COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
2nd March, 202120 min read

एक्यूट अग्नाशयशोथ (Acute pancreatitis)

Medical Reviewer: Dr Ann Nainan
मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है और इसकी मेडिकल समीक्षा Dr Ann Nainan ने की है।

एक्यूट अग्नाशयशोथ एक ऐसी गंभीर स्थिति है, जिसमें अग्न्याशय में बहुत ही कम समय में सूजन हो जाती हैI

एक्यूट अग्नाशयशोथ (acute pancreatitis) से पीड़ित ज्यादातर लोग एक सप्ताह के भीतर बेहतर होने लगते हैं और आगे होने वाली गंभीर समस्याओं का अनुभव नहीं करतें हैं,लेकिन गंभीर मामलों में जटिलताएँ हो सकती हैं और यह घातक भी हो सकता है।

एक्यूट अग्नाशयशोथ, क्रोनिक अग्नाशयशोथ (chronic pancreatitis) से भिन्न है, जिसमे अग्नाशयशोथ की सूजन कई वर्षों तक बनी रहती है

एक्यूट अग्नाशयशोथ के सबसे आम लक्षणों में शामिल हैं:

  • आपके पेट के बीच के हिस्से में अचानक तेज़ दर्द होना
  • उबकाई आना
  • उल्टी होना

एक्यूट अग्नाशयशोथ के लक्षणों और इस रोग के निदान के बारे में अधिक पढ़ेंI

मेडिकल सहायता कब लेनी चाहिए

आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें यदि आपको अचानक पेट में तेजी से दर्द होने लगता है I यदि यह संभव नहीं है, तो सलाह के लिए आप अपने स्थानीय स्वास्थ्य सेवा से संपर्क करें I

ऐसा क्यों होता है

यह माना जाता है कि एक्यूट अग्नाशयशोथ तब होता है जब अग्न्याशय में कुछ एंजाइमों (enzymes) के साथ कोई समस्या विकसित हो जाए, जिसके कारण वे अंग को पचाने का प्रयास करते हैं।

एक्यूट अग्नाशयशोथ अक्सर इन सब चीज़ों से जुड़ा होता है:

  • पित्ताशय की पथरी (gallstones), ऐसी स्थितियों के आधे मामलों का कारण है
  • शराब का सेवन, जो लगभग ऐसी स्थितियों का एक चौथाई हिस्सा है

आप एक्यूट अग्नाशयशोथ के विकास की संभावनाओं को कम कर सकते हैं यदि आप, शराब के सेवन को कम करे और पित्त पथरी को कम करने के लिए अपने आहार में बदलाव करे।

एक्यूट अग्नाशयशोथ के कारणों और इसे रोकने के तरीकों के बारे में अधिक पढ़ेंI

कौन प्रभावित होता है?

एक्यूट अग्नाशयशोथ मध्यम आयु वर्ग और बुजुर्ग लोगों में अधिक सामान्य है, लेकिन यह किसी भी आयु के लोगों को प्रभावित कर सकता है I

पुरुषों में शराब से संबंधित अग्नाशयशोथ विकसित होने की संभावना अधिक होती है , जबकि महिलाओं में पित्ताशय (gallstones) की पथरी विकसित होने की अधिक संभावना होती है I

एक्यूट अग्नाशयशोथ का इलाज कैसे किया जाता है?

वर्तमान में एक्यूट अग्नाशयशोथ का कोई इलाज नहीं है, इसलिए जब तक कि सूजन कम न हो जाए, इलाज शरीर के कार्यों का समर्थन करने करने पर केंद्रित होता हैI

इसमें आम तौर पर अस्पताल में रहना पड़ सकता है ताकि आपको नसों में तरल पदार्थ (intravenous fluids), दर्द से राहत, पोषण संबंधी सहायता और आपकी नाक में ट्यूब के माध्यम से ऑक्सीजन, दिया जा सके।

