5 min read

HIV: तथ्य

मेडिकली रिव्यूड

2017 में भारत में एचआईवी से संक्रमित लोगों की संख्या इक्कीस लाख थी।देश में आज कई लोग एचआईवी के साथ अपना जीवन बिता रहे हैं। एचआईवी से कैसे बचें और अगर आप चिंतित हैं तो कहाँ जाँच कराएं, इन जानकारियों के लिए आगे पढ़ें।

क़रीब एक चौथाई लोगों को जिन्हें एचआईवी है, उन्हें पता नहीं है कि उन्हें एचआईवी है।

HIV के अधिकांश मामले असुरक्षित सेक्स से सामने आते हैं, जिनमें समलैंगिक पुरुषों की संख्या ज़्यादा है। बाक़ी मामलों में कुछ दूसरे कारण सामने आते हैं , जैसे ड्रग्स लेने की सूइयाँ साझा करते समय, गर्भवती महिलाओं में, माँ द्वारा शिशु को संक्रमण होना।

एचआईवी (ह्यूमन इम्यूनोडिफ़िशिएंसी वायरस , human immunodeficiency virus) शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र (संक्रमण और रोगों के खिलाफ हमारी प्राकृतिक सुरक्षा) पर हमला करता है। एचआईवी की बाद कि अवस्था के एचआईवी संक्रमण में, जिसे एड्स भी कहते हैं, शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र बिल्कुल कमजोर पड़ जाता है जिसका अर्थ हुआ कि शरीर जानलेवा बीमारियों जैसे निमोनिया और कैंसर की चपेट में आसानी से आ सकता है।

वायरस शरीर के द्रव्यों (जैसे वीर्य या सीमेन, खून, योनि स्राव) में निम्न तरीकों से आदान प्रदान की बदौलत फैलता है:

असुरक्षित यौन संबंध बनाना(बिना कंडोम के यौन संबंध बनाना): यह संक्रमण का सबसे आम तरीका है, और इसमे योनि स्राव और ओरल सेक्स भी शामिल है।

ड्रग्स इंजेक्ट करने के लिए सुइयाँ साझा करना

जन्म देना या स्तनपान कराना : एक मां अपने शिशु को संक्रमित कर सकती है(यह दवाओं के द्वारा रोक जा सकता है)

एचआईवी किसी को भी संक्रमित कर सकता है। एचआईवी ग्रस्त लोग कई सालों तक स्वस्थ दिख और महसूस कर सकते हैं।

चिकित्सकों के अनुसार, " आप किसी को देखकर ये नहीं बता सकते कि उसे एचआईवी है या नहीं।"

उनके अनुसार, " आप जो कोई भी हैं, अगर आप एक नए साथी के साथ या किसी ऐसे के साथ यौन संबंध बनाते हैं जिनका एचआईवी स्थिति का आपको पता नहीं है, तो आपको हमेशा खुद को कंडोम के इस्तेमाल करके सुरक्षित रखना चाहिए। "

कॉन्डोम के इस्तेमाल के बारे में पढ़ें।

अगर आप एचआईवी को लेकर चिंतित हैं

अपनी जांच कराएं। कोई हल नहीं है पर ऐसे इलाज हैं जो लक्षणों की शुरुआत को विलंबित सकते हैं। चिकित्सकों के अनुसार, " अगर इलाज देर से शुरू हुआ, तो वह कम असरदार होगा।" अगर आप को लगता है कि आपको वायरस से संक्रमण हो सकता है तो, एचआईवी का परीक्षण कराएं। " 

ये मत समझ लीजिए कि खून की जो जांच आपने पहले कराई थीं उनमे एचआईवी की पहचान हो गयी होगी। अगर आप खास रूप से कहेंगे या अनुमति देंगें तब ही एचआईवी के लिए खून की जांच होगी। 

सम्पर्क या संक्रमण होने के बाद एचआईवी के विषाणु को खून की जांच से पहचानने में तीन महीने तक लग सकते हैं, इसलिए आपको तीन महीने के समय में जांच के लिए दोबारा आने के लिए कहा जा सकता है। 

