COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
12 min read

एक्स-रे (X-ray)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

एक्स-रे क्या होता है? (What is an X-ray)

एक्स-रे (X-ray) एक सुरक्षित और दर्दरहित प्रक्रिया है जो शरीर के अंदर की इमेज निकालने के लिए इस्तेमाल की जाती है।

यह टूटी हुई हड्डियों को देखने का बहुत असरदार तरीका है। जैसे कि टूटे हुए हाथ या कलाई।

एक्स-रे (x-ray) का प्रयोग शरीर की जांच और परेशानी का पता लगाने के लिए भी कर सकते हैं। उदाहरण के लिए एक्स-रे (x-ray) आपके फेफड़ों में होने वाले निमोनिया (pneumonia) ](https://www.your.md/condition/pneumonia)[जैसे संक्रमण को दिखा देता है।

एक्स-रे (x-ray) अक्सर थरेपेटिक (therapeutic) प्रक्रिया के दौरान इस्तेमाल होता है, जैसे कि कोरोनरी एंजियोप्लास्टी (coronary angioplasty) जो सर्जन के उपकरण की उस क्षेत्र तक जाने में मदद करता है जिसका उपचार होना है।

एक्स-रे (x-ray) कब इस्तेमाल किया जाता है ](https://www.your.md/condition/x-ray/#what-is-it-used-for)[? इसके बारे में और पढ़ें।

एक्स-रे काम कैसे करता है? (How X-rays work?)

एक्स-रे (x-ray) एक प्रकार का रेडिएशन है। प्रकाश और एक्स रे ऊर्जा के एक जैसे साधन हैं। हालांकि प्रकाश की आवृत्ति (frequency) एक्स-रे (x-ray) से कम होती है और यह आपकी त्वचा द्वारा अवशोषित कर ली जाती है जबकि एक्स-रे (x-ray) की आवृत्ति (frequency) ज़्यादा होती है और वह मानव शरीर के पार निकल जाती है।

जैसे ही एक्स-रे शरीर से होकर गुजरती है, उनमें ऊर्जा के कण (जिन्हें फोटोन कहा जाता है) अलग-अलग दरों पर अवशोषित हो जाते हैं। यह पैटर्न एक्स-रे (x-ray) चित्रों में दिखाई देता है।

आपके शरीर के वे भाग जो ठोस पदार्थ से बने हैं जैसे कि आपकी हड्डियाँ, एक्स-रे (x-ray) चित्र में स्पष्ट सफेद क्षेत्र के रूप में दिखाई देती हैं।

आपके शरीर के वे भाग जो नरम पदार्थ से बने होते हैं जैसे कि आपका हृदय और फेफड़े, गहरे क्षेत्रों के रूप में दिखाई देते हैं।

एक्स-रे (x-ray) करवाना

एक्स-रे पेशेवर प्रशिक्षित रेडियोग्राफरों (radiographers) द्वारा किया जाता है; जो एक्स रे मशीन, कम्प्यूटराइज टोमोग्राफी (tomography) स्कैनर और अल्ट्रासाउंड स्कैनर जैसी इमेज तकनीक को इस्तेमाल करने में सक्षम होते हैं।

एक्स-रे के दौरान आपको टेबल पर लेटने या किसी समतल सतह के सामने खड़े रहने को कहा जाता है। ताकि आपके शरीर के जिस हिस्से की जांच होनी है, वह एक्स-रे (x-ray) मशीन और फोटोग्राफिक प्लेट के बीच आ जाए।

एक्स-रे (x-ray) में सेकेंड के कुछ हिस्से तक का ही समय लगता है। जैसे ही एक्स रे फोटोग्राफिक प्लेट से टकराती है, प्लेट पर आपके शरीर का चित्र छप जाता है।

परिणाम में प्राप्त इमेज को कम्प्यूटर पर भेजा जाता है ताकि स्क्रीन पर उसकी जांच हो सके और ज़रूरत पड़ने पर उसका प्रिंट निकाला जा सके।

एक्स-रे (x-ray) कैसे करते हैं इसके बारे में और पढ़ें।

सुरक्षा

उच्च स्तरीय रेडिएशन (high level of radiation) हानिकारक हो सकता है। हालांकि इलाज के उद्देश्य से उपयोग होने वाला एक्स रे सुरक्षित होता है, क्योंकि रेडिएशन की मात्रा बहुत कम होती है।

