COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
11 min read

फंगल नेल इंफेक्शन (Fungal nail infection)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

फंगल नेल इंफेक्शन क्या होता है? (What is a fungal nail infection?)

फंगल नेल इंफेक्शन एक आम समस्या है। नाखून की सभी समस्याओं में से लगभग आधी फंगल संक्रमण के कारण होती हैं।

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection), हाथ के नाखूनों की तुलना में पैर के नाखूनों में लगभग चार गुना अधिक आम है और इसमें नाखून प्लेट, नेलबेड और नाखून की जड़ सहित नाखून के सभी भाग शामिल हो सकते हैं।

ये आमतौर पर व्यस्कों, विशेष रूप से पुरूषों को प्रभावित करता है और जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है ये और आम हो जाता है।

नाखूनों की अन्य असमान्यताओं के बारे में जानकारी पढ़ें।

लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms?)

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) का सबसे आम लक्षण नाखून का अधिक मोटा और फीका हो जाना है। नाखून सफेद, काला, पीला या हरा हो सकता है।

आमतौर पर शुरूआत में आप किसी भी दर्द को महसूस नहीं करेंगे, लेकिन नाखून बदसूरत दिख सकता है और उपचार के बिना, चांस है कि संक्रमण फैल जाएगा और सेल्युलाइटिस (cellulitis) जैसी जटिलताओं को जन्म देगा।

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) के लक्षणों के बारे में और जानकारी पढ़ें।

फंगल नाखून संक्रमण किन कारणों से होता है? (What causes a fungal nail infection?)

कई प्रकार के फंगस के कारण नाखून में संक्रमण होता है। उदाहरण के लिए, एथलीट फुट (athlete's foot ),पैर की उंगलियों का एक फंगल त्वचा संक्रमण है जो आसानी से पैर की उंगलियों के नाखूनों में फैलता है, और कैंडिडा एक यीस्ट है जो नाखूनों के आसपास की त्वचा (आमतौर पर उंगलियों के नाखूनों) का संक्रमण पैदा कर सकता है।

कई ऐसे कारक हैं जो फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) के जोखिम में बढ़ाते हैं जैसे कि-

  • ऐसे जूते पहनना जो गर्म पसीने वाले पैरों का कारण होते हैं या नम वातावरण में रहना
  • नाखून या त्वचा को होने वाली नियमित क्षति
  • खराब स्वास्थ्य, या मधुमेह(diabetes) या सोरायसिस (psoriasis) जैसी कुछ स्वास्थ्य स्थितियों का होना

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) के कारणों के बारे में और जानकारी पढ़े।

फंगल नाखून संक्रमण का इलाज (Treating a fungal nail infection)

अगर आपका संक्रमण हल्का है तो हमेशा इलाज की ज़रूरत नहीं होती है।

अन्यथा, आपका डॉक्टर संक्रमण के सटीक कारण का पता लगाने और अन्य स्थितियों का पता लगाने के लिए आपके नाखून की एक कटिंग को परीक्षणों के लिए प्रयोगशाला में भेज सकता है। वे तब आपके साथ उचित उपचारों पर चर्चा करेंगे।

फंगल नाखून संक्रमण (Fungal nail infection) का इलाज हो सकता है और आमतौर पर ये ठीक हो जाते हैं लेकिन कुछ प्रकार के इलाजों में काम करने में कईं महीनों का समय लग सकता है। मुख्य उपचार के विकल्पों में एंटीफंगल टैबलेट्स या एंटीफंगल नेलपेंट शामिल हैं।

एंटीफंगल टैबलेट्स सबसे सफल इलाज है लेकिन इनके कुछ दुष्प्रभाव हो सकता है। आपको कौन सा ट्रीटमेंट लेना चाहिए ये तय करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए।

यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आप अपने नाखूनों की ठीक से देखभाल करें और संक्रमण को वापस आने से रोकने के लिए अच्छी पैरों की स्वच्छता का अभ्यास करें।

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) के इलाज के बारे में और जानकारी पढ़ें।

फंगल नाखून संक्रमण के लक्षण (Symptoms of a fungal nail infection)

फंगल नाखून संक्रमण का सबसे आम लक्षण नाखून का अधिक मोटा और फीका हो जाना है। नाखून सफेद, काला, पीला या हरा हो सकता है।

आमतौर पर शुरूआत में फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) दर्दरहित होता है और ज्यादातर मामलों में फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) आगे किसी जटिलता का कारण नहीं बनेगा। हालांकि, अगर इंफेक्शन का इलाज नहीं किया जाता तो इससे दर्द और असुविधा हो सकती है लेकिन ये दुर्लभ है।

