COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
12 min read

काउंसलिंग

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

काउंसलिंग

परामर्श (counselling) एक प्रकार की बात करने की थेरेपी (talking therapy) है जो व्यक्ति को गुप्त और निर्भर वातावरण में अपनी परेशानी के बारे में बात करने की अनुमति देती है।

सलाहकार सहानुभूति के साथ (स्वयं को आपकी स्थिति में रखकर) सुनने में प्रशिक्षित होता है वे आपको आने वाले नकारात्मक विचार और भावना से निपटने में मदद कर सकते हैं ।

कभी-कभी "परामर्श" (Counselling) शब्द का इस्तेमाल सामान्य रूप से बातचीत वाली थेरेपी को बताने के लिए किया जाता है, लेकिन परामर्श (Counselling) भी अपने आप में एक प्रकार की थेरेपी है।

अन्य मनोवैज्ञानिक थेरेपी (psychological therapy) जिसमें साइकोथेरेपी (psychotherapy), कॉग्निटिव बिहेवरियल थेरेपी (cognitive behavioral therapy) और रिलेशनशिप थेरेपी (relationship therapy) शामिल है। जो परिवार के सदस्यों, जोड़े या साथ काम करने वाले सहयोगियों के बीच हो सकती है।

परामर्श का इस्तेमाल क्यों होता है? (What is counselling used for?)

बात करने की थेरेपी जैसे कि परामर्श का इस्तेमाल बहुत सी मानसिक स्वास्थ्य अवस्था (mental health condition) में मदद के लिए किया जा सकता है। जिसमें ये शामिल हैं

परामर्श कैसे मदद कर सकता है? (How counselling can help?)

परामर्श का उद्देश्य उन मुद्दों से निपटने में मदद करना है जो भावनात्मक दर्द का कारण बनते हैं और आपको असहज महसूस कराते हैं।

यह आपको हमेशा बात करने और तकलीफ वाली भावनाओं को खोजने के लिए सुरक्षित और नियमित जगह देते हैं। आपको सहयोग देने और आपके नज़रिए का सम्मान करने के लिए सलाहकार वहां होता है। वे अमतौर पर आपको सलाह नहीं देते हैं लेकिन आपको अपनी गहरी पहुँच तक जाने और परेशानी को समझने में मदद करेंगे।

परामर्श आपकी मदद कर सकता है:

  • मृत्यु के शोक या सबंध के टूटने का सामना करने में
  • फालतू विचार या काम से सम्बंधित तनाव का सामना करने में
  • परेशानियों को खोजने में जैसे कि सेक्सुअल आइडेंटिटी (sexual identity)
  • उन समस्याओं से निपटने में जो आपको अपने उद्देश्य को पाने से रोकते हैं
  • डिप्रेशन या दुःखी होने की भावना से निपटने और जीवन पर अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण रखने में
  • चिंता की भावना से निपटने में, वह आपकी चीज़ों के बारे में कम सोचने में मदद करेंगे।
  • आपको स्वयं और अपनी समस्या अच्छे से समझने में
  • ज़्यादा आत्म विश्वास पैदा करने में
  • अन्य लोगों के नज़रिए के बारे में बेहतर समझ विकसित करने में

परामर्श में हमेशा अपनी परेशानी या दर्दभरी भावना के बारे में बात करना शामिल हो सकता है। क्योंकि जब आप उनका सामना करना शुरू करते हैं तो आप कुछ जगहों पर बुरा महसूस कर सकते हैं। हालांकि आपके थेरेपिस्ट के समर्थन और मदद से आप धीरे-धीरे अच्छा महसूस करना शुरू कर सकते हैं।

ज़्यादातर मामलों में परामर्श शुरू होने से पहले इसे थोड़ा अलग बनाने के लिए इसके कई सत्र लगते हैं और थेरेपी का सबसे अच्छा इस्तेमाल करने के लिए एक नियमित प्रतिबद्धता की ज़रूरत होती है।

