COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
11th February, 20216 min read

सहज भोजन करना क्या होता है और यह कैसे काम करता है?

Medical Reviewer:Dr Adiele Hoffman
Author:Libby Williams
मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है। यह Libby Williams द्वारा लिखा गया है और Dr Adiele Hoffman ने इसकी मेडिकल समीक्षा की है।

ऐसे बहुत सारे आहार (diets) हैं, जो आपको वजन कम करने, बेहतर महसूस करने और स्वस्थ रहने में मदद करने का वादा करते हैं। यह मुश्किल हो सकता है, अगर यह जानना संभव न हो कि कि कौन से आहार वास्तव में काम करते हैं - और किसको आजमाना सुरक्षित और स्वास्थ्यप्रद (healthy) है।

सहज भोजन करना (intuitive eating), कभी-कभी 'एंटी-डाइट (anti-diet)' (अल्पाहार विरोधी) के रूप में जाना जाता है, यह भोजन और शरीर की छवि को देखने का एक अलग तरीका है। यह क्या है, इसके संभावित लाभ क्या हैं और इसे अपने लिए कैसे आज़माएं, यह सब जानने के लिए पढ़ें।

सहज भोजन करना (intuitive eating) क्या है?

'सहज भोजन (intuitive eating)’ शब्द का उपयोग पहली बार अमेरिका (US) में 1995 में 2 पंजीकृत आहार विशेषज्ञ, एवलिन ट्राइबोले (Evelyn Tribole) और एलीस रेसच (Elyse Resch) द्वारा किया गया था।
मूल विचार यह है कि आप परहेज़ करना बंद कर देते हैं और अपने शरीर के 'भूख के संकेत (hunger cues)’ सुनना शुरू कर देते हैं, इसलिए जब आप भूखे हों तो खाएं और जब आप का पेट भर जाए तो रुक जाएं।

यह उस स्वास्थ्यपरक खाने हेतु जागरूक निर्णय लेने के बारे में है कि आप वह खाएं, जो आपको अच्छा लगता है।

यह कैसे काम करता है?

सहज भोजन (Intuitive eating) एक पारंपरिक आहार के विपरीत है और इसमें खाने के बारे में कोई नियम नहीं है। वैसे, यह 10 सिद्धांतों (principles) पर आधारित है।
सहज भोजन (intuitive eating) के 10 सिद्धांत
1. अल्पाहार (परहेज़) मानसिकता को अस्वीकार करें।
2. अपनी भूख (hunger) का सम्मान करें।
3. भोजन के साथ सामंजस्य बनाएं।
4. फूड पुलिस (food police) को चुनौती दें।
5. अपनी परिपूर्णता को महसूस करें।
6. संतुष्टि के कारक (satisfaction factor) की खोज करें।
7. करुणा (kindness) के साथ अपनी भावनाओं का सामना करें।
8. अपने शरीर (body) का सम्मान करें।
9. गतिशीलता (Movement) - अंतर महसूस करें।
10. अपने स्वास्थ्य का सम्मान करें - सौम्य पोषण (gentle nutrition)।

इन सहज भोजन करने के सिद्धांतों (intuitive eating principles) को अपने शरीर को खिलाने-पिलाने के लिए मार्गदर्शन के लिए बनाया गया था और जब आपको लगता है कि आपके शरीर को इसकी आवश्यकता है तो व्यायाम (exercise) करें।

सोच यह है कि, समय के साथ, यह आपको स्वस्थ बनाएगा तथा भोजन और शरीर की छवि (food and body image) के प्रति अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण देगा।

सहज भोजन करने (intuitive eating) के लाभ

जबसे सहज भोजन (Intuitive eating) का विचार विकसित किया गया था, शोध ने इसके प्रभावों पर ध्यान दिया है, जिसमें हम कैसे सोचते हैं और महसूस करते हैं (मनोवैज्ञानिक लाभ/ psychological benefits) सहित यह भी शामिल है कि यह कैसे सुधार कर सकता है।

कई अध्ययनों की समीक्षा (review) में पाया गया कि सहज भोजन (intuitive eating) की कोशिश करने वाले लोगों ने अपने मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य (psychological health) में सुधार दिखाया, जिसमें आत्म-सम्मान (self-esteem) और शरीर की छवि (body image) में वृद्धि हुई, साथ ही अवसाद या चिंता में कमी (less depression or anxiety) और जीवन की बेहतर गुणवत्ता (better quality of life) भी शामिल थी।

