COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
15 min read

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy)

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) एक चिकित्सा प्रक्रिया है जिसमें पेट में एक पतली, लचीली ट्यूब डालकर देखा जाता है जिसे एंडोस्कोप (endoscope) कहा जाता है। इसे एंडोस्कोपी (Endoscopy) के नाम से भी जाना जाता है।

एंडोस्कोप के एक पर प्रकाश युक्त कैमरा लगा होता है। कैमरे का उपयोग आपके शरीर के अंदर की छवियों को टेलीविज़न मॉनीटर पर दिखाने के लिए किया जाता है।

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) एक बहुत ही सामान्य प्रक्रिया है।

ये पृष्ठ विशेष रूप से गैस्ट्रोस्कोपी पर केंद्रित हैं। दूसरे प्रकार के एंडोस्कोपी (Endoscopy) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

आपको गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) की आवश्यकता क्यों हो सकती है

यदि आपके पेट में किसी प्रकार की समस्या होती है जैसे खाना निगलने में कठिनाई , लगातार पेट दर्द,तो आपको गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) कराने का सुझाव दिया जाता है। यह प्रक्रिया इन लक्षणों के अंदरूनी कारण का निदान करने में मदद कर सकती है।

गैस्ट्रोस्कोपी का उपयोग आंत की विभिन्न समस्याओं के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। डॉक्टर एंडोस्कोप (endoscope) के नीचे एक छोटा उपकरण लगा सकते हैं:

  • अल्सर और नसों (ulcers and veins) का उपचार करने के लिए जिनसे खून बहता है
  • यदि किसी प्रकार की रुकावट होती है तो ग्रासनली (oesophagus) को खोलने के लिए
  • यदि आप सामान्य तरीके से खाना खाने में असमर्थ हैं तो इसके द्वारा शरीर को पोषक तत्वों की आपूर्ति देने के लिए
  • गैर-कैंसरकारी वृद्धि (पॉलीप्स) या प्रारंभिक चरण वाले कैंसर ट्यूमर को हटाने के लिए

गैस्ट्रोस्कोपी क्यों आवश्यक हो सकता है (gastroscopy may be necessary), के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) के दौरान क्या होता है?

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) आमतौर पर एक बाह्या रोगी प्रक्रिया के रूप में किया जाता है, इसलिए आपको अस्पताल में भर्ती करने की ज़रूरत नहीं होगी।

इस प्रक्रिया को अक्सर मरीज को बेहोश करके किया जाता है, जिसका अर्थ है कि आप इस प्रक्रिया के दौरान निद्रा अवस्था में नहीं जाएंगे लेकिन आप चेतन अवस्था में नहीं होंगे और आपको यह पता भी नहीं चलेगा कि आपके साथ क्या हो रहा है। इसके अतिरिक्त, आपके आपके गले को स्थानीय संवेदनाहारी स्प्रे के द्वारा सुन्न किया जा सकता है।

इस प्रक्रिया को करने वाला डॉक्टर आपके मुंह में एंडॉस्कोप डाल कर आपको ट्यूब के पहले सिरे को निगलने के लिए कहा जाएगा। इसके बाद एंडोस्कोप को आपकी ग्रासनली और आमाशय में निर्देशित किया जाएगा।

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) करने में लगभग 20-40 मिनट का सामय लग सकता है।

गैस्ट्रोस्कोपी कैसे किया जाता है (how a gastroscopy is performed), के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

जोखिम

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) एक बहुत ही सुरक्षित प्रक्रिया है और संक्रमण या आंतरिक रक्तस्राव जैसी समस्याएं बिलकुल कम होती हैं, जो 1,000 व्यक्तियों में से केवल 1 को होता है।

गैस्ट्रोस्कोपी से जुड़े संभावित जोखिमों (risks associated with a gastroscopy), के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

गैस्ट्रोस्कोपी के जोखिम (Risks of gastroscopy)

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) एक बहुत ही सुरक्षित प्रक्रिया है और इसमें गंभीर जटिलताओं का खतरा बहुत कम होता है।

