स्वाइन फ़्लू (H1N1)

3 min read

नोट: यदि आपको खांसी हुई है या पिछले कुछ दिनों से है, उच्च तापमान (बुखार) है या आपकी गंध या स्वाद महसूस करने की क्षमता में बदलाव हुआ है, तो आपको कोरोना वायरस (COVID-19) हो सकता है। इसके बारे में अधिक जानें या हमारे कोरोनावायरस जोखिम मूल्यांकन का उपयोग कर जानें कि आपको कोरोना वायरस से संक्रमित होने का कितना जोखिम है ।

"स्वाइन फ़्लू" नए प्रकार के फ़्लू वायरस का जाना-माना नाम है, जो 2009-10 में एक पूरी दुनिया में फ़्लू के प्रकोप (या महामारी) का कारण बना था। यह वायरस अब केवल एक सामान्य प्रकार का मौसमी फ़्लू है, और ये वार्षिक फ़्लू टीका सूची में शामिल है।

स्वाइन फ़्लू वायरस का वैज्ञानिक नाम ए/एच1एनपीडीएम09 (A/H1N1pDM09) है- कभी-कभी इसे छोटा कर के "एच1एन1 (H1N1)" भी कहा जाता है।

"

इस वायरस की पहचान सबसे पहले मैक्सिको में अप्रैल, 2009 में हुई थी। ये स्वाइन फ़्लू के नाम से इसलिए जाना जाता है क्योंकि यह फ़्लू का वायरस सूअरों को पीड़ित करनेवाले वायरस से मेल खाता है।

यह एक देश से दूसरे देश में तेजी से फैलता गया क्योंकि यह एक नए प्रकार का फ़्लू वायरस था जिससे बहुत कम युवा ही प्रतिरक्षित थे।

कुल मिलाकर, इसका प्रकोप अनुमानित स्तर से कम गंभीर था, चूँकि कई बूढ़े-बुज़ुर्ग इस से प्रतिरक्षित थे। यूके में इसके मामले ज़्यादातर मामूली थे - हालांकि कुछ गंभीर मामले भी सामने आए थे।

वो गिने-चुने मामले, जिनमें लोगो को गंभीर रूप की बीमरी या मृत्यु का सामना करना पड़ा, ज्यादातर युवाओं और बच्चों- ख़ास कर उन लोगों को जिन्हें कोई और स्वास्थ्य समस्याएँ भी थीं- और गर्भवती महिलाओं के साथ हुए।

10 अगस्त 2010 को, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आधिकारिक तौर पर महामारी के अंत की घोषणा की।

"स्वाइन फ़्लू" आज का दौर

ए/एच1एनपीडीएम09 वायरस अब

मौसमी फ़्लू
वायरस के रूप में जाना जाता है, जो हर सर्दी के मौसम में प्रसारित होता है । अगर आपको पिछले कुछ सालों में फ़्लू हुआ है, तो मुमकिन है कि उसका कारण ये वायरस हुआ होगा।

चूंकि कई लोग अब ए/एच1एनपीडीएम09 वायरस से कम-से-कम कुछ स्तर तक प्रतिरक्क्षित है, यह 2009-10 की तुलना में अब कम चिंताजनक है।

इसके लक्षण सामान्य फ़्लू के लक्षणों से मिलते है- वो आम तौर पर मामूली होते हैं और एक हफ़्ते में गुज़रते हैं। लेकिन सभी प्रकार के फ़्लू की तरह, कुछ लोगों को–ख़ास कर उन लोगों को जिन्हें कोई और स्वास्थ्य समस्याएँ भी हैं-इस बीमारी के गंभीर रूप से पीड़ित होने का ज़्यादा ख़तरा होता है।

आमतौर पर नियमित रूप से कराया गया फ़्लू का टीका उन लोगों की रक्षा करता है, जिन्हें इस बीमारी के गंभीर रूप से पीड़ित होने का ज़्यादा ख़तरा है। बच्चों के लिए एक नए तैयार किए गए टीके का कार्यक्रम भी शुरू किया जा रहा है, जिसका उद्देश्य बच्चों की सुरक्षा करना और दूसरों को संक्रमित करने की उनकी क्षमता को घटाना है।

इनके बारे में और पढ़ें:

फ़्लू के लक्षण

फ़्लू का इलाज

फ़्लू से बचाव

सालाना फ़्लू टीका

बच्चों के लिए फ़्लू का टीका

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।