COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
8 min read

मुँह का अल्सर (mouth ulcers)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

मुँह का अल्सर एक प्रकार का दर्दनाक घाव है जो मुँह में होता है। हालांकि ये असहज होते हैं, पर आमतौर पर हानिरहित होते हैं और ज़्यादातर एक दो हफ्ते में अपने आप ठीक हो जाते हैं।

मुँह का अल्सर (mouth ulcers) सामान्य है और आमतौर पर बिना डेंटिस्ट या डॉक्टर को दिखाए घर पर ठीक किया जा सकता है। ऐसे मामले में फार्मासिस्ट के पास पहले जाएं, जबतक आपका अल्सर तीन हफ्ते से ज़्यादा नहीं रहता।

मुँह का अल्सर कैसा दिखता है? (What does a mouth ulcer look like?)

मुँह का अल्सर (mouth ulcers) आमतौर पर गोल या अंडाकार होते हैं जो सामान्य रूप से मुँह के अंदर इन जगहों पर होते हैं :

  • गाल
  • होंठ
  • जीभ

ये सफेद, लाल, पीले या भूरे रंग के और फूले हुए होते हैं।

एक समय में एक से अधिक मुंह का अल्सर (mouth ulcers) होना संभव है और वे फैल या बढ़ सकते हैं।

मुँह के अल्सर (mouth ulcers) को होंठ पर और मुँह के चारों ओर होने वाले मुँह के छाले (cold sores) समझकर भ्रमित नहीं होना चाहिए। मुँह के छाले (cold sores) हमेशा मुँह के चारों ओर गुदगुदी, खुजली ,या जलन से शुरू होते हैं।

अपने फार्मासिस्ट, डेंटिस्ट या डॉक्टर को कब दिखाएं (When to see your pharmacist, dentist or doctor)

मुँह का अल्सर (mouth ulcers) दर्दनाक हो सकता है जो खाना, पीना और दांतों को ब्रश करना मुश्किल कर सकता है।

अमतौर पर मुँह के अल्सर (mouth ulcers) को घर पर ठीक करना सुरक्षित होता है। अपने डॉक्टर या डेंटिस्ट को दिखाएं अगर:

  • आपके मुँह का अल्सर (mouth ulcers) तीन हफ्ते से ज़्यादा समय से बना हुआ है।
  • आपको लगातार मुँह का अल्सर (mouth ulcers) हो रहा है
  • आपके मुँह का अल्सर (mouth ulcers) ज़्यादा दर्दनाक और लाल हो गया है। यह बैक्टीरियल संक्रमण का संकेत हो सकता है जिसे एंटीबायोटिक (antibiotics) द्वारा इलाज की ज़रूरत पड़ सकती है।

मुँह का अल्सर (mouth ulcers) संभावित रूप से वायरल संक्रमण का लक्षण हो सकता है, जो मुख्य रूप से बच्चों को प्रभावित करते हैं। इसे हाथ, पैर और मुँह की बीमारी (hand, foot and mouth disease) कहते हैं। अगर आप अनिश्चित हैं तो आपके डॉक्टर से बात करें।

हाथ, पैर और मुँह की बीमारी के लक्षण के बारे में और पढ़ें।

मुँह के अल्सर का इलाज कैसे करते हैं? (How to treat mouth ulcers?)

मुँह के अल्सर (mouth ulcers) को अमतौर पर इलाज की ज़रूरत नहीं पड़ती है क्योंकि वो खुद ही एक दो हफ्ते में ठीक हो जाते हैं।

हालांकि इलाज सूजन को कम करने और असहजता से आराम दिलाने में मदद करता है। अगर आपको लगातार मुँह का अल्सर (mouth ulcers) हो रहा है या आपके मुंह का अल्सर खाने पीने को प्रभावित करता है तो यह आपकी मदद कर सकता है।

सेल्फ केयर (self-care)