अगर गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का उपयोग किसी स्थिति (डायग्नोस्टिक गैस्ट्रोस्कोपी) का निदान करने के लिए किया जा रहा है, तो इस से 1,000 में से केवल 1 व्यक्ति को ही जटिलता होने का खतरा रहता है।

इअगर गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का उपयोग किसी स्थिति (चिकित्सीय गैस्ट्रोस्कोपी((therapeutic gastroscopy))) का इलाज करने के लिए किया जाता है, तो इस से खतरा अधिक रहता है। लेकिन अपेक्षाकृत यह खतरा बहुत कम होता है जो 100 में 1 व्यक्ति को ही संभव है।

इसकी संभावित जटिलताओं में शामिल हैं:

  • बेहोशी की प्रक्रिया के कारण प्रतिकूल प्रभाव होना
  • संक्रमण होना
  • खून निकलना
  • वेधन (perforation) (चीरा)

बेहोशी की प्रक्रिया (Sedation)

बेहोशी की प्रक्रिया (Sedation) आमतौर पर एक सुरक्षित प्रक्रिया है, लेकिन कभी-कभी इसके कारण जटिल समस्याएं पैदा हो सकती हैं जिसमें शामिल हो सकते हैं:

  • उल्टी महसूस होना या उल्टी करना
  • इंजेक्शन लगाने वाली जगह पर जलन
  • भोजन के छोटे-छोटे कण फेफड़ों में जा सकते हैं,हजिसके कारण संक्रमण (एस्पिरेशन निमोनिया/aspiration pneumonia) हो सकता है
  • अनियमित दिल की धड़कन
  • साँस लेने में परेशानी

बेहोशी के कारण जटिलताएं उत्पन्न होने से स्ट्रोक होने का खतरा बहुत कम होता है, हालांकि इसकी संभावना 25,000 में से 1 व्यक्ति से भी कम होती है।

संक्रमण (Infection)

कभी-कभी,गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) के दौरान बैक्टीरिया शरीर की ऊतकों में लगने वाले निशान और कट से रक्त में जा सकता है जो इस प्रक्रिया को करने के दौरान लग जाते हैं। ज्यादातर मामलों में, बैक्टीरिया के कारण गंभीर समस्याएं पैदा नहीं होती क्योंकि आप के शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली इन बैक्टीरिया को मार देती हैं।

हालांकि, बहुत कम मामलों में, बैक्टीरिया खून के द्वारा हृदय तक जा सकता है और हृदय की परत, मांसपेशियों और वाल्वों को संक्रमित कर सकता है। इस तरह के संक्रमण को एंडोकार्टिटिस (endocarditis) रूप में जाना जाता है ।

एंडोकार्टिटिस के लक्षणों में शामिल हैं:

  • शरीर का तापमान ((बुखार)) 38°C (100.4°F) या उससे अधिक होना
  • ठंड लगना
  • दिल की धड़कन में अलग सी आवाज़ आना जिसे मर्मर (murmur) कहा जाता है
  • थकान
  • रात को पसीना आना
  • जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द

आमतौर पर एंडोकार्टिटिस (endocarditis) का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं के इंजेक्शन द्वारा किया जा सकता है।

एंडोकार्टिटिस के उपचार (treatment of endocarditis) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

रक्तस्राव होना

कभी-कभी, एंडोस्कोप में गलती के कारण रक्त वाहिका को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे रक्तस्राव हो सकता है।

आमतौर पर रक्तस्राव के स्रोत के उपचार के लिए फिर से गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का उपयोग किया जा सकता है, उसी प्रकार से जैसे रक्तस्राव या अल्सर का उपचार किया जाता है। रक्तस्राव के कारण होने वाली रक्त की कमी को रक्त चढ़ाने की जरूरत भी पड़ सकती है।

वेधन (Perforation)

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) के दौरान, आपकी ग्रासनली, आमाशय या छाती के ऊतक एंडोस्कोप से नुकसान पहुंचने का खतरा बहुत कम होता है।

इसके चेतावनी के लक्षणों में शामिल हैं:

  • गर्दन का दर्द
  • निगलते समय दर्द
  • पेट दर्द
  • तेज बुखार
  • साँस लेने में परेशानी

यदि वेधन (perforation) अधिक नहीं है, तो यह आमतौर पर अपने आप ठीक हो सकता है। चीरे की जगह पर होने वाले संक्रमण को रोकने के लिए आपको एंटीबायोटिक्स दी जा सकती हैं।

यदि वेधन (perforation) की स्थिति अधिक गंभीर है (तेज दर्द जिस पर दर्द निवारक का असर नहीं होता है), तो इसे ठीक करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

गैस्ट्रोस्कोपी का उपयोग क्यों किया जाता है?