लंबे समय के खतरे के संबंध में रेडिएशन की ताकत को मिलीसीवर्स (mSv) नामक इकाईयों का उपयोग करके मापा जाता है। एक्स-रे के संपर्क में आने के कुछ उदाहरण:

  • चेस्ट एक्स रे: 0.02 mSv
  • सालाना मेडिकल जांच की मात्रा: 0.4 mSv
  • सालान प्राकृतिक रेडिएशन से औसतन संपर्क: 2.2 mSv

एक्स-रे (x-ray) के खतरों के बारे में और पढ़ें।

एक्स-रे से होने वाले खतरे (X-ray risks)

लोग अक्सर एक्स-रे (x-ray) के दौरान रेडिएशन के सम्पर्क में आने से चिंतित होते हैं, हालांकि हर कोई अपने जीवन में प्राकृतिक रेडिएशन के सम्पर्क में आता ही रहता है।

प्राकृतिक रेडिएशन को कभी-कभी बैकग्राउंड रेडिएशन (Background radiation) के रूप में जाना जाता है। बैकग्राउंड रेडिएशन (Background radiation) के स्रोत में शामिल हैं:

  • रेडॉन (Radon): एक साधारण रेडियोएक्टिव गैस जो वायुमंडल में निम्न स्तर पर पाई जाती है।
  • कॉस्मिक रे (Cosmic rays): एक प्रकार का रेडिएशन जो अंतरिक्ष में सूर्य और तारों से पैदा होता है।
  • पृथ्वी (The Earth): मिट्टी और चट्टानों में विभिन्न रेडियोएक्टिव पदार्थ होते हैं, वह तब से हैं जब से पृथ्वी बनी है। इनके जरिये भी हम प्राकृतिक रेडीएशन के संपर्क में आते हैं, जैसे कि निर्माण सामग्री जोकि मिट्टी, चट्टान और पत्थरों से बनी है।
  • खाना और पानी: बादाम, केला, रेड मीट या आलू सबमें थोड़ी मात्रा में रेडिएशन पाया जाता है।

रेडिएशन के विषय में और पढ़ें

कैंसर के खतरे (Cancer risk)

एक्स-रे (x-ray) के सम्पर्क में आने के बाद कैंसर होने का सैद्धांतिक खतरा रहता है। जैसा कि बैकग्राउंड रेडिएशन (Background radiation) के सम्पर्क में आने से होता है लेकिन ये ख़तरा बहुत ही कम होता है।

उदाहरण के लिए, हेल्थ प्रोटेक्शन एजेंसी (Health protection agency) ने गणना की है:

  • आपके सीने, दाँत, हाथ या पैर का एक्स-रे (x-ray) कुछ दिन के बैकग्राउंड रेडिएशन के बराबर होता है और कैंसर होने की संभावना 1000000 में 1 से भी कम होती है।
  • आपकी खोपड़ी और गर्दन का एक्स-रे (x-ray) कुछ हफ़्तों के बैकग्राउंड रेडिएशन के बराबर होता है और कैंसर होने की संभावना 10000 से 1000,000 में 1 व्यक्ति में होती है।
  • आपके स्तन (mammogram), कूल्हे, रीढ़ की हड्डी, पेट या पेल्विस का एक्स-रे (x-ray) कुछ महीनों से लेकर सालाना बैकग्राउंड रेडिएशन के बराबर होता है और कैंसर होने की संभावना 10000 से 1000,000 में 1 में होती है।
  • बेरियम मील (barium meal) जैसे कॉन्ट्रास्ट फ्लूइड का उपयोग करने वाला एक्स-रे (x-ray) कुछ सालों के बैकग्राउंड रेडिएशन (Background radiation) के बराबर होता है और कैंसर होने की संभावना 1000 से 10000 में 1 में होती है।

एक्स-रे (x-ray) से कैंसर होने के खतरे को ध्यान में रखना ज़रूरी है।

आप में कैंसर के होने का खतरा कई कारणों पर निर्भर करता है जिसमें आपकी उम्र, जीवनशैली और जेनेटिक बदलाव शामिल हैं।

एक्स-रे और गर्भावस्था (X-ray & Pregnancy)

एक्स-रे के दौरान इस्तेमाल होने वाली रेडिएशन की मात्रा अजन्मे शिशु के लिए ख़तरा पैदा नहीं करती है। जबतक बहुत जरूरी न हो तब तक सावधानी बरतने के लिए, आमतौर पर सीधे गर्भ या पेट के एक्स-रे कराने की सलाह नहीं दी जाती है ।

