COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
24 min read

इंटेंसिव केयर (Intensive care)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

इंटेंसिव केयर यूनिट क्या हैं?

इंटेंसिव केयर यूनिट (intensive care units) जिसे हम आईसीयू (ICUs) कहते हैं अस्पताल के विशेष वार्ड हैं। वे गंभीर रूप से बीमार (critically ill) या अस्थिर स्थिति (unstable condition) वाले लोगों के लिए गहन देखभाल (intensive care) जिसमें उपचार और निगरानी शामिल है, प्रदान करते हैं।

आईसीयू (ICUs) को कई बार महत्वपूर्ण देखभाल इकाइयाँ (critical care units) या गहन चिकित्सा विभाग (intensive therapy departments) भी कहते है।

आईसीयू (ICU) में रहने वाले व्यक्ति को अपने शरीर को कार्यशील (body functioning) में रखने के लिए निरंतर चिकित्सा ध्यान (constant medical attention) और सहयोग (support/समर्थन) की आवश्यकता होती है। वे अपने दम पर (खुद से) सांस लेने में असमर्थ हो सकते हैं और इससे शरीर के कई अंग खराब (multiple organ failure/अंग विफलता) हो सकते हैं। चिकित्सा उपकरण (Medical equipment) इन कार्यों (functions) का स्थान (place) लेगा, जब तक की व्यक्ति में सुधार (recover) नहीं हो जाता है।

कब गहन देखभाल (intensive care) की जरूरत है (When intensive care is needed)

ऐसी कई परिस्थितियां (several circumstances) हैं जहां एक व्यक्ति को आईसीयू (ICU) में भर्ती (admit) कराया जा सकता है। इनमें शल्य चिकित्सा (surgery/सर्जरी) के बाद, या किसी दुर्घटना (accident) या गंभीर बीमारी (severe illness) के बाद शामिल हैं।

आईसीयू बेड (ICU Beds) एक बहुत महँगा और सीमित संसाधन (limited resource) हैं क्योंकि वे प्रदान करते हैं:

  • विशेष जाँच (निगरानी) उपकरण
  • चिकित्सा विशेषज्ञता (medical expertise) की एक उच्च डिग्री
  • उच्च प्रशिक्षित नर्सों (highly trained nurses) के लिए निरंतर पहुंच (अक्सर प्रत्येक बिस्तर (each bed) के लिए एक नर्स (nurse))

कुछ आईसीयू (ICUs) उन क्षेत्रों का इलाज करते हैं, जो विशिष्ट हालातों (specific conditions) से जुड़े होते हैं। कुछ लोगों की देखभाल में दूसरे समूह (group) विशेषज्ञ (specialise) हैं। उदाहरण के लिए, एक आईसीयू (ICU) में विशेषज्ञ (specialise) हो सकता है:

  • तंत्रिका संबंधी विकार (nervous disorders/नर्वस डिसऑर्डर)
  • दिल की हालत (heart conditions/दिल की स्थिति)
  • बच्चों को (babies) नवजात गहन देखभाल (neonatal intensive care), एनआईसी (NIC) – उदाहरण के लिए, गंभीर हालातों (conditions/स्थितियों) के साथ पैदा हुए बच्चों (babies) के लिए, जैसे कि दिल की खराबी (heart defects/हृदय दोष), या यदि जन्म के दौरान हुई कोई जटिलता हो।
  • बच्चे (children) (बाल चिकित्सा गहन देखभाल (paediatric intensive care), पीआईसी (PIC)) 16 सालों से कम उम्र के बच्चों के लिए।

गहन देखभाल (intensive care) कब आवश्यक है, इसके बारे में और पढ़ें।

क्या उम्मीद की जाए (What to expect)

एक आईसीयू (ICU) रोगी (patient) और उनके परिवार (family) और दोस्तों दोनों के लिए एक कठिन वातावरण (daunting environment/चुनौतीपूर्ण माहौल) हो सकता है। आईसीयू (ICU) के कर्मचारी (staff/स्टाफ़) इसे समझते हैं और वहां उन लोगों की देखभाल में मदद करते है और उनके परिवार (family) को समर्थन प्रदान (offer support) करते हैं।

आईसीयू (ICU) में मरीजों (patients) को अक्सर दर्द निवारक (painkiller/पेनकिलर) और दवा (medication) दी जाती है जो उन्हें सुस्त (drowsy/अधिक निंद्रा में) (शामक/sedatives/सीडेटिव) बना सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कुछ उपकरणों (equipment) का उपयोग बहुत असुविधाजनक (uncomfortable) हो सकता हैं।

ट्यूबों (tubes), तारों (wires) और केबलों (cables) की एक श्रृंखला (series) रोगी को इस उपकरण (equipment) से जोड़ती है, जो पहली बार में खतरनाक (alarming/भयावह) लग सकता है।

आईसीयू (ICU) में लोगों के इलाज और जाँच (monitor ) के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों (equipment)के बारे में और पढ़ें (read more) कि आईसीयू (ICU) में किसी से मिलने पर क्या उम्मीद की जाए।

