COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
18 min read

मिडल ईयर इंफेक्शन (ओटिटिस मीडिया) /Middle ear infection (otitis media)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

ओटिटिस मीडिया क्या है? (What is otitis media?)

ओटिटिस मीडिया मिडल ईयर का एक संक्रमण है, जो छोटे बच्चों में आम है।

अधिकांश कान के संक्रमण (ear infections) 6-18 महीने की आयु के शिशुओं में होते हैं, हालांकि कान का संक्रमण किसी को भी हो सकता है। अस्पष्ट कारणों के चलते, ये लड़कियों की तुलना में लड़कों में अधिक आम है।

आपके बच्चे में कान के संक्रमण (ear infection) के लक्षणों में शामिल है-

  • उनका कान को खींचना, चीरना या रगड़ना
  • उच्च तापमान (38°C या अधिक)
  • चिड़चिड़ापन
  • कम खाना
  • रात में बेचैनी
  • कफ
  • नाक बहना
  • शांत ध्वनियों के प्रति असंवेदनशील होना
  • संतुलन का खोना

ओटिटिस मीडिया (otitis media) के संकेत और लक्षणों के बारे में और पढ़ें।

डॉक्टरी सलाह लेने की ज़रूरत कब है? (When to seek medical advice?)

अधिकांश कान के संक्रमण (ear infection) जल्दी ठीक हो जाते हैं, इसलिए हमेशा डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता नहीं है।

हालांकि, आपको डॉक्टर से सलाह लेने के लिए सम्पर्क करना चाहिए अगर-

  • 24 घंटे बाद भी लक्षणों में कोई सुधार ना हो।
  • आपका बच्चा बहुत दर्द में हो।
  • कान से तरल पदार्थ आता हुआ दिखे

आपको अपने डॉक्टर से तब भी संपर्क करना चाहिए, यदि आपका बच्चा संक्रमण के प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील है, उदाहरण के लिए कुछ चिकित्सीय स्थितियों के कारण।

कान के संक्रमण का इलाज (Treating an ear infection)

अधिकांश कान के संक्रमण कुछ दिनों में ठीक हो जाते हैं। दर्द में आराम और अधिक तापमान को कम करने के लिए पैरासिटामोल (Paracetamol) या इबूप्रोफन (ibuprofen) (आपके बच्चे की उम्र के लिए उपयुक्त) का उपयोग किया जा सकता है।

एंटीबायोटिक्स की ज़रूरत आमतौर पर केवल तभी होती है जब लक्षण बने रहते हैं या विशेष रूप से गंभीर होते हैं।

ओटिटिस मीडिया(otitis media) के इलाज के बारे में और पढ़ें।

कान का संक्रमण किस वजह से होता है? (What causes an ear infection?)

मिडर ईयर, ईयरड्रम के पीछे होता है। ये तीन छोटे लीवर जैसी हड्डियों से बना होता है, जो आवाज के कंपन को ईयरड्रम से आंतरिक कान तक लेकर जाता है।

ओटिटिस मीडिया (otitis media) के अधिकांश मामले बैक्टीरियल या वायरल इंफेक्शन के कारण होते हैं। अक्सर श्वसन तंत्र (साइनस, गला, वायुमार्ग या फेफड़े) का कोई इंफेक्शन जैसे कि कोल्ड या फ्लू मिडल ईयर तक पहुंच सकता है।

छोटे बच्चे इस प्रकार के इंफेक्शन के लिए विशेष रूप से संवदेनशील होते हैं क्योकि उनका मिडल ईयर, वयस्कों की तुलना में छोटा और संकरा होता है जो इंफेक्शन को पकड़ना आसान बनाता है।

कान के संक्रमण के विकसित होने का जोखिम बढ़ जाता है, अगर आपका बच्चा-

  • एक नर्सरी या डे केयर सेंटर में जाता है - इससे अन्य बच्चों से संक्रमण के सम्पर्क में आ सकता है।
  • पैसिव स्मोकिंग के सम्पर्क में
  • स्तनपान नही किया गया है।