परामर्श से क्या अपेक्षा रखें (What to expect from counselling)

आपके परामर्श सेशन के दौरान आपको अपनी भावना या अनुभूति को जाहिर करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। आपके साथ आपकी चिंताओं पर चर्चा करके, सलाहकार आपकी भावनाओं और विचार के प्रक्रियाओं की बेहतर समझ हासिल करने में आपकी मदद कर सकता है, साथ ही साथ समस्याओं के समाधान के अपने तरीकों की पहचान कर सकता है।

किसी के साथ अपनी चिंता और डर को साझा करना बहुत आराम दे सकता है जो आपकी भावना को स्वीकार करता है और आपको उसके सकारात्मक समाधान तक पहुँचाने में मदद करता है।

परामर्श दिया जा सकता है:

  • आमने-सामने
  • अकेले या समूह में
  • फोन पर
  • ईमेल से
  • स्पेशलाइज़्ड कम्प्यूटर प्रोग्राम का इस्तेमाल करके

आपको एकल सेशन के परामर्श की पेशकश की जा सकती है जैसे कि कुछ हफ्तों या महीनों में सेशन के एक छोटे कोर्स के रूप में, या एक लंबे कोर्स के रूप में जो कई महीनों या वर्षों तक चलता है।

आपने सलाहकार पर भरोसा करना (Trusting your counsellor)

एक अच्छा सलाहकार आप पर ध्यान देता है और बिना आपकी आलोचना किये आपको सुनता है। आप अपनी परेशानी से कैसे निपट सकते हैं वे इसके बारे में पता लगाने में आपकी मदद कर सकते हैं। लेकिन आपको क्या करना है वह इसके बारे में नहीं बताते।

सलाह को असरदार बनाने के लिए आपको अपने सलाहकार के साथ एक भरोसेमंद और सुरक्षित सबंध बनाने की ज़रूरत पड़ सकती है। यदि आपको लगता है कि आप और आपके सलाहकार नहीं समझ रहे हैं, या आप अपने सेशन में अधिक चीजें नहीं समझ पा रहे हैं, तो आपको उनके साथ इस पर चर्चा करनी चाहिए, या आप किसी अन्य सलाहकार की तलाश कर सकते हैं।

परामर्श कौन देता है? (Who provides counselling?)

परामर्श में संवेदनशील मुद्दों पर बात करना और अपने निजी विचारों और भावनाओं को बताना शामिल होता है इसलिये आपका सलाहकार पेशेवर रूप से योग्य और अनुभवी होना चाहिए।

मनोवैज्ञानिक थेरेपी के लिए विभिन्न स्वास्थ्य पेशेवरों को परामर्श में प्रशिक्षित किया जा सकता है। इसमें शामिल है:

  • सलाहकार (counsellors): आपको अपने जीवन और पास के किसी भी मुद्दे से बेहतर तरीके से निपटने में मदद की सलाह देने के लिए प्रशिक्षित किया गया होता है।
  • क्लिनिकल और काउंसलिंग साइकोलॉजिस्ट: हेल्थकेयर पेशेवर जो सबूत पर आधारित मनोवैज्ञानिक थेरेपी का इस्तेमाल करके मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों का आकलन करने और उनका इलाज करने में विशेषज्ञ होते हैं
  • मनोचिकित्सक (psychiatrist): योग्य मेडिकल डॉक्टर जिन्हें मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों का पता लगाने और इलाज करने के लिए पहले से प्रशिक्षण मिला होता है।
  • साइको थेरेपिस्ट (psychotherapist): परामर्शदाताओं के जैसे होते हैं लेकिन उन्होंने आमतौर पर अधिक व्यापक प्रशिक्षण प्राप्त किया होता है। ये अक्सर योग्य मनोवैज्ञानिक या मनोचिकित्सक भी होते हैं
  • कॉग्निटिव बिहेवरियल साइको थेरेपिस्ट: कई पेशेवर जगहों से आ सकते हैं और कॉग्निटिव बिहेवरियल थेरेपी (cognitive behaviour therapy) में प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं;