इलाज में तेज़ी के लिए आप ये चीज़ें कर सकते हैं

  • फार्मासिस्ट द्वारा बताये हुए प्रोटेक्टिव पेस्ट का इस्तेमाल
  • दांतो को ब्रश करने के लिए नरम टूथब्रश का इस्तेमाल
  • टूथपेस्ट का इस्तेमाल जिसमें सोडीयम लॉरिल सल्फेट न मिला हो क्योंकि ये परेशान कर सकता है।
  • कठोर, मसालेदार, नमकीन, गर्म खाने और पेय से बचना जबतक अल्सर (ulcers) ठीक नहीं हो जाता।
  • ठंडे पेय को पीने के लिए स्ट्रॉ का इस्तेमाल करना
  • उन चीज़ों से बचना जो आपके मुंह के अल्सर (mouth ulcers) को प्रभावित करते हैं। कारण नीचे देखें

फार्मसी की दवाएं (Pharmacy medicines)

आप फार्मसी से कई प्रकार की मुँह के अल्सर (mouth ulcers) की दवाई खरीद सकते हैं। अपने लिए सबसे बढ़िया इलाज के लिए अपने फार्मासिस्ट से बात करें । निम्न विकल्प मौजूद हैं:

  • एंटीमाइक्रोबियल माउथवॉश (antimicrobial mouthwash) इलाज को तेज कर सकता है और अल्सर के संक्रमण को रोक सकता है। 2 साल से कम उम्र के बच्चों को ये इलाज नहीं लेना चाहिए। इसमें क्लोरहेक्सिडिन ग्लूकोनेट भी मिला होता है। जो आपके दांतों पर दाग ला सकते हैं। लेकिन एक बार इलाज खत्म होने के बाद ये गायब हो जाते हैं।
  • माउथवॉश, लोजेंगेस, जेल या स्प्रे के रूप में दर्दनिवारक उपलब्ध हैं। लेकिन ये अस्थायी हैं। अगर चुभन जारी है तो माउथवॉश को पानी में घोल सकते हैं। 12 साल से कम उम्र के बच्चों को माउथवॉश या जेल इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। माउथवॉश एक बार में 7 दिन से ज़्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • कोर्टिकोस्टेरॉइड लोजेंगेस (corticosteroid lozenges) दर्द को कम और इलाज को तेज कर सकते हैं। इनको जितनी जल्दी अल्सर हो उतनी जल्दी इस्तेमाल करना अच्छा होता है। लेकिन 12 साल से कम उम्र के बच्चों को इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

डेंटिस्ट या डॉक्टर से मिलने वाली दवाएं (Medicines from your dentist or doctor)

अगर ज़रूरत पड़ी तो दर्द और सूजन को कम करने और इलाज को तेज करने के लिए आपको स्ट्रांग कोर्टिकोस्टेरॉइड दी जा सकती है।

कोर्टिकोस्टेरॉइड (corticosteroid) टैबलेट, माउथवॉश, पेस्ट, स्प्रे के रूप में लिखे जाते हैं। लेकिन 12 साल से छोटे बच्चों के लिए ठीक नहीं हैं।

क्या यह मुँह का कैंसर है? (Is it mouth cancer?)

कुछ मामलों में लम्बे समय तक रहने वाला मुँह का अल्सर (mouth ulcer) मुँह के कैंसर का संकेत हो सकता है।

खतरे के कारक जो मुँह के कैंसर (mouth cancer) के लिए शामिल हैं:

  • धूम्रपान या उस उत्पाद का इस्तेमाल करना जिसमें तम्बाकू होता है
  • शराब पीना - धूम्रपान करने वाले जो बहुत शराब भी पीते हैं उन्हें बड़ी संख्या की तुलना में बहुत ज़्यादा खतरा रहता है।
  • ह्यूमन पैपिलोमा वायरस से संक्रमण - जो जेनिटल वार्ट का कारण बनता है।

मुँह के कैंसर (mouth cancer) का जितनी जल्दी हो सके पता लगाना आवश्यक है। अगर मुँह के कैंसर (mouth cancer) का जल्दी पता चल जाता है तो इसके पूरी तरह ठीक होने की संभावना अधिक होती है। नियमित रूप से दांतों की जांच शुरुआती संकेतो के पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका है।

मुँह के अल्सर का क्या कारण है? (What causes mouth ulcers?)

