COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
29 min read

लिवर/यकृत कैंसर (Liver cancer)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

लिवर कैंसर क्या है?

प्राइमरी लिवर कैंसर एक दुर्लभ लेकिन गंभीर प्रकार का कैंसर है जो लीवर से शुरू होता है। यह ज्यादातर अधिक उम्र के लोगों को प्रभावित करता है।

इसके लक्षण अक्सर स्पष्ट नहीं होते हैं और तब तक प्रकट नहीं होते हैं जब तक कि कैंसर गंभीर स्थिति में नहीं पहुंच जाता है। इसमें शामिल है:

  • बिना किसी स्पष्ट कारण वज़न घटना
  • मतली (उबकाई)
  • उल्टी
  • थकान
  • पीलिया (jaundice) - त्वचा और आंखों का पीला पड़ना

लीवर कैंसर के लक्षणों (symptoms of liver cancer) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

लीवर

लीवर मानव शरीर के सबसे जटिल अंगों में से एक है। यह 500 से अधिक कार्य करता है। लीवर के कुछ सबसे महत्वपूर्ण कार्यों में शामिल हैं:

  • प्रोटीन और वसा को पचाना
  • शरीर से विषाक्त पदार्थों (जहर) को निकालना
  • रक्त के थक्के को नियंत्रित करने में मदद करना (मोटा होना)
  • पित्त निकालना, एक तरल पदार्थ जो वसा को तोड़कर पाचन में सहायता करता है

लीवर कैंसर (Liver cancer) एक गंभीर स्थिति है क्योंकि यह बहुत से कार्यों को बाधित कर सकता है या उन्हें पूरी तरह से रोक सकता है।

लीवर कैंसर (Liver cancer) क्यों होता है?

हालांकि लीवर कैंसर (Liver cancer) होने की सटीक जानकारी नहीं है, फिर भी यह माना जाता है कि इसमें लीवर खराब हो जाता है, जैसे कि सिरोसिस (cirrhosis)।

सिरोसिस इन कारणों से हो सकता है:

  • शराब का अत्यधिक सेवन (alcohol misuse)- अनुशंसित मात्रा से अधिक शराब की पीना
  • हेपेटाइटिस बी या हेपेटाइटिस सी वायरल संक्रमण (hepatitis B or hepatitis C viral infections)

यह भी माना जाता है कि मोटापा (obesity) गैर-अल्कोहल वसायुक्त लीवर रोग (non-alcoholic fatty liver disease) से संबंधित होने के कारण लीवर कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।

लीवर कैंसर होने के कारणों (causes of liver cancer) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

लीवर कैंसर (Liver cancer) होना कितना आम है?

पिछले कुछ दशकों में, शराब का अत्यधिक सेवन और मोटापे के बढ़ने के कारण लीवर कैंसर की दर में तेजी से वृद्धि हुई है।

निदान और जांच (Diagnosis and screening)

आमतौर पर डॉक्टर और अस्पताल विशेषज्ञ द्वारा परीक्षण करवाने के बाद लीवर कैंसर का पता लगाया जाता है।

हालांकि, लीवर कैंसर के लिए नियमित जांच (जिसे 'निगरानी' के रूप में जाना जाता है) की सिफारिश की जाती है कि इस रोग का खतरा उन लोगों को अधिक रहता है जिन्हें हेपेटाइटिस सी संक्रमण या सिरोसिस होने वाले लोगों को यह रोग विकसित होने की पुष्टि हुई है।

यदि आप लीवर कैंसर के उच्च जोखिम वाले समूह में हैं, तो नियमित जांच से यह सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि स्थिति का जल्दी ठीक किया जा सकता है। पहले लीवर कैंसर का पता लगाया जाता है और उसके बाद ही इसके अधिक प्रभावी ढंग से इलाज संभव है।

लीवर कैंसर के निदान (diagnosing liver cancer) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

लीवर कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है?

लीवर कैंसर का इलाज उसकी अवस्था पर निर्भर करता है। यदि इसका पता जल्दी लगा लिया जाता है, तो इलाज संभव हो सकता है।

इसके इलाज के विकल्पों में शामिल हैं:

  • सर्जरी रीसेक्शन (surgical resection) - सर्जरी के द्वारा लीवर के एक हिस्से को हटा दिया जाता है
  • लीवर ट्रांसप्लांट (liver transplant) – लीवर को डोनर लीवर से बदल दिया जाता है
  • रेडियोफ्रीक्वेंसी एब्लेशन (radiofrequency ablation) - एक छोटी विद्युत धारा का प्रयोग कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए किया जाता है

यदि लीवर कैंसर होने का पता एडवांस्ड स्थिति में चलता है, तो इसका इलाज केवल दर्द और परेशानी को दूर करने के लिए किया जाता है।

वर्तमान में, प्रारंभिक अवस्था में लीवर कैंसर के लिए केवल 10 में से 1 व्यक्ति का निदान किया जाता है। ज्यादातर लोगों में जिन्हें लीवर कैंसर का पता चला है, कैंसर बहुत हद तक ठीक हो चुका है। परिणामस्वरूप, लीवर कैंसर से पीड़ित होने के बाद कम से कम एक वर्ष में 5 में से 1 व्यक्ति ही जीवित रहता है। 20 में से सिर्फ 1 व्यक्ति लगभग पांच साल तक जीवित रहता है।

लीवर कैंसर के इलाज (treating liver cancer) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

लीवर कैंसर की रोकथाम

लीवर कैंसर के कई मामलों को रोका जा सकता है। लीवर कैंसर की संभावना को कम करने के अधिकांश चरणों में स्वस्थ जीवन शैली शामिल है।

इनके द्वारा लीवर कैंसर के जोखिम को कम किया जा सकता है:

  • शराब या अत्यधिक शराब का सेवन न करें
  • मोटापे से बचने के लिए सेहतमंद खाना और फिट रहना
  • हेपेटाइटिस बी या हेपेटाइटिस सी से संक्रमित होने की संभावना को कम करना