कान के संक्रमण के कारणों के बारे में और पढ़ें।

जटिलताएं (Complications)

कान के संक्रमण की जटिलताएं दुर्लभ हैं लेकिन जब ये होती है तो परेशानी देने वाली हो सकती हैं और इनमें शामिल हैं-

  • कान के नीचे की हड्डियों (मास्टॉयड) में फैलने वाला संक्रमण जिसे मास्टॉयडाइटिस (mastoiditis) के रूप में जाना जाता है।
  • संक्रमण मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी (मेनिन्जेस) (the meninges), को घेरने वाली सुरक्षात्मक झिल्लियों में फैलता है, जिसे मेनिन्जाइटिस (meningitis) के रूप में जाना जाता है।

ओटिटिस मीडिया (otitis media) की जटिलताओं के बारे में और पढ़ें।

ओटिटिस मीडिया के लक्षण (Otitis media symptoms)

ज्यादातर मामलों में कान के संक्रमण (ओटिटिस मीडिया) के लक्षण जल्दी से विकसित होते हैं और कुछ दिनों में ठीक हो जाते हैं- इसे अक्सर तीव्र ओटिटिस मीडिया (acute otitis media) के रूप में जाना जाता है।

तीव्र ओटिटिस मीडिया (acute otitis media) के मुख्य लक्षणों में शामिल हैं-

  • कान का दर्द
  • 38°C (100.4°F) या और अधिक तापमान(बुखार)
  • बीमार होना
  • ऊर्जा में कमी
  • मामूली बहरापन

कान के संक्रमण वाले बच्चे गर्म और चिड़चिड़े होंगे। चूंकि शिशु अपनी बेचैनी की वजह को बताने में असमर्थ होते हैं, इसलिए यह बताना मुश्किल हो सकता है कि उन्हे क्या मुश्किल हो रही है। हालांकि, आपके शिशु को कान का संक्रमण हो सकता है यदि वे इस तरह से अशांत हों।

छोटे बच्चों में अन्य संकेतों में शामिल है-

  • उनका कान को खींचना, चीरना या रगड़ना
  • चिड़चिड़ापन
  • कम खाना
  • रात में बेचैनी
  • कफ का होना
  • नाक बहना
  • डायरिया
  • शांत ध्वनियों के प्रति असंवेदनशील होना या सुनने में समस्या होने के अन्य संकेत जैसे टीवी के बेहद पास बैठना एवं ध्यान न देना।
  • संतुलन का खोना

कभी-कभी, मध्य कान के संक्रमण के मामलों में, ईयरड्रम छिद्रित हो जाएगा (इसमें एक छेद बन जाएगा) और मवाद कान से बाहर निकल सकता है। यह ईयरड्रम पर दबाव कम करके दर्द को दूर करने में मदद कर सकता है, लेकिन इससे दोबारा संक्रमण भी हो सकता है।

डॉक्टरी सलाह लेने की ज़रूरत कब है? (When to seek medical advice?)

अगर अपने डॉक्टर से बात करने के 24 घंटे बाद भी आपके बच्चे के लक्षणों में कोई सुधार नहीं होता है, वो दर्द में लगते हैं और आप कान से पस या तरल पदार्थ को निकलते हुए देखते हैं।

लंबे समय तक कान में संक्रमण (Long term ear infection)

कान के संक्रमण जो कई महीनों तक चलते हैं उन्हें क्रोनिक सपूरेटिव ओटिटिस मीडिया (CSOM) के रूप में जाना जाता है। यह स्थिति कम आम है, 100 बच्चों में लगभग 1 और 50 वयस्कों में से 1 को प्रभावित करती है।

CSOM का सबसे सामान्य लक्षण है, प्रभावित कान से लगातार और आमतौर पर दर्द रहित बहाव।