चैरिटी और स्वैच्छिक संगठन

चैरिटी और स्वैच्छिक संगठन (Charities and voluntary organisations)

कुछ चैरिटी और स्वैच्छिक संगठन भी सलाह की पेशकश करते हैं। यह संगठन आमतौर पर विशेष क्षेत्र के विशेषज्ञ होते हैं जैसे कि जोड़ों को, मौत के दुःख से उबरने में या परिवार का मार्गदर्शन में सलाह देना।

चैरिटी जिन सलाहों की पेशकश करती हैं उसमें ये शामिल हैं

  • क्रूज़ बेरेवमेंट केयर - शोक सम्बन्धी सलाह और समर्थन प्रदान करता ह
  • रिलेट - सम्बन्ध से जुड़ी सलाह और परामर्श प्रदान करता है
  • रेप क्राइसिस - उन महिलाओं और लड़कियों के लिए जिनके साथ बलात्कार या यौन दुराचार हुआ है।
  • विक्टिम सपोर्ट - पीड़ितों और अपराध के गवाहों को सहायता और समर्थन प्रदान करता है

आप अपने स्थानीय समुदाय, चर्च या सामाजिक सेवाओं के माध्यम से सहायता समूहों तक पहुंचने में सक्षम हो सकते हैं।

एक योग्य सलाहकार खोजना (Finding a qualified counsellor)

अधिकांश प्रतिष्ठित सलाहकारों को एक पेशेवर संगठन के साथ पंजीकृत किया जाता है जिसे एक सरकारी निकाय प्रोफेशनल स्टैंडर्ड ऑथोरिटी (पीएसए) द्वारा मान्यता प्राप्त हो।

परामर्श और क्लिनिकल ​​मनोवैज्ञानिकों को हेल्थ एंड केयर प्रोफेशन्स काउंसिल (HCPC) के साथ पंजीकृत होना चाहिए।

एक पेशेवर एसोसिएशन के साथ पंजीकृत थेरेपिस्ट शासन, मानक सेटिंग, शिक्षा और प्रशिक्षण, सूचना, प्रबंधन और शिकायतों के लिए PSA की ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं। उन्हें उच्च नैतिक और प्रोफेशनल मानकों को भी बनाए रखना चाहिए। यह जनता को अधिक सुरक्षा प्रदान करता है, और न्यूनतम स्तर के प्रशिक्षण और लगातार प्रोफेशनल विकास की गारंटी देता है।

PSA की वेबसाइट आपको एक प्रैक्टिशनर की जांच तीन सरल चरणों में करने की अनुमति देती है।

बातचीत की थेरेपी (talking therapies)

परामर्श के साथ-साथ बहुत सी अन्य मनोवैज्ञानिक थेरेपी भी होती हैं जिसमें साइकोथेरेपी (psychotherapy) और कॉग्निटिव बिहेवरियल थेरेपी (cognitive behavioral therapy) शामिल है।

यह पेज कवर करता है

  • साइकोथेरेपी (psychotherapy)
  • कॉग्निटिव बिहेवरियल थेरेपी (cognitive behavioural therapy (CBT)
  • मानवीय थेरेपी (humanistic therapy)
  • सामूहिक थेरेपी (group therapy)
  • रिलेशनशिप थेरेपी (relationship therapy)
  • माइंडफुलनेस (mindfulness) पर आधारित थेरेपी
  • आई मूमेंट डीसेंसिटीसेशन एंड रिप्रोसेसिंग (eye movement desensitisation and reprocessing)
  • फोन पर परामर्श

साइकोथेरेपी (psychotherapy)

