COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
19 min read

एडी का दर्द (Heel pain)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

एड़ी का दर्द किसे कहते हैं?

एड़ी में दर्द पैरों की एक सामान्य समस्या है। इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति को प्रभावित एड़ी का इस्तेमाल करते समय आमतौर पर तेज दर्द महसूस होता है।

एड़ी का दर्द (Heel pain) आमतौर पर धीरे-धीरे बढ़ता है और समय के साथ बदतर हो जाता है। दर्द अक्सर गंभीर होता है और आमतौर पर तब होता है जब आप एड़ी पर भार या दबाव डालते हैं।

ज्यादातर मामलों में केवल एक एड़ी प्रभावित होती है। हालांकि आंकड़ों के अनुसार, लगभग एक तिहाई लोगों को दोनों एड़ी में दर्द होता है।

दर्द आमतौर पर सुबह में सबसे अधिक होता है, या जब आप लंबे समय तक सोने या बैठने के बाद कदम उठाते हैं तब होता है। चलने के बाद दर्द आमतौर पर कम हो जाता है, लेकिन अक्सर चलने या लंबे समय तक खड़े रहने के बाद फिर से बढ़ जाता है।

कुछ लोग असामान्य तरीके से या लंगड़ा कर चलते हैं क्योंकि वे प्रभावित एड़ी पर अधिक भार देने से बचने की कोशिश करते हैं।

एड़ी में दर्द किस कारण होता है? (What causes heel pain?)

एड़ी में दर्द आमतौर पर तब होता है जब पैर में टिशू का एक बैंड, जिसे प्लांटर फैसिया (plantar fascia) कहा जाता है, क्षतिग्रस्त और मोटा हो जाता है।

प्लांटर फैसिटिस (Plantar fascitis) एक मेडिकल शब्द है जिसका इस्तेमाल प्लांटर फेसिया की मोटाई के लिए किया जाता है।

प्लांटर फेसिया (Plantar fascia)

प्लांटर फेसिया एक कठोर और लचीले ऊतकों का बैंड है जो पैर के ठीक नीचे स्थित होता है। यह पैर की हड्डियों से एड़ी की हड्डी को जोड़ता है और पैर के लिए एक तरह से रबड़ का काम करता है।

अचानक क्षति पहुंचने, या कई महीनों या सालों में क्षति पहुंचने के कारण प्लांटर फेसिया के ऊतक के अंदर टीयर्स (माइक्रोटीयर्स) पैदा हो सकते हैं। इसके कारण प्लांटर फेसिया मोटा हो जाता है और एड़ी में दर्द शुरू हो जाता है।

इसके अलावा आसपास के ऊतक और एड़ी की हड्डी में भी कभी-कभी सूजन हो सकती है।

एड़ी में दर्द के कारणों के बारे में और पढ़ें।

निदान (Diagnosis)

ज्यादातर मामलों में, आपके डॉक्टर या पोडियाट्रिस्ट (पैर की समस्याओं और पैरों की देखभाल के विशेषज्ञ) एड़ी में दर्द के कारण का निदान करते हैं। इस दौरान वे निम्न तरीके से परीक्षण करते हैं:

  • आपके लक्षणों और चिकित्सा इतिहास के बारे में पूछना
  • एड़ी और पैर की जांच करना

एड़ी में दर्द का निदान कैसे किया जाता है इसके बारे में और पढ़ें।

एड़ी में दर्द का इलाज (Treating heel pain)

ऐसे कई इलाज मौजूद हैं जो एड़ी के दर्द को दूर करने और आपको तेजी से ठीक होने में मदद करते हैं। इसमें शामिल है:

  • एड़ी को आराम देना - लंबी दूरी तक चलने और लंबे समय तक खड़े रहने से बचने की कोशिश करें
  • नियमित स्ट्रेचिंग - अपने कॉफ मसल और प्लांटर फेसिया को स्ट्रेच करें
  • दर्द से राहत - प्रभावित एड़ी पर आइसपैक का इस्तेमाल करें और दर्द निवारक दवाएँ जैसे नॉन-स्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग (एनएसएआईडी) का सेवन करें
  • अच्छे फिटिंग वाले जूते पहने जो आपके पैर को सपोर्ट और कुशन करते हों - रनिंग शूज ज्यादा उपयोगी होते हैं।
  • सहायक उपकरणों जैसे कि ऑर्थोस या स्ट्रैपिंग का उपयोग करना चाहिए