प्रभावित कान में कुछ हद तक सुनने में कमी होना भी आम है।

शब्दावली (Glossary)

Acute का मतलब है अचानक औऱ कुछ देर के लिए होना।

दर्द एक अप्रिय शारीरिक या इमोशनल भावना है जो आपका शरीर एक चेतावनी के रूप में पैदा करता है कि यह क्षतिग्रस्त हो गया है।

उच्च तापमान, जिसे बुखार भी कहा जाता है, तब होता है जब किसी के शरीर का तापमान सामान्य 37°C (98.6°F). से बढ़ जाता है।

उल्टी तब आती है जब आपका पेट अपने अंदर की साम्रगी को मुंह से बाहर ले आता है।

क्रोनिक का मतलब आमतौर पर एक ऐसी स्थिति से है जो लंबे समय तक जारी रहती है या वापस आती रहती है।

ओटिटिस मीडिया के कारण (Otitis media causes)

ओटिटिस मीडिया (मध्य कान संक्रमण) के अधिकांश मामले तब होते हैं जब एक बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण, जैसे कि सर्दी, कान के एक हिस्से में फैलता है जिसे यूस्टेशियन ट्यूब (Eustachian tube) के रूप में जाना जाता है।

यूस्टेशियन ट्यूब (Eustachian tube) एक पतली ट्यूब होती है जो कान के बीच से नाक के पीछे तक जाती है। इसके दो मुख्य काम होते हैं- पहला, मध्य कान को हवादार रखने के लिए, जिससे हवा का सामान्य दबाव बनाए रखने में मदद मिलती है। दूसरा, बलगम और अन्य मलबे को कान से बाहर निकालने में मदद करने के लिए।

शरीर के किसी अन्य भाग में इंफेक्शन भी यूस्टेशियन ट्यूब (Eustachian tube) को अवरुद्ध कर सकता है, जिससे संक्रमण हो सकता है।

बढ़े हुए टॉन्सिल या एडेनोइड (गले के पीछे टिशू की छोटी गांठ, टॉन्सिल के ऊपर) यूस्टेशियन ट्यूब (Eustachian tube) को अवरुद्ध कर सकते हैं। एडेनोइड्स और टॉन्सिल को हटाया जा सकता है यदि वे लगातार या अक्सर कान के संक्रमण का कारण बनते हैं। ये वयस्कों की तुलना में बच्चों में अधिक आम है।

टॉन्सिल्स को हटाने और एडेनोइड्स को हटाने के बारे में और पढ़ें।

एक बच्चे की यूस्टेशियन ट्यूब (Eustachian tube) व्यस्कों की तुलना में छोटी होती है और इसी वजह से इसके जल्दी अवरुद्ध होने की संभावना रहती है। एक बच्चे का एडेनोइड्स किसी वयस्क की तुलना में अधिक बड़ा होता है।

अन्य बातें जो कान के संक्रमण को विकसित करने का जोखिम बढ़ा सकती हैं, उनमे शामिल हैं-

  • नर्सरी या डे-केयर सेंटर जाना- इससे बच्चे में अन्य बच्चों के संपर्क में आने से इंफेक्शऩ पनपने की संभावना बढ़ जाती है।
  • तंबाकू के धुएं (निष्क्रिय धूम्रपान) के संपर्क में आना
  • स्तनपान ना मिलना

शब्दावली (Glossary)

शरीर के टिशू, कोशिकाओं के समूहों से बने होते हैं जो एक विशिष्ट कार्य करते हैं, जैसे कि संक्रमण से शरीर की रक्षा करना, गति उत्पन्न करना या वसा को एकत्रित करना।

प्रतिरक्षा प्रणाली, शरीर का सुरक्षा तंत्र है, जो शरीर को बीमारी, बैक्टीरिया और वायरस से बचाने में मदद करता है।