लीवर कैंसर के लक्षण (Symptoms of liver cancer)

लीवर का कैंसर होने की स्थिति में आमतौर पर ध्यान देने से लक्षणों का पता नहीं लगता है जब तक कि यह एक एडवांस्ड चरण में नहीं पहुंच गया हो।

इसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • वजन का अत्यधिक कम होना
  • भूख की कमी जो एक सप्ताह से अधिक समय तक रहती है
  • खाने के बाद पेट अत्यधिक बहुत भरा हुआ महसूस करना, भले ही भोजन कम किया हो
  • बीमार महसूस करना (मतली) और उल्टी
  • पेट की सूजन (पेट)
  • पीलिया (jaundice) - आपकी त्वचा का पीला होना और आपकी आँखों का सफेद होना
  • त्वचा में खुजली
  • बहुत थका हुआ और कमजोर महसूस करना

इसके लिए डॉक्टरी सलाह कब लेनी चाहिए

यदि आपको ऊपर उल्लिखित कोई भी लक्षण दिखाई देता है तो तत्काल अपने डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि यह संभावना रहती है कि ये लक्षण कैंसर की बजाय संक्रमण के हों, इसलिए इनकी जांच करवाना ही सबसे बेहतर उपाय है।

इसके अलावा, यदि आपको पहले से ही लीवर को प्रभावित करने वाली स्थिति जैसे कि सिरोसिस या हेपेटाइटिस सी संक्रमण (cirrhosis or a hepatitis C infection) का पता है, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, अन्यथा आपकी स्वास्थ्य बिगड़ सकता है।

लीवर कैंसर होने के कारण (Causes of liver cancer)

हालांकि लीवर कैंसर का सटीक कारण ज्ञात नहीं है, इसे लीवर (सिरोसिस/cirrhosis) की क्षति और स्कारिंग से जोड़ा जाता है।कैंसर एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर के एक विशेष हिस्से में कोशिकाएं बहुत तेजी के साथ बढ़ती हैं और अनियंत्रित होकर ट्यूमर के रूप में एक गांठ का रूप ले लेती हैं।

बढ़ा हुआ खतरा

लीवर कैंसर के मामलों में, यह निश्चित नहीं है कि लीवर की कोशिकाएं क्यों और कैसे प्रभावित होती हैं। हालांकि, ऐसा प्रतीत होता है कि लीवर की खराबी, जैसे कि सिरोसिस, से लीवर कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है।

सिरोसिस

सिरोसिस (Cirrhosis) एक मेडिकल शब्द है जिसका अर्थ है कि लीवर के ऊतकों क्षत-विक्षत होना जो कई सामान्य कार्य नहीं कर सकता है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण यह होता है कि सिरोसिस के अधिकांश मामलों में लीवर कैंसर का होना संभव नहीं है।

सिरोसिस के मुख्य कारण हैं:

  • लंबे समय तक शराब का अत्यधिक सेवन - आमतौर पर कई वर्षों तक
  • गैर-वसा युक्त अलकोहल से लीवर रोग
  • हेपेटाइटस सी

इनकी आगे विस्तार से व्याख्या की गई है।

शराब का सेवन

लीवर एक कठिन और लचीला अंग है। यह बड़ी से बड़ी क्षति को सहन कर सकता है जिसमें अन्य अंगों को नष्ट होना संभव है। यह स्वयं को पुन: उत्पन्न करने में भी सक्षम है। लेकिन लीवर के लचीलेपन के बावजूद, कई वर्षों में लंबे समय तक शराब का अत्यधिक सेवन से इसको नुकसान पहुंच सकता है।

हर बार जब भी आप शराब पीते हैं, तो आपका लीवर आपके खून से जहरीली शराब को बाहर निकाल देता है और लीवर की कुछ कोशिकाएं मर जाती हैं। लीवर नई कोशिकाओं को पुन: उत्पन्न कर सकता है, लेकिन यदि आप कई वर्षों से भारी मात्रा में शराब पीते हैं, तो आपका लीवर ऐसा करने की क्षमता पूरी तरह से खो देगा।

यह अनुमान लगाया गया है कि लीवर कैंसर के तीन मामलों में से एक शराब के अत्यधिक सेवन से संबंधित है।

शराब का अत्यधिक सेवन के बारे में और पढ़ें ](yourmd:/condition/alcohol-misuse) और [अल्कोहल के कारण लीवर रोग]

नॉन-अल्कोहल फैटी लीवर रोग

नॉन-अल्कोहल फैटी लीवर रोग (Non-alcoholic fatty liver disease) तब होता है जब वसा के छोटे-छोटे भाग लीवर के ऊतक के अंदर जम जाते हैं। यह एक सामान्य स्थिति है और अधिकांश लोगों में दिखाई देने वाले लक्षणों का कारण नहीं है। हालांकि, कुछ लोगों में वसा के उच्च स्तर के कारण लीवर पर सूजन संभव है। समय के साथ, लीवर की सूजन कम हो जाती है।

गैर-मादक फैटी लीवर रोग का सटीक कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन यह मोटापे और टाइप 2 मधुमेह (obesity and type 2 diabetes) से जुड़ा है ।

हेपेटाइटस सी

हेपेटाइटिस सी (hepatitis C) के दीर्घकालिक संक्रमण के कारण लीवर की सूजन और उस पर धब्बे के कारण बन सकता है।

यदि आप धूम्रपान करते हैं और आपको हेपेटाइटिस सी (hepatitis C) है, तो आपको लीवर कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

अन्य जोखिम कारक (Other risk factors)

लीवर कैंसर के अन्य जोखिमकारी कारकों में शामिल हैं:

हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B)

हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) एक वायरस है जो दूषित रक्त और अन्य प्रकार के शारीरिक तरल पदार्थ, जैसे लार, वीर्य और योनि द्रव के माध्यम से फैल सकता है।