गैस्ट्रोस्कोपी का उपयोग लक्षणों की जांच करने या निदान की पुष्टि करने के लिए किया जा सकता है (जिसे नैदानिक गैस्ट्रोस्कोपी (diagnostic Gastroscopy) के रूप में जाना जाता है), या इसका उपयोग किसी स्थिति (चिकित्सीय गैस्ट्रोस्कोपी) के इलाज के लिए किया जा सकता है।

लक्षणों की जाँच

आमतौर पर नैदानिक ​​गैस्ट्रोस्कोपी (diagnostic gastroscopy) तब की जाती है यदि आपको पेट की समस्या होती है, जो आपके ग्रसनी (गलेट) या आपकी छोटी आंत को भी प्रभावित कर सकती है।

अक्सर जिन लक्षणों की जांच की जाती है उनमें शामिल हैं:

  • निगलने में कठिनाई या दर्द (डिस्फेजिया (dysphagia))
  • लगातार पेट दर्द
  • लगातार मतली (बीमार महसूस करना) और उल्टी होना
  • बिना कारण के वज़न कम होना

नैदानिक गैस्ट्रोस्कोपी का उपयोग तब भी किया जा सकता है यदि आपके डॉक्टर को संदेह होता है कि आपके पेट या छोटी आंत में रक्तस्राव हो रहा है। लगातार रक्तस्राव आपके शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को काफी कम कर सकता है। इसे एनीमिया (anaemia) के रूप में जाना जाता है।

एनीमिया के लक्षणों में शामिल हैं:

  • हर समय थकान महसूस करना
  • सांस फूलना
  • पीली त्वचा
  • अनियमित धड़कन

कुछ मामलों में, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (जीआई) (gastrointestinal (GI)) वाहिका में रक्तस्राव अचानक और अत्यधिक हो सकता है, और इसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • खून की उल्टी
  • मल (दस्त) जो बहुत काला या 'टारकोल -जैसा' होता है
  • आपके पेट में अचानक, तेज दर्द जो बदतर होता जाता है

आमतौर पर इन लक्षणों की नैदानिक ​​गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) की तत्काल जांच की आवश्यकता होती है।

निदान की पुष्टि करना

नैदानिक ​​गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का उपयोग संदिग्ध परिस्थितियों की पुष्टि करने (या ख़ारिज करने) में मदद करने के लिए भी किया जाता है, जैसे कि नीचे सूचीबद्ध किया गया है।

पेट का अल्सर (Stomach ulcer) (पेप्टिक अल्सर रोग के रूप में भी जाना जाता है) - खुला घाव जो पेट और छोटी आंत पर होता है।

गैस्ट्रो-ओसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (जीओआरडी) (Gastro-oesophageal reflux disease (GORD)) - एक ऐसी स्थिति जहां पेट का एसिड ग्रासनली में वापस लीक हो जाता है।

बैरेट ग्रासनली - जहां ग्रसनी की भित्ति पर असामान्य कोशिकाएं विकसित होती हैं।

पोर्टल दबाव (Portal hypertension) - जहां यकृत में दबाव असामान्य रूप से उच्च होता है। इससे आमाशय और ग्रसनी की भित्ति पर मौजूद नसें असामान्य रूप से सूज जाती हैं।

आमाशय कैंसर और ग्रासनली कैंसर (Stomach cancer and oesophageal cancer) - एंडोस्कोप का उपयोग परीक्षण के लिए संदिग्ध कैंसर के ऊतकों के नमूने लेने के लिए किया जा सकता है। इसे बायोप्सी के रूप में जाना जाता है।

