लो फ़ोडमैप डाइट (FODMAP diet) क्या है?

24th August, 2022 • 4 min read

लो फ़ोडमैप डाइट एक एलिमिनेशन (उन्मूलन) डाइट होता है, जो आमतौर पर इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) के लक्षणों वाले लोगों की मदद करने के लिए उपयोग किया जाता है, जैसे कि सूजन (bloating) और कब्ज (constipation) में।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है। यह Amelia Glean द्वारा लिखा गया है और Dr Ann Nainan ने इसकी मेडिकल समीक्षा की है।

किसी एलिमिनेशन डाइट में उन खाद्य पदार्थों को हटाना शामिल होता है, जिन पर आपको संदेह होता है कि उनके कारण आपकी तकलीफें बढ़ रही हैं, और फिर धीरे-धीरे उन्हें शामिल किया जाने लगता है यह देखने के लिए कि क्या आपके लक्षण वापस आ रहे हैं।

आमतौर पर, आपको जिन खाद्य पदार्थों पर संदेह होता है कि वे आपमें वैसे लक्षण पैदा कर रहे हैं, तो एक समय में आपके आहार से उनमें से 1 को निकाला जा सकता है यह देखने के लिए कि उसका क्या प्रभाव पड़ता है। ऐसे खाद्य पदार्थों को 2 से 6 सप्ताह के लिए आपके डाइट से दूर रखा जा सकता है, जिस दौरान आप देख सकते हैं कि आपके लक्षणों में सुधार हुआ है या नहीं।

इस प्रकार का डाइट इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) जैसी स्थितियों से निपटने के लिए प्रभावी हो सकता है क्योंकि यह आपको पहचानने में मदद करता है कि कौन से खाद्य पदार्थ आपके लिए समस्याएँ पैदा करते हैं।

तो, लो फ़ोडमैप डाइट (FODMAP diet) आखिर क्या होता है?

‘फ़ोडमैप’ (FODMAP) का क्या अर्थ होता है?

फ़ोडमैप (FODMAP) का अर्थ है फ़रमेंटेबल, ऑलिगोसैकेराइड, डिसैक्राइड, मोनोसैकेराइड और पॉलीओल्स।

ये कुछ फलों और सब्जियों, दूध और गेहूं में पाए जाने वाले सरल और कॉम्प्लेक्स शुगर का एक संग्रह हैं, जिन्हें आंत को तोड़ने और अवशोषित करने में कठिनाई होती है।

लो फ़ोडमैप डाइट (FODMAP diet) क्या करता है?

लो फ़ोडमैप डाइट (FODMAP diet) आपके आहार में इन शुगर (sugar) की मात्रा को सीमित करने के लिए इनमें से कुछ या सभी खाद्य पदार्थों को हटा देता है।

यह पेट के बैक्टीरिया द्वारा उत्पादित गैस की मात्रा को कम करता है, जब आपका भोजन पच रहा होता है और वायु, सूजन, और दर्द सहित इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) से जुड़े लक्षणों में सुधार लाने में मदद कर सकता है।

आप लो फ़ोडमैप डाइट (FODMAP diet) में क्या कम खा सकते हैं?

कुछ खाद्य पदार्थों को 'उच्च फ़ोडमैप’ (high FODMAP) माना जाता है, जिसका अर्थ है कि उन्हें पचाना मुश्किल होता है और ये इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम वाले लोगों में लक्षणों को बदतर बनाने के लिए जाने जाते हैं।
आप लो फ़ोडमैप (FODMAP diet) में क्या अधिक खा सकते हैं?

कुछ खाद्य पदार्थों को ‘लो फ़ोडमैप’ खाद्य पदार्थ माना जाता है, जिसका अर्थ है कि उन्हें इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (आईबीएस) वाले लोगों के लिए पचाना आसान माना जाता है।

याद रखें कि यह सलाह उन खाद्य पदार्थों को सीमित करने के लिए है, जो आपके लिए समस्याएँ पैदा कर रहे हैं, ना कि सभी हाई फ़ोडमैप खाद्य पदार्थों को हटाकर उनकी जगह लो फ़ोडमैप को शामिल करने के लिए है।

क्या आपको लो फ़ोडमैप अपनाने से पहले डॉक्टर से मिलना चाहिए?

यदि आपमें इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षण हैं और आप लो फ़ोडमैप डाइट को आजमाना चाहते हैं, तो आपको ऐसा करने से पहले डॉक्टर या डायटीशियन से परामर्श लेनी चाहिए।

एक लो फ़ोडमैप डाइट का पालन करना मुश्किल हो सकता है, इसलिए आपको एक डायटीशियन के मार्गदर्शन से मदद मिल सकती है, जो यह सुनिश्चित कर सकते है कि आप अभी भी अपने भोजन में प्रमुख खाद्य समूहों में से प्रत्येक का सेवन कर रहे हैं, जो निम्न हैं:
• फल और सब्जियाँ
• स्टार्चयुक्त भोजन
• प्रोटीन
• डेरी प्रोडक्ट्स
• फैट्स

एक डायटीशियन आपको सबसे अपडेटेड फ़ोडमैप भोजन की लिस्ट भी प्रदान कर सकते है – जबकि ऑनलाइन पाए जाने वाली लिस्ट गलत या पुरानी हो सकती हैं।

क्या लो फ़ोडमैप (low FODMAP diet) डाइट वास्तव में काम करता है?

हाई फ़ोडमैप खाद्य पदार्थों को कम करने से 4 में से 3 लोगों में इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षणों में सुधार हो सकता है।

हालांकि, लो फ़ोडमैप डाइट का पालन करना आसान नहीं है, इसलिए यह जाँचने के लिए कि यह कितना प्रभावी है, आपको धीरे-धीरे अपने डाइट में फिर से शामिल करने से पहले बहुत सारे खाद्य पदार्थों को हटाना होगा।

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षणों से निपटने के बारे में अधिक मार्गदर्शन के लिए, इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के निदान और उपचार (diagnosing and treating IBS) के बारे में पढ़ें।

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।