लीवर कैंसर के समान गंभीर लक्षण बहुत कम लोगों में ही होते हैं, और उनके लीवर पर अधिक धब्बे बन सकते हैं।

लीवर कैंसर विकसित पैदा करने वाले हेपेटाइटिस बी संक्रमण वाले किसी व्यक्ति का जोखिम नस्ल से प्रभावित होता है। हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) से संक्रमित एशियाई मूल के लोगों में लीवर कैंसर विकसित होने की संभावना अधिक होती है, भले ही उनमें लीवर सिरोसिस विकसित हो अथवा नहीं।

अन्य नस्ल की पृष्ठभूमि वाले लोगों को लीवर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है, अगर वे सिरोसिस या अन्य संबंधित लीवर की स्थिति जैसे कि हेपेटाइटिस सी (hepatitis C) पैदा होती है।

यदि आप धूम्रपान करते हैं और आपको हेपेटाइटिस बी (hepatitis B) है, तो लीवर कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

हीमोक्रोमैटोसिस (Haemochromatosis)

हीमोक्रोमैटोसिस (Haemochromatosis) एक आनुवांशिक स्थिति है जिसमें शरीर भोजन से बहुत अधिक लोहे का भंडारण करता है। लोहे के अतिरिक्त स्तर का लीवर पर जहरीला प्रभाव पड़ता है और धब्बा पड़ जाता है।

हीमोक्रोमैटोसिस (Haemochromatosis) से संबंधित सिरोसिस वाले लोगों में लीवर कैंसर विकसित होने की संभावना 10 में से 1 होती है। शरीर से अतिरिक्त आयरन को हटाने के लिए एक बार इलाज के बाद 10 में यह जोखिम घटकर 0.1 से कम हो जाता है।

ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस (Autoimmune hepatitis)

ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस (Autoimmune hepatitis) बहुत कम होने वाली आनुवंशिक स्थिति है जो हर 7,150 लोगों में से 1 को प्रभावित कर सकती है।

ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस (Autoimmune hepatitis) में, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (संक्रमण के खिलाफ शरीर की प्राकृतिक रक्षा) लीवर की कोशिकाओं पर हमला करती है जैसे कि वे एक 'बाहरी' संक्रमण हैं। हालांकि इसके आघात से क्या नुकसान हो सकता है, के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

यदि आपको ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस (Autoimmune hepatitis) है, तो लीवर कैंसर का खतरा सिरोसिस के लक्षण वाले रोगियों की तुलना में काफी कम होता है। इसका कारण यह भी हो सकता है कि ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस का इलाज इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवाओं से संभव है जो आपके इम्यून सिस्टम द्वारा लीवर को पहुंचने वाले नुकसान से रोकथाम करता है।

प्राइमरी पित्त सिरोसिस (primary biliary cirrhosis) (Primary biliary cirrhosis)

प्राइमरी पित्त सिरोसिस (Primary biliary cirrhosis) (Primary biliary cirrhosis) के बारे में बहुत कम जानकारी उपलब्ध है जिसके कारण लीवर की स्थिति बिगड़ सकती है।

लीवर का एक मुख्य कार्य पित्त नामक तरल पदार्थ का बनाना है, जिसका प्रयोग शरीर द्वारा वसा को तोड़ने में मदद करने के लिए किया जाता है। पित्त को पित्त वाहिकाओं द्वारा पाचन तंत्र तक पहुंचाया जाता है जिन्हें पित्त नलिकाएं कहा जाता है।

वे कारण स्पष्ट नहीं हैं। प्राइमरी पित्त सिरोसिस (primary biliary cirrhosis) के मामलों में, पित्त नलिकाएं धीरे-धीरे क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। इससे लीवर में पित्त बनता है, जिसके कारण लीवर खराब हो जाता है और सिरोसिस होता है।

एडवांस्ड प्राइमरी पित्त सिरोसिस (advanced primary biliary cirrhosis) वाले लोगों को वर्ष में लीवर कैंसर के विकास की संभावना 20 में 1 होती है।

लीवर कैंसर का निदान

कई लोगों के लिए, लीवर कैंसर का निदान करने का पहला चरण डॉक्टर के साथ परामर्श है, हालांकि जोखिम वाले लोगों को आमतौर पर नियमित रूप से परीक्षण किया जाता है।

यदि आप अपने डॉक्टर से मिलते हैं, तो वे आपके लक्षणों के बारे में पूछेंगे। वे आपका इलाज तभी शुरू करेंगे जब आपमें उसके लक्षण दिखाई देना शुरू होंगे और आपको परीक्षण करवाने के लिए कहेंगे। यदि उन्हें लगता है कि आपको और परीक्षणों करवाने की जरूरत है, तो अस्पताल के विशेषज्ञ आपको इस बारे में जानकारी देंगे।

इन परीक्षणों के बारे में अधिक जानकारी के लिए आगे देखें।

लीवर कैंसर की निगरानी

यदि आप लीवर कैंसर के विकास के उच्च जोखिम वाले समूह में हैं, तो नियमित जांच, जिसे निगरानी के रूप में जाना जाता है, की सिफारिश की जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पहले कैंसर का निदान किया जाता है, इसके ठीक होने की संभावना अधिक होती है।

निगरानी आमतौर पर हर छह महीने में की जाती है और यह दो चरणों वाली प्रक्रिया है। ये चरण इस प्रकार हैं:

प्राइमरी लीवर कैंसर वाले आधे से अधिक लोगों के रक्त परीक्षण में उनके रक्त में प्रोटीन का निर्माण होता है जिसे अल्फेटोप्रोटीन (एएफपी) कहा जाता है। नियमित परीक्षण से इसका पता लगाया जा सकता है।

अल्ट्रासाउंड स्कैन - उच्च आवृत्ति वाले ध्वनि तरंगों का प्रयोग आपके लीवर की छवि बनाने के लिए किया जाता है, जो किसी भी असामान्यता के बारे में बता सकता है।