यदि पैर की अंगुली के नाखून में दर्द होता है, तो इससे अंत में जूते पहनने और चलने में कठिनाई हो सकती है। उंगलियों के नाखूनों में, इससे लिखने में कठिनाई हो सकती है।

जैसे-जैसे संक्रमण बढ़ता है, इसके और भी लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि नाखून का नाज़ुक हो जाना, नाखून के टुकड़े टूट जाना या यहां तक ​​कि पैर की अंगुली या हाथ की उंगली से पूरी तरह से निकल जाना।

यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो नाखून के नीचे और चारों ओर की त्वचा कभी-कभी नाखून सूज सकती है और इसमें दर्द हो सकता है। नेलबेड पर दिखाई देने वाले सफेद या पीले पैचेज़ हो सकते हैं या नाखून के बगल में पपड़ीदार त्वचा हो सकती है।

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) का इलाज कैसे किया जाता है, इसके बारे में पढ़ें।

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) की जटिलताएं

बहुत ही दुर्लभ मामलों में संक्रमण नाखून के आसपास की त्वचा में फैल सकता है, जिसके परिणामस्वरूप सेल्युलाइटिस (cellulitis) (त्वचा के नीचे बैक्टीरियल संक्रमण) या ऑस्टियोमाइलाइटिस(osteomyelitis) (हड्डी का संक्रमण) हो सकता है।

ये जटिलताएं बड़े लोगों और मधुमेह जैसी स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोगों में थोड़ी अधिक आम हैं।

फंगल नाखून संक्रमणों के कारण (Causes of fungal nail infection)

फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) के कईं कारण होते हैं। सबसे आम कारणों में फंगल स्किन इंफेक्शन या नाखून या स्किन को क्षति शामिल है।

एथलीट फुट (Athlete's foot)

पैर के नाखून में फंगल संक्रमण सबसे आम तौर पर एक फंगल त्वचा संक्रमण के कारण होता है, जैसे एथलीट फुट (athlete's foot)। एथलीट फुट वाले लगभग एक तिहाई लोगों को भी नाखून का संक्रमण होगा।

एथलीट फुट (Athlete's foot) आमतौर पर आपकी पैर की उंगलियों के बीच स्किन पर असर डालता है इसके लाल, परतदार और खुजलीदार बनने का कारण हो सकता है।

कवक (फंफूद) गर्म, नम वातावरण में आसानी से बढ़ता है, इसलिए पसीने से तर ट्रेनर्स में या अगर अक्सर आपके गरम, पसीने वाले पैर रहते हैं तो इंफेक्शन होने की अधिक संभावना रहती है।

अन्य कारण (Other causes)

उंगलियों के नाखूनों के संक्रमण का सबसे अधिक आम कारण कैंडिडा(candida) नामक यीस्ट है। जिन व्यवसायों में बहुत अधिक हैंडवाशिंग शामिल होती है, या आपके हाथ पानी में बहुत अधिक होते हैं, वे अक्सर नाखूनों के संक्रमण का कारण होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके नाखून के नीचे की त्वचा क्षतिग्रस्त हो सकती है, और संक्रमित होने की अधिक संभावना है।

उन लोगों में फंगल नाखून संक्रमण (Fungal nail infection) का अधिक जोखिम रहता है जिनमें कुछ विशेष स्थितियां या स्वास्थ्य समस्याएं होती होती है जैसे कि,

  • मधुमेह या सोरायसिस
  • कमज़ोर इम्यून सिस्टम
  • सामान्य रूप से कमज़ोर स्वास्थ्य का होना
  • अन्य कारक, जो नाखून के संक्रमणों का खतरा बढ़ा सकते हैं, उनमें शामिल हैं-
  • आर्टिफिशियल(कॉस्मैटिक) नाखूनों का उपयोग
  • नाखूनों की क्षति
  • लगातार नाखूनों को चबाना
  • एक गर्म और नमी वाली आबोहवा में लेना
  • धूम्रपान

उम्र बढ़ने के साथ नाखून के संक्रमणों के बढ़ने की संभावना अधिक होती है। कभी कभी, इंफेक्शन का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता।

फंगल नाखून संक्रमण का इलाज (treatment for fungal nail infections)

अगर आपका फंगल नाखून संक्रमण (Fungal nail infection) हल्का है तो आपको इलाज की ज़रूरत नहीं हो सकती है। हालांकि, अगर आप इंफेक्शन का इलाज नहीं करते हैं, तो इसके अन्य नाखूनों में फैलने का भी चांस है।

