COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
7 min read

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आँखों का संक्रमण (herpes simplex eye infection)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

इस लेख में

हर्पीज़ सिंप्लेक्स वायरस से होने वाला आई इंफेक्शन एक प्रकार का आँखों का संक्रमण है। यही वायरस ज़ुखाम और जेनिटल हर्पीज़ का कारण बनता है।

इस वायरस के कारण आंख के चारो ओर लालपन, सूजन और दर्द शुरू हो जाता है। और आँख प्रकाश के प्रति संवेदनशील हो जाती है। ज़्यादा जानकारी के लिए हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन के लक्षणों के बारे में पढ़ें।

कभी-कभी लोगों को बिना किसी लक्षण के सक्रिय हर्पीज़ सिंप्लेक्स आँखों का संक्रमण हो जाता है।

कौन प्रभावित होता है (Who is affected)

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन बहुत सामान्य है और आमतौर पर अधिक उम्र के लोगों पर असर डालता है।

नज़रिया

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन आँखों की रोशनी के लिए खतरनाक स्थिति हो सकती है लेकिन अगर इसका ठीक से इलाज हो तो यह गंभीर नहीं है। अगर आपको इसके लक्षण हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाएं। आपको संक्रमण को दूर करने के लिए आई ऑइंटमेंट (eye ointment) या ड्राप का इस्तेमाल करना पड़ सकता है। हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन के उपचार के बारे में पढ़ें।

कुछ मामलों में अगर आप जल्दी इलाज नहीं करवाते हैं तो हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन आपकी आँखों की रोशनी को हमेशा के लिए खराब कर सकता हैं।

लक्षण (Symptoms)

कुछ हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन से ग्रस्त लोगों में ध्यान देने वाले लक्षण नहीं दिखते हैं।

आमतौर पर ये लक्षण शामिल हैं:

  • आँख का लाल हो जाना (eye redness)
  • आँख में या उसके चारो ओर हल्का या गंभीर दर्द शुरू होना
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशील होना
  • आँख से पानी आना
  • देखने में परेशानी

आप सामान्य रूप से अच्छा महसूस नहीं करेंगे या आपको 38℃ तक बुखार हो सकता है।

कारण (Causes)

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन आमतौर पर हर्पीज़ सिंप्लेक्स वायरस टाईप 1 (herpes simplex virus type 1 (HSV1)) कारण होता है। यह वायरस आपके चेहरे और मुँह पर छालों का कारण बन सकता है। यह वायरस बहुत ही संक्रामक होता है। अगर आपके इससे हुए छाले तो उसे छूने से बचें। अगर आप छाले को छू लेते हैं तो अपनी आंख और अपने जेनिटल को तब तक ना छुएं जब तक आप अपने हाथ अच्छे से धो नहीं लेते हैं।

यह वायरस बचपन में किसी मुंह के छाले वाले व्यक्ति द्वारा चूमने के दौरान होता है। और कई सालों तक निष्क्रिय रह सकता है जब तक किसी कारक के द्वारा सक्रिय ना हो।

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन हर्पीज़ सिंप्लेक्स वायरस टाईप 2 (herpes simplex virus type 2) (HSV 2) के कारण भी हो सकता है। हर्पीज़ सिंप्लेक्स वायरस टाईप 2 (herpes simplex virus type 2) (HSV 2) आमतौर पर जेनिटल हर्पीज़ का कारण बनता है।

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन के कारक

वायरस को अपने आप या कुछ कारकों द्वारा पुन: सक्रिय किया जा सकता है जो लक्षणों को बढ़ा सकते हैं।

जिनमें ये कारक मौजूद हैं:

  • कोई अन्य बीमारी या चोट
  • तेज़ रोशनी के प्रति संवेदनशील
  • बुखार (38℃ से ज़्यादा)
  • ठंडी हवाओं के प्रति संवेदनशीलता
  • तनाव
  • महिलाओ में यदि उनकी माहवारी (periods)

कमज़ोर प्रतिरक्षा तंत्र भी नियमित छालों (cold sore) या हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन का कारण बन सकता है, उदाहरण के लिए अगर आपको HIV है या आप कीमोथेरपी (chemotherapy) ले रहे हैं।

रोग का पता लगाना (Diagnosis)

अगर आपमें हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन के लक्षण हैं तो अपने डॉक्टर को दिखाना बहुत ज़रूरी है। अनुपचारित संक्रमण आपकी आंखों को हमेशा के लिए खराब कर सकता है।

आपके डॉक्टर

आपके डॉक्टर आपसे लक्षणों के बारे में पूछ सकते हैं और अन्य स्थितियों का पता लगाने के लिए जांच कर सकते हैं।

वह आपकी आँखों में कोई असामान्य जगह या चोट को देखने के लिए एक हानिरहित डाई डाल सकते हैं इसे फ्लूरऑसेन स्टेनिंग (fluorescein staining) कहते हैं।

आपके डॉक्टर स्नेलेन चार्ट (Snellen chart) का इस्तेमाल करके आपकी दृष्टि की जांच कर सकते हैं। यह एक चार्ट होता है जिसपर लिखे अक्षर धीरे-धीरे छोटे होते चले जाते हैं।