सिरोसिस (cirrhosis) होने पर आमतौर पर निगरानी की सलाह दी जाती है, हालांकि ऐसे भी बहुत से कारक हैं जो आपके लीवर कैंसर के खतरे को प्रभावित कर सकते हैं। किसी भी स्क्रीनिंग प्रोग्राम में जाने से पहले निगरानी के संभावित लाभों के बारे में आपके साथ चर्चा की जानी चाहिए।

आगे की जांच

कई ऐसे भी परीक्षण हैं जिनका प्रयोग लीवर कैंसर के निदान की पुष्टि करने के लिए किया जा सकता है, हालांकि निदान की पुष्टि करने के लिए किसी व्यक्ति को सभी परीक्षणों करने की जरूरत नहीं भी हो सकती है। इन परीक्षणों में शामिल हैं:

एक कंप्यूटर टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन** (a computer tomography (CT) scan)- आपके लीवर के कई एक्स-रे किए जाते हैं, और कंप्यूटर पर उनकी अधिक विस्तृत त्रि-आयामी छवि तैयार की जाती है।

चुंबकीय रिसोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन** (a magnetic resonance imaging (MRI))आपके लीवर की तस्वीर बनाने के लिए एक शक्तिशाली चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का प्रयोग करता है।

बायोप्सी (biopsy) - लीवर ऊतक का एक छोटा सा नमूने लेने के लिए सुई का प्रयोग किया जाता है, जिसे बाद में कैंसर कोशिकाओं का प्रयोगशाला में परीक्षण किया जाता है।

लैप्रोस्कोपी - सामान्य एनस्थेटिक (general anaesthetic)देकर परीक्षण (आप इस प्रक्रिया के दौरान बेहोश होंगे और आपको दर्द महसूस नहीं होगा)। लैप्रोस्कोपी के दौरान, आपके पेट (पेट) में एक छोटा सा चीरा लगाया जाता है और आपके लीवर की जांच करने के लिए एंडोस्कोप नामक एक लचीला कैमरा प्रयोग किया जाता है।

स्टेजिंग (Staging)

स्टेजिंग (Staging) एक ऐसा शब्द है जिसका प्रयोग यह बताने के लिए किया जाता है कि कोई विशेष कैंसर कितना फैल चुका है। लीवर कैंसर की स्टेज को बताने के लिए प्रयोग किए जाने वाले विभिन्न सिस्टम हैं। कई लीवर कैंसर विशेषज्ञ कॉम्बीनेशन स्टेजिंग सिस्टमों (combination staging systems) का प्रयोग करते हैं जिसमें किसी व्यक्ति की स्थिति को चरणबद्ध करने के लिए कैंसर और लीवर के कार्यों दोनों की विशेषताएं शामिल होती हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि उस व्यक्ति की उम्र क्या है, और वे संभावित उपचारों को कितनी अच्छी तरह से सहन करते हैं, यह न केवल उनके कैंसर की स्थिति का निर्धारण करता है, बल्कि उनके स्वास्थ्य के स्तर और लीवर प्रोग्राम में कितना बेहतर महसूस करते हैं, को निर्धारित किया जाएगा।

स्टेजिंग लीवर कैंसर के एक कॉम्बीनेशन प्रणाली को बार्सिलोना क्लीनिक लीवर कैंसर (बीसीएलसी) स्टेजिंग सिस्टम (Barcelona Clinic Liver Cancer (BCLC) staging system) के रूप में जाना जाता है। बीसीएलसी स्टेजिंग सिस्टम में पांच चरण होते हैं। ये चरण इस प्रकार हैं:

  • स्टेज 0 – ट्यूमर का व्यास 2 सेमी से कम होता है और व्यक्ति बिल्कुल ठीक रहता है और उसका लीवर सामान्य कार्य करता है
  • स्टेज ए – इसमें ट्यूमर का व्यास 5 सेमी से कम होता है, या इनकी संख्या तीन या 3 सेमी (30 मिमी) वाले अधिक ट्यूमर हो सकते हैं और उस व्यक्ति का लीवर सामान्य ढ़ंग से कार्य करता है
  • स्टेज बी - **लीवर में कई ट्यूमर होते हैं, जो ठीक तरीके से काम करता है और उनका लीवर प्रभावित नहीं होता है
  • स्टेज सी – उपरोक्त कोई भी परिस्थिति का होना, लेकिन व्यक्ति ठीक महसूस नहीं करता है और उनका लीवर स्वस्थ्य स्थिति में नहीं होता है; या जहां पर कैंसर लीवर की मुख्य रक्त वाहिकाओं में फैल जाता है, जो लिम्फ नोड्स या शरीर के अन्य भागों में होती हैं
  • स्टेज डी – जिसमें लीवर अधिकांश काम करना छोड़ देता है और व्यक्ति को अंतिम चरण लीवर रोग के लक्षण दिखाई देने लगते हैं जैसे कि जैसे कि उनके आमाशय (पेट) में तरल पदार्थ का बनना

लीवर कैंसर का इलाज

लीवर कैंसर का इलाज उसकी स्थिति की अवस्था पर निर्भर करता है। इलाज में सर्जरी और दवा शामिल हो सकते हैं।

कैंसर इलाज की टीम

कई अस्पताल लीवर कैंसर के इलाज के लिए बहु-विषयक टीमों (एमडीटी) का प्रयोग करते हैं। एमडीटी विशेषज्ञों की वह टीम होती है जिसमें वे आपके इलाज के सर्वोत्तम तरीके के बारे में निर्णय लेने के लिए मिलकर काम करते हैं।

यह तय करना कि आपके लिए कौन सा इलाज सबसे अच्छा है, अक्सर भ्रम पैदा हो सकता है। आपकी कैंसर टीम सिफारिश करेगी कि आपके इलाज का सबसे बेहतर विकल्प क्या है, लेकिन अंतिम निर्णय आपको ही लेना होगा।