परामर्श के जैसे ही साइकोथेरेपी (psychotherapy) को कभी-कभी बातचीत की थेरेपी के रूप में बतलाया जाता है। हालांकि साइकोथेरेपी (psychotherapy) भी एक विशेष प्रकार की थेरेपी है। इसको साइकोएनालिटिक (psychoanalytic) या सैकोडायनामिक (psychodynamic) नाम से भी जानते हैं।

साइकोथेरेपी (psychotherapy) परामर्श की तुलना में ज़्यादा गहरे प्रकार की थेरेपी है। और इसका इस्तेमाल बहुत सारी समस्याओं का पता लगाने के लिये कर सकते हैं।

एक साइकोथेरेपिस्ट (psychotherapist) आपको आपके विचार, भावनाओं और विश्वास का पता लगाने में मदद कर सकता है। जिसमें पिछली घटनाओं जैसे कि आपके बचपन के विषय में चर्चा करना शामिल हो सकता है।

वे आपको यह सोचने में मदद करेंगे कि आपका व्यक्तित्व और जीवन के अनुभव आपके वर्तमान विचारों, भावनाओं, संबंधों और बर्ताव पर कैसे असर डालते हैं। यह समझ आपको कठिन परिस्थितियों से अधिक प्रभावी ढंग से निपटने में सक्षम बनाना चाहिए।

आपकी परेशानी के आधार पर, मनोचिकित्सा अल्प या दीर्घकालिक हो सकती है। वयस्क, युवा और बच्चे सभी मनोचिकित्सा से लाभ उठा सकते हैं। सेशन एक के साथ एक के आधार पर, जोड़ों में, परिवारों में या उन समूहों में हो सकते हैं जिनके सदस्य समान समस्याएं साझा करते हैं।

मनोवैज्ञानिक थेरेपी में सुधार (IAPT) कार्यक्रम एक प्रकार से विशेष सबूतों पर आधारित संक्षिप्त मनोचिकित्सा प्रदान करता है जिसे डायनेमिक इंटरपर्सनल थेरेपी (DIT) कहा जाता है। यह थेरेपी के 16 सेशन पर केंद्रित दृष्टिकोण प्रदान करता है।

कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी (cognitive behavioral therapy)

कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी (cognitive behavioral therapy) एक बातचीत की थेरेपी है जो आपकी विचार, भावनाओं और व्यवहार के बीच के सबंध को समझने में मदद करती है। यह आपकी सोच और व्यवहार के तरीके में बदलाव लाकर परेशानी को ठीक करने में मदद करती है।

CBT आपकी परेशानी को खत्म नहीं करता लेकिन उन्हें प्रभावित तरीके से संभालने में मदद करता है। यह आपको जांच करने के लिए प्रोत्साहित करती है कि कैसे आपकी क्रियाएं और विचार आप जो सोचते हैं उसपर असर डालती है।

यह इस योजना पर आधारित है कि आप परिस्थिति के बारे में जिस तरीके से सोचते हैं वह आप कैसा महसूस करते हैं और कैसी क्रिया करते हैं इसपर असर डालता है।बदले में, आपकी क्रिया आपके सोचने और महसूस करने के तरीके को प्रभावित करते हैं। इसलिए यह सोच और क्रिया दोनों को बदलना ज़रूरी है।

CBT एक सक्रिय थेरेपी है और आपसे अपेक्षा रखी जाती है कि सेशन के बीच में आप अपनी समस्या पर काम करेंगे। अपने थेरेपिस्ट से सहमत होते हुए अपने सोचने और काम करने के अलग तरीकों का प्रयास करेंगे। इसका उद्देश्य आप में ऐसा कौशल विकसित करना है कि आप अपने थेरेपिस्ट बन सकें।

CBT आमतौर पर एक अल्पकालिक इलाज होता है। उदाहरण के लिए एक कोर्स में 6 और 24 घंटे के बीच एक सेशन शामिल हो सकता है।

मानवीय थेरेपी (humanistic therapy)