थेरेपौटिक गैस्ट्रोस्कोपी (Therapeutic gastroscopy)

थेरेपौटिक गैस्ट्रोस्कोपी (Therapeutic gastroscopy) के दो सबसे सामान्य उपयोग हैं:

  • आमाशय या ग्रासनली में रक्तस्राव को रोकने के लिए। आमतौर पर रक्तस्राव पेट के अल्सर, गैस्ट्रो-ओओसोफेगल रिफ्लक्स रोग या ग्रसनी या बढ़ी वाहिकाओं (stomach ulcer, gastro-oesophageal reflux disease or enlarged veins (varices)) के कारण होता है।
  • ग्रसनी को चौड़ा करने में जिस से दर्द या निगलने में कठिनाई हो सकती है (डिस्फेजिया(dysphagia))।

मुंह का कैंसर या फेफड़े का कैंसर , रेडियोथेरेपी या एक संक्रमण जैसे तपेदिक या हर्पज सिम्प्लेक्स (tuberculosis or herpes simplex) (mouth cancer or lung cancer, radiotherapy or an infection) सहित कई कारणों से आपकी ग्रसनी संकुचित या अवरुद्ध हो सकती है।

गैस्ट्रोस्कोपी जिसका उपयोग ग्रसनी को चौड़ा करने के लिए किया जाता है, को 'गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) ऑसोफेगल डिलेस्टेशन' के रूप में भी जाना जाता है।

चिकित्सीय गैस्ट्रोस्कोपी के अन्य उपयोगों में शामिल हैं:

  • पेट और गले के प्रारंभिक चरण केकैंसर का इलाज करना (एडवांस्ड स्थिति में अधिक व्यापक सर्जरी की आवश्यकता होगी)
  • गैर-कैंसरकारी विकास (पॉलीप्स) को हटाना जिसके कारण रुकावट पैदा हो रही है
  • उन अवरोधों को हटाना जो ग्रसनी या पेट में मौजूद हैं
  • भोजन ट्यूब के माध्यम से पोषक तत्व प्रदान करना, जब कोई व्यक्ति सामान्य तरीके से खाने में असमर्थ है

गैस्ट्रोस्कोपी कैसे की जाती है?

आमतौर पर आपको आपके अपाइंटमेंट के साथ गैस्ट्रोस्कोपी की तैयारी के बारे में निर्देश दिए जाएंगे। यदि आप किसी चीज के बारे में निश्चित नहीं हैं, तो अस्पताल में बात करें।

दवाई (Medication)

यदि आपको गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) करवाने के लिए कहा जाता है, तो आपको कम से कम दो सप्ताह पहले बदहज़मी के लिए कोई भी निर्धारित दवा बंद करनी होगी। ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि इन दवाइयों के कारण कुछ समस्या छुप सकती जो आमतौर पर एंडास्कपी पर दिखती हैं। आप अपनी एंडोस्कोपी (Endoscopy) तक एंटासिड (antacids) लेना जारी रख सकते हैं।

यदि आप निम्न में से किसी दवाई को ले रहे हैं, तो आपको अपने अपाइंटमेंट से पहले एंडोस्कोपी (Endoscopy) यूनिट को टेलीफोन करना चाहिए क्योंकि उन्हें इसके लिए विशेष व्यवस्था करनी पड़ सकती है:

  • मधुमेह के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली कोई भी दवाई, जैसे इंसुलिन या मेटफॉर्मिन (insulin or metformin)
  • रक्त को पतला करने वाली दवा (ऐसी दवा जो रक्त के थक्के को रोकने के लिए प्रयोग की जाती है), जैसे कि एस्पिरिनवारफरीन या क्लोपिडोग्रेल

आपको अपने अपाइंटमेंट वाले दिन नेल पॉलिश नहीं करना चाहिए क्योंकि इसके कारण उपकरण चलाने में बाधा उत्पन्न होती है जो आपके ऑक्सीजन के स्तर की निगरानी के लिए आपकी उंगली से लगा होता है।

भोजन (Diet)