आपकी इलाज योजना

आपकी अनुशंसित इलाज योजना आपके लीवर कैंसर के चरण पर निर्भर करेगी (स्टेजिंग के बारे में अधिक जानकारी के लिए लीवर कैंसर का निदान (diagnosing liver cancer) देखें)।

यदि आपके कैंसर की स्थिति स्टेज ए में होती है, तो इसका पूरी तरह से इलाज संभव हो सकता है। इसे तीन तरीके से प्राप्त किया जा सकता है:

लीवर के प्रभावित खंड को हटाना - एक चीरा (सेक्शन) के रूप में जाना जाता है

लीवर ट्रांसप्लांट होना - लीवर को हटाने और उसे स्वस्थ करने के लिए प्रतिस्थापित करने के लिए ऑपरेशन करना

कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए गर्मी का प्रयोग करना - रेडियोफ्रीक्वेंसी एब्लेशन (आरएफए) (radiofrequency ablation (RFA)) के रूप में जाना जाता है

यदि आपका कैंसर स्टेज बी या सी चरण में है, तो आमतौर पर इसका इलाज संभव नहीं है। हालांकि, कीमोथेरेपी (chemotherapy) कैंसर की प्रगति को धीमा कर सकती है, लक्षणों को कम कर सकती है और महीनों तक या कुछ मामलों में जीवनकाल बढ़ा सकती है।

सोराफेनीब (sorafenib) नामक एक ऐसी दवा है, जो जीवनकाल को बढ़ाने में मदद कर सकती है।

यदि आपके कैंसर का निदान होने पर स्टेज डी चरण में हैं, तो कैंसर के प्रसार को धीमा करने के लिए आमतौर पर बहुत देर हो जाती है। इसके बजाय, इलाज दर्द और बेचैनी के लक्षणों को दूर करने पर केंद्रित है।

इलाज के प्रत्येक विकल्प के बारे विस्तार से चर्चा आगे की गई है।

सर्जिकल रीसेक्शन (Surgical resection)

यदि आपके लीवर की क्षति कम से कम हो और कैंसर आपके लीवर के एक छोटे हिस्से में ही है, तो सर्जरी के बाद कैंसर की कोशिकाओं को निकाला जा सकता है। इस प्रक्रिया को सर्जिकल रीसेक्शन के रूप में जाना जाता है।

विदित है कि लीवर अपने का निर्माण स्वयं कर सकता है, इसलिए अधिकांश भाग को निकाला जा सकता है जिसका आपके स्वास्थ्य पर कोई प्रभाव नहीं होगा। हालांकि, ज्यादातर लोगों में लीवर कैंसर के कारण लीवर निर्माण की क्षमता बाधित हो सकती है और उनके लीवर को रीसेक्शन करना सुरक्षित नहीं होगा।

सर्जिकल रीसेक्शन संभव है अथवा नहीं, इसका निर्धारण आमतौर पर सिरोसिस (cirrhosis) की गंभीरता के आकलन के आधार पर किया जा सकता है।

यदि आपको सर्जिकल रीसेक्शन की सिफारिश की जाती है, तो इसे सामान्य एनेस्थेटिक (general anaesthetic) देकर किया जाएगा, जिसका मतलब है कि इस प्रक्रिया के दौरान आप नशे में रहेंगे जिससे आपको कोई दर्द महसूस नहीं होगा।

ज्यादातर लोगों को अस्पताल में 6 से 12 दिन ही रहना पड़ता है। हालांकि, यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आपके लीवर का कितना भाग निकाला गया है, जिसकी रिकवरी में दो से तीन या चार महीने का समय भी लग सकता है।

लीवर रीसेक्शन (Liver resection) एक जटिल सर्जरी प्रक्रिया है और इससे कारण आपका शरीर काफी हद तक प्रभावित हो सकता है। चार सर्जरी में से एक में ऑपरेशन के बाद जटिलताएं पैदा हो सकती हैं।

लीवर रीसेक्शन की संभावित जटिलताओं में शामिल हैं:

  • सर्जरी वाली जगह पर संक्रमण होना
  • सर्जरी के बाद खून निकलना
  • आपके पैरों में रक्त के थक्के बनना - इसके लिए मेडिकल शब्द डीप वेन थ्रोम्बोसिस (डीवीटी) (deep vein thrombosis (DVT)) है
  • लीवर से पित्त का निकलना - रिसाव को रोकने के लिए आगे सर्जरी की जरूरत हो सकती है
  • पीलिया
    (jaundice)
  • लीवर का खराब होना

लीवर रीसेक्शन (Liver resection) घातक जटिलताओं में कभी-कभी दिल का दौरा पड़ सकता है। यह अनुमान है कि हर 30 में से 1 व्यक्ति जिसने लीवर की सर्जरी करवाई हो, ऑपरेशन या उसके बाद मृत्यू होने की संभावना रहती है।

लीवर रीसेक्शन सर्जरी का एक प्रकार, जिसमें लीवर का अस्थायी रूप से निकालना (एक्स-विवो हैपेटिक रिसेक्शन) शामिल है, जो लीवर के कैंसर का इलाज हो सकता है।

हालांकि, नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ एंड क्लीनिकल एक्सीलेंस (एनआईसीई) (National Institute for Health and Clinical Excellence (NICE)) ने हाल ही में इस प्रक्रिया के बारे में दिशानिर्देश जारी किए हैं जिसने इस बात पर चिंता जाहिर की है कि यह इलाज सुरक्षित और प्रभावी है अथवा नहीं।

कोई भी निर्णय लेने से पहले आपके डॉक्टर को इस सर्जरी के लाभों और खतरों के बारे में चर्चा करनी चाहिए।

लीवर ट्रांसप्लांट (Liver transplant)