सुधार (Recovery/रिकवरी)

एक बार जब कोई व्यक्ति साँस लेने में सक्षम (breathe unaided) हो जाता है, तो उन्हें अब गहन देखभाल (intensive care) में रहने की आवश्यकता नहीं है और उनके सुधर के लिए उने एक अलग वार्ड (different ward) में बदली (transferred) किया जा सकता है।

उनकी हालत के आधार पर, व्यक्ति या तो एक उच्च निर्भरता इकाई (high dependency unit) एच्डीयू (HDU) में बदली कर (transferred to) दिया जाएगा, जो गहन देखभाल (intensive care) से एक स्तर नीचे या सामान्य वार्ड (general ward) में है।

सुधार होने में लगने वाला समय एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बहुत भिन्न होता है। यह आयु (age/उम्र), स्वास्थ्य (health) और तंदरुस्ती (fitness/फिटनेस) के स्तर (level) के साथ-साथ हालत की गंभीरता पर भी निर्भर करता है।

गहन देखभाल (intensive care) से सुधार तक के बारे में और पढ़ें।

एक गहन देखभाल इकाई (intensive care unit) में क्या होता है?

एक गहन देखभाल इकाई (intensive care unit) आईसीयू (ICU) अक्सर एक भारी जगह (overwhelming place) हो सकती है दोनों के लिए, अस्पताल में मरीज और उनके प्रियजनों (loved ones) के लिए। इसलिए यह जानने में मदद कर सकता है कि क्या उम्मीद की जाए।

दवाई (Medication)

आईसीयू (ICU) में जाने पर, वार्ड के कई लोग सोते हुए दिखाई दे सकते हैं क्योंकि वे दर्द निवारक दवा (painkilling medication) (एनाल्जेसिक/analgesics) और दवा (medication) पर होते हैं जो उन्हें सुस्त (drowsy/अधिक निंद्रा में) (शामक/sedatives) बना सकते हैं।

इस प्रकार की दवा आवश्यक (medication) है यदि व्यक्ति खुद से साँस (breathe)लेने में असमर्थ है क्योंकि कृत्रिम वेंटिलेशन (artificial ventilation)(जहाँ एक मशीन का उपयोग कर साँस लेने में मदद की जाती है) इसके बिना बहुत असुविधाजनक होता है।

गहन देखभाल (intensive care) में काम करने वाले मेडिकल स्टाफ (medical staff) आराम को बनाए रखने के लिए कम से कम शामक (sedatives/सीडेटिव) का उपयोग करते है। इसका मतलब है कि आईसीयू (ICU) में इलाज करा रहे लोग कुछ समय के लिए आंशिक रूप से जागे (partially awake) हुए दिख सकते हैं।

अपरिचित/अनजान जगहें (Unfamiliar sights)

आईसीयू (ICU) में मरीजों को आमतौर पर उनकी हालत की जाँच के लिए कई प्रकार के ट्यूब (tube), तारों (wires), और केबलों (cables) द्वारा गहन देखभाल उपकरणों (intensive care equipment) से जोड़ा जाएगा।

उन उपकरणों (equipment) के बारे में अधिक पढ़ें जो आईसीयू (ICU) में लोगों के इलाज (treat) और जाँच (monitor) के लिए उपयोग किए जाते हैं।

आईसीयू (ICU) में मरीजों को कभी-कभी थोड़ी सूजन (swelling) आ सकती है। सूजन उस उपचार के कारण होती है जो व्यक्ति प्राप्त कर रहा है और स्थानांतरित (move) करने में असमर्थता होती (inability)है। उन्हें चोट (bruises)या घाव (wound) जैसे चोटें भी दिखाई दे सकती हैं। यह देखकर परेशान (upset) हो सकते है, लेकिन (doctor in charge) प्रभारी डॉक्टर और नर्स यह सुनिश्चित करते है कि वे व्यक्ति की देखभाल हमेशा यथासंभव आरामदायक (comfortable) से करते हैं।

अपरिचित आवाज़ (Unfamiliar sounds)

आईसीयू (ICU) में से आमतौर पर अपरिचित आवाज़े होंगी, जैसे कि उपकरण से एलार्म (alarms) और ब्लिफ़्स (bleeps)। ये आईसीयू कर्मचारियों (आईसीयू स्टाफ/ICU staff) को मरीजों की जाँच में मदद करते हैं।

अधिकांश शोरों (noises)के बारे में चिंता (worry) करने की कोई बात नहीं है, लेकिन पूछें अगर आप अनिश्चित (unsure) हैं। आईसीयू कर्मचारी (ICU staff/आईसीयू स्टाफ) अत्यधिक कुशल (highly skilled)और आमतौर पर बहुत समझदार (very understanding)होते है।

दौरा (Visiting/विजिटिंग)