एक साल के भीतर एड़ी में दर्द के पांच में से चार मामले ठीक हो जाते हैं। हालांकि, इतने लंबे समय तक एड़ी में दर्द का सामना करना काफी पीड़ादायक और दुखभरा होता है।

20 में से एक मामले में, उपरोक्त इलाज पर्याप्त नहीं होते हैं और प्लांटर फेसिया से छुटकारा पाने के लिए सर्जरी की सलाद दी जा सकती है।

एड़ी में दर्द के इलाज के बारे में और पढ़ें।

एड़ी में दर्द से बचाव (Preventing heel pain)

शरीर का वजन बढ़ने के कारण आपके पैरों खासकर एड़ी पर अतिरिक्त दबाव और खिंचाव हो सकता है। स्वस्थ संतुलित आहार के साथ नियमित व्यायाम करने से शरीर का वजन नियंत्रित रहता है। यह आपके पैरों के लिए फायदेमंद है।

इसके अलावा आपको उचित जूते पहनना भी जरूरी है। आपको कम या मध्यम एड़ी तक के जूते पहनने चाहिए जो आपकी एड़ी को सपोर्ट और कुशन दे सके। बिना हील वाले जूते पहनने से बचें।

एड़ी में दर्द से बचने के बारे में और पढ़ें।

एड़ी में दर्द के कारण

प्लांटर फैसिटिस एड़ी में दर्द का सबसे आम कारण है। एड़ी दर्द के पांच में से चार मामले इसी के कारण होते हैं।

प्लांटर फैसिटिस तब होता है जब एड़ी की हड्डी को पैर के बाकी हिस्सों (प्लांटर फेसिया) से जोड़ने वाला ऊतकों का मोटा बैंड क्षतिग्रस्त और मोटा हो जाता है।

प्लांटर फेसिया निम्न कारणों से क्षतिग्रस्त होता है:

  • अचानक क्षति - उदाहरण के लिए, जॉगिंग, दौड़ने या नृत्य करते समय एड़ी को नुकसान पहुंचना; इस प्रकार की क्षति आमतौर पर शारीरिक रूप से सक्रिय युवा लोगों को प्रभावित करती है।
  • प्लांटर फेसिया को बनाने वाले ऊतक में धीरे-धीरे वीयर और टीयर उत्पन्न होना - यह आमतौर पर 40 वर्ष या उससे अधिक उम्र के वयस्कों को प्रभावित करता है।

जोखिम के कारक

वियर और टीयर धीरे-धीरे आपके प्लांटर फैसिटिस के क्षतिग्रस्त होने के जोखिम को बढ़ा सकते हैं, यदि आप:

  • अधिक वजन या मोटापा - यदि आपका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 30 या इससे अधिक है तो आप मोटापे के शिकार हैं
  • कोई ऐसा काम जिसमें लंबे समय तक खड़े रहने की जरूरत पड़ती है
  • सपाट तलवों वाले जूते पहनना, जैसे सैंडल या फ्लिप फ्लॉप

कम सामान्य कारण

एड़ी में दर्द के कम सामान्य कारणों के बारे में नीचे बताया गया है।

स्ट्रेस फ्रैक्चर (Stress fracture)

अगर चोट लगने से आपकी एड़ी की हड्डी क्षतिग्रस्त हो जाती है तो स्ट्रेस फ्रैक्चर हो सकता है।

फैट पैड एट्रॉफी (Fat pad atrophy)

फैट पैड एट्रॉफी तब होता है जब एड़ी की हड्डी के नीचे स्थित वसा की परत, जिसे फैट पैड कहा जाता है, पैड पर बहुत अधिक खिंचाव होने के कारण बर्बाद होने लगती है।

जो महिलाएं कई वर्षों तक ऊँची एड़ी के जूते पहनती हैं, उनमें फैट पैड एट्रॉपी का खतरा बढ़ जाता है।

बर्साइटिस (Bursitis)

बर्साइटिस एक या एक से अधिक बर्सा में होने वाली सूजन है (आमतौर पर जोड़ों के ऊपर और टेंडन और हड्डियों के बीच त्वचा के नीचे द्रव से भरी थैली)।

बर्साइटिस केवल पैर में ही नहीं बल्कि शरीर के अंदर कहीं विकसित हो सकती है।

टार्सल टनल सिंड्रोम (Tarsal tunnel syndrome)