आँखों के विशेषज्ञ

अगर आपके डॉक्टर को लगता है कि आपको हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन हो सकता है वे आपको एक आंख के विशेषज्ञ (opthalmologist) के पास भेज सकते हैं। वह जितनी जल्दी हो सके आपकी जांच करेंगे।

ऐसा इसलिए क्योंकि विशेषज्ञ की जानकारी और उपकरणों के बिना हर्पीज़ सिंप्लेक्स इंफेक्शन का पता नहीं लगाया जा सकता है। अगर इसका जल्दी इलाज नहीं हुआ तो यह हमेशा के लिए आपकी दृष्टि को प्रभावित कर सकता है।

उपरोक्त परीक्षणों के अलावा आपका विशेषज्ञ प्रयोगशाला जांच के लिए आपकी आंख से द्रव्य का नमूना ले सकता है

इलाज (Treatment)

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन का इलाज इस पर निर्भर करता है कि आपका संक्रमण कितना खराब है और आपकी आंख का कौन सा भाग प्रभावित है। यह ज़रूरी है कि आपको जो सलाह दी जाए उसका पालन करें और किसी भी निर्धारित दवा को सावधानी पूर्वक लें और पूरे इलाज के दौरान किसी भी जटिल स्थिति के विकसित होने से बचें।

कभी-कभी आपकी आँख का विशेषज्ञ किसी इलाज की सलाह नहीं देता है। ऐसे मामले में आपको यह सुनिश्चित करने के लिए कि संक्रमण खत्म हो चुका है और स्थिति बिगड़ नहीं रही है, आपको नियमित जांच के लिए आना पड़ सकता है।

आई ड्रॉप और ऑइंटमेंट (eye drop and ointment)

आपकी आँख के विशेषज्ञ आपके लिए आई ड्रॉप या आई ऑइंटमेंट लिख सकते हैं जिसमें इनमें से कोई शामिल होते हैं:

  • एंटीवायरल दवाएँ (antiviral medicine), या
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड (corticosteroid) - एक स्टेरॉइड दवा जो सूजन को कम करती है

कभी-कभी आपकी आंख के विशेषज्ञ आपको एंटीवायरल और स्टेरॉइड आई ड्राप या ऑइंटमेंट एक ही समय लेने को कह सकते हैं। यह इसलिए क्योंकि एक शोध में मिले सुझाव के अनुसार यह संक्रमण को बहुत जल्दी खत्म करता है।

आँख साफ़ करना (Eye cleaning)

आई ड्रॉप या ऑइंटमेंट से इलाज शुरू करने से पहले आपकी आँख के विशेषज्ञ सतह से धीमे-धीमे संक्रमित सेल को खुरच कर साफ सकते हैं जिसे डेब्राइडमेंट कहते हैं।

यह लोकल एनेस्थेटिक की सहायता से किया जाता है। आँख सुन्न हो जाती है जिससे इसके दौरान आपको दर्द का अनुभव नहीं होता है।

टैबलेट्स (Tablets)

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन (herpes simplex eye infection) के इलाज में आमतौर पर टैबलेट्स का इस्तेमाल नहीं होता है।

हालांकि इलाज के बाद आपको एंटीवायरल टैबलेट्स दिया जा सकता है जो संक्रमण को वापस आने से रोक सकता है। आपको उन्हें संक्रमण के जाने के बाद कम से कम एक साल तक लेना जारी रखना पड़ सकता है।

कांटेक्ट लेंस पहनना (Wearing contact lenses)

जब तक इलाज पूरा नहीं हो जाता और लक्षण पूरी तरह चले नहीं जातें तब तक कॉन्टैक्ट लेंस ना पहनना सबसे बढ़िया है।

परेशानी (Complications)

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन आमतौर पर गंभीर नहीं होता है। लेकिन कुछ मामलों में अगर आप इसका ठीक से इलाज नहीं करवाते हैं तो ये हमेशा के लिए आपकी दृष्टि पर असर डाल सकता है।

अगर आपमें लक्षण हैं तो जितनी जल्दी हो सके अपने डॉक्टर से बात करें।

हर्पीज़ सिंप्लेक्स आई इंफेक्शन की जटिलताओं में ये शामिल हैं:

  • आपकी कॉर्निया पर अल्सर (ulcer on cornea) का होना
  • आपके कॉर्निया (cornea) के निशान, जो दृष्टि समस्याओं का कारण बन सकते हैं और कॉर्निया के प्रत्यारोपण (cornea transplant) की ज़रूरत पड़ सकती है। एक ऑपरेशन जिसमें आपकी आंख का कॉर्निया बदलने की आवश्यकता हो सकती है
  • बैक्टीरिया या फंगस से होने वाले आगे के संक्रमण
  • ग्लुकोमा (glaucoma), आँख की एक स्थिति जो आपके नज़र पर असर डालती है।
  • एक्यूट रेटिनल नेक्रोसिस (acute retinal necrosis) , जो बहुत ही खास तरह की अवस्था है जिसमें मरीज़ का इम्युम सिस्टम गंभीर स्थिति में हो सकता है उनकी दृष्टि जाने का कारण बन सकती है।

अगर आपको अपने नज़र में समस्या होती है तो यह आपके गाड़ी चलाने को प्रभावित कर सकती है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।