आईसीयू (ICU) में मिलने का समय आमतौर पर लचीले (flexible) होते है। हालांकि, ऐसा समय भी हो सकता हैं जब आपको इंतजार करना पड़ता है - उदाहरण के लिए, अगर किसी मरीज को आईसीयू कर्मचारियों (ICU staff) से तत्काल सहायता (immediate assistance) की आवश्यकता होती है। एक बिस्तर (bed) के आसपास अनुमत लोगों की संख्या (number of people) आमतौर पर मरीज की सुरक्षा के लिए सीमित (limited) होती है।

आईसीयू (ICU) में, उच्च स्तर की स्वच्छता (high levels of hygiene) को हमेशा बनाए रखते है, इसलिए आपको इकाई (unit) में प्रवेश (enter) करने और बाहर (leave) निकलने से पहले अल्कोहल (alcohol) से हाथ रगड़ने के लिए कहा जाता है। डिस्पेंसर्स (dispensers)आमतौर पर आईसीयू (ICU)के प्रवेश द्वार पर और हर बिस्तर की जगह (bed space) के पास पाया जाता है।

यदि आप किसी की परवाह (care) करते हो, और वह आईसीयू (ICU) में है, तो आप उन्हें आराम देना और छूना चाहते हैं, तो यह आमतौर पर प्रोत्साहित (encouraged) किया जाता है। आप जिस व्यक्ति से मिलने जा रहे हैं, उससे बात करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे परिचित आवाज़ों (familiar voices) को सुनने (hear) और पहचानने (recognise)में सक्षम हो सकते हैं, भले ही ऐसा प्रतीत हो कि वे नहीं कर सकते। आप अपने प्रियजन (loved one) को अपने दिन के बारे में बता सकते है, या उन्हें एक किताब (book) या अखबार (newspaper) पढ़ कर सुना सकते है।

आप व्यक्ति को अधिक आरामदायक (more comfortable) महसूस कराने के लिए कुछ चीजों को ला सकते हैं, लेकिन पहले आईसीयू कर्मचारियों (ICU staff) के साथ जाँच कर ले। आईसीयू (ICU) में फूलों (flowers) को लाने की आमतौर पर अनुमति नहीं दी जाती है क्योंकि वो एक जोखिम (risk) है, जिससे संक्रमण फैल (infection spread) सकता हैं।

उपचार के बारे में निर्णय (Decisions about treatment)

यदि आप एक आईसीयू (ICU) में भर्ती हैं, और जाग (awake) रहे हैं और संवाद (communicate)करने में सक्षम हैं, तो आपको पूरी तरह से सूचित (inform) और आपके साथ इलाज करने वाले कर्मचारियों (staff) के साथ साझेदारी (partnership)में अपने उपचार के बारे में निर्णय (decision)लेने का भी अधिकार है। जहाँ भी संभव (possible) हो, उन्हें आपके पसंद (choice) के उपचार (treatment) का समर्थन (support/सहयोग) करना चाहिए।

हालाँकि, अगर आप जल्दी बेहोश (sedated/सीडेटड) हो जाते हैं, तो आप अपनी सहमति (consent)(अनुमति/permission) किसी विशेष उपचार (treatment) या प्रक्रिया (procedure) में नहीं दे सकते है। इस मामले में, आपके साथ इलाज (treating) करने वाला आईसीयू कर्मचारी (ICU staff) तय करेगा कि आपके लिए सबसे अच्छा क्या है। एक आईसीयू (ICU) में वे हमेशा एक व्यक्ति (person) को क्या कर रहे हैं, यह समझाएंगे (explain), भले ही ऐसा दिखाई (appear) दे कि व्यक्ति उन्हें सुन ही नहीं सकता है।

यदि संभव हो, तो व्यक्ति के परिवार के साथ योजनाबद्ध उपचार (planned treatments) और प्रक्रियाओं (procedures)पर भी चर्चा की जाएगी। हालांकि, यह हमेशा आपातकालीन स्थिति (emergency situation) में संभव नहीं हो सकता है, जहां तत्काल उपचार (immediate treatment)की आवश्यकता होती है।

उपचार के लिए सहमति (consent to treatment) के बारे में और पढ़ें।

नामित निर्णयकर्ता (Designated decision maker)

आप नामित निर्णय निर्माता (designated decision maker) का नामकरण (naming)पर विचार कर सकते हैं। यदि आईसीयू (ICU) में व्यक्ति बेहोश (unconscious) है, तो नामित निर्णय निर्माता (designated decision maker) के पास किसी भी नियोजित उपचार (planned treatments) या प्रक्रियाओं (procedures) के बारे में अंतिम कहने का हक़ है। हालाँकि, एक नामित निर्णय निर्माता (designated decision maker) केवल इसके माध्यम से नामांकित (nominated)हो सकता है:

  • वकीलों/अटॉर्नी (attorney)की एक स्थायी शक्ति (lasting power) – एक कानूनी दस्तावेज (legal document) जिसमें अस्पताल के व्यक्ति ने किसी को अपनी ओर से निर्णय (decisions) लेने की शक्ति (power) दी है।
  • एक कोर्ट (court) को डिप्टी (deputy) नियुक्त (appointed) किया जा रहा है।