पैर के तलवे में तंत्रिका टखने के जोड़ के अंदर एक छोटे टनल से होकर गुजरती है, जिसे टार्सल टनल कहा जाता है। यदि सिस्ट बन जाती है या टनल क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो नसें संकुचित (स्क्वैश) हो सकती हैं। इससे आपकी एड़ी के नीचे तंत्रिका सहित कहीं भी दर्द हो सकता है।

सेवर बीमारी (Sever’s disease)

सेवर बीमारी के कारण बच्चों में एड़ी का दर्द होना आम है। यह ग्रोथ स्पर्ट की प्रतिक्रिया में हैमस्ट्रिंग और कॉव मसल्स और टेंडन्स के खिंचाव और कसाव के कारण होता है।

कॉफ मसल का खिंचाव एच्लीस टेंडन को खिंचता है। इससे एड़ी (ग्रोथ प्लेट) के पीछे हड्डी के बढ़ते क्षेत्र पर खिंचाव होता है, जिससे एड़ी में दर्द शुरू हो जाता है।

फुटबॉल और जिम्नास्टिक जैसी गतिविधियों से दर्द और बढ़ जाता है। दर्द आमतौर पर एड़ी के किनारे पर होता है, लेकिन एड़ी के नीचे भी महसूस किया जा सकता है।

कॉफ और हैमस्ट्रिंग स्ट्रेच के साथ ही यदि आवश्यक हो तो हील पैड आमतौर पर गंभीर बीमारी के लिए प्रभावी उपचार होते हैं।

एड़ी में दर्द का निदान

आपके डॉक्टर या पोडियाट्रिस्ट (पैरों की देखभाल के विशेषज्ञ) आपके लक्षणों के बारे में पूछकर और एड़ी और पैर की जांच करके एड़ी में दर्द के कारण का निदान करते हैं।

आपको आमतौर पर आगे जांच कराने की जरूरत तभी पड़ेगी जब आपको कुछ अन्य लक्षण नजर आते हैं और जो यह बताते हैं कि एड़ी में दर्द का कारण सूजन नहीं है, जैसे:

पैर में झुनझुनी और सनसनाहट - यह आपके पैर और पैरों की तंत्रिका में डैमेज का संकेत हो सकता है (पेरिफेरल न्यूरोपैथी)

आपके पैर में गर्माहट महसूस होती है और शरीर का 38 (C (100.4 )F) या इससे अधिक तापमान (बुखार) होता है - ये हड्डियों के संक्रमण के संकेत हो सकते हैं

एड़ी में अकड़न और सूजन - यह अर्थराइठिस का संकेत हो सकता है

आगे निम्न जांच करानी पड़ सकती हैं:

एड़ी में दर्द का इलाज

एड़ी में दर्द इलाज के लिए आमतौर पर स्ट्रेच और दर्द निवारक जैसे तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है। ये दर्द से राहत दिलाने और तेजी से ठीक होने में मदद करते हैं।

एड़ी में दर्द के अधिकांश मामले 12 महीनों के भीतर ठीक हो जाते हैं। यदि आपके लक्षणों में 12 महीने के बाद सुधार नहीं होता है, तो सर्जरी एक अंतिम विकल्प होता है। एड़ी में दर्द से पीड़ित 20 में से केवल एक को सर्जरी कराने की आवश्यकता पड़ती है।

आराम करना

अगर संभव हो तो लंबी दूरी तक चलने और लंबे समय तक खड़े रहने से बचें और प्रभावित पैर को आराम दें। हालांकि, आपको नियमित अपने पैरों और पिंडलियों को खींचकर व्यायाम करना चाहिए जैसा कि नीचे दिया गया है।

दर्द से राहत

गैर-स्टेरायडल ऐंटाई इन्फ़्लैमटॉरी दवाएं (एनएसएआईडी) (non-steroidal anti-inflammatory drugs), जैसे कि इबुप्रोफेन, का उपयोग दर्द को दूर करने में मदद के लिए किया जा सकता है।

पांच से 10 मिनट तक प्रभावित एड़ी पर आइस पैक लगाने से भी कुछ लोगों को दर्द और सूजन से राहत मिलती है। हालांकि, सीधे अपनी त्वचा पर आइस पैक न लगाएं। इसके बजाय इसे एक तौलिया में लपेटकर लगाएं। यदि आपके पास आइस पैक नहीं है, तो आप जमए हुए सब्जियों के पैकेट का उपयोग कर सकते हैं।