ज्यादातर एक्यूट अग्नाशयशोथ वाले लोग एक सप्ताह के भीतर बेहतर होने लगते हैं और 5-10 दिनों के बाद अस्पताल से घर जाने लायक हो जाते हैंI

हालांकि, गंभीर मामलों में जटिलताओं के कारण स्वास्थ्य लाभ होने में अधिक समय लगता है, क्योंकि अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता होती है।

एक्यूट अग्नाशयशोथ के इलाज के बारे में और पढ़ें।

एक्यूट अग्नाशयशोथ की जटिलताएं

एक्यूट अग्नाशयशोथ के पाँच में से चार मामलों में तेजी से सुधार होता है और इससे कोई गंभीर समस्या नहीं होती हैI हालांकि, हर पाँच में से एक मामला गंभीर है और इसके परिणामस्वरूप जीवन के लिए खतरनाक जटिलतायें हो सकती हैं, जैसे शरीर के कई अंग खराब हो जानाI

गंभीर मामलों में जहाँ जटिलताएं पैदा होती हैं, वहां जीवन के जानलेवा होने का बड़ा खतरा होता हैI

यदि कोई व्यक्ति एक्यूट अग्नाशयशोथ के प्रभाव से बच जाता है, तो अस्पताल से ठीक हो कर जाने में उन्हें कुछ हफ़्तों महीने तक लग सकते है I

एक्यूट अग्नाशयशोथ की संभावित जटिलताओं के बारे में अधिक पढ़ेंI

एक्यूट अग्नाशयशोथ के लक्षण

एक्यूट अग्नाशयशोथ का मुख्य लक्षण अचानक आपके पेट के ऊपर वाले भाग में गंभीर दर्द महसूस होना हैI

यह दर्द अक्सर लगातार बढ़ता जाता है और आपकी पीठ तक भी पहुँच सकता है। हो सकता है आप खाने के बाद बदतर महसूस करें। आगे झुकने या एक गेंद की तरह गोल हो कर लेटने से आपको दर्द से राहत मिल सकती है।

यदि आपको पित्त पथरी के कारण तीव्र अग्नाशयशोथ की समस्या है, तो अक्सर ज्यादा भोजन खाने से आपको पेट में दर्द महसूस हो सकता हैI यदि ये स्थिति शराब के कारण होती है, तो अक्सर शराब अधिक मात्रा में लेने के 12-6 घंटे बाद आपको दर्द होने लगता है I

अन्य लक्षण

एक्यूट अग्नाशयशोथ के अन्य लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • जी मिचलाना(nausea)
  • उलटी होना (vomiting)
  • दस्त(diarrhea)
  • भूख में कमी (loss of appetite)
  • उच्च तापमान (बुखार) 38°C (100.4°F) या ज्यादा
  • पेट में संवेदनशीलता

डॉक्टर की सलाह कब लें

आपको अपने डॉक्टर से तुरंत ही संपर्क करना चाहिए अगर आपके पेट में भयंकर दर्द महसूस हो|, अगर डॉक्टर उपस्थित ना हो तो तो सलाह के लिए आप अपने स्थानीय स्वास्थ्य सेवा से संपर्क करें।

एक्यूट अग्नाशयशोथ के कारण

मुख्यतः एक्यूट अग्नाशयशोथ (acute pancreatitis) के कारण पित्ताशय की पथरी (gallstones) और शराब (alcohol) का अत्यधिक सेवन होता है। हालांकि इसके सटीक कारणों का हमेशा पता नहीं चलता।

पित्ताशय की पथरी (Gallstones)

पित्ताशय की पथरी के कारण आपके पित्ताशय में कठोर पत्थर जैसे पदार्थ बनते हैं, यदि वे पित्ताशय की थैली से बाहर निकलते हैं और अग्न्याशय के द्वार (opening of the pancreas) को अवरुद्ध (block) करते हैं, तो वे एक्यूट अग्नाशयशोथ का कारण बनते हैं।