इसलिए, एक व्यक्ति जो आपातकालीन (emergency) स्थिति में आईसीयू (ICU)में भर्ती है, वह नामित निर्णय निर्माता (designated decision maker) को नामजद (नामांकित/nominate) करने में सक्षम नहीं है।

अग्रिम निर्णय (Advance decisions)

आप जानते हैं कि आप गहन देखभाल (intensive care) में जा रहे हैं, और कुछ उपचार हैं जो आप नहीं करवाना चाहते हो, तो कानूनी (legally) रूप से बाध्यकारी अग्रिम निर्णय (binding advance decision) (जिसे पहले से अग्रिम निर्देश (advance directive) कहते है) को पूर्व-व्यवस्थित (pre-arrange) करना संभव है।

इसका मतलब है कि आईसीयू स्टाफ/कर्मचारी (ICU staff) कुछ उपचार या प्रक्रियाओं (procedures) को करने में सक्षम नहीं होंगे, भले ही आप बेहोश क्यों न हों। हालांकि, इन दस्तावेजों (documents)को लागू (apply) करने के लिए आप जो नहीं करना चाहते हैं, उसके बारे में बहुत विशिष्ट (specific) होना चाहिए।

अग्रिम निर्णय (advance decision) लेने के लिए, आपको अपनी इच्छाओं (wishes)को लिखित रूप (writing) में स्पष्ट (clearly) रूप से बताना चाहिए और इसे एक गवाह (witness) द्वारा हस्ताक्षरित (signed) कराना चाहिए। आपको उन उपचारों (treatments) के बारे में विशिष्ट विवरण (specific details) शामिल करने की आवश्यकता है जो आप नहीं करना चाहते हो और वे विशिष्ट परिस्थितियां (specific circumstances) जिनमें वे लागू हो सकते हैं।

गहन देखभाल (intensive care) कब आवश्यक है? (When is intensive care necessary?)

गहन देखभाल (intensive care) कब आवश्यक है? (When is intensive care necessary?)

गहन देखभाल (intensive care) की आवश्यकता अक्सर तब होती है जब आपके एक या अधिक अंग प्रणाली (organ systems/अंग सिस्टम) विफल हो गए हों।

उदाहरण के लिए, यह आपका हो सकता है:

  • फेफड़ों (lungs)
  • गुर्दे (kidneys)
  • दिल (heart)
  • पाचन तंत्र (digestive system)

कई अलग-अलग हालाते (conditions) और स्थितियों (situations) हैं, जो आपके अंग प्रणालियों (organ systems) को विफल कर सकती हैं। कुछ सबसे सामान्य में शामिल हैं:

  • एक गंभीर दुर्घटना – जैसे सड़क दुर्घटना (road accident) या सिर में गंभीर चोट (severe head injury) होना।
  • एक गंभीर तीव्र (acute)(अल्पकालिक) (short-term) स्वास्थ्य की हालत (health condition) – जैसे दिल का दौरा (heart attack) (जहां हृदय (heart/दिल) को रक्त की आपूर्ति (supply) अचानक अवरुद्ध (blocked) हो जाती है), या एक आघात (स्ट्रोक/stroke)( जहां मस्तिष्क (brain) को रक्त की आपूर्ति (supply) बाधित (interrupted) होती है)।
  • एक गंभीर संक्रमण (infection) – जैसे न्यूमोनिया/निमोनिया (pneumonia) का गंभीर मामला (फेफड़ों की सूजन (inflammation of the lungs)) या पूति/सेप्सिस (sepsis) (रक्त – विषाक्तता/blood poisoning)।
  • प्रमुख/ बड़ी सर्जरी (major surgery) – यह या तो सर्जरी (surgery) के बाद आपके सुधार के हिस्से के रूप में आईसीयू (ICU) में एक नियोजित प्रवेश (योजनाबद्ध प्रवेश/planned admission) हो सकता है या सर्जरी के दौरान जटिलताएं (complications) होने पर आपातकालीन उपाय (emergency measure) हो सकता है।

स्वास्थ्य लाभ

एक बार जब आप साँस लेने में सक्षम हो जाते हैं और आपको अब गहन देखभाल की आवश्यकता नहीं है तब आपको स्वास्थ्य में लाभ के लिए एक अलग वार्ड में स्थानांतरित किया जाएगा।

आपकी स्थिति को देखने के बाद, यह आमतौर पर एक उच्च निर्भरता इकाई (HDU) होती है जो गहन देखभाल या सामान्य वार्ड से एक स्तर नीचे होती है।

ठीक होने में लगने वाला समय एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बहुत अलग होता है। यह उन कारकों पर भी निर्भर करता है जैसे:

● आपकी उम्र

● स्वास्थ्य और फिटनेस का आपका स्तर

● आपकी हालत की गंभीरता

आखिर में आपको अस्पताल से छुट्टी दे दी जाती है, शायद अभी भी कुछ समय और लगेगा ये अनुभव करने में में कि आप फिर से सामान्य हो गए हैं।