व्यायाम

कॉफ मसल और प्लांटर फेसिया (पैर के नीचे के हिस्से का टिशू बैंड) को स्ट्रेच करके व्यायाम करने से दर्द से राहत मिलती है और प्रभावित पैर में लचीलेपन में सुधार होता है।

नीचे कई स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज के बारे में बताया गया है। आपको आमतौर पर दोनों पैरों पर व्यायाम करने की सलाह दी जाती है, चाहे भले ही आपकी केवल एक एड़ी दर्द से प्रभावित हो। यह एड़ी के संतुलन और स्थिरता में सुधार करता है और साथ ही एड़ी में दर्द को दूर करने में मदद करता है।

टॉवेल स्ट्रेच (Towel stretches)

अपने बिस्तर के पास एक लंबा तौलिया रखें। सुबह बिस्तर से उठने से पहले, अपने पैर के चारों ओर तौलिया को लूप करें और अपने घुटने को सीधा रखते हुए अपने पैर की उंगलियों को अपने शरीर की ओर खींचने के लिए इसका उपयोग करें। दोनों पैरों पर इसे तीन बार दोहराएं।

व़ॉल स्ट्रेच (Wall stretches)

दोनों हाथों को एक दीवार पर कंधे की ऊँचाई पर रखें, जिसमें से एक आपके पैर के सामने हो। सामने का पैर दीवार से लगभग 30 सेमी (12 इंच) दूर होना चाहिए।

अपने सामने के घुटने को मोड़ें और अपने पिछले पैर सीधे को सीधा रखें। अब दीवार की ओर तब तक झुकें रहें जब तक कि आप अपने पिछले पैर के कॉफ मसल में कसाव महसूस न करें। फिर आराम करें।

इस अभ्यास को 10 बार दोहराएं। आपको दिन में दो बार वॉल स्ट्रेच का अभ्यास करना चाहिए।

स्टेयर स्ट्रेच (Stair stretches)

रेलिंग के सहारे सीढ़ियों पर अपने कदमों के बल खड़े हो जाएं और ऊपर की सीढ़ियों की ओर देखें। आपके पैर स्टेप के पिछले हिस्से से लटकते हुए आपकी एड़ी से थोड़े अलग होने चाहिए।

जब तक आप अपने कॉव में कसाव महसूस नहीं करते तब तक अपनी एड़ी को नीचे न लाएँ। अपनी एड़ी को वापस उसी स्थिति में लाने से पहले लगभग 40 सेकंड तक इसी स्थिति में बने रहें। दिन में दो बार इस प्रक्रिया को छह बार दोहराएं।

चेयर स्ट्रेच (Chair stretches)

कुर्सी पर बैठ जाएं और अपने घुटनों को दाएं कोण पर झुकाएं। अपने पैर बग़ल में मोड़ें ताकि आपकी एड़ी पैरों को छू रही हो और पैर की उंगलियां विपरीत दिशाओं में हों। एड़ी को मजबूती से फर्श पर रखते हुए प्रभावित पैर की उंगलियों को ऊपर उठाएं।

इस दौरान आपको अपने कॉफ मसल और एच्लीस टेंडन (टिशू बैंड जो कॉफ मसल से एड़ी की हड्डी को जोड़ता है) में कसाव का अनुभव होगा। इस स्थिति में कई सेकंड तक बने रहें और फिर आराम करें। इस प्रक्रिया को दिन में पांच से छह बार 10 बार दोहराएं, ।

डायनेमिक स्ट्रेच (Dynamic stretches)

बैठते समय अपने पैर के आर्च (पैर की उंगलियों और एड़ी के बीच का निचला हिस्सा) को एक राउंड ऑब्जेक्ट, जैसे कि रोलिंग पिन, टेनिस बॉल या ड्रिंक कैन पर रोल करें। कुछ लोग इसके लिए फ्रिज के ठंडे कैन का इस्तेमाल करते हैं जिससे उन्हें दर्द से राहत मिलती है।

ऑब्जेक्ट पर कुछ मिनट तक सभी दिशाओं में अपने पैर और टखने को हिलाएं। दिन में दो बार यह व्यायाम दोहराएं।