यदि आपके लीवर में 5 सेमी से कम व्यास वाला केवल एक ट्यूमर है, तो आप लीवर ट्रांसप्लांट करवा सकते हैं। हालांकि, यदि आपके लीवर में कई ट्यूमर हैं, या उनका आकार 5 सेमी से अधिक है तो कैंसर होने का खतरा इतना अधिक रहता है कि हो सकता है कि आपको लीवर ट्रांसप्लांट का भी कोई फायदा न मिले।

कुछ लोग जिनके लीवर में तीन या कम छोटे-छोटे ट्यूमर हैं, जिनका व्यास 3 सेमी (30 मिमी) से कम होता है, के लीवर ट्रांसप्लांट का सुझाव दिया जा सकता है। यदि किसी व्यक्ति के लीवर में केवल एक ट्यूमर ही होता है, जिसके इलाज की प्रतिक्रिया बहुत अच्छी होती है और छह महीने तक ट्यूमर विकास का कोई प्रमाण नहीं मिलता है, तो उन्हें भी ट्रांसप्लांट करवाने का सुझाव दिया जा सकता है।

उपयुक्त लीवर उपलब्ध होने में लंबा समय लग सकता है, इसलिए आपको प्रतीक्षा सूची में रखा जा सकता है।

कुछ मामलों में, एक जीवित रिश्तेदार के लीवर का एक छोटा सा हिस्सा भी इसमें इस्तेमाल किया जा सकता है। यह एक जीवित दाता लीवर ट्रांसप्लांट के रूप में जाना जाता है।

एक जीवित दाता लीवर ट्रांसप्लांट का प्रयोग करने का लाभ यह है कि ट्रांसप्लांट करवाने वाला व्यक्ति अपनी चिकित्सा टीम और रिश्तेदार के साथ प्रक्रिया की योजना बना सकता है, और आमतौर पर बहुत लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

हालाँकि, इसका नुकसान भी हैं, जैसे उच्च जटिलता दर। शोध में लाइव डोनर लीवर ट्रांसप्लांट के नतीजे भी सामने आए हैं, जो किसी जीवित व्यक्ति के लीवर की तुलना में अधिक अच्छा नहीं होता है।

लीवर ट्रांसप्लांट (liver transplants) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

रेडियोफ्रीक्वेंसी एबलेशन

प्रारंभिक चरण में लीवर कैंसर का इलाज करने के लिए सर्जरी के विकल्प के रूप में रेडियोफ्रीक्वेंसी एबलेशन (Radiofrequency ablation) की सिफारिश की जा सकती है, जब ट्यूमर या ट्यूमर का व्यास 2 सेमी (20 मिमी) या उससे छोटे आकार के होते हैं।

रेडियोफ्रीक्वेंसी एबलेशन (Radiofrequency ablation) में छोटी सुइयां डालना शामिल है जिसमें आपकी त्वचा से होकर लीवर में इलेक्ट्रोड डालेते हैं। आपकी त्वचा एक लोकल एनस्थेटिक (local anaesthetic) के साथ सुन्न हो जाती है, ताकि सुई डालने पर आपको दर्द महसूस न हो।

सुइयां डालकर उनमें से होकर विद्युत प्रवाहित की जाती है। इस विद्युत से ऊष्मा उत्पन्न होती है, जिससे कैंसर कोशिकाओं नष्ट हो जाती हैं।

रेडियोफ्रीक्वेंसी एबलेशन (Radiofrequency ablation) को पूरा होने में लगभग 10 से 30 मिनट का समय लगता है। आपको कई सत्रों की जरूरत हो सकती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपका लीवर कैंसर से कितना प्रभावित हुआ है।

रेडियोफ्रीक्वेंसी एब्लेशन (Radiofrequency ablation) की सबसे आम जटिलता फ्लू जैसे लक्षण हैं, जैसे ठंड लगना और मांसपेशियों में दर्द होना। ये लक्षण आमतौर पर इस प्रक्रिया के तीन से पांच दिन बाद शुरू होते हैं, और लगभग पांच दिनों तक चलते हैं।

रेडियोफ्रीक्वेंसी एब्लेशन (Radiofrequency ablation) की सामान्य से कम जटिलताओं में शामिल हैं:

  • लीवर के पास का अंग और ऊतक को क्षति पहुंचना जिसे ठीक करने के लिए सर्जरी की जरुरत हो सकती है; यह लगभग 20 में से 1 मामले में ही संभव होता है
  • एक मवाद भरी सूजन (फोड़ा) (abscess), जो लीवर के अंदर विकसित होता है जिसे सुखाना पड़ सकता है; यह लगभग 100 में से 1 मामले में ही होता है

कीमोथेरपी (Chemotherapy)

कीमोथेरपी (Chemotherapy) में लीवर कैंसर के प्रसार को धीमा करने के लिए शक्तिशाली कैंसर-नष्टकारी दवाओं के संयोजन का प्रयोग करना शामिल है।

यह एक प्रकार की कीमोथेरपी (Chemotherapy) जिसे ट्रांसकैथेटर आर्टेरियल केमोइम्बोलिजेशन (टीएसीई) (transcatheter arterial chemoembolisation (TACE)) कहा जाता है, को आमतौर पर स्टेज बी और सी लीवर कैंसर के इलाज के लिए अनुशंसित किया जाता है। यह एक उपशामक इलाज है जो आपके जीवनकाल में वृद्धि कर सकता है, लेकिन उपचारात्मक नहीं है। स्टेज डी लीवर कैंसर के लिए टीएसीई की सिफारिश नहीं की जाती है क्योंकि यह लीवर की बीमारी के लक्षणों को और भी बदतर बना सकता है।

टीएसीई का प्रयोग लीवर ट्रांसप्लांट के लिए इंतजार कर रहे लोगों में लीवर से फैलने वाले कैंसर को रोकने में मदद करने के लिए भी किया जा सकता है।

टीएसीई में दो तकनीकों का प्रयोग होता है:

  • कीमोथेरेपी दवाओं को सीधे आपके लीवर में डाला जाता है
  • जैल या छोटे प्लास्टिक के दानों को रक्त वाहिकाओं में इंजेक्ट किया जाता है जो ट्यूमर को रक्त की आपूर्ति करते हैं; इससे ट्यूमर की वह गति धीमी हो जाएगी जिस गति से वह बढ़ रहा है

टीएसीई को पूरा होने में आमतौर पर एक से दो घंटे का समय लग सकता है। इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद, आपको कम से कम एक रात अस्पताल में रहना होगा। इस प्रक्रिया के पूरा होने के एक महीने बाद या उसके भी बाद में आपकी प्रतिक्रिया का मूल्यांकन किया जाएगा, जिसके लिए आपका सीटी स्कैन (CT scan) किया जाएगा। यदि आप अच्छी तरह से रहते हैं, तो आपको आगे टीएसीई इलाज करवाने के लिए कहा जा सकता है।

प्रत्येक सत्र के बीच में लगभग एक महीने के अंतर पर टीएसीई करवाने वाले लोगों को अक्सर तीन से चार सत्र लेने होते हैं।

कीमोथेरेपी दवाओं को रक्त की बजाय सीधे लीवर में डालकर बड़े स्तर पर दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है जिसमें 'पारंपरिक कीमोथेरेपी' जैसे बालों का झड़ना और थकान शामिल है।

हालांकि, इस प्रक्रिया में भी बहुत से दुष्प्रभाव और जटिलताएं होना शामिल है। कीमोथेरेपी के तीन में से एक मामले में पोस्ट-कीमोइम्बोलिसन सिंड्रोम हो सकता है।

पोस्ट- कीमोइम्बोलिसन सिंड्रोम के कारण निम्नलिखित लक्षण पैदा हो सकते हैं:

  • आमाशय (पेट) में दर्द
  • तेज बुखार 38ºC (100.4ºF) या इससे अधिक
  • मतली (बीमार महसूस करना)
  • उल्टी
  • भूख की कमी

टीएसीई का सत्र होने के बाद ये लक्षण एक से दो सप्ताह तक रह सकते हैं।

टीएसीई की सामान्य जटिलताओं में शामिल हैं:

  • लीवर के कार्य का खराब होना, जो आमतौर पर अस्थायी होता है
  • तरल बनने के कारण पेट की सूजन - यह 20 में से एक मामले में होता है
  • लीवर का पस
  • पित्त वाहिका या पित्ताशय को नुकसान

एल्कोहल का इंजेक्शन

यदि आपको केवल कुछ छोटे ट्यूमर हैं, तो इलाज के रूप में अल्कोहल इंजेक्शन का प्रयोग किया जा सकता है। इसमें एक सुई का प्रयोग करना शामिल है जिसमें त्वचा के नीचे कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए अल्कोहल इंजेक्ट किया जाता है। इससे कोशिकाएं निर्जलित होकर रक्त की आपूर्ति करना रोक देती हैं।

ज्यादातर मामलों में, यह एक स्थानीय एनेस्थेटिक के तहत किया जाता है, जिसका अर्थ है कि आप जाग रहे होंगे, लेकिन प्रभावित क्षेत्र सुन्न कर दिया जाता है, इसलिए आपको कोई दर्द महसूस नहीं होगा।

सोराफेनिब (Sorafenib)

सोराफेनिब (Sorafenib) एक प्रकार की टैबलेट है जो कभी-कभी लीवर कैंसर के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। सोराफेनिब (Sorafenib) के लिए आप पात्र हैं या नहीं, इसका निर्णय आपकी मेडिकल टीम द्वारा किया जाएगा और यह इस बात पर निर्भर करेगा कि क्या यह आपके क्षति को ठीक कर सकता है।

एडवांस्ड लीवर कैंसर के मामलों में, एनआईसीई सोराफेनिब (Sorafenib) के प्रयोग की अनुशंसा नहीं करता है क्योंकि इसकी कीमत की तुलना लाभ कम होते हैं।

इसके सामान्य दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • दस्त
  • मतली (बीमार महसूस करना)
  • उल्टी
  • बाल झड़ना
  • त्वचा की खुजली
  • दर्द, जैसे सिरदर्द, आमाशय (पेट) में दर्द या हड्डी में दर्द

एडवांस्ड लीवर कैंसर (Advanced liver cancer)

एडवांस्ड लीवर कैंसर (Advanced liver cancer) का इलाज कैंसर की प्रगति को धीमा करने के बजाय दर्द और परेशानी के लक्षणों से राहत देने पर केंद्रित होता है।

एडवांस्ड लीवर कैंसर वाले कुछ लोगों को शक्तिशाली दर्द निवारक दवाओं की जरुरत होती है, जैसे कोडीन (codeine) या संभवतः मॉर्फिन (morphine)। जरूरत पड़ने पर ही ये दवाएं आपको दी जाएंगी। मतली और कब्ज इस प्रकार के दर्द निवारक के सामान्य दुष्प्रभाव हैं, इसलिए आपको एंटी-सिकनेस टैबलेट और लेक्सेटिव भी दिया जा सकता है।

लीवर कैंसर को रोकना (Preventing liver cancer)

लीवर कैंसर के विकास की संभावनाओं को कम करने के लिए जीवनशैली और स्व-देखभाल के उपाय सबसे प्रभावी तरीके हैं।

इसमें शामिल है:

  • संयमित शराब पीना
  • मोटापे से संबंधित बीमारियों, जैसे हृदय रोग (हृदय या रक्त वाहिकाओं की बीमारी) से बचने के लिए नियमित रूप से स्वस्थ भोजन करें और व्यायाम करें
  • हेपेटाइटिस सी और हेपेटाइटिस बी जैसे जोखिमकारी कारकों के संपर्क में आने से बचें

शराब का सेवन

लीवर कैंसर वृद्धि के जोखिम को कम करने का सबसे प्रभावी तरीका है शराब के सेवन को पूरी तरह से बंद करना, विशेषकर कई वर्षों से शराब का सेवन कर रहे हैं।

