड़ों का भीगना

कारण

अधिकांश मामलों में, हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) डायबिटीज़ वाले लोगों को प्रभावित करता है हालांकि बहुत ही दुर्लभ रूप से ये अन्य बुनियादी स्थितियों के कारण भी हो सकता है।डायबिटीज़ वाले लोगों में हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia in people with diabetes )

डायबिटीज़ की दवा की ओवरडोज़ (Overdose of diabetes medication)

हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का एक आम कारण आपकी वर्तमान जरूरतों के लिए बहुत अधिक इंसुलिन लेना है। इंसुलिन एक दवा है जो आपके ब्लड शुगर लेवल्स को नियंत्रित करने में मदद करती है। यह आमतौर पर टाइप 1 मधुमेह का इलाज करने के लिए उपयोग की जाती है और टाइप 2 मधुमेह वाले कुछ लोगों के लिए भी इसकी सलाह दी जाती है।ब्लड ग्लूकोज़ के लेवल में गिरावट बहुत अधिक ओरल हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia ) दवा लेने के बाद भी हो सकती है, जैसे कि सल्फोनीलुरिया(sulphonylurea), जो इंसुलिन को रिलीज़ करती है। इस दवा का उपयोग अक्सर टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए किया जाता है।

व्यायाम, खान-पान और एल्कोहल (Exercise, food and alcohol)

टाइप 1 डायबिटीज वाले लोगों के लिए, रक्त शर्करा के सही स्तर को बनाए रखने में आप कितना इंसुलिन इंजेक्ट कर रहे हैं, कितना खाना खा रहे हैं और व्यायाम के दौरान कितनी ऊर्जा खर्च कर रहे हैं, सब शामिल है।हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) हो सकता है अगर आपने इंसुलिन की अपनी सामान्य मात्रा ली है लेकिन कॉर्बोहाइड्रेट सामान्य से कम लिए हैं या वो जल्दी इस्तेमाल हो गए हैं। ऐसा तब हो सकता है जब आप भोजन या नाश्ते में देरी करते हैं या पर्याप्त मात्रा में कार्बोहाइड्रेट नहीं खाते हैं, या सामान्य से अधिक व्यायाम करते हैंमधुमेह वाले लोग जो बहुत अधिक शराब पी चुके हैं, या शराब को खाली पेट पिया है, उन्हें भी हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) हो सकता है।हालांकि, यह पहचानना हमेशा संभव नहीं होता है कि हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का एक विशेष प्रकरण क्यों हुआ है, और कभी-कभी यह बिना किसी स्पष्ट कारण के होता है।बिना मधुमेह वाले लोगों में हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia in people without diabetes)हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia)- यहां तक ​​कि हल्के मामले- उन लोगों में बहुत कम होते हैं जिन्हें मधुमेह नहीं है। संभावित कारण नीचे दिए गए हैं।

रिएक्टिव हाइपोग्लाइसीमिया (reactive hypoglycaemia)

मधुमेह के बिना लोग कभी-कभी हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का अनुभव कर सकते हैं यदि उनका पैनक्रियाज़ एक बड़े कार्बोहाइड्रेट-बेस्ड भोजन के बाद बहुत अधिक इंसुलिन का उत्पादन करता है। इसे प्रतिक्रियाशील हाइपोग्लाइकेमिया (Reactive hypoglycaemia) के रूप में जाना जाता है।यह स्पष्ट नहीं है कि ऐसा क्यों होता है, हालांकि यह उन लोगों में अधिक सामान्य माना जाता है जिनका वजन अधिक है या जिनकी गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी (gastric bypass surgery ) हुई है।दुर्लभ मामलों में, अग्न्याशय में एक सौम्य (गैर-कैंसर) ट्यूमर इंसुलिन के अधिक उत्पादन का कारण हो सकता है, या ट्यूमर स्वयं बहुत अधिक ग्लूकोज का उपयोग कर सकता है।

अन्य संभावित कारण (Other possible causes)

जिन लोगों को मधुमेह नहीं है, उनमें हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के अन्य संभावित कारणों में शामिल है-