अनुवर्ती क्लीनिक

कुछ अस्पताल गहन देखभाल वाले लोगों के लिए अनुवर्ती क्लीनिक या आउटरीच (outreach)सेवाएं भी देते हैं। ये क्लीनिक आपको गहन देखभाल वाले स्टाफ के साथ गहन देखभाल में बिताए हुए अपने समय पर चर्चा करने का अवसर प्रदान करते हैं। यह आपको सक्षम करता है:

● आपको दिए गए इलाज और प्रक्रियाओं को समझने में

● गई हुई याददाश्त को वापस लाने में जो कि बेहोशी के कारण होता है (ऐसी दवा जो आपको बेहोश कर देती है)

● अपने स्वास्थ्य लाभ और आपके द्वारा की जा रही किसी भी समस्या पर बात करें, जिससे आपके स्वास्थ्य को और तेजी से लाभ हो सके

यदि आपका अस्पताल इस सेवा को नहीं देता है, तो आप गहन देखभाल में उपचार होने के बाद होने वाली किसी भी समस्या पर बात करने के लिए अपने डॉक्टर से मिलें

स्वास्थ्य लाभ की आम समस्याएं

गहन देखभाल में होने से आप पर शारीरिक और भावनात्मक रूप से भारी दबाव पड़ता है। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद भी आपके लाभ की रफ़्तार धीमी हो सकती है। ठीक होने के दौरान आपको होने वाली वाली कुछ आम समस्याएं नीचे हैं।

गंभीर कमजोरी और थकान

गंभीर कमजोरी और थकान स्वास्थ्य लाभ के दौरान सबसे आम समस्या होती हैं । यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि यह कितने समय तक रहेगी, लेकिन समय के साथ इसमें सुधार हो जाता है। कई लोग जो गहन देखभाल में रहते हैं, वे दो से तीन महीने के बाद अच्छा महसूस करने लगते हैं।

हालाँकि, आपकी ताकत के स्तर पूरी तरह से ठीक होने में छह महीने तक का समय लग सकता है। यदि आपको कोई गंभीर आघात लगा हो, जैसे कि सिर में चोट लगी हो, तो इससे भी अधिक समय लग सकता है।

वजन कम होना और मांसपेशियों की ताकत का कम होना

यदि आप लंबे समय से गहन देखभाल में हैं, तो संभावना है कि आपका वजन और मांसपेशियों की ताकत कम हो गई होगी। यह उस लम्बे समय के कारण होता है जब से आप चल फिर नहीं पा रहे थे। आपके जोड़ बहुत सख्त हो जाते हैं

यह महत्वपूर्ण है कि आप पैदल चलकर ताकत और संतुलन पा लें लेकिन सबसे पहले, आपको बिना सहायता के चलने का प्रयास नहीं करना चाहिए।

एक फिजियोथेरेपिस्ट (physiotherapist)एक व्यायाम कार्यक्रम तैयार करता है जिसे आपको अपनाना चाहिए। हालांकि, आपको कभी भी आपके द्वारा दिए गए व्यायाम से ज्यादा नहीं करना चाहिए।

फिजियोथेरेपी के बारे में और पढ़ें।

व्यायाम के अधिक जोरदार तरीकों जैसे तैरना, दौड़ना या साइकिल चलाना शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक या फिजियोथेरेपिस्ट से सलाह ले।

आवाज कमजोर होना

यदि आपको गहन देखभाल में रहने के दौरान सांस लेने में मदद के लिए वेंटिलेटर लगे थे, तो आपकी आवाज़ कर्कश या कम हो सकती है। हालांकि, इसमें जल्दी सुधार हो जाना चाहिए।

छोटी वस्तुओं को पकड़ने में कठिनाई होना

कुछ समय तक गहन देखभाल में रहने के बाद, आपको छोटी वस्तुओं को पकड़ने में मुश्किल हो सकती है। उदाहरण के लिए, शुरूआत में आप लिखने के लिए पेन तक नहीं उठा सकते।

उदास महसूस करना

यदि आप कुछ समय के लिए गहन देखभाल में रहे हैं, तो आप बाद में बहुत उदास महसूस कर सकते हैं। कुछ लोग आईसीयू (ICU) में रहते हुए चिंता (बेचैनी की भावना) का अनुभव करने लगते हैं और कुछ मामलों में, यह छुट्टी होने के बाद भी बहुत ख़राब हो सकता है। कुछ लोग यह भी कर सकते हैं:

● गुस्सा महसूस करना

● आंसू आना

● डर लगना

● फ्लैशबैक (flashback)होते है

● बुरे सपने आना

गंभीर मामलों में, कुछ लोग जो गहन देखभाल में रहे हैं, उन्हें पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) भी हो जाता है। यह नींद की समस्याओं और पैनिक अटैक (panic attacks), साथ ही साथ ख़राब छवि या संवेदनाएं कर सकता है।