ज्यादातर मामलों में मुँह के अल्सर (mouth ulcers) का कारण अज्ञात है। ज़्यादातर एकल मुँह के अल्सर (mouth ulcers) मुँह के अंदर की झिल्ली को नुकसान पहुँचने के कारण होता है। उदाहरण के लिए

  • दुर्घटनावश या तेज़ दांत से अपने अंदर के गाल को काट लेना
  • खराब तरीके से लगा हुआ डेन्चर (denture)
  • कठोर भोजन
  • एक खराब फिलिंग

यह हमेशा स्पष्ट नहीं होता कि मुँह के अल्सर (mouth ulcers) का क्या कारण है जो बार-बार आता है। लेकिन प्रभावित करने में ये शामिल हो सकते हैं:

  • तनाव और चिंता
  • हार्मोनल परिवर्तन - कुछ महिलाओं को माहवारी के दौरान मुँह का अल्सर (mouth ulcers) होता है
  • कुछ खानों से जैसे कि चॉकलेट, मसालेदार खाने, कॉफी, मूंगफली, बादाम, स्ट्राबेरी, चीज़, टमाटर, और गेहूं के आटे से।
  • टूथपेस्ट जिसमें सोडियम लॉरिल सल्फेट (sodium lauryl sulphate) होता है।
  • धूम्रपान छोड़ने से - जब आप पहली बार धूम्रपान छोड़ेंगे तो आपको मुँह का अल्सर (mouth ulcers) हो सकता है

आपकी जीन भी भूमिका निभाती है- लगभग 40% लोगों को लगातार मुँह का अल्सर (mouth ulcers) होता है क्योंकि ये परिवार से चला आ रहा है।

मेडिकल अवस्था (Medical conditions)

मुँह का अल्सर कभी-कभी कुछ मेडिकल अवस्थाओं से भी हो सकता है जैसे कि,

  • वायरल संक्रमण - जिसमें मुँह के छाले के वायरस, चिकनपॉक्स, हाथ पैर और मुँह की बीमारी शामिल है।
  • विटामिन बी12 या आयरन की कमी
  • क्रोन बीमारी - एक दीर्घकालिक समस्या जो पाचन तंत्र की झिल्ली पर सूजन का कारण बनती है।
  • सिलियक बीमारी- एक सामान्य पाचन की अवस्था जहां किसी व्यक्ति को ग्लूटेन पर विपरीत प्रतिक्रिया होती है
  • रिएक्टिव अर्थराइटिस (reactive arthritis) - एक अवस्था जो आमतौर पर संक्रमण की प्रतिक्रिया के रूप में शरीर के विभिन्न जगहों पर सूजन का कारण बनता है।
  • कमज़ोर इम्यून सिस्टम - उदाहरण के लिए एचआईवी या लूपस के कारण।
  • बहकेट्स बीमारी : एक दुर्लभ और खराब समझ वाली स्थिति जो धमनियों की सूजन का कारण बनती है।

दवाएं और इलाज (Medications and treatments)

मुँह का अल्सर (mouth ulcers) कभी-कभी कुछ दवाओं या इलाजों के कारण भी हो सकता है जैसे कि

क्या मुँह के अल्सर को रोक सकते हैं? (Can mouth ulcers be prevented?)

मुँह के अल्सर (mouth ulcers) को रोकना संभव नहीं है। क्योंकि वो हमेशा ऐसी चीज़ों के कारण होते हैं जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते हैं। जैसे कि परिवार का इतिहास या मेडिकल अवस्था ।

हालांकि निम्न उपाय मुँह का अल्सर (mouth ulcers) होने के खतरे को कम कर सकते हैं।

  • खाने की कुछ चीज़ों से बचाव जैसे कि चॉकलेट, मसालेदार खाने, कॉफी, मूंगफली, बादाम, स्ट्राबेरी, चीज़, टमाटर, और गेहूं के आटे से अगर वो आपके अल्सर का कारण बन रहे हैं
  • च्विंगम न चबाएं
  • नरम ब्रिसल वाले ब्रश से अपने दांत ब्रश करें। जो आपके मुंह में होने वाली तकलीफ को कम कर सकता है।
  • उस टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें जिसमें सोडीयम लॉरिल सल्फेट ना हो।
  • तनाव और चिंता को कम करें- जो कुछ लोगों को प्रभावित कर सकता है।
NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।