अन्य शोधों ने सहज भोजन (intuitive eating) को कम बॉडी मास इंडेक्स (body mass index) (बीएमआई/ BMI) और वजन बनाए रखने से जोड़ा है।

हालांकि ये अध्ययन आशाजनक हैं, लेकिन इससे पहले कि हमें सहज भोजन (intuitive eating) के लाभों के बारे में सुनिश्चित किया जा सके, अधिक शोध की आवश्यकता है।

सहज रूप से (intuitively) कैसे खाना है

कोई भी सहज भोजन (intuitive eating) की कोशिश कर सकता है। यदि आपने अल्प-आहार और जिस तरह से वे आपको महसूस कराते हैं को पर्याप्त देख लिया है, तो यह भोजन और आपके शरीर के प्रति आपका दृष्टिकोण बदलने में आपकी मदद करने का एक तरीका हो सकता है।

सहज रूप से खाना शुरू करने के लिए, आपको 'शारीरिक (physical)’ भूख और ’भावनात्मक (emotional )' भूख के बीच अंतर करना सीखना होगा।
जब आप शारीरिक रूप से भूखे होते हैं, तो आपका शरीर आपको पोषक तत्व (nutrient) देने के लिए आपको संकेत भेजता है। इन संकेतों में पेट में गुड़गुड़ाहट (growling), कुलबुलाहट (rumbling tummy), ऊर्जा के स्तर में गिरावट और चिड़चिड़ेपन (irritability) की भावनाएं शामिल हो सकती हैं और जो आपके खाने के बाद दूर हो जाती हैं।

दूसरी ओर, भावनात्मक भूख (Emotional hunger), भोजन के लिए एक लालसा है, जो भावनाओं से जुड़ी होती है, जैसे कि ऊब (boredom), उदासी (sadness) और अन्य नकारात्मक भावनाएं। इसमें अक्सर आपको आरामदायक भोजन चाहिए होता है, और खाने के बाद आपको बुरा महसूस हो सकता है।

इसका समाधान है- अपने शरीर की सुनना। जब आप शारीरिक भूख (physical hunger) महसूस करते हैं, तो यह खाने का समय होता है। आप अत्यधिक भूखे नहीं होने तक की प्रतीक्षा ना करें, क्योंकि इससे आप ज्यादा खा सकते हैं या बहुत जल्दी खा सकते हैं - जिससे आपके पेट भरने को जानना कठिन हो जाता है। एक बार जब आप आराम से पेट भरा हुआ महसूस कर लें, तो खाना बंद कर दें।

याद रखें, सहज भोजन (intuitive eating) एक अल्पाहार (diet) नहीं है। आप क्या खा सकते हैं और क्या नहीं - इस बारे में कोई नियम नहीं है - यह निर्णय (judgement) या कैलोरी की गिनती (counting calories) के बारे में नहीं है। सहज भोजन करना (Intuitive eating), एक स्वस्थ संतुलन (healthy balance) के लिए, विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को खाने हेतु प्रोत्साहित करता है।

सहज भोजन (intuitive eating) में क्या करें और क्या ना करें

करें
• भूख लगने पर खाएं
• पेट भर जाने पर खाना बंद कर दें
• विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ खाएं

क्या नहीं करें

• जब तक आप खाने के लिए बहुत अधिक भूखे नहीं हों, तब तक इंतजार करें
• भावनात्मक भूख (emotional hunger) के कारण खाएं
• कैलोरी की गणना करें (count calories)
• आप क्या खा रहे हैं, इसके अनुसार खुद को आंकें।

अपने आहार या अपने खाने के तरीके में बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर या पंजीकृत आहार विशेषज्ञ (registered dietitian) से परामर्श करना हमेशा अच्छा रहता है।

प्रमुख बिंदु

• सहज भोजन करना (intuitive eating), भोजन और शरीर की छवि (food and body image) के लिए एक स्वस्थ दृष्टिकोण रखने के बारे में है
• यह 10 सिद्धांतों पर आधारित है - लेकिन कोई 'नियम' नहीं हैं
• इसमें आपके शरीर को सुनना शामिल है ताकि आप भूख लगने पर खाएं और जब पेट भर जाए तो रुक जाएँ
• लाभों को साबित करने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है
• कोई भी सहज भोजन करने (intuitive eating) की कोशिश कर सकता है, लेकिन अपने खाने के तरीके में बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करना सबसे अच्छा होता है।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।