यदि आपको PTSD है, तो उसे अस्पताल छोड़ने के एक महीने के अंदर ठीक होना चाहिए। हालांकि, अगर यह नहीं होता है या यदि आपको किसी अन्य कारण से सामना करने में दिक्कत हो रही है, तो आपको अपने डॉक्टर के पास जाना चाहिए या अपने अनुवर्ती क्लिनिक या आउटरीच (outreach)सेवा पर जाना चाहिए।

PTSD और अवसाद के बारे में और पढ़ें।

संज्ञानात्मक क्रिया

गहन देखभाल में रहने के बाद, कुछ लोग अपने संज्ञानात्मक कार्य (मानसिक क्षमता) में समस्या होने का अनुभव करते हैं। उदाहरण के लिए, आपको ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो जाता है या चीजों को याद रखने में दिक्कत हो सकती है।

रिकवरी

यदि संभव हुआ, तो आपको आईसीयू (ICU)में रहने के बाद किसी भी शारीरिक या भावनात्मक कठिनाइयों का जोखिम है या नहीं यह जानने के लिए अस्पताल में रहते हुए ही जांचा जाएगा। उदाहरण के लिए, आपसे कुछ पूछा जा सकता है:

● आपको होने वाली शारीरिक समस्याएं

● आपको होने वाली संचार समस्याएं

● अवसाद या चिंता जैसे मनोवैज्ञानिक लक्षण जो आपको हो सकते हैं

स्वास्थ्य लाभ के दौरान यदि आपको समस्याओं का सामना करते हैं, तो आपके लिए कुछ पुनर्वास लक्ष्य निर्धारित किए जा सकते हैं।

यह जानकारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों की टीम को दी जाएगी जो आपके आईसीयू (ICU)छोड़ने के बाद आपकी देखभाल करेंगे। यदि आवश्यक हुआ तो वे इसका उपयोग आपके लिए एक पुनर्वास कार्यक्रम को बनाने के लिए करेंगे।

आपके पुनर्वास के हिस्से के रूप में निम्न हो सकते हैं:

कोई भी जरूरी सूचना देना - उदाहरण के लिए, अपने खाने के बारे में, कब आप फिर से गाड़ी चला सकते हैं और कब आप काम पर लौट सकते हैं

● बाद के हेल्थकेयर पेशेवरों को संदर्भित किया जाता है - उदाहरण के लिए, एक व्यावसायिक चिकित्सक आपके रोजमर्रा के जीवन में होने वाली समस्या की पहचान करने में मदद करेगा, जैसे कि अपने आप को तैयार करना, साथ ही साथ व्यावहारिक हल निकालने में मदद करना।

गहन देखभाल इकाई कैसे काम करती है?

गहन देखभाल इकाइयों (ICU) में कई विशेष प्रकार के उपकरण होते हैं, जो एक इकाई से दूसरी इकाई से अलग होते हैं।

आईसीयू (ICU)में किस प्रकार के उपकरण हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि यह किस प्रकार के रोगियों का इलाज करने में माहिर है। उदाहरण के लिए, एक नवजात आईसीयू में गंभीर रूप से बीमार बच्चों के लिए इनक्यूबेटर (incubator) होते हैं ।

आईसीयू (ICU)में मशीनें कई प्रकार की आवाजें निकालती हैं, जैसे कि ब्लिफ़्स (bleeps)और अलार्म। कुछ आवाजें कर्मचारियों को किसी रोगी की स्थिति में थोड़े बदलाव के बारे में बताती हैं या जब किसी चीज़ पर ध्यान देने की जरुरत हो तो उन्हें संकेत देती है। कुछ अलार्म नर्स के तत्काल ध्यान के लिए होते हैं, लेकिन ज्यादातर मानक निगरानी का संकेत देते हैं।

कुछ मुख्य आईसीयू मशीनें और वे क्या करते हैं नीचे दिए गए हैं।

वेंटिलेटर (ventilator)

यदि आपके फेफड़े ख़राब हो गए हैं और आप अपने दम पर सांस नहीं ले पा रहे हैं, तो आपको वेंटिलेटर (ventilator) पर रहने की जरुरत रहती है। वेंटिलेटर (ventilator) एक ऐसी मशीन होती है, जो आपके फेफड़ों के अंदर और बाहर ऑक्सीजन-युक्त हवा को स्थानांतरित करती है।

आमतौर आपको पर वेंटिलेटर (ventilator)पर रखने से पहले बेहोश करने की जरुरत होती है अन्यथा यह असुविधाजनक होगा। एक शामक दवा होती है जो आपको नींद देती है।

वेंटिलेटर सांस लेने में सहायता के अलग अलग स्तरों को दिखाते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपको साँस लेने में (साँस खींचने में) समस्या हो रही है, तो एक वेंटिलेटर (ventilator)का उपयोग केवल इस काम के लिए किया जा सकता है।