  • उपवास या कुपोषण - जहां आपके शरीर को ठीक से काम करने के लिए पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं।
  • अनियंत्रित शराब पीना या बहुत अधिक शराब पीना
  • एडिसन डिसीज़- अधिवृक्क ग्रंथियों का एक विकार (दो छोटी ग्रंथियां जो गुर्दे के ऊपर होती हैं)
  • कुछ दवाइयां - हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) उन लोगों में हो सकता है जो क्विनाइन(quinine) (मलेरिया के लिए), सैलिसिलेट्स (salicylates) (गठिया रोग के लिए) और प्रोप्रानोलोल (propranolol) (उच्च रक्तचाप के लिए) के ले रहे हो।
  • जिगर, गुर्दे या थायरॉयड ग्रंथि को प्रभावित करने वाली गंभीर बीमारियां

हाइपोग्लाइसीमिया का इलाज (treating hypoglycaemia)

अधिकांश मामलों में , इसके लक्षणों को पहचानने के बाद आप हाइपोग्लाइसीमिया का इलाज खुद कर सकते हैं।हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) की घटना का इलाजहाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के अटैक को खत्म करने का तत्काल इलाज कुछ शक्कर युक्त भोजन या पेय (लगभग 15 से 20 ग्राम तेजी से काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट) लेना है।उदाहरण के तौर पर, ये हो सकता है-

  • फलों के जूस का या नॉन-डाइट सॉफ्ट ड्रिंक का एक गिलास
  • तीन से पांच डेक्सट्रोज की गोलियां
  • थोड़ी मिठाई

सबसे पहले आपको वसायुक्त खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों से बचना चाहिए, जैसे कि चॉकलेट और दूध, क्योंकि उनमें आमतौर पर उतनी चीनी नहीं होती है और जो चीनी होती है वह अधिक धीरे-धीरे अवशोषित हो सकती है।कुछ मीठा लेने के बाद, आपको पास लंबे समय तक चलने वाला कार्बोहाइड्रेट भोजन लेना चाहिए, जैसे कि कुछ बिस्कुट, एक अनाज बार, फल का एक टुकड़ा या सैंडविच।हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) की हल्की घटना से रिकवर करने के लिए आपको आमतौर पर 15 मिनट लगेंगे। अगर आपके पास ब्लड ग्लूकोज़ मीटर है तो 15 से 20 मिनट बाद शुगर को दोबारा चेक कीजिए। अगर ये अभी भी बहुत कम है( 4mmol से नीचे), तो आपको कुछ और दोबारा 15-20 मिनट बाद अपना शुगर लेवल चेक करने से पहले कुछ और शक्करयुक्त भोजन या ड्रिंक लेना चाहिए।जब हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) वाले किसी और व्यक्ति का इलाज किया जाता है, तो अगर उपरोक्त उपचार प्रभावी नहीं है, तो आप उनके गाल के अंदर ग्लूकोज जेल (या शहद, गुड़ या ग्लूकोज जेल उपलब्ध नहीं होने पर जैम) लगाकर उनकी मदद करने में सक्षम हो सकते हैं, और उनके गालों के बाहर धीरे से मालिश करें।उन्हें बेहतर महसूस करने में 10 से 15 मिनट लग सकते हैं। यह तब नहीं किया जाना चाहिए जब व्यक्ति बेहोश हो या नींद में हो क्योकि दम घुटने का खतरा हो सकता है।अगर आपके साथ एक हफ्ते में हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) की कईं घटनाएं होती हैं, तो आपको बुनियादी कारण पता करने के लिए डायबिटीज़ केयर टीम से सम्पर्क करना चाहिए। आपकी दवा को एडजस्ट करने की आवश्यकता हो सकती है, या हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) पैदा करने वाली कोई और स्थिति हो सकती है जिसका इलाज किया जाना चाहिए।

अगर व्यक्ति बेहोश हो (If a person is unconscious)