न्यूनतम उपायों के रूप में, आपको नियमित रूप से अनुशंसित दैनिक मात्रा से अधिक शराब का सेवन नहीं करना चाहिए:

  • पुरुषों के लिए प्रतिदिन 3-4 यूनिट
  • महिलाओं के लिए प्रतिदिन 2-3 यूनिट

अल्कोहल की इकाई सामान्य-शक्ति वाले लेगर की तुलना में आधा पिंट, एक छोटा ग्लास वाइन या स्प्रिट की एक माप (25 मिली) है।

यदि आपको अपनी शराब के सेवन की मात्रा को कम करने में मुश्किल हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से परामर्श करें। आपके शराब के सेवन को कम करने में मदद करने के लिए परामर्श सेवाएँ और दवाएँ उपलब्ध हैं।

एलकोहल और शराब का सेवन (treating alcohol misuse) करने वाले व्यक्ति के इलाज के के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

हेपेटाइटस सी (Hepatitis C)

यदि आप नियमित रूप से ड्रग्स लेते हैं, जैसे कि हेरोइन, तो हेपेटाइटिस सी (hepatitis C) संक्रमण से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने ड्रग-इंजेक्शन के किसी भी उपकरण को अन्य लोगों के साथ साझा न करें। यह न केवल सुइयों पर लागू होता है, बल्कि ऐसी चीज़ों पर भी लागू होता है, जो अन्य लोगों के रक्त के संपर्क में आ सकती हैं, जैसे:

  • मिलाने वाली चम्मच
  • फिल्टर
  • दवाइयों को घोलने के लिए प्रयोग होने वाला पानी
  • टोर्निक्वेट्स (tourniquets) - वह बेल्ट जो ड्रग प्रयोगकर्ता कभी-कभी अपनी नसों में इंजेक्शन आसानी के साथ लगाने के लिए अपने बांह पर बांधता है

हेपेटाइटिस सी (Hepatitis C) के लक्षण कई वर्षों तक देखने में आते हैं, इसलिए कई लोगों को इसके संक्रमण के बारे में पता ही नहीं चलता है। इसलिए इसके उपयोग से कोई भी व्यक्ति संक्रमित हो सकता है।

यहां तक कि यदि आप ड्रग का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो सामान्य सावधानियों का ध्यान रखें ताकि आप दूसरे लोगों के संपर्क में न आ सकें। इसमें किसी भी वस्तु को साझा करने से बचना शामिल है जो रक्त से दूषित हो सकता है, जैसे कि रेज़र या टूथब्रश।

संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संबंध बनाने से हेपेटाइटिस सी (Hepatitis C) होने का खतरा कम होता है। हालांकि, एहतियात के तौर पर, यह अनुशंसा की जाती है कि आप सेक्स के दौरान कंडोम और गर्भनिरोधक की अच्छे तरीके का प्रयोग करें।

संक्रमित व्यक्ति के साथ कोकीन या एम्फैटेमिन (cocaine or amphetamine) जैसे ड्रग्स लेने, बैंकनोट्स या 'स्नॉर्टिंग ट्यूब' (banknotes or ‘snorting tubes’) को साझा करके हेपेटाइटिस हो सकता है। इस प्रकार की दवाओं से आपकी नाक की त्वचा में जलन हो सकती है और दूषित रक्त के छोटे कणों नोट या ट्यूब पर जा सकते हैं जो फिर सांस में जा सकते हैं।

हेपेटाइटिस सी और हेपेटाइटिस सी के रोकथाम (hepatitis C and preventing hepatitis C) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B)

हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) को रोकने के लिए एक वैक्सीन उपलब्ध है।

आमतौर पर उच्च जोखिम वाले समूहों में लोगों को टीकाकरण की सिफारिश की जाती है:

  • वे लोग जो इंजेक्शन के द्वारा ड्रग्स लेते हैं (उनके सहयोगियों, बच्चों और उनके साथ रहने वाले अन्य लोग)
  • वे लोग जो बार-बार अपना सेक्स साथी बदलते हैं (जिसमें पुरुष के साथ पुरुष, और पुरुष और स्त्री सेक्स वर्कर शामिल हैं)
  • क्रोनिक हेपेटाइटिस बी संक्रमण (chronic hepatitis B infection) वाले किसी व्यक्ति के साथ करीबी पारिवारिक संपर्क
  • वे लोग जो नियमित रूप से रक्त उत्पादों का प्रयोग और उनके देखरेख करते हैं
  • जिनकी किडनी खराब है
  • जिन लोगों को लीवर की पुरानी बीमारी है
  • कैदी और कुछ जेल सेवा के कर्मचारी
  • सीखने की कठिनाइयों वाले लोगों के लिए घर में रहने वाले लोग
  • ऐसे परिवार जो बच्चों को देखभाल करते हैं या गोद लेते हैं, जिन्हें हेपेटाइटिस बी संक्रमण होने का खतरा बढ़ गया हो
  • यात्रा करने वाले लोग, या ऐसे क्षेत्रों में रहने वाले लोग हैं, जहां हेपेटाइटिस बी होने का खतरा उच्च या मध्यम है, जैसे कि चीन

हेपेटाइटिस बी (hepatitis B) के संपर्क में आने वाले पेशेवर लोगों को भी टीका लगाया जाना चाहिए। इन व्यवसायों में शामिल हैं:

  • स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारी
  • प्रयोगशाला कर्मचारी
  • घरों में काम करने वाले कर्मचारी
  • अन्त्येष्टि करने वाले लोग या शव पर लेप करने वाले लोग
  • कुछ आपातकालीन सेवा कर्मचारी

यदि आपको इस बारे में जानकारी नहीं है कि आपको हेपेटाइटिस बी का टीका लगवाना चाहिए या नहीं तो इसके लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।