बैक्टीरिया छोटे, एकल-कोशिका वाले जीव हैं जो शरीर में रहते हैं। कुछ बीमारी और रोगों का कारण बनते हैं और अन्य आपके लिए अच्छे हैं।

क्रॉनिक का मतलब आमतौर पर एक ऐसी स्थिति से है जो लंबे समय तक रहती है और बार-बार वापिस आती है।

ओटिटिस मीडिया की जाँच (Diagnosing otitis media)

कान के संक्रमण या ओटिटिस मीडिया (otitis media) के बारे में आमतौर पर वायवीय ओटोस्कोप (pneumatic otoscope) नाम के एक टूल का उपयोग करने से पता चलता है।

वायवीय ओटोस्कोप (pneumatic otoscope) एक छोटा, हाथ में पकड़ने वाला यंत्र है, जिसमें आवर्धक लेंस होता है और एक सिरे में लाइट लगी होती है। ये कान के अंदर का अध्ययन करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

ओटोस्कोप (otoscope) कुछ संकेतों का पता लगा सकता है जो मध्य कान में द्रव का संकेत देगा, जिसके परिणास्वरूप संक्रमण का पता चल सकता है।

इसमें शामिल है, ईयर ड्रम का-

  • अंदर की ओर खिंचा होना
  • एक असमान्य रंग का होना
  • बादलों की तरह दिखना, कान के अंदर बुलबुले और तरल का होना

ओटोस्कोप (otoscope) का उपयोग कान में हवा की एक छोटी फूंक मारने के लिए भी किया जा सकता है। यदि यूस्टेशियन ट्यूब (Eustachian tube) (एक ट्यूब जो आपके गले और मध्य कान के बीच से गुजरती है) साफ और स्पष्ट है, तो ईयरड्रम थोड़ा आगे बढ़ जाएगा। यदि यह अवरुद्ध है, तो ईयरड्रम अभी भी वही बना रहेगा। ये परीक्षण यह भी दिखाएगा कि क्या ईयरड्रम छिद्रित है (इसमें एक छेद है।)

अन्य परीक्षण (Other tests)

अन्य परीक्षणों की ज़रूरत केवल तब पड़ती है जब इलाज काम नहीं कर रहा है या जटिलताएं पैदा हो गई हैं।

इन परीक्षणों का विवरण नीचे दिया गया है:

टाइम्पेनोमेट्री (Tympanometry)

टाइम्पेनोमेट्री (Tympanometry)मापता है कि हवा के दबाव में बदलाव होने पर ईयर ड्रम कैसे प्रतिक्रिया करता है। अगर हवा के दबाव में बदलाव हो तो एक स्वस्थ ईयर ड्रम आसानी से मूव करना चाहिए।

टाइम्पेनोमेट्री टेस्ट (Tympanometry) के दौरान, कान के अंदर एक प्रोब रखा जाता है जो कान में ध्वनि संचारित करते समय नियमित अंतराल पर हवा के दबाव को बदलता है।

प्रोब मापता है कि ध्वनि कान से वापस कैसे प्रतिबिंबित होती है, और वायु दबाव में परिवर्तन इन मापों को कैसे प्रभावित करते हैं। यदि हवा का दबाव अधिक होने पर कम ध्वनि वापस आती है, तो यह आमतौर पर संक्रमण का संकेत देता है।

टाइम्पेनसेंटिस (Tympanocentesis)

टाइम्पेनसेंटिस (Tympanocentesis) में एक छोटी सुई का उपयोग करके मध्य कान से द्रव को बाहर निकाला जाता है। फिर इस तरल का बैक्टीरिया या वायरस के लिए परीक्षण किया जा सकता है जो संक्रमण के लिए ज़िम्मेदार हो सकता है।

सीटी स्कैन्स (CT scans)

एक कंप्यूटर टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन computer tomography (CT) scan का उपयोग तब किया जा सकता है जब ऐसा लगता है कि संक्रमण मध्य कान से बाहर फैल सकता है।