यदि कोई व्यक्ति गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के कारण चेतना खो देता है, तो उन्हें रिकवरी पोजिशन में लाने की आवश्यकता होती है और हार्मोन ग्लूकागोन का इंजेक्शन दिया जाता है (यदि उनके पास इंजेक्शन किट है)। इंजेक्शन उनके ब्लड ग्लूकोज़ लेवल को बढ़ाएगा।इंजेक्शन एक दोस्त या परिवार के सदस्य द्वारा दिया जाना चाहिए जो जानता हो कि वे क्या कर रहे हैं, या एक प्रशिक्षित हैल्थ केयर प्रोफेशनल द्वारा।आपको इमरजेंसी सेवा में एबुलेंस के लिए फोन करना चाहिए अगर-

  • ग्लूकागोन इंजेक्शन किट उपलब्ध नहीं हो।
  • इंजेक्शन देने में प्रशिक्षित कोई व्यक्ति मौजूद ना हो
  • इंजेक्शन 10 मिनट बाद बेअसर हो जाए

कोई व्यक्ति जो होश में ना हो उसके मुंह में खाने या पीने का कुछ भी डालने की कोशिश ना करें क्योकि इससे दम घुट सकता है।यदि आप ग्लूकागोन इंजेक्शन देने में सक्षम हैं और व्यक्ति को होश आ गया है, तो उन्हें कुछ लंबे समय तक काम करने वाले कार्बोहाइड्रेट जैसे कि कुछ बिस्कुट, एक अनाज बार या सैंडविच खाना चाहिए।आपको उस व्यक्ति पर लगातार नजर रखनी चाहिए ताकि अगर लक्षण दोबारा आए या दोबारा इलाज करने की ज़रूरत पड़े।

हाइपोग्लाइसीमिया को रोकना (Preventing hypoglycaemia)

अगर आपको डायबिटीज़ है तो अपनी दवाईयों के प्लान और नियमित रूप से खाना खाने से आपको हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) को रोकने में मदद मिल सकती है। आपके ब्लड शुगर के स्तर पर नजर रखना भी ज़रूरी है।ब्लड ग्लूकोज़ के स्तर की जांच करना (Monitoring blood glucose)नियमित रूप से आपके ब्लड ग्लूकोज़ के स्तर की निगरानी करना, आपके ब्लड ग्लूकोज़ को सामान्य और स्थिर रखने में मदद कर सकता है, और आपको हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के संकेतों और लक्षणों को जल्दी से ठीक करने में मदद करेगा।आपका ब्लड ग्लूकोज़ का स्तर पूरे दिन अलग-अलग हो सकता है, इसलिए आपको दिन में कई बार इसकी जांच करने की आवश्यकता हो सकती है, जो आपके द्वारा लिए जा रहे उपचार पर निर्भर करता है।आप ब्लड ग्लूकोज़ मीटर, एक छोटी सी डिवाइस का उपयोग करके अपने ब्लड ग्लूकोज़ लेवल की निगरानी कर सकते हैं जो आपके रक्त में ग्लूकोज की कंसन्ट्रेशन को मापता है।टाइप 1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज़ के साथ रहने के बारे में और पढ़ें।भोजन और शराब (Food and alcohol)यदि आपको मधुमेह है, तो अधिक शारीरिक गतिविधि से हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) हो सकता है। व्यायाम से पहले और दौरान अतिरिक्त कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ खाने से इसके होने की संभावना को कम करने में मदद मिल सकती है।अगर आप इंसुलिन ले रहे हैं तो आपका डॉक्टर आपको अति उत्साही शारीरिक गतिविधि करने से पहले इसकी डोज़ को कम करने की सलाह दे सकता है।शराब आपके शरीर की ग्लूकोज को रिलीज़ की क्षमता को भी प्रभावित कर सकती है। अगर आपको टाइप 1 मधुमेह है, तो यह सलाह की जाती है कि आप एक दिन में 2 से 3 यूनिट से अधिक शराब न पीएं और शराब पीने के बाद स्नैक खाएं।लक्षणों को पहचानना (Spotting the signs)हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) अचानक विकसित हो सकता है, हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के लक्षणों के बारे में पता होना महत्वपूर्ण है ताकि आप जल्दी से इसका इलाज कर सकें। अपने परिवार और दोस्तों को इसके संकेतों के बारे में बताएं और उन्हें बताएं कि इसका इलाज कैसे करें।मधुमेह वाले लोगों को सलाह दी जाती है कि वे अपने साथ एक ऐसी पहचान रखें जो उनकी स्थिति के बारे में बताए ताकि उन्हें जल्दी और कुशलता से मदद मिल सके।