जूते (Footwear)

आपकी सामान्य पसंद के आधार पर आपके डॉक्टर या पोडियाट्रिस्ट आपको अपने जूते बदलने की सलाह दे सकते हैं।

आपको फ्लैट-सोल वाले जूते पहनने से बचना चाहिए क्योंकि ये आपकी एड़ी को सपोर्ट प्रदान नहीं करते हैं और एड़ी में दर्द को बदतर बना सकते हैं।

आपको ऐसे जूते पहनने चाहिए जो आपकी एड़ी के लिए कुशन का काम करते हैं और पैरों के आर्च को अच्छी तरह सपोर्ट करते हैं।

महिलाओं को ऊँची एड़ी के सैंडल और पुरुषों को एड़ी वाले बूट या ब्रोग्स पहनने चाहिए। इससे एड़ी में दर्द से राहत मिल सकती है। क्योंकि इस तरह के जूते एड़ी पर दबाव को कम करने में मदद करते हैं।

हालांकि, लंबे समय तक के लिए इस प्रकार के जूते उपयुक्त नहीं होते हैं और एड़ी में दर्द की समस्या को बढ़ा सकते हैं। आपके डॉक्टर या पोडियाट्रिस्ट आपको फुटवियर के बारे में सलाह दे सकते हैं।

ऑर्थोसेस (Orthoses)

ऑर्थोस जूतों के तलवों के अंदर फिट हो जाते हैं जो पैर को सपोर्ट प्रदान करते हैं और एड़ी को ठीक करने में मदद करते हैं। आप खेल की दुकानों और बड़े फार्मेसियों से इसे खरीद सकते हैं। आपके पॉडिएट्रिस्ट भी ऐसे जूतों के आपूर्तिकर्ता के बारे में बता सकते हैं।

यदि इलाज के बाद भी पैरों में दर्द बना रहता है, या यदि आपके पैर की असामान्य आकृति या संरचना है, तो इसके लिए कस्टम-मेड ऑर्थोस उपलब्ध हैं। ये विशेष रूप से आपके पैरों के आकार को फिट करने के लिए बनाए गए हैं।

हालांकि, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि कस्टम-मेड ऑर्थोस खरीदे गए शेल्फ की तुलना में अधिक प्रभावी हैं।

स्ट्रैपिंग और स्पलिंटिंग (Strapping and splinting)

ऑर्थोस का उपयोग करते समय आपकी एड़ी को स्पोर्ट्स स्ट्रैपिंग (जिंक ऑक्साइड) टेप से बांधा जाता है। स्ट्रैपिंग एड़ी पर दबाव को कम करने में मदद करता है। आपके डॉक्टर या पोडियाट्रिस्ट खुद टेप लगाने के तरीके आपको बता सकते हैं।

कुछ मामलों में, नाइट स्पलिंट भी उपयोगी हो सकती है। अधिकांश लोग अपने पैर की उंगलियों को नीचे की ओर करके सोते हैं, इसके कारण एड़ी के अंदर ऊतक एक साथ घुस जाते हैं।

नाइट स्पलिंट बूट की तरह दिखते हैं। ये सोते समय आपके पैर और उंगलियों को ऊपर रखने में मदद करते हैं। ये एच्लीस टेंडन और प्लांटर फेसिया दोनों को फैलाते हैं जिससे आपको तेजी से ठीक होने में मदद मिलती है।

नाइट स्प्लिंट आमतौर पर केवल विशेषज्ञ दुकानों और ऑनलाइन खुदरा विक्रेताओं से उपलब्ध हैं। आपके पोडियाट्रिस्ट भी किसी सप्लायर के बारे में बता सकते हैं।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन (Corticosteroid injections)

यदि इलाज के बावजूद आपके पीड़ादायक लक्षण कम नहीं होते हैं तो डॉक्टर आपको कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन लगवाने के लिए कह सकते हैं।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड (Corticosteroids) एक प्रकार की दवा है जिसमें शक्तिशाली एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है। इन्हें सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि इनका अधिक इस्तेमाल करने से वजन बढ़ना और उच्च रक्तचाप (high blood pressure) (हाइपरटेंशन) जैसे गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