गंभीर फंगल नाखून संक्रमण(Fungal nail infection) को इलाज की ज़रूरत है। मुख्य इलाज हैं-

  • एंटीफंगल टैबलेट्स
  • एंटीफंगल नेल पेन्ट्स

आपका फार्मासिस्ट या डॉक्टर आपको सलाह देंगे कि क्या आपको उपचार की आवश्यकता है, और यदि हां, तो आपको किस प्रकार की आवश्यकता है।

एंटीफंगल टैबलेट्स (Antifungal tablets)

गोलियों के रूप में एंटिफंगल दवा लेने का मतलब है कि उपचार आपके रक्तप्रवाह के माध्यम से आपके नाखून तक पहुंचता है।

फंगल नाखून संक्रमण (Fungal nail infections) के लिए दो सबसे आम निर्धारित की गई दवाएं टर्बिनाफिन (Terbinafine) और इट्राकोनाजोल (itraconazole) हैं।

ये फंगल संक्रमण के उपचार में बहुत प्रभावी हो सकते हैं। हालांकि, आपको यह सुनिश्चित करने के लिए कई महीनों तक गोलियां लेनी पड़ सकती हैं कि संक्रमण पूरी तरह से चला गया है। दवा जल्दी बंद करने का मतलब इंफेक्शन का वापिस आना हो सकता है।

एंटीफंगल दवाओं का एक फायदा ये होता है कि वो किसी भी साथ जुड़े हुए फंगल स्किन इंफेक्शन्स को भी उसी वक्त पर साफ कर देंगी जैसे कि एथलीट फुट

हालांकि, कुछ लोग इंफेक्शन को दवाओं से ठीक करना पसंद नहीं करते हैं क्योकि दवाइयों के कुछ साइट इफेक्ट्स हो सकते हैं जिनमें शामिल हैं-

एंटीफंगल नेल पेंट (Antifungal nail paint)

अगर आप एंटीफंगल दवाइयां लेना नहीं चुनते हैं तो आपका डॉक्टर आपको इसके स्थान पर एंटीफंगल नेल पेंट की सलाह दे सकता है।

नेल पेंट को गोलियों का जितना प्रभावी नहीं माना जाता है क्योंकि इसे संक्रमित नाखून पर पेंट किया जाता है और इसे संक्रमण तक पहुंचकर अपना काम करना है। पूरे इंफेक्शन तक पहुंचना मुश्किल हो सकता है।

उंगली के नाखून के इलाज में लगभग 6 महीने का समय और पैर की उंगली के इलाज में 12 महीने तक का समय लग सकता है।

लेज़र ट्रीटमेंट (Laser treatment)

फंगल नेल इंफेक्शन के लिए कुछ प्राइवेट क्लिनिक्स, लेज़र ट्रीटमेंट की पेशकश करने में सक्षम है। हाल के सुबूत दिखाते हैं ये कम समय में आशाजनक परिणामों के साथ एक सुरक्षित ट्रीटमेंट है।

हालांकि, लेजर ट्रीटमेंट के लॉन्ग टर्म प्रभावों के बारे में अधिक शोध की आवश्यकता है क्योंकि यह अभी भी अपेक्षाकृत नया है।

इलाज के दौरान पैरों की देखभाल (Foot care during your treatment)

आपके उपचार के दौरान, आपको नाखून के आधार से एक नया स्वस्थ नाखून निकलता हुई दिखाई देना शुरू होना चाहिए। ये एक संकेत है कि उपचार काम कर रहा है। पुराने संक्रमित नाखून को बाहर निकलना शुरू करना चाहिए और कुछ महीनों में इसे दूर किया जा सकता है।

अपने चिकित्सक से बात करें यदि आपको दो से तीन सप्ताह तक अपना इलाज कराने के बाद एक नया नाखून निकलता हुआ दिखाई देने न लगे। उपचार का उपयोग तब तक करते रहें जब तक कि आपका डॉक्टर न कहे कि इसे रोकना ठीक है। यदि आप उपचार बहुत जल्दी बंद कर देते हैं, तो संक्रमण वापस आ सकता है।

पैरों की देखभाल के टिप्स (Foot care tips)

आपके उपचार के दौरान और बाद में, आप इंफेक्शन को दूर रखने में मदद करने के लिए कुछ स्टेप्स नीचे दिए गए हैं-