यदि आपको केवल कुछ दिनों के लिए ही सांस लेने में मदद की ज़रूरत है, तो आपके मुंह में रखे वेंटिलेटर से एक ट्यूब डाल दी जाती है (एक एंडोट्रैचियल ट्यूब या ईटीटी), और कभी-कभी नाक में भी। आमतौर पर ट्यूब आपकी गर्दन के पीछे के हिस्से में डाल दिया जाता है।

हालांकि, यदि आपको कुछ दिनों से ज्यादा समय तक सांस लेने में सहायता की जरुरत है, तो आपका एक छोटा सा ऑपरेशन हो सकता है जिसे ट्रेकियोस्टोमी (tracheostomy) कहते हैं । आपके मुंह की ट्यूब को एक छोटी ट्यूब से बदल दिया जाता है जो सीधे आपके ट्रेकिआ (windpipe) में रख दी जाती है।

अधिक आरामदायक होने के साथ-साथ एक ट्रेकियोस्टोमी (tracheostomy)आपके फेफड़ों को साफ रखने में मदद करता है और आमतौर पर बेहोश करने की कम जरुरत पड़ती है।

कुछ मामलों में, आपकी सांस को गैर-इनवेसिव वेंटिलेटर (non-invasive ventilator) के उपयोग से सहायता दी जाती है। यह इनवेसिव, नलियों के द्वारा सांस लेने और बेहोश करने की जरुरत को कम करता है और संक्रमण पैदा करने वाले वेंटिलेटर (ventilator)के जोखिम को कम करता है।

गैर-इनवेसिव वेंटिलेशन (non-invasive ventilation) के दौरान, एक मास्क (mask) आपके मुंह या नाक, या दोनों पर सुरक्षित रूप से फिट किया जाता है। सांस लेने में मदद करने के लिए हवा को मास्क के द्वारा छोड़ा जाता है।

निगरानी उपकरण

शरीर के महत्वपूर्ण कार्यों को मापने के लिए, कंप्यूटर के जैसी स्क्रीन से जुड़े सेंसर पैड (sensor pads) के द्वारा तारों को आपके शरीर के अलग-अलग हिस्सों से जोड़ा जाता है। जिन कार्यों पर बहुत ध्यान देने की जरूरत है, उनमें शामिल हैं:

● दिल और नब्ज, जिनको (एक इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (electrocardiogram) या ईसीजी (ECG) द्वारा मापा जाता है)

● फेफड़ों में हवा का प्रवाह

● रक्तचाप और रक्त प्रवाह

● दबाव, आपकी नसों में (केंद्रीय शिरापरक दबाव (central venous pressure) या सीवीपी (CVP) के रूप में जाना जाता है)

● आपके खून में ऑक्सीजन की मात्रा

● आपके शरीर का तापमान

निगरानी उपकरण आपके शरीर के कार्यों में हर एक छोटे से छोटे बदलाव को जांच लेगा और यदि कोई भी बदलाव खतरनाक होता है तो वो आईसीयू (ICU) के कर्मचारियों को संकेत देगा।

यदि आपको सिर में चोट लगी है या दिमाग की सर्जरी हुई है, तो आपके सिर के अंदर के दबाव को देखा जा सकता है। यह इंट्राक्रानियल दबाव (ICP) के रूप में जाना जाता है।

कुछ मामलों में, आपके पेट (पेट के कुछ हिस्सों) पर भी दबाव रहता है। दबाव का स्तर बढ़ने से आपके अंगों तक पर्याप्त खून पहुंचने से रुक जाता है और फिर इलाज की जरुरत पड़ सकती है।

IV लाइन और पंप

जो ट्यूब नसों के द्वारा डाली जाती है, (आपके हाथ, छाती, गर्दन या पैर की नस में) वो आपके शरीर को जरूरी तरल पदार्थ, विटामिन, पोषक तत्वों और दवा की एक स्थिर आपूर्ति कर देती है। आपके गर्दन की मुख्य नसों में डाली गई एक ट्यूब को केंद्रीय रेखा (central line) के रूप में जाना जाता है।

इन ट्यूबों को IV लाइनें, IVs या ड्रिप (drip) बोलते है। वे अक्सर तरल पदार्थ के एक या एक से अधिक बैग से जुड़े होते हैं जो एक पोल (ड्रिप स्टैंड) से जुड़े रहते हैं और पंप (सिरिंज ड्राइवरों) से जुड़े होते हैं जो लगातार आपूर्ति को नियंत्रण में रखता है। आपको आईवी (IV) लाइन का उपयोग करके भी नसों के द्वारा खून पहुँचाया जा सकता है।

गहन देखभाल में IVs द्वारा धीरे-धीरे और लगातार दी जाने वाली दवाएं शामिल रहती हैं:

● सीडेटिव (sedatives) - चिंता को कम करने और नींद के लिए

● एंटीबायोटिक्स - आमतौर पर वो दवा जो ज्यादा खुराक में दी जाती है और बैक्टीरिया के द्वारा फैलाये गए संक्रमण का इलाज करने के लिए दी जाती है