यह महत्वपूर्ण है कि आपका पेट खाली हो ताकि इसे स्पष्ट रूप से देखा जा सके। आपको गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) होने से पहले छह घंटे तक कुछ भी नहीं खाने और दो घंटे तक कुछ भी नहीं पीने के लिए कहा जाएगा।

बेहोशी की प्रक्रिया (Sedation)

आपको आमतौर पर गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) के दौरान बेहोश किया जाएगा। इसका मतलब यह है कि आप प्रक्रिया के दौरान और उसके बाद पूरी चेतन अवस्था में नहीं रहेंगे इसलिए गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) के बाद कम से कम 12 घंटे तक आपके साथ परिवार के किसी सदस्य को रहना चाहिए।

प्रक्रिया (procedure)

आमतौर पर गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) नर्स और एंडोस्कोपिस्ट (एक स्वास्थ्य पेशेवर जो एंडोस्कोपी (Endoscopy) करने में विशेषज्ञ होता है) द्वारा किया जाता है। आपको इस प्रक्रिया से पहले नर्स से मिलना चाहिए और वह आपके पास मौजूद किसी भी प्रश्न का उत्तर दे सकेगी।

आपको किसी भी चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस और नकली दांतों को हटा देना चाहिए। इसके बाद ही नर्स स्थानीय एनेस्थेटिक करेगी और आपके दांतों की सुरक्षा के लिए छोटा प्लास्टिक माउथ गार्ड रख सकती है।

आपको अपनी बाईं ओर लेटने के लिए कहा जाएगा और नर्स आपकी उंगली से छोटी प्रोब लगाएगी। यह आपके ऑक्सीजन स्तर और हृदय गति को मापता है।

इस बिंदु पर, आपको सामान्य रूप से आपके हाथ में बेहोशी का इंजेक्शन दिया जाएगा। इससे आपको बहुत अधिक बेहोशी महसूस होगी ताकि आपको इस प्रक्रिया के बारे में पता न लग सके। हालांकि, आप अभी भी एंडोस्कोपिस्ट या नर्स द्वारा दिए गए निर्देश का पालन करने में सक्षम होंगे।

एंडोस्कोपिस्ट (endoscopist) एंडोस्कोप को आपके गले में डालेगा और आपको इसे अपने ग्रसनली के द्वारा नीचे ले जाने हेतु निगलने के लिए कहेगा।

स्थिति का निदान

यदि गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का उपयोग एक निश्चित स्थिति के निदान के लिए किया जा रहा है, तो एंडोस्कोप के द्वारा आपके पेट में हवा भरी जाएगी। इस से एंडोस्कोपिस्ट को लालिमा, छिद्र, गांठ, ब्लॉकेज या अन्य असामान्यताओं के पैच देखने में मदद मिलते है।

यदि इन असामान्यताओं का पता लग जाता है, तो माइक्रोस्कोप के द्वारा प्रयोगशाला में परीक्षण के लिए बायोप्सी (समस्या क्षेत्र से एक ऊतक का नमूना) लिया जा सकता है। बायोप्सी के दौरान आपको कुछ भी महसूस नहीं होगा।

रक्तस्राव वाहिकाओं का उपचार (Treating bleeding varices)

यदि आपको रक्तस्राव की समस्या है, हैं, तो एंडोस्कोपिस्ट द पहले रक्तस्राव की जगह का पता लगाने के लिए एंडोस्कोप का उपयोग करेगा।

यदि रक्तस्राव वाहिकाएं आपकी ग्रसनली में मौजूद हैं, आमतौर पर उनका इलाज बैंड लिगेशन नामक तकनीक का उपयोग करके किया जा सकता है। इसमें एंडोस्कोप के नीचे एक छोटा रबर बैंड डालना शामिल है, जिसका उपयोग आगे रक्तस्राव को रोकने के लिए वाहिकाओं के आधार को सील करने और रक्त की आपूर्ति को बंद करने के लिए किया जाता है।