एक सीटी स्कैन क्षय किरणों की एक श्रृंखला लेता है और स्कैन्स को अधिक विस्तृत, स्कल की 3d इमेज को इकट्ठा करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करता है।

ओटिटिस मीडिया का इलाज (Treatment for otitis media)

मिडल ईयर इंफेक्शन (ओटिटिस मीडिया) के ज्यादातर मामलें 72 घंटे के अंदर बिना किसी इलाज की ज़रूरत हुए ठीक हो जाएंगे।

आप अपने बच्चे को कान के दर्द और उच्च तापमान जैसे लक्षणों से राहत देने के लिए इबूप्रोफेन (ibuprofen) और पैरासिटामोल (paracetamol) जैसे ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दे सकते हैं।

16 साल से कम उम्र के बच्चों को ऐस्प्रिन नहीं देनी चाहिए।

प्रभावित कान पर गर्म फलालैन या वॉशक्लॉथ रखने से भी दर्द से राहत मिल सकती है।

एंटीबायोटिक्स (Antibiotics)

कान के संक्रमण के इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं के नियमित उपयोग की सलाह नहीं दी जाती है, क्योंकि-

  • ये जख्म भरने की प्रक्रिया में तेज़ी लाती हैं इसका कोई सबूत नहीं है।
  • कई मिडल ईयर इंफेक्शन वायरल इंफेक्शन के कारण होते हैं, इसलिए एंटीबायोटिक्स अक्सर प्रभावी नहीं होते।
  • हर बार जब आप एंटीबायोटिक्स का उपयोग एक नॉन सीरियस संक्रमण के इलाज के लिए करते हैं तो इससे बैक्टीरिया के प्रतिरोधी होने की संभावना बढ़ जाती है, जिसका अर्थ है कि अधिक गंभीर संक्रमण अनुपचारित हो सकता है (एंटीबायोटिक प्रतिरोध के बारे में अधिक पढ़ें)

एंटीबायोटिक्स की सलाह आमतौर पर सिर्फ तब दी जाती है जब-

  • आपके बच्चे में गंभीर स्वास्थ्य संबंधी अवस्था हो जो उन्हें संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना रही हैं, जैसे कि सिस्टिक फाइब्रोसिस (cystic fibrosis) या जन्मजात हृदय रोग (congenital heart disease)
  • आपका बच्चा तीन महीने से कम उम्र का है।
  • आपके बच्चे के लक्षणों में चार दिनों के बाद सुधार के कोई संकेत नहीं दिखते हैं।

यदि एंटीबायोटिक दवाओं की आवश्यकता होती है, तो आमतौर पर एमोक्सीसिलिन (Amoxicillin) नामक एंटीबायोटिक का 5 दिन का कोर्स दिया जाता है। यह आमतौर पर लिक्विड सस्पेंशन के रूप में दिया जाता है जिसे आपके बच्चे को पीना पड़ता है।

एमोक्सीसिलिन (Amoxicillin) के आम दुष्प्रभावों में शामिल है-

  • त्वचा पर लाल चकत्ते
  • बीमार महसूस करना
  • डायरिया

अगर आपके बच्चे को एमोक्सीसिलिन (Amoxicillin) से एलर्जी है, तो वैकल्पिक एंटीबायोटिक्स जैसे एरिथ्रोमाइसिन (Erythromycin) का उपयोग किया जा सकता है।

वयस्क जिनमें लंबे समय तक मध्य कान के संक्रमण (क्रोनिक सपेरिटिव ओटिटिस मीडिया) का विकास होता है, उन्हें एंटीबायोटिक ईयर ड्रॉप्स से फायदा हो सकता है।

अतिरिक्त उपचार (Additional treatment)

अतिरिक्त उपचार की ज़रूरत आमतौर पर केवल तभी होती है जब आपके बच्चे में बार-बार, मध्य कान का संक्रमण हो। ये उपचार नीचे दिए गए हैं-