कुछ मामलों में, अल्ट्रासाउंड स्कैन (ultrasound scan), जिसमें रेडिएशन शामिल नहीं होता, को एक वैकल्पिक तरीके के रूप में इस्तेमाल करने की सलाह दी जा सकती है।

सावधानी के तौर पर, एक्स-रे (X-ray) कराने से पहले आपसे आपकी आखिरी माहवारी की तारीख पूछी जा सकती है। ऐसा ये जाँचने के लिए किया जाता है कि कहीं आप गर्भवती तो नहीं हुई हैं।

यदि आपने एक्स-रे (x-ray) करवा लिया हो और बाद में पता चले कि आप गर्भवती थी तो परेशान ना हो। यहां तक ​​कि सबसे शक्तिशाली एक्स-रे, जैसे कि बेरियम एनीमा (barium enema) का गर्भावस्था के परिणाम पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता है।

एक्स-रे कैसे किया जाता है?

एक्स-रे (x-ray) के दौरान आपको टेबल पर लेटने या एक समतल ज़मीन के सामने खड़े रहने के लिए कहा जा सकता है। ताकि आपके शरीर के जिस हिस्से की जांच होनी है, वह एक्स-रे (x-ray) मशीन और फोटोग्राफिक प्लेट के बीच आ जाए।

एक्स-रे (x-ray) पेशेवर प्रशिक्षित रेडियोग्राफरों (radiographers) द्वारा किया जाता है; जो एक्स रे मशीन, कम्प्यूटराइज टोमोग्राफी (tomography) स्कैनर और अल्ट्रासाउंड स्कैनर जैसी इमेज तकनीक को इस्तेमाल करने में सक्षम होते हैं।

एक्स-रे (x-ray) मशीन

एक एक्स-रे (x-ray) मशीन में कई भाग होते हैं, जिसमें एक एक्स-रे ट्यूब (X-ray tube), एक फोटोग्राफिक प्लेट (Photographic plate) और लेड शील्ड (Lead shield) शामिल होते हैं।

एक्स-रे (x-ray) ट्यूब एक बहुत बड़े बल्ब की तरह होती है; जो एक्स-रे (x-ray) के लिए हाई-वोल्टेज बिजली का इस्तेमाल करता है। लेड शील्ड (Lead shield) आपके शरीर के जिस हिस्से की जांच होनी है, उसकी ओर एक्स-रे (x-ray) को सीधा भेजता है और उन्हें सभी दिशाओं में जाने से रोकता है। एक्स-रे (x-ray) द्वारा बनी इमेज जब आपके शरीर से गुजरती हैं तो फोटोग्राफिक प्लेट (Photographic plate) उसे कैप्चर करती है।

पहले के समय में, फोटोग्राफिक प्लेट में एक ट्रेडिशनल कैमरे के जैसे ही फ़िल्म का इस्तेमाल किया जाता था। हालाँकि, आजकल ज़्यादातर एक्स-रे (x-ray) मशीनों में लगी प्लेट एक कंप्यूटर से जुड़ी होती है; ताकि एक डिजिटल इमेज ली जा सके।

एक्स-रे (x-ray) की प्रक्रिया

जब आपका एक्स-रे (x-ray) होता है तो आपके शरीर के जिस हिस्से की जांच होनी है वह सेकंड के कुछ हिस्सों के लिए एक्स-रे (x-ray) के संपर्क में आता है। यह एक सुरक्षित और दर्द रहित प्रक्रिया है।

जैसे ही एक्स-रे (x-ray) फोटोग्राफिक प्लेट से टकराता है, प्लेट इमेज के स्नैपशॉट खींच लेती है। इमेज को फोटोग्राफिक प्लेट से सीधे कंप्यूटर में भेज दिया जाता है ताकि इसका स्क्रीन पर अध्ययन किया जा सके। यदि आवश्यक हो, तो इमेज को प्रिंट भी किया जा सकता है।

जब एक्स-रे (x-ray) लेते हैं तब आपको स्थिर खड़े होने की ज़रूरत होती है ताकि आपकी इमेज धुंधली ना हो। अधिक से अधिक जानकारी के लिए विभिन्न कोणों से एक से अधिक एक्स-रे (x-ray) लिए जा सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आपके फेफड़ों की जांच की जा रही है तो आपके शरीर के अगले और पिछले दोनों भागों के एक्स रे होंगे।