यदि आपके आमाशय में रक्तस्राव वाहिकाएं मौजूद हैं, तो रक्तस्राव वाले स्थान पर रासायन लगाया जाएगा जिसे सायनाकोरिलेट (Cyanoacrylate) कहा जाता है। सायनाकोरिलेट (Cyanoacrylate) अतिरिक्त-शक्ति शक्तिशाली ग्लू ('सुपरग्लू') (extra-strength glues (‘superglues’)) में सक्रिय घटक है जो दुकानों पर मिलता है। यह शरीर के ऊतकों में छेद या स्राव को सील करने में बहुत उपयोगी है।

रक्तस्राव होते अल्सर का इलाज (Treating bleeding ulcers)

यदि आपके अल्सर से खून निकल रहा है, तो इसके उपचार के लिए कई विभिन्न पार्कर की तकनीक उपलभध हैं। उदाहरण के लिए:

  • रक्तस्राव वाले स्थान पर हीट या छोटी क्लिप लगाने के लिए एंडोस्कोप के द्वारा प्रोब लगाया जा सकता है
  • एड्रेनालाईन का पतले घोल को अल्सर के आसपास क्लोनेटिंग प्रक्रिया को सक्रिय करने, धमनियों को संकीर्ण करने और रक्त के थक्के को बढ़ाने में मदद करने के लिए इंजेक्ट किया जा सकता है।

इन प्रक्रियाओं के दौरान आपको इंजेक्शन के द्वारा तेज़ी से एसिड को कम करने वाली दवा दी जा सकती है है, जिसे प्रोटॉन-पंप अवरोधक कहा जाता है, और जो रक्तस्राव की पुनरावृत्ति को रोकता है।

संकीर्ण ग्रसनली (Narrowed oesophagus)

यदि आपकी ग्रसनली संकीर्ण है तो एंडोस्कोपिस्ट, एंडोस्कोप के नीचे इसे चौड़ा करने या फैलाने के लिए उपकरण डाल सकता है। इन उपकरणों से आपकी ग्रसनली की भित्तियों को खुला रखने में मदद के लिए बैलून या स्टेंट (खोखला प्लास्टिक या धातु का ट्यूब) डाला जा सकता है।

स्वास्थ्य लाभ (Recovery)

गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) करने में लगभग 20-40 मिनट का समय लगता है। एंडोस्कोप को तब तक नहीं हजाया जाएगा जब तक आपको रिकवरी रूप में नहीं भेजा जाता है या होश में नहीं आ जाते हैं।

बाहर निकलने के बाद आपको इस प्रक्रिया के बारे में कुछ याद नहीं रहेगा।

यदि उपचार के रूप में गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का इस्तेमाल किया गया है तो तो आपको यह निर्धारित करने के लिए विभिन्न परीक्षण करने पड़ सकते हैं कि यह उपचार प्रभावी था या नहीं और आपकी जटिलताओं की जांच की जाएगी।

इन परीक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • छाती का एक्स-रे
  • दिल की धड़कन
  • रक्तचाप परीक्षण

आपकी व्यक्तिगत परिस्थितियों के आधार पर, आपको या तो अस्पताल के वार्ड में स्थानांतरित कर दिया जाएगा या छुट्टी दे दी जाएगी (घर भेज दिया जाएगा)।

बेहोशी की दवा 24 घंटे तक आपके खून में रह सकती है और इस से आप को कुछ समय के लिए सुस्ती महसूस हो सकती है।

महत्वपूर्ण रहेगा कि इस दौरान आप वाहन, भारी मशीनरी न चलाएं या शराब न पिएं।

आप को सामान्य आहार खाने में कई दिन लग सकते हैं। यह इस बात पर निर्भर करता हैं की आप की किस प्रकार की एंडास्कपी प्रक्रिया हुई है एंडोस्कोपी (Endoscopy) नर्स आपको विशिष्ट आहार सिफारिशों के बारे में अधिक जानकारी देगी।

परिणाम

यदि गैस्ट्रोस्कोपी (Gastroscopy) का उपयोग किसी स्थिति का निदान करने के लिए किया गया था, तो आपको परिणाम की चर्चा के लिए फिर से बुलाया जाएगा या फिर परिणाम आप के डॉक्टर के पास भेजे जा सकते हैं।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।