यह रुकावट अग्न्याशय द्वारा बनाई जाने वाली कुछ एंजाइमों (रसायनों) को बाधित कर सकती है। इन एंजाइमों का उपयोग आम तौर पर आपकी आंतों में भोजन को पचाने में मदद करने के लिए किया जाता है, लेकिन वे खाने की जगह अग्न्याशय को पचाने की कोशिश करने लगते हैं, अगर अग्न्याशय का छेद अवरुद्ध हो।

हालांकि, पित्ताशय की पथरी वाले सभी लोगों में एक्यूट अग्नाशयशोथ का विकास नहीं होता है। अधिकांश पित्ताशय की पथरी किसी भी समस्या का कारण नहीं बनती है।

शराब का सेवन

यह पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है कि शराब कैसे अग्न्याशय की सूजन का कारण बनता है। एक थ्योरी यह है कि शराब अग्न्याशय के सामान्य कामकाज में हस्तक्षेप करता है, जिससे एंजाइम पैंक्रियाज को पचाना शुरू कर देते हैं।

इसका कारण चाहें जो भी हो, शराब के उपयोग और एक्यूट अग्नाशयशोथ के बीच एक स्पष्ट संबंध है। एक बहुत बड़े अध्ययन में पाया गया कि जो लोग नियमित रूप से एक सप्ताह में 35 यूनिट से अधिक शराब पीते थे, उनमें एक्यूट अग्नाशयशोथ विकसित होने की संभावना उन लोगो से चार गुना अधिक थी, जो कभी शराब नहीं पीते थे (35 इकाइयाँ, तेज शराब के कैन के, लगभग 16 कैन पीने के बराबर हैं, या एक सप्ताह में शराब के चार बोतलें के बराबर )।

लगातार शराब पीना (बिंज ड्रिंकिंग), जिसका मतलब है बहुत कम समय में बहुत अधिक शराब का सेवन, भी एक्यूट अग्नाशयशोथ के विकास के जोखिम को बढ़ा सकता है

अन्य कारण

एक्यूट अग्नाशयशोथ के कम सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड कोलेजनोपैन्टोग्राफी (endoscopic retrograde cholangiopancreatography (ERCP),) नामक एक प्रकार की सर्जरी के दौरान होने वाली अग्न्याशय की आकस्मिक क्षति , इसका उपयोग पित्त पथरी को हटाने या अग्न्याशय या आस-पास के ऊतकों की जांच करने के लिए किया जाता है
  • कुछ प्रकार की दवाएँ, जैसे कुछ एंटीबायोटिक्स (antibiotics) या कीमोथेरेपी (chemotherapy) दवाएँ - बहुत ही कम लोगों में एक्यूट अग्नाशयशोथ इन दवाओं का एक अप्रत्याशित दुष्प्रभाव हो सकता है
  • एक वायरल संक्रमण जैसे कि गलगण्ड रोग (mumps) या खसरा (measles)

गंभीर अग्नाशयशोथ

इस बारे में विस्तृत जानकारी नहीं है कि क्यों कुछ लोगों में गंभीर एक्यूट अग्नाशयशोथ विकसित होता है। ऐसे कारक जो आपके जोखिम को बढ़ा सकते हैं उनमे शामिल हैं:

  • 70 वर्ष या उससे अधिक आयु का होना
  • मोटे होना (किसी व्यक्ति को मोटे माना जाता है यदि उसका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 30 या उससे अधिक होता है)
  • एक दिन में दो या अधिक अल्कोहल युक्त पेय पीना
  • धूम्रपान

शोधकर्ताओं ने यह भी पता लगाया है कि एक विशिष्ट आनुवंशिक उत्परिवर्तन (specific genetic mutation) वाले लोग, जिन्हें MCP-1 उत्परिवर्तन के रूप में जाना जाता है, सामान्य आबादी की तुलना में गंभीर एक्यूट अग्नाशयशोथ के विकास की आठ गुना अधिक संभावना रखते हैं। एक आनुवंशिक उत्परिवर्तन (genetic mutation) वह स्थिति है जिसमें सभी जीवित कोशिकाओं में पाए जाने वाले निर्देश (डीएनए) व्यवस्थित हो जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप आनुवंशिक विकार (genetic disorder) या विशेषताओं में परिवर्तन होता है।