इसलिए शरीर के किसी भी हिस्से में एक वर्ष के भीतर तीन से अधिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन नहीं दिए जाते हैं।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन लगाने से पहले, आपके पैर को सुन्न करने के लिए लोकल एनेस्थेटिक (local anaesthetic) (दर्द निवारक दवा) का इस्तेमाल किया जाता है ताकि आपको कोई दर्द महसूस न हो।

सर्जरी (Surgery)

यदि इलाज काम नहीं कर रहा है और एक वर्ष के बाद भी गंभीर लक्षण बने रहते हैं, तो आपके डॉक्टर आपको यहां रेफर कर सकते हैं:

आर्थोपेडिक सर्जन - एक ऐसा सर्जन जो हड्डियों, मांसपेशियों और जोड़ों की सर्जरी का विशेषज्ञ होता है।

पोडियाट्रिक सर्जन - पोडियाट्रिस्ट पैर की सर्जरी का विशेषज्ञ होता है

कभी-कभी पेशेवर एथलीटों और अन्य खिलाड़ियों को सर्जरी की सलाह दी जाती है, जिनकी एड़ी का दर्द उनके करियर पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है।

प्लांटर रिलीज सर्जरी (Plantar release surgery)

प्लांटर रिलीज सर्जरी एड़ी में दर्द के इलाज के लिए सबसे बड़े पैमाने पर इस्तेमाल की जाने वाली सर्जरी है। सर्जन एड़ी की हड्डी से इसे मुक्त करने के लिए फेसिया को काट देते हैं जिससे प्लांटर फेसिया में तनाव कम हो जाता है। इसके कारण सूजन भी घट जाती है और आपको पीड़ादायक लक्षणों से छुटकारा मिल जाता है।

सर्जरी कई तरीके से की जा सकती है:

  • ओपन सर्जरी - इसमें आपकी एड़ी में कट बनाकर प्लांटर फेसिया का सेक्शन रिलीज किया जाता है
  • एंडोस्कोपिक या मिनिमल इनसिजन सर्जरी - इसमें एक छोटा चीरा लगाया जाता है और प्लांटर फेसिया तक पहुंचने के लिए विशेष उपकरणों को चीरा के माध्यम से डाला जाता है

एंडोस्कोपिक या मिनिमल इनसिजन सर्जरी को ठीक होने में अधिक समय नहीं लगता है। इसलिए आप ओपन सर्जरी में दो से तीन सप्ताह की तुलना में सामान्य रूप से बहुत जल्दी (लगभग तुरंत) चल सकते हैं।

एंडोस्कोपिक सर्जरी का एक नुकसान यह है कि इसके लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित सर्जिकल टीम और विशेष उपकरण दोनों की आवश्यकता होती है। इसलिए यदि आप ओपन सर्जरी कराना चाहते हैं तो आपको इलाज के लिए अधिक समय तक इंतजार करना पड़ सकता है।

इसके अलावा एंडोस्कोपिक सर्जरी से आसपास की नसों को नुकसान पहुंचने का अधिक जोखिम होता है। जिसके कारण आपके पैरों में सुन्नता या झुनझुनी हो सकती है या पैरों की गतिशीलता कम हो सकती है।

सभी तरह की सर्जरी में प्लांटर को रिलीज करने से संक्रमण और तंत्रिका क्षतिग्रस्त होने का खतरा रहता है। सर्जरी के बाद आपके लक्षण भी बदतर होने की संभावना बढ़ सकती है(हालांकि यह दुर्लभ है)।

आपको अपनी सर्जिकल टीम के साथ दोनों तकनीकों के फायदे और नुकसान के बारे में चर्चा करनी चाहिए।

एक्स्ट्राकार्पोरियल शॉकवे थैरेपी (EST) (Extracorporeal shockwave therapy)

एक्स्ट्राकार्पोरियल शॉकवेथ थेरेपी (EST) एक नए प्रकार का नॉन-इनवेसिव उपचार है। नॉन-इनवेसिव का मतलब है कि इसमें आपके शरीर में कोई चीरा नहीं लगाया जाता है।

EST में आपकी एड़ी में हाई एनर्जी साउंडवेव देने के लिए एक उपकरण का उपयोग किया जाता है। साउंडवेव के कारण कभी-कभी दर्द का भी अनुभव होता है इसलिए एड़ी को सुन्न करने के लिए लोकल एनेस्थेटिक का उपयोग किया जा सकता है।

माना जाता है कि EST दो तरह से काम करता है:

