टीपीएमटी(TPMT) टेस्ट

1 min read

किसी व्यक्ति का टीपीएमटी(TPMT) टेस्ट उस समय करवाया जाता है, जब इस बात की जांच करनी हो कि क्या उसे थियोफ्यूरिन(thiopurine) नामक दवा लेने के बाद गंभीर दुष्प्रभाव का खतरा तो नहीं है।

UK में, ऐसे लोगों का टीपीएमटी(TPMT) टेस्ट करवाया जाता है, जिनका थियोफ्यूरिन नामक दवाई के साथ इलाज शुरू किया जाना हो। इलाज से पहले यह टेस्ट करवाया जाता है।

टीपीएमटी(TPMT) टेस्ट से इस बात की जानकारी मिलती है कि क्या उपचार किए जाने से गंभीर दुष्प्रभाव विकसित होने का खतरा है, जैसे रक्त कोशिकाओं में कमी या प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया(lowered immune response) में कमी आना।

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।