मानवीय थेरेपी (humanistic therapy) में आपका शरीर, दिमाग, भावना, बर्ताव और आत्मा शामिल होते हैं। यह आपको अपने विचार और बर्ताव के बारे में सोचने और आपके क्रिया की ज़िम्मेदारी लेने के लिए प्रोत्साहित करते हैं ।

एक मानवतावादी नज़रिया सलाह का एक अलग तरीका प्रदान करता है और मुख्य रूप से रचनात्मकता, विकास, प्रेम और मनोवैज्ञानिक समझ का पता लगाने के लिए किसी व्यक्ति के खास व्यक्तिगत क्षमता पर केंद्रित होता है।

सामूहिक थेरेपी (group therapy)

सामूहिक थेरेपी (group therapy) का उद्देश्य आपके द्वारा सामूहिक चर्चा करके अपनी परेशानियों का समाधान निकालने में मदद करना है। सेशन की शुरुआत एक सूत्रधार द्वारा करते हैं जो बातचीत के प्रवाह को बनाये रखता है।

सामूहिक थेरेपी (group therapy) के साथ साथ बहुत से लोग साइकोएजुकेशनल समूह या कोर्स (psycho educational group or course) को बहुत उपयोगी पाते हैं। ये निजी समस्या को बिना गहराई से जाने जानकारी और कौशल प्रदान करती हैं।

बहुत से लोग प्रारम्भ में समूह में भाग लेने को लेकर चिंतित हो जाते हैं लेकिन वे पाते हैं कि ऐसे लोगों से मिलना उन्हें लाभान्वित करता है जो समान अनुभवों को साझा करते हैं और उन्हें दूर करने के लिए मिलकर काम करते हैं।

रिलेशनशिप थेरेपी (relationship therapy)

रिलेशनशिप थेरेपी (relationship therapy) जहां लोगों को रिलेशनशिप समस्याएं होती हैं वह थेरेपिस्ट से मिलकर अपनी समस्या का समाधान करते हैं। यह जोड़ों, पारिवारिक सदस्यों और काम के कर्मचारियों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

पारिवारिक थेरेपी (family therapy) डिप्रेशन वाले बच्चों के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है या जहां परिवार के सदस्यों को मानसिक स्वास्थ्य की समस्या होती है, जैसे कि एनोरेक्सिया या स्किज़ोफ़्रेनिया।

माइंडफुलनेस पर आधारित थेरेपी (Mindfulness-based therapies)

माइंडफुलनेस (mindfulness) पर आधारित थेरेपी बिना व्याकुल हुए आपके विचार और भावना पर ध्यान देने पर मदद कर सकती है।

इनका इस्तेमाल डिप्रेशन, तनाव, चिंता और नशे की लत के इलाज में मदद करने के लिए किया जा सकता है। योग, ध्यान और सांस के व्यायाम जैसी तकनीकों को भी शामिल किया जा सकता है।

आई मूवमेंट डीसेंसिटीसेशन एंड रिप्रोसेसिंग (Eye movement desensitisation and reprocessing)

आई मूमेंट डीसेंसिटीसेशन एंड रिप्रोसेसिंग वह इलाज है जो दिमाग को उत्तेजित करने के लिए आँख घुमाने का इस्तेमाल करते हैं। यह देखा गया है कि यह परेशान करने वाली यादों के असर को कम करता है।

EMDR एक व्यक्ति को दर्दनाक यादों जैसे कि दुर्घटना, यौन, शारीरिक या भावनात्मक शोषण से निपटने में मदद कर सकता है ।

टेलीफोन सलाह (Telephone counselling)

समरिटन्स उन लोगों के लिए एक गोपनीय सुनने की सेवा प्रदान करता है जो ऐसे लोगों के बारे में बात करना चाहते हैं जो उन्हें परेशान कर रहे हैं। सब कुछ रिकॉर्ड के बाहर और बिना आपके मूल्यांकन के होता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।