नसों पर 'सुन्न' प्रभाव पड़ता है जो मस्तिष्क में दर्द के संकेतों को प्रसारित करता है

उपचार प्रक्रिया को उत्तेजित और गति प्रदान करने में मदद करता है

हालाँकि, ये दावे अभी तक सिद्ध नहीं हुए हैं।

कुछ अध्ययनों से पता चला है कि सर्जरी और अन्य नॉन-सर्जिकल उपचारों की तुलना में EST अधिक प्रभावी है, जबकि अन्य अध्ययनों में पाया गया कि यह प्रक्रिया प्लेसबो (शैम उपचार) से बेहतर नहीं है।

रोकथाम

एड़ी में दर्द से बचना हमेशा संभव नहीं है, लेकिन ऐसे उपाय हैं जो आप आगे के एपिसोड से बचने में मदद कर सकते हैं।

स्वस्थ वजन

अधिक वजन होने के कारण आपके पैरों पर अतिरिक्त दबाव और खिंचाव हो सकता है, खासकर आपकी एड़ी पर। इससे आपके पैरों और एड़ी को नुकसान पहुंचने का खतरा बढ़ जाता है।

यदि आपका वजन बढ़ गया है, तो वजन कम करने और स्वस्थ संतुलित आहार के साथ नियमित व्यायाम करने से पैरों में दर्द के लक्षण कम हो जाते हैं।

आपकी लंबाई के अनुसार आपका वजन ठीक है या नहीं, यह जानने के लिए आप अपने बॉडी मास इंडेक्स (BMI) की गणना कर सकते हैं।

अपने बीएमआई की गणना करने के लिए, अपने वजन को किलोग्राम में और अपनी लंबाई को मीटर वर्ग से विभाजित करें। अगर आपकी बीएमआई है:

  • 18.5 से कम का मतलब है कि आपका वजन कम है
  • 18.5-24.9 का मतलब है कि आपका वजन स्वस्थ है
  • 25-29 का मतलब है कि आपका वजन अधिक है
  • 30-40 का मतलब है कि आप मोटे हैं
  • 40 से अधिक का मतलब है कि आप अस्वस्थ रूप से मोटे हैं

अपने बीएमआई को मापने के लिए आप बीएमआई हेल्दी वेट कैलकुलेटर का भी उपयोग कर सकते हैं। मोटापे (obesity) के बारे में और पढ़ें।

स्वस्थ पैर

आपको हमेशा ऐसे फुटवियर पहनने चाहिए जो आपके पर्यावरण और दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों के लिए उपयुक्त हों।

जब आप शाम को बाहर जाते हैं तो ऊँची एड़ी पहनने से कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। हालांकि, काम के दौरान पूरे हफ्ते उन्हें पहनने से आपके पैरों को नुकसान हो सकता है। खासकर यदि आप ऐसा काम करते हैं जिसमें आपको बहुत अधिक चलना या खड़ा होना पड़ता है।

आपको लेस वाले जूते और कम से मध्यम एड़ी तक के जूते पहनने चाहिए जो आपके आर्च और एड़ी को कुशन और सपोर्ट कर सके। बिना हील वाले जूते पहनने से बचें।

कठोर मैदान पर खासकर छुट्टी के समय नंगे पैर न चलें। एड़ी में दर्द के कई मामले तब होते हैं जब कोई व्यक्ति वर्ष के 50 सप्ताह तक अपने पैरों की सुरक्षा करता है और फिर छुट्टी के समय अचानक नंगे पैर चलता है। उनके पैर अतिरिक्त दबाव के आदी नहीं होते हैं, जिसके कारण एड़ी में दर्द की समस्या शुरू हो जाती है।

यदि आप दौड़ने या व्यायाम जैसी शारीरिक गतिविधि करते हैं और इससे आपके पैरों पर अतिरिक्त खिंचाव पड़ता है, तो आपको स्पोर्ट्स के जूते को नियमित बदलना चाहिए। अधिकांश विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि स्पोर्ट्स शूज लगभग 500 मील की दूरी तय करने के बाद बदल देना चाहिए।

व्यायाम करने के बाद हमेशा स्ट्रेच करना चाहिए। साथ ही स्ट्रेंथ और फ्लेक्सिबिलिटी ट्रेनिंग को अपने नियमित व्यायाम दिनचर्या का हिस्सा बनाना भी एक अच्छा विकल्प है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।