ग्रोमेट्स (Grommets)

बार-बार होने वाले और मध्य कान के गंभीर संक्रमण वाले बच्चों में, तरल निकालने में मदद के लिए ईयरड्रम से एक छोटी ट्यूब डाली जा सकती है। इस ट्यूब को ग्रोमेट्स या टिमपेनोस्टोमी ट्यूब कहा जाता है।

एक ग्रोमेट प्रवेश, जनरल एनेस्थैटिक (जहां रोगी बेहोश है) के प्रभाव में किया जाता है। इसमें आमतौर पर केवल 15 मिनट लगते हैं, इसलिए आपके बच्चे को उसी दिन घर जाने दिया जा सकता है।

जैसे ही कान संक्रमण के प्रभाव से ठीक हो जाता है, यह धीरे-धीरे ग्रोमेट ट्यूब को बाहर की ओर धकेल देगा और यह आखिर में कान से बाहर निकल जाएगा।

ये प्रक्रिया स्वाभाविक तौर पर होती है और इसमें दर्द नहीं होना चाहिए।

ज्यादातर ग्रोमेट्स डाले जाने के 9 से 15 महीनों बाद अपने आप बाहर आ जाएंगे। तीन में से एक बच्चे को और अधिक ग्रोमेट्स की ज़रूरत होगी।

कर्णपटहछेदन (Myringotomy)

कर्णपटहछेदन (Myringotomy) एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमें सर्जन ईयरड्रम में एक छोटा सा छेद करता है।

ये मिडल ईयर पर दवाब में राहत देने और मिडल ईयर के अंदर से अतिरिक्त तरल पदार्थ को निकालने में सर्जन की मदद करता है।

कुछ मामलों में कर्णपटहछेदन (Myringotomy) के साथ ग्रोमेट इन्सर्शन किया जा सकता है।

शब्दावली (Glossary)

क्रॉनिक मतलब वो स्थिति जो लंबे समय तक रहती है या बार-बार लौट कर आती है।

एंटीबायोटिक्स दवाओं का उपयोग सूक्ष्मजीवों, आमतौर पर बैक्टीरिया या कवक के कारण संक्रमण का इलाज करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए एमोक्सीसिलिन (Amoxicillin), स्ट्रेप्टोमाइसिन (streptomycin) और एरिथ्रोमाइसिन (Erythromycin)

दर्द एक अप्रिय शारीरिक या भावनात्मक अनुभूति है जो आपका शरीर एक चेतावनी के रूप में पैदा करता है कि यह क्षतिग्रस्त हो गया है।

उच्च तापमान, जिसे बुखार भी कहा जाता है, तब होता है जब किसी के शरीर का तापमान सामान्य 37°C (98.6°F). से बढ़ जाता है।

एंटीहिस्टामाइन (Antihistamine) दवा, हिस्टामाइन (Histamine) के एक्शन पर काउंटर एक्ट करती है (एलर्जिक रिएक्शऩ के दौरान एक केमिलक रिलीज़।) उदाहरण के लिए, लोरैटैडाइन (Loratadine), हाइड्रोक्सिजिन (hydroxyzine)

सूजन संक्रमण, जलन या चोट के लिए शरीर की प्रतिक्रिया है, जिसकी वजह से प्रभावित क्षेत्र में लालिमा, सूजन, दर्द और कभी-कभी गर्मी हीट की फीलिंग होती है।

तीव्र का अर्थ है अचानक या कम समय में उत्पन्न होना।

Decongestant दवा नाक की परत की सूजन और साइनस को कम करके, बलगम को सुखाकर जमाव से राहत देती हैं।

ओटिटिस मीडिया की जटिलताएं (Complications of otitis media)

मिडिल ईयर इंफेक्शन (ओटिटिस मीडिया) (otitis media) की जटिलताएं अब उतनी आम नहीं है जितनी पहले के वक्त में थी।