एक रेडियोलॉजिस्ट आपकी एक्स-रे (x-ray) इमेज का अध्ययन करेगा। वो डॉक्टर जो विशेष रूप से एक्स-रे और सीटी स्कैन के द्वारा मेडिकल इमेज की जांच और व्याख्या करने के लिए प्रशिक्षित होते हैं, उन्हें रेडियोलॉजिस्ट कहते हैं।

रेडियोलॉजिस्ट आपके एक्स-रे के दिन आपके निष्कर्षों पर चर्चा कर सकते हैं या वे आपके डॉक्टर को रिपोर्ट भेज सकते हैं।

एक्स-रे का उपयोग किसके लिए किया जाता है? (What is an X-ray used for)

हड्डी बहुत कठोर और ठोस ऊतक(tissue) होता है; जो एक्स रे (X-ray) पर एकदम साफ दिखाई देती है। इसीलिए हड्डियों से संबंधित समस्याओं का पता लगाने में एक्स-रे (x-ray) बहुत उपयोगी है।

उदाहरण के लिए: निम्नलिखित को पहचानने में मदद के लिए एक्स-रे का उपयोग किया जा सकता है

  • फ्रैक्चर और टूटी हड्डियों के लिए
  • दांतो की समस्या के लिए जैसे कि दांतो की सड़न
  • हड्डियों का पतला और कमज़ोर होना
  • हड्डी में संक्रमण
  • रीढ़ का एक असामान्य टेढ़ापन स्कोलियोसिस(scoliosis)
  • बोन कैंसर जैसे कि ऑस्टियोसार्कोमा (osteosarcoma) और इविंग्स सार्कोमा

एक्स-रे (x-ray) कभी-कभी जांच के दौरान या थरेपेटिक प्रक्रिया के दौरान सर्जन के उपकरण को उस क्षेत्र तक जाने में सहायता करता है जिसका उपचार होना है।

उदाहरण के लिए, एक्स-रे का उपयोग अक्सर कोरोनरी एंजियोप्लास्टी (coronary angioplasty) के दौरान किया जाता है, जहां कैथेटर (Catheter) नामक एक लंबी, पतली, लचीली ट्यूब को धमनियों(blood vessel) में या आपके कमर या बांह में डाला जाता है।

एक्स-रे (x-ray) का इस्तेमाल कैथेटर (Catheter) की नोक को हृदय या आपके हृदय को भरने वाली धमनियों में भेजने के लिए किया जाता है। एक विशेष तरल पदार्थ जो एक्स-रे (x-ray) पर स्पष्ट रूप से दिखाई देता है, कैथेटर (Catheter) के माध्यम से इंजेक्ट किया जाता है। उत्पन्न होने वाले एंजियोग्राम (Angiogram) इमेज यह उजागर करने में सक्षम होते हैं कि क्या धमनियों में रुकावट है।

छाती का परीक्षण (Chest examination)

बड़े अंग और धमनियाँ उतने स्पष्ट रूप से एक्स-रे (x-ray) में दिखाई नहीं देते हैं, जैसे हड्डियां दिख जाती हैं । हृदय, फेफड़ों और मुख्य धमनियों में परिवर्तन या असमानता का पता लगाने के लिए सीने का एक्स-रे एक बढ़िया तरीका है।

विशेष रूप से सीने के एक्स-रे (x-ray) ये पता लगाने में मदद कर सकते हैं:

  • हृदय की स्थिति जैसे कि हार्ट फेलियर जन्मजात हृदय रोग और पेरिकार्डिटिस(हृदय के अस्तर की सूजन)
  • फेफड़ों की समस्या जैसे कि निमोनिया, फेफड़े का कैंसर और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीस chronic obstructive pulmonary disease(COPD)

कंट्रास्ट माध्यम (Contrast medium)

कंट्रास्ट माध्यम एक द्रव्य है जिसमें डाई होती है। एक्स-रे (x-ray) लेने से पहले इसे कभी-कभी पिलाया या इंजेक्ट किया जाता है, जो सफेद रंग में साफ-साफ दिखाई देता है। ये शरीर में विभिन्न संरचनाओं के बीच अंतर करने में मदद करता है।