  • अपने पैरों को ठंडा और सूखा हुआ रखे और ऐसे जूते और मोजे पहने जो आपके पैरों को सांस लेने दे सकें। साफ कॉटन के मोजे पहने में और वियरिंग ट्रेंनर्स से बचें।
  • अपने नाखूनों में संक्रमण फैलने से बचने के लिए जितना जल्दी हो सके ऐंटिफंगल दवा के साथ एथलीट फुट का इलाज करें।
  • अपने नाखूनों को छोटा रखने के लिए इन्हे क्लिप करें।
  • संक्रमित नाखून को काटने के लिए क्लिपर्स या कैंची की एक अलग जोड़ी का उपयोग करें, ताकि अन्य नाखूनों में संक्रमण न फैल सके।
  • हाई हील्स या नैरो टोज़ के बिना अच्छी तरह से फिटिंग वाले जूते पहने।
  • पैरों की स्वच्छता अच्छी रखें।
  • सार्वजनिक शॉवर का उपयोग करते समय साफ शॉवर जूते पहनें।
  • पोडियाट्रिस्ट (Podiatrist) से इलाज करवाने पर विचार करें यदि पैर की मोटी हुई उंगलियों की वजह से आपको चलने में असुविधा हो रही है।
  • पुराने जूते को बदलने पर विचार करें, क्योंकि यह फंगल बीजाणुओं से दूषित हो सकता है।

पूछे जाने वाले सवाल (Questions to ask)

पोडियाट्रिस्ट और पोडिएट्रिक सर्जन एमा सपेल बताती हैं कि अगर उन्हें फंगल नेल इन्फेक्शन है तो वे क्या जानना चाहेंगी।

मुझे कैसे पता चलेगा कि यह एक फंगल नाखून संक्रमण है? (How do I know it’s a fungal nail infection?)

यदि पैर के नाखून पीले, टेढ़े-मेढ़े रूप में होने लगते हैं तो यह एक फंगल संक्रमण हो सकता है।

हालांकि, कुछ त्वचा की स्थिति और अन्य चिकित्सा समस्याएं आपके पैर की उंगली की दिखावट को बदल कर इसे फंगल इंफेक्शन की तरह दिखने वाला बना सक देती है , इसलिए सही मूल्यांकन और निदान प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। फंगस की पहचान करने के लिए अपने डॉक्टर या पोडियाट्रिस्ट द्वारा पैर के नाखून की एक खुरचन ली जा सकती है।

क्या ये गंभीर है (Is it serious?)

पैर के नाखूनों के फंगल इंफेक्शन अप्रिय होते हैं और ये एक आम समस्या है लेकिन आमतौर पर ये दर्दरहित और गंभीर नहीं होते हैं।

मैं इनका इलाज कैसे कर सकता हूं? (How can I treat it?)

विकल्पों की कईं किस्में मौजूद हैं:

  • आपका पोडियाट्रिस्ट पैर के मोटे नाखून को पतला कर सकता है और एंटी-फंगल नेल पेंट के साथ इलाज करना आसान बनाता है। यह एक दीर्घकालिक विकल्प है और इसमें सीमित सफलता है। इसमें बहुत धीरज लगता है।
  • एंटी-फंगल क्रीम का उपयोग नाखूनों के आसपास फंगस के इलाज के लिए किया जा सकता है। यह आमतौर पर प्रारंभिक चरण में अधिक प्रभावी उपचार होता है, जब फंगस पहले पैर के नाखूनों को प्रभावित करना शुरू करता है।

एंटी-फंगल गोलियां एक डॉक्टर द्वारा निर्धारित की जाती हैं। वे आम तौर पर बहुत प्रभावी होते हैं। एक बार उपचार का कोर्स पूरा हो जाने के बाद, पैर के नाखून के दिखने में सुधार होने में कई महीने लग सकते हैं, क्योंकि टो नेल को आधार से टिप तक पूरी तरह से बढ़ने में लगभग 12 महीने लगते हैं। उस अवधि के दौरान जब नाखून दोबारा निकल रहा है, आगे संक्रमण को रोकने के लिए एक एंटी-फंगल क्रीम का उपयोग करें।

अगर मैं इलाज नहीं करता हूं तो क्या होगा? (What will happen if I don’t treat it?)

समय के साथ, फंगस, टो नेल्स को मोटा, फीका पड़ा हुआ बना सकता है और संक्रमण धीरे-धीरे अन्य टो नेल्स में फैल जाएगा। यह एथलीट फुट जैसे त्वचा के फंगल संक्रमण के स्रोत के रूप में भी कार्य कर सकता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।