16th April, 20182 min read

मूड (मनोदशा) को बेहतर करने के उपाय (tips for improving your mood)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

Feeling unwell?

Try our Smart Symptom Checker, which is trusted by millions.

  1. रोज़ाना खुद को आराम देने के लिए समय निकालना आपके मूड को अच्छा कर सकता है। आराम का मतलब अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग होता है। पढ़ना, ध्यान लगाना, सक्रिय रहना, खाना बनाना या कुछ रचनात्मक करना आदि कार्यों से लोगों को अच्छा महसूस हो सकता है। प्रयोग करें और देखें आपके लिए सही क्या है।

  2. यदि आप दो सप्ताह से अधिक समय से ख़राब मूड महसूस कर रहे हैं तो शायद आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए। अवसाद (depression) बहुत ही सामान्य है और इसका आसानी से इलाज किया जा सकता है। याद रखें कि आपका मानसिक स्वास्थ्य आपके शारीरिक स्वास्थ्य जितना ही ज़रूरी है।

  1. क्या आपने माइंडफुलनेस (mindfulness) का प्रयास किया? इसको आपने दैनिक जीवन में सम्मिलित करने के अलग-अलग तरीके हैं। लेकिन प्रत्येक तरीके में वर्तमान समय में आपके विचारों और भावनाओं से अवगत होना शामिल है। हर किसी के लिए ये उपाय नहीं है, यह बार-बार होने वाले अवसाद को रोक सकता है और आपके मानसिक स्वास्थ्य को अच्छा कर सकता है।

  2. मनोदशा में होने वाले परिवर्तन की डायरी बनाना अपने खराब मनोदशा के कारणों को पहचानने का और अपने दैनिक जीवन में परिवर्तन का व्यवहारिक तरीका हो सकता है। सामान्य कारणों में ठीक से ना सोना, असंतुलित आहार, आराम के लिए पर्याप्त समय ना होना और बहुत ज़्यादा कैफ़ीन या शराब पीना शामिल है।

  3. यदि आपको ज़रूरत है तो सहायता लें। यदि आपको पता चलता हैं कि आपकी मनोदशा लगातार खराब रहती है या उसका सामना करना आप मुश्किल पाते हैं तो मदद लें। आपके लिए किसी से बात करना उचित है, चाहे वो परिवार का सदस्य, दोस्त या डॉक्टर हो।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।