बहुत छोटे बच्चों में जटितलाओं के विकसित होने का जोखिम बढ़ा हुआ रहता है क्योकि उनका प्रतिरक्षा तंत्र (शरीर के इंफेक्शन से लड़ने की क्षमता) अभी भी विकसित हो रहा है।

सबसे अधिक दर्ज की जाने वाली जटिलताओं का विवरण नीचे दिया गया है-

मासटोईडिटीस (कान के पीछे स्थित कर्णमूल हड्डी को प्रभावित करने वाला एक संक्रमण)

मासटोईडिटीस (कान के पीछे स्थित कर्णमूल हड्डी को प्रभावित करने वाला एक संक्रमण) ओटिटिस मीडिया की एक सबसे आम जटिलता है (हालांकि यह सामान्य रूप से अभी भी दुर्लभ है) और ये तब होती है जब इंफेक्शन मिडल इयर से बाहर आ जाता है और कान के नीचे की हड्डी के क्षेत्र (मास्टॉयड) में फैल जाता है।

मास्टॉयड के लक्षणों में शामिल है-

मासटोईडिटीस (कान के पीछे स्थित कर्णमूल हड्डी को प्रभावित करने वाला एक संक्रमण) मैस्टॉइड हड्डी में सीधे एंटीबायोटिक्स का इंजेक्शन देकर ठीक किया जाता है। कुछ मामलों में हड्डी के क्षतिग्रस्त हिस्से को हटाने और मिडल ईयर से तरल बाहर निकालने के लिए सर्जरी की ज़रूरत हो सकती है।

कोलेस्टेटोमा (Cholesteatoma)

कोलेस्टेटोमा (Cholesteatoma) स्किन (सिस्ट) की एक असमान्य पॉकेट है जो कभी भी बार-बार होने वाले या लंबे समय तक रहने वाले कान के इंफेक्शन की जटिलता के तौर पर विकसित होती है।

कोलेस्टेटोमा (Cholesteatoma) के लक्षणों में शामिल हैं-

  • सिर चकराना
  • प्रभावित कान में सुनने की क्षमता खोना
  • कान से तरल का बाहर निकलना

आमतौर पर सिस्ट को हटाने के लिए सर्जरी की ज़रूरत होती है।

लैबिरिंथाइटिस (Labyrinthitis)

कुछ मामलों में संक्रमण भीतरी कान में चला जाता है, जिससे कान के काफी अंदर एक नाजुक संरचना बन जाती है, जिसे लैबिरिंथ (Labyrinth) कहा जाता है। इसे लैबिरिंथाइटिस (Labyrinthitis) के रूप में जाना जाता है।

लैबिरिंथाइटिस (Labyrinthitis) के लक्षणों में शामिल हैं-

  • सिर चकराना
  • वर्टिगो - आपके आस-पास दुनिया घूमती या हिलती प्रतीत होती है।
  • संतुलन का खोना
  • सुनने की क्षमता खोना

वर्टिगो और सिर चकराना जैसे लक्षणों के इलाज के विकल्पों में प्रोक्लोरपेराज़िन (prochlorperazine) नाम की एक दवाई लेना और बुनियादी संक्रमण को दूर करने के लिए एंटीबायोटिक लेना शामिल है।

लैबिरिंथाइटिस (Labyrinthitis) के इलाज के बारे में और पढ़ें।

चेहरे का पक्षाघात (Facial paralysis)

दुर्लभ मामलों में ओटिटिस मीडिया (otitis media) से जुड़ी सूजन चेहरे की तंत्रिका को संकुचित कर सकती है।

चेहरे की तंत्रिका, नर्व का एक भाग है जो खोपड़ी से मस्तिष्क के ज़रिए चेहरे के हाव भाव को नियंत्रित करने के काम आती है।

तंत्रिका में संकुचन से लोग अपने चेहरे के कुछ या सभी हिस्से को हिलाने में असमर्थ हो जाते हैं जिसे चेहरे का पक्षाघात (Facial paralysis) कहा जाता है।