आप एचआईवी की जांच करा सकते हैं : 

  • यौन स्वास्थ्य क्लीनिकों पर 
  • डाक्टर के पास
  • किसी भी पैथलॉजी लैब में जाकर
  • देश में गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व एचआईवी जांच की जाती है

अगर जांच पॉजिटिव है 

अगर जांच पॉजिटिव है  तो आपको एचआईवी विशेषज्ञ क्लीनिक पर भेजा जाएगा, जहां विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षित व्यक्ति आपको मदद और सहयोग दे सकते हैं। इनमे आ सकते हैं: 

  • परामर्शदाता
  • समाजसेवी
  • डायटीशियन
  • दन्त रोग विशेषज्ञ
  • एचआईवी का इलाज करने का अनुभव रखने वाले विशेषज्ञ डॉक्टर
  • दवा विक्रेता

डॉक्टर ये समझाने के लिए कि एचआईवी का आपके प्रतिरक्षा तंत्र पर क्या असर पड़ रहा है, आपके खून की जांच करा सकते हैं, और इस बारे में चर्चा कर सकते हैं कि क्या आपको इलाज शुरू करने की जरूरत है। 

इलाज में हर रोज बहुत सी गोलियां लेना शामिल है। विशेषज्ञों के अनुसार , इलाज के बारे में जल्दी सोचें। आपको उस समय इलाज की जरूरत है  जो आपके प्रतिरक्षा तंत्र के लिए सही हो। इसको तब तक के लिए ना छोड़ें कि जब बहुत देर हो जाए।  

पॉजिटिव एचआईवी जांच का सामना करने के बारे में जानें। 

आपको इस बारे में भी सोचना होगा कि आप अपने के एचआईवी के नतीजे  किसके साथ साझा करना चाहते हैं( जिसे डिस्क्लोजर कहते हैं)  और अपनी जीवनशैली में होने वाले  बदलावों के बारे में जो आपकी और आपसे जुड़े लोगों की सेहत को सुरक्षित रख सकते हैं। 

आपको अपने पुराने यौन साथी को जांच के नतीजे पॉजिटिव आने के बारे में बताने की जरूरत नहीं है पर इस सलाह पर बहुत जोर दिया जाता है कि आप ऐसा करें ताकि वो भी अपनी जांच करा सकें। अगर आप चाहें तो क्लीनिक के कर्मचारी आपका नाम बताए बिना उसे फोन करके जांच के लिए बुला सकते हैं।

आप क्लीनिक, सहयोगी संस्थाओं या अन्य संस्थानों  से चिकित्सीय मदद, सहयोग और परामर्श ले सकते हैं। 

अगर आपको लगता है कि आपको एचआईवी का संक्रमण हो सकता है तो जांच कराने में देर ना करें क्योंकि आपको अपने स्वास्थ्य की जितनी हो सके उतनी जल्दी देखभाल शुरू करनी चाहिए।

इनके बारे में जानें: 

एचआईवी के लक्षण

एचआईवी का इलाज

एचआईवी की रोकथाम

एचआईवी के साथ रहना

कुछ ऑनलाइन जगहों पर एचआईवी ग्रस्त लोगों के लिखित  साक्षात्कार और वीडियो हैं जिनमें वो एचआईवी के साथ रहने के अपने अनुभवों को साझा करते हैं। जैसे Healthtalkonline।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
एचआईवी और एड्स
एचआईवी एक वायरस है जोकि असुरक्षित यौन संबंध बनाने या संक्रमित सुइयों और दवाओं का इंजेक्शन लगाने के लिए अन्य इन्जेक्टिंग उपकरण को साझा करने से फैलता है...
एचआईवी(HIV) संक्रमण का संदेह? तुरंत परीक्षण कराएं
आपको अगर एचआईवी(HIV) होने का संदेह है तो फौरन इसकी जांच करवाएँ।