COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
16th May, 20194 min read

क्‍या नेत्र शोथ (pink eye) होने पर काम पर जाना चाहिए?

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

क्या कभी आपको सोकर उठने पर महसूस हुआ है कि आपकी आँखों में किरकिराहट के साथ लालिमा आ गई है? या पलकों (lashes) के ऊपर चिपचिपा सा पदार्थ जमा हो गया है? अगर ऐसा है तो शायद आपको नेत्र शोथ (pink eye) की समस्या हो गई है।

नेत्र शोथ क्या होता है?

नेत्र शोथ (conjunctivitis) आँख के सफेद हिस्से और पलक या कंजाक्तिवा (conjunctiva) के भीतर प्रभावित करने वाली लाईनिंग की सूजन (inflammation) है। यह सामान्य है और इसका उपचार आसानी से किया जा सकता है। इस समस्या से वयस्क और बच्चे दोनों ही प्रभावित हो सकते हैं।

नेत्र शोथ वायरल (viral) या बैक्टीरियल संक्रमण (bacterial infection), एलर्जी या जलन के कारण हो सकती है।

नेत्र शोथ से एक या दोनों आंखें प्रभावित हो सकती हैं। इस समस्या के होने के पर निम्न लक्षण उभरते हैं:

  • आंखों का गुलाबी हो जाना
  • आंखों में जलन या किरकिराहट होना (burn or feel gritty)
  • पलकों पर पस का स्त्रावित होना
  • खुजली होना (itch)
  • पानी आना (water)

नेत्र शोथ के लक्षण अपने आप भी ठीक हो सकते हैं।

क्या नेत्र शोथ संक्रामक है?

यदि नेत्र शोथ, वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होती है तो यह संक्रामक है। यह संक्रमित व्यक्ति के खांसी या छींक से निकलने वाली बूंदों के जरिए दूसरे लोगों में फैल सकता है या फिर उनके द्वारा इस्तेमाल की जाने वस्तुओं जैसे - तौलिया, बिस्तर या रुमाल आदि के प्रयोग करने से हो सकता है। नेत्र शोथ केवल तभी तक संक्रमित है जब तक संक्रमित व्यक्ति में इसके लक्षण मौजूद होते हैं।

दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए अपने हाथों को बार-बार धोते रहें, विशेषकर अपनी आंखों को छूने के बाद। साथ ही अपने द्वारा इस्तेमाल टिश्यु को तुरंत फेंक दें।

नेत्र शोथ हमेशा संक्रामक नहीं होती है। अगर ये समस्या किसी प्रकार की एलर्जी (allergy) जैसे - धूल, पशुओं की रूसी या पराग कणों आदि से होती है तो इससे दूसरों को संक्रमण फैलने का खतरा नहीं होता है। यही बात धुंआ (smoke) या क्लोरीन (chlorine) के कारण होने वाली जलन से हुए संक्रमण पर भी लागू होती है। बहुत बार, नेत्र शोथ होने के कारण का पता लगा पाना मुश्किल होता है इसलिए दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए सावधानियों को बरतना आवश्यक है।

अगर आप नेत्र शोथ को लेकर चिंतित हैं तो डॉक्टर को दिखा लें।

क्या नेत्र शोथ होने पर काम पर जाना चाहिए?

नेत्र शोथ होने पर काम से छुट्टी लेने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन आपको स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना होगा।

कुछ ऐसे उदाहरण है जहां आपको इस समस्या से ग्रसित होने पर काम से छुट्टी ले लेना चाहिए ताकि दूसरे लोगों में यह संक्रमण न फैल सके। उदाहरण के लिए, अगर आप ऐसी जगह काम करते हैं जहां लोगों के संपर्क में ज्यादा रहते हैं तो आपको घर पर ही रहना चाहिए जब तक कि आपके सभी लक्षण समाप्त न हो जाएं।

कब चिंता करें

यदि आपको निम्न में से कोई भी लक्षण नजर आता है तो शीघ्र ही मेडिकल सहायता लें:

  • आंखों में दर्द होना
  • प्रकाश के प्रति अति संवेदनशील (फोटोफोबिया/photophobia)
  • रोशनी में परिवर्तन होना (जैसे आपको लहराती लाइनें या फ्लैशिंग (flashing) दिखाई दे)
  • एक या दोनों आंखों में ज्यादा लालपन (intense redness) आ जाना

इन लक्षणों के होने पर तुरंत ही डॉक्टर से मिलें ताकि ये और गंभीर न होने पाएं।

निष्कर्ष

नेत्र शोथ संक्रामक हो सकती है, लेकिन आप संक्रमण फैलने से रोक सकते हैं, आमतौर पर इस समस्या से ग्रसित होने पर काम पर जाने से कोई अन्य समस्या नहीं होती है।

हालांकि, अगर आपको काम पर जाने में असहज महसूस हो रहा है तो एक या दो दिन का आराम करने में कोई बुराई नहीं है।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।