यह जटिलता तब और डरावनी हो सकती है जब ये पहली बार हो, क्योकि पालक इस बात को लेकर चिंतित हो जाते हैं कि उनके बच्चे को स्ट्रोक या ऐसी ही कोई समस्या हुई है लेकिन ये स्थिति तब ठीक हो जाती है जब बुनियादी इंफेक्शन खत्म हो जाए और शायद ही ये किसी लंबी परेशानी की वजह बनती है।

मेनिन्जाइटिस (Meningitis)

ओटिटिस मीडिया की एक गंभीर और दुर्लभ जटिलता ये है कि यह संक्रमण मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी (मेनिन्जेस) की सुरक्षात्मक बाहरी परत में फैलता है, जिससे मेनिन्जाइटिस (Meningitis) नामक एक गंभीर संक्रमण होता है।

मेनिन्जाइटिस (Meningitis) के लक्षणों में शामिल हैं-

  • गंभीर सिरदर्द
  • बीमार होना
  • 38ºC (100.4ºF) या उससे अधिक तापमान(बुखार)
  • गर्दन में अकड़न
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
  • लाल रंग का चकत्ता जो फीका नहीं होता और ना ही अपना रंग बदलता है जब आप इसके सामने एक गिलास रखते हैं- ये रैश हमेशा मौजूद नहीं रहता है।

बैक्टीरियल मेनिन्जाइटिस (Meningitis) एक चिकित्सीय आपातकाल स्थिति है। अगर आपको लगता है कि आपको बच्चे को मेनिन्जाइटिस (Meningitis) है तो फौरन एंबुलेंस बुलाएं।

बैक्टीरियल मेनिन्जाइटिस (Meningitis) का इलाज एंटीबायोटिक्स के इंजेक्शन्स के द्वारा किया जाता है। मेनिन्जाइटिस (Meningitis) के इलाज के बारे में और पढ़ें।

ब्रेन एब्सेस (Brain abscess)

ओटिटिस मीडिया की एक दुर्लभ और गंभीर जटिलता ब्रेन एब्सेस (Brain abscess) है। ब्रेन एब्सेस (Brain abscess) एक पस से भरी हुई सूजन होती है जो मस्तिष्क के अंदर विकसित होती है।

ब्रेन एब्सेस (Brain abscess) के लक्षणों में शामिल है-

  • सिर दर्द
  • मानसिक स्थिति में परिवर्तन, जैसे भ्रम या चिड़चिड़ापन
  • नर्व फंक्शन के साथ समस्याएं, जैसे कि मांसपेशियों में कमजोरी, अस्पष्ट बोली या शरीर के एक तरफ पक्षाघात
  • बुखार
  • दौरा (फिट) पड़ना
  • बीमार होना या महसूस करना

ब्रेन एब्सेस (Brain abscess) एक चिकित्सीय आपातकाल स्थिति है और इसे एंटीबायोटिक्स और सर्जरी के द्वारा शीघ्र उपचार की ज़रूरत होती है। सर्जन आमतौर पर खोपड़ी को खोलेगा और एब्सेस से पस को या पूरे एब्सेस को निकालेगा।

ब्रेन एब्सेस (Brain abscess) के इलाज के बारे में और पढ़ें।

शब्दावली (Glossary)

सुन्न होना शरीर के एक हिस्से में संवेदना की कमी होना है।

मस्तिष्क विचार, स्मृति और भावना को नियंत्रित करता है। यह शरीर को हिलने, बोली और इंद्रियों को नियंत्रित करने के लिए संदेश भेजता है।

सूजन संक्रमण, जलन या चोट के लिए शरीर की प्रतिक्रिया है, जिसकी वजह से प्रभावित क्षेत्र में लालिमा, सूजन, दर्द और कभी-कभी गर्म महसूस होता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।