COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
19th December, 20194 min read

दस्त और उल्टी (नोरोवायरस) होने पर डॉक्‍टर को कब दिखाएं

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

यदि आपको दस्त (diarrhoea) और उल्टी (vomiting) हो रही है, तो शायद आप नोरोवायरस (norovirus) नामक एक टमी बग (tummy bug) की चपेट में आ गए हैं, इसे ‘विंटर वॉमिटिंग बग (winter vomiting bug)’ के नाम से भी जाना जाता है।

अधिकांश लोग नोरोवायरस (norovirus) से कुछ दिनों के भीतर ही बिना इलाज के ठीक हो जाते हैं। हालांकि, दस्त और उल्टी जैसे लक्षण आपको उतना बीमार महसूस करवा सकते हैं जितने आप हैं नहीं। ऐसे में यह बताना मुश्किल है कि आपको डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए या नहीं लेकिन सामान्‍यत: आपको सलाह दी जाती है कि आप घर पर ही रहें क्‍योंकि नोरोवायरस आसानी से दूसरों में भी फैल सकता है। अगर आप चिंतित हैं तो डॉक्‍टर से फोन पर सलाह ले सकते हैं।

क्या आप चिंतित हैं कि आपको नोरोवायरस है? यह लेख आपकी मदद करेगा कि आपको दस्‍त (diarrhoea) और उल्‍टी (vomiting) होने पर डॉक्‍टर को कब दिखाना है, और आप जरूरत पड़ने पर कहां से मदद ले सकते हैं।

क्या आपको लगता है कि आप नोरोवायरस से ग्रसित हैं? (Do you think you have norovirus?)

नोरावायरस Norovirus से ग्रसित होने पर शुरु में पानी वाले दस्‍त diarrhoea होते हैं जोकि अचानक से शुरु हो जाते हैं, साथ ही मतली (nausea) और उल्‍टी ( vomiting) भी होने लगती हैं। आपको तापमान (बुखार) (temperature (fever)), सिरदर्द (headache) हो सकता है और भूख लगना बंद (lose your appetite) हो सकती है।

क्या आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए?

नोरोवायरस से ग्रसित लोगों को डॉक्‍टर को दिखाने की आवश्‍यकता नहीं पड़ती है। बेहतर होगा कि आप घर पर ही रहें। हालांकि, कुछ लक्षणों पर होने पर डॉक्‍टर के परामर्श की जरुरत पड़ सकती है। ये लक्षण निम्‍न होते हैं:

  • गंभीर डिहाईड्रेशन ( severe dehydration) जैसे चक्‍कर आना (dizziness), पेशाब (urinating) करने में दिक्‍कत होना या भ्रम पैदा होने की स्थिति (loss of consciousness)
  • दस्‍त में खून आना
  • बहुत सारी उल्टियांं होना और शरीर में तरल पदार्थ की कमी होना
  • 38C (100.4F) से अधिक का बुखार
  • लक्षणों का अपेक्षित दिनों से अधिक तक शरीर में मौजूद रहना और उनका गंभीर होते जाना
  • पिछले कुछ हफ्तों में किसी ऐसे स्‍थान का दौरा करना जहां स्‍वच्‍छता के मानक खराब हों
  • गंभीर स्थिति जैसे किडनी (kidney) की समस्‍या या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (weakened immune system) का होना और उसके साथ दस्त और उल्टी होना

अगर आपको चिंता हो रही है या सलाह की आवश्‍यकता है तभी डॉक्‍टर से परामर्श लें।

उन लोगों से दूर रहें जिन्‍हें नोरोवायरस (norovirus) से होने वाली जटिलताओं से ज़्यादा खतरा है जैसे - वृद्ध लोग, गर्भवती स्‍त्री, शिशु और छोटे बच्‍चे।

डॉक्टर किस प्रकार मदद कर सकते हैं?

यदि आप डॉक्‍टर से परामर्श लेते हैं तो हो सकता है कि आपको लैबोरेट्री (laboratory) में मल का सैम्‍पल देने को कहा जाए, जिससे टेस्‍ट करके संक्रमण होने के अन्‍य कारणों का पता भी लगाया जाता है। यदि टेस्‍ट के दौरान पाया जाता है कि आपको बैक्‍टीरियल संक्रमण (bacterial infection) है तो आपको एंटीबायोटिक (antibiotics) दी जाती हैं।

कब चिंता करे? (When to worry)

सार्वजनिक स्थानों पर जाना दूसरों को जोखिम में डाल सकता है, लेकिन आपको आपातकालीन चिकित्सा लेना चाहिए, जैसे कि आपातकालीन विभाग में जाएँ; यदि आपको निम्‍नलिखित लक्षण हैं:

  • खून वाली उल्टियां होना या आपकी उल्‍टी में कॉफी के दाने जैसे कण हों
  • ब्राइट हरी या पीले रंग की उल्‍टी हो रही हो
  • आपने किसी जहरीले पदार्थ (poisonous substance) का सेवन कर लिया हो
  • जब भी आप ब्राइट लाइट की ओर देखते हैं तो आपकी गर्दन अकड़ (stiff neck) जाती है और उसमें दर्द होता है
  • अचानक से पेट या सिर में तेजी से दर्द (severe headache or tummy pain) होने लगे

घर पर रखें अपना ध्‍यान

यदि आपमें कोई चिंताजनक लक्षण नहीं है और आपको ठीक लगता है तो घर पर ही रहें जब तक आप पूरी तरह से अच्‍छा महसूस नहीं करते हैं। अगर आपको नोरोवायरस के लक्षणों के प्रबंधन में अधिक मदद की आवश्यकता है, तो जानें कि घर पर नोरोवायरस का इलाज कैसे करें

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।