अपने पास इलाज रखना (Keep treatment with you)

अगर आपको हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का खतरा है तो आपको शक्करयुक्त ड्रिंक्स और फूड हमेशा अपने पास रखने चाहिए ताकि हल्के मामलों को जल्दी से जल्दी ठीक किया जा सकें।अगर आपको डायबिटीज़ है, विशेष रूप से टाइप 1 डायबिटीज़, आपका डॉक्टर आपको दवाईयां जैसे कि ग्लूकोज़ जैल को अपने पास रखने की सलाह दे सकता है। ये हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का इलाज करने में इस्तेमाल किया जा सकता है अगर नॉर्मल ट्रीटमेंट से फायदा ना हो।यदि आपका इंसुलिन के साथ इलाज किया जा रहा है, तो आपको आमतौर पर एक किट दी जाएगी जिसमें ग्लूकागोन नामक दवा का एक इंजेक्शन होता है। परिवार के सदस्यों या आपके देखभाल करने वाले को इंजेक्शन लगाने के लिए प्रशिक्षित किया जा सकता है, जिसका उपयोग गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के कारण होश खोने पर किया जाना चाहिए।रात में हाइपोग्लाइसीमिया की रोकथाम (Preventing hypoglycaemia at night)रात के दौरान बार बार होने वाले हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) से बचना महत्वपूर्ण है (रात का हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) क्योंकि यह दिन के प्रकरणों के शुरुआती लक्षणों को कम कर सकता है।अगर आपको रात में हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का अनुभव होता है तो आप ट्राई कर सकते हैं-

  • अपने बिस्तर के पास कुछ मीठा रखना
  • सोने से पहले बिस्कुट या दूध जैसे कुछ स्नैक खाना
  • सुबह 3 बजे से 4 बजे के बीच अपने ब्लड शुगर के स्तर की जांच करना, इस समय हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) होने की संभावना सबसे अधिक होती है।

हाइपोग्लाइसीमिया और ड्राइविंग (Hypoglycaemia and driving)

हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) की वजह से भ्रम, उनींदापन या यहां तक ​​कि बेहोशी की समस्या हो सकती है, इससे आपको या सड़क पर चल रहे अन्य लोगों के लिए एक बेहद अधिक जोखिम हो सकता है।अगर आपको डायबिटीज़ है जिसे इंसुलिन द्वारा इलाज की ज़रूरत है तो आप

  • अपनी बीमा कंपनी को सूचित करें।
  • ड्राइविंग से पहले और नियमित अंतराल पर (कम से कम हर दो घंटे में) ड्राइविंग करते समय अपने ब्लड शुगर का परीक्षण करें।
  • अगर आपका ब्लड ग्लूकोज़ कम है तो ड्राइव करने से बचें।
  • हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) के इलाज के 45 मिनट बाद ड्राइविंग से बचें।
  • वाहन में हर समय रैपिड-एक्टिंग कार्बोहाइड्रेट को अपने साथ रखें।

अगर आप ड्राइव करते समय हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) का अनुभव करते हैं, तो जैसे ही सुरक्षित लगें खुद को ऊपर की तरफ खींचे और रूक जाए। चाबी निकाल ले और सामान्य तरीके से हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia का इलाज करने से पहले ड्राइवर की सीट से उतर जाएं।अपनी मधुमेह देखभाल टीम को सूचित करें यदि आपको हाइपोग्लाइसीमिया (hypoglycaemia) को पहचानने में समस्या होने लगी है या आपके साथ लगातार ये घटनाएं हो रही हैं, भले ही ये चेतावनी के लक्षण थे और आप बिना सहायता के उनका इलाज करने में सक्षम थे।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।