● एनाल्जेसिक (analgesic)- इसे दर्द कम करने वाली दवा के रूप में भी जाना जाता है

कुछ मामलों में, प्रवेशनी नाम के एक छोटे से उपकरण को IV लाइन में लगा देते हैं। यह धारा को नस में जोड़ने या संलग्न किए बिना ही एक नल की तरह चालू और बंद करता है।

गुर्दे का सहारा

आपके गुर्दे आपके खून में से बेकार चीज़ों को साफ़ करते हैं और आपके शरीर में तरल के स्तर का संचालन करते हैं। यदि आपके गुर्दे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं, तो एक डायलिसिस (dialysis) मशीन इस कार्य को बदल सकती है।

डायलिसिस के दौरान, आपके खून को मशीन के द्वारा पोषण दिया जाता है, जो किसी भी बेकार चीज़ों को बाहर निकाल देता है। आपका खून आपके शरीर में फिर से वापस आ जाता है।

खिलाने वाली नली

यदि आपको वेंटिलेटर (ventilator) के द्वारा सांस लेने की जरुरत है, तो आप सामान्य रूप से चबाने में सक्षम नहीं होंगे।

एक फीडिंग ट्यूब आपकी नाक में रखी जाती है जो आपके गले से होती हुईआपके पेट के नीचे की ओर जाती है। इसे नासोगैस्ट्रिक ट्यूब या एनजी (NG) ट्यूब बोलते हैं और इसका उपयोग तरल खाना देने के लिए किया जाता है।

तरल भोजन में वे सभी पोषक तत्व होते हैं जिनकी आपको सही मात्रा में जरुरत होती है, जिसमें शामिल हैं:

● प्रोटीन

● कार्बोहाइड्रेट

● विटामिन और खनिज

● फैट (fats)

यदि आपका पाचन तंत्र सही काम नहीं कर रहा है, तो पोषण रूपी सहायता सीधे आपकी नसों को दी जाती है।

नालियां

सर्जरी के बाद, ट्यूब नामक नालियों का उपयोग घाव की जगह पर खून या तरल पदार्थ को बनने से रोकने के लिए किया जाता है। आमतौर पर ये ट्यूब कुछ दिनों के बाद हटा दिए जाते हैं।

कैथेटर्स (catheters)

कैथेटर (catheter) पतले और लचीले ट्यूब होते हैं जिन्हें आपके मूत्राशय (bladder) में डाला जाता है। वे शौचालय जाये बिना ही आपके शरीर से मूत्र को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

आपके बिस्तर के किनारे से एक खाली बैग लटका हुआ होता है। इसे फोली कैथेटर (Foley catheter) बोलते हैं और यह उस ट्यूब से जुड़ा रहता है जो ट्यूब आपके मूत्राशय में जाती है। इसका उपयोग आपके द्वारा बनाए गए मूत्र की मात्रा को मापने के लिए किया जाता है। यह बताता है कि आपके गुर्दे कितनी अच्छी तरह से काम कर रहे हैं।

सक्शन (suction) पंप

एक अन्य ट्यूब को आपके एंडोट्रैचियल ट्यूब (सांस लेने वाली नली) के अंदर से होकर एक सक्शन पंप से जोड़ा जाता है। सक्शन पंप का उपयोग अतिरिक्त स्राव (द्रव) को बाहर करने के लिए किया जाता है और ये आपके वायुमार्ग को साफ रखने में मदद करता है।

नवजात गहन देखभाल उपकरण

नवजात गहन देखभाल (एनआईसी) इकाइयों में उन शिशुओं की देखभाल के लिए विशेष उपकरण रहते हैं जो बीमार हैं और जिनका जन्म समय से पहले ही हो जाता है (गर्भावस्था के सप्ताह 37 से पहले)।

गहन देखभाल में शिशुओं को इनक्यूबेटर (incubators) में रखा जाता है जो साफ़ _____ हैं, जो बच्चे के शरीर के तापमान को नियंत्रण में रखते हैं और उन्हें संक्रमण से भी बचाते हैं। इनक्यूबेटरों में हाथ के आकार के छेद होते हैं जो गहन देखभाल करने वाले डॉक्टरों और नर्सों को आपके बच्चे तक पहुँचने में मदद करते हैं।

गहन देखभाल कक्ष में शिशुओं की देखभाल की जाती है और उन पर व्यस्कों की तरह ही ध्यान दिया जाता है। आपके बच्चे के शरीर के तापमान उनकी त्वचा पर एक छोटे सेंसर का उपयोग करके भी देखा जा सकता है। उनके खून में ऑक्सीजन का स्तर उनके हाथ या पैर से जुड़ी एक क्लिप (clip) का उपयोग करके भी मापा जा सकता है।

यदि आपका बच्चा खुद सांस नहीं ले पा राहा है, तो उन्हें वेंटिलेटर (ventilator) की मदद से कृत्रिम वेंटिलेशन (artificial ventilation) की जरूरत पड़ती है। उन्हें नसों के द्वारा (सीधे एक नस में ट्यूब के द्वारा) भी खिलाया जा सकता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।