कंट्रास्ट माध्यम (Contrast medium) आमतौर पर हानिरहित होता है और आपके मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकलता है। हालांकि, कुछ दुर्लभ मामलों में यह एलर्जी का कारण बन सकता है। आपको पहले कभी आयोडीन (Iodine) या कंट्रास्ट माध्यम (Contrast medium) से एलर्जी हुई है या यदि कोई अन्य एलर्जी है तो अपने रेडियोलॉजिस्ट को बताएं।

एक्स-रे के प्रकार (Types of x-ray)

यहां विभिन्न तरीकों से एक्स-रे (x-ray) करके शरीर के अलग-अलग भागों की जांच की जा सकती है। जैसा कि नीचे बताया गया है

बेरियम स्वैलो(Barium swallow)

बेरियम (Barium) एक प्रकार का कॉन्ट्रास्ट माध्यम (Contrast medium) होता है जो आपको एक घोल के रूप में पीने के लिए दिया जा सकता है। इसके बाद जब बेरियम आपके शरीर के ऊपरी पाचन तंत्र में आगे बढ़ता है तब एक्स-रे (x-ray) लिया जाता है।

बेरियम स्वैलो (Barium swallow) का प्रयोग ऊपरी पाचन तंत्र की समस्याओं का पता लगाने के लिए किया जाता है, जैसे कि निगलने में समस्या (dysphagia) और लगातार पेट दर्द के लक्षण।

बेरियम एनीमा (Barium enema)

बेरियम एनीमा (barium enema) में बेरियम का घोल मिला होता है; जिसे आपकी गुदा (anus) के माध्यम से आपके आंतों में भेजा जाता है।

बेरियम एनीमा (barium enema) का उपयोग आंत की समस्याओं का पता लगाने के लिए किया जा सकता है, जैसे कि लगातार कब्ज और आपके मल में रक्त का होना।

एंजियोग्राफी(Angiography)

एक प्रकार का एक्स-रे (x-ray) जिसमें धमनियों की जांच की जाती है उसे एंजियोग्राफी (angiography) कहते हैं। एंजियोग्राफी (angiography) के दौरान बने चित्रों को एंजियोग्राम (angiograms) कहते हैं।

क्योंकि धमनियां सामान्य एक्स-रे (x-ray) पर स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देती हैं, इसलिए कंट्रास्ट माध्यम को जांच के क्षेत्र में इंजेक्ट किया जाता है। डाई धमनियों के माध्यम से अन्दर पहुँचकर उन्हें उजागर करती है और एंजियोग्राम पर सफेद रंग में दिखाई देती है।

धमनियों (blood vessel) के माध्यम से द्रव्य की गति का अध्ययन ब्लॉकेज जैसी परेशानी का पता लगा सकता है।

आमतौर पर, मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) और कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) तकनीकों का उपयोग करके एंजियोग्राफी (angiography) भी की जाती है।

इंट्रावेनस यूरोग्राम (Intravenous urogram-IVU)

इंट्रावेनस यूरोग्राम (intravenous urogram) के दौरान आपकी नसों में कंट्रास्ट माध्यम इंजेक्ट किया जाता है।

सामान्यतः आयोडीन सॉल्यूशन (Iodine Solution) का उपयोग किया जाता है जो हमारी किडनी और मूत्राशय में जाता है फिर उनका एक्स-रे (x-ray) लिया जाता है। इंट्रावेनस यूरोग्राम (intravenous urogram) का इस्तेमाल यूरिनरी सिस्टम की समस्याओं का पता लगाने के लिए करते हैं।

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें

एंडोस्कोपी (Endoscopy)

एंडोस्कोपी (Endoscopy)  एक प्रक्रिया है जिसमें शरीर के अंदर की जांच के लिए एंडोस्कोप (endoscope) नाम के उपकरण का उपयोग किया जाता है।

एमआरआई (MRI ) स्कैन

मैग्नेटिक रेज़ोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) एक प्रकार का स्कैन है जो शरीर के अंदर की विस्तृत छवियों का उत्पादन करने के लिए मजबूत चुम्बकीय क्षेत्र और रेडियो तर...

अल्ट्रासाउंड-स्कैन (Ultrasound-scan)

अल्ट्रासाउंड-स्कैन(Ultrasound-scan) जिसे कभी-कभी सोनोग्राम(sonogram) भी कहा जाता है, एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें उच्च आवृत्ति ध्वनि तरंगों (high frequ...