अग्नाशयशोथ/एक्यूट पैंक्रियाटिटीज (acute pancreatitis) का निदान (diagnosis)

ज्यादातर मामलों में गंभीर जटिलताओं के जोखिम के कारण अस्पताल में ही एक्यूट पैंक्रियाटिटीज का निदान किया जाता है।

आपके देखभाल के प्रभारी डॉक्टर (doctor in charge) आपसे आपके पुराने लक्षणों के बारे में पूछेंगे। वे आपका शारीरिक परीक्षण (physical examination) भी कर सकते हैं। यदि आपको एक्यूट अग्नाशयशोथ है, तो पेट के कुछ हिस्सों को दबाने पर आपके पीड़ा महसूस होगी।

निदान की पुष्टि करने के लिए एक रक्त जाँच किया जाएगा। इससे एक्यूट अग्नाशयशोथ के संकेतों का पता लगाने में मदद होगी, जैसे कि दो रसायनों लाइपेज (lipase) और एमाइलेज (amylase) का ज्यादा मात्रा होना।

आगे की जाँच (Further testing)

आपके अग्न्याशय की सूजन को विस्तार से देखने और अधिक गंभीर जटिलताओं के विकास के जोखिम का आकलन करने के लिए आगे की जाँच की जा सकती है।

निम्न में से आपका कोई भी परीक्षण किया जा सकता है:

  • एक कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (computerised tomography) (CT) scan/सीटी स्कैन), इसमें आपके अग्न्याशय (pancreas) की एक अधिक विस्तृत तीन-आयामी छवि (3-dimensional image) बनाने के लिए एक्स-रे द्वारा उतारे हुए चित्रों की श्रृंखला (series of X-rays) ली जाती है।
  • एक चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (magnetic resonance imaging) एमआरआई स्कैन (MRI) scan, जहाँ मजबूत चुंबकीय क्षेत्र (magnetic fields) और रेडियो तरंगों (radio waves) का उपयोग कर, आपके शरीर के अंदर की एक विस्तृत छवि बनायी जाती है।
  • इंडोस्कोपिक प्रतिगामी कोलेजनोपचारग्राफी (endoscopic retrograde cholangiopancreatography) (ERCP)

ईआरसीपी (ERCP) में एक पतली, लचीली ट्यूब का उपयोग करते है, जिसे एंडोस्कोप (endoscope) कहते है, इसके एक छोर पर एक कैमरा होता है। आपके मुँह के माध्यम से एंडोस्कोप (endoscope) आपके पाचन तंत्र में डाला जाएगा, इसे अल्ट्रासाउंड स्कैनर (ultrasound scanner) द्वारा निर्देशित किया जाता है।

पित्ताशय की थैली से जुड़े एक्यूट अग्नाशयशोथ के मामलों में इस प्रकार के परीक्षण उपयोगी हो सकते है, क्योंकि यह ठीक उसी जगह का संकेत देते है, जहाँ पित्त पथरी (gallstone) स्थित है। कुछ मामलों में एंडोस्कोप के नीचे सर्जिकल उपकरणों को पारित करना संभव हो सकता है, ताकि पित्त पथरी को हटाया जा सके।

एक्यूट अग्नाशयशोथ की ग्रेडिंग करना (Grading acute pancreatitis)

शुरुआती चरणों में यह निर्धारित करना बहुत मुश्किल होता है की किसी व्यक्ति को हल्का एक्यूट अग्नाशयशोथ है या गंभीर।

आपकी उन गंभीर समस्याओं के संकेत के लिए बारीकी से जाँच की जाएगी, जो आगे विकसित हो सकते हैं, जैसे अंग की विफलता (organ failure), क्योंकि इनकी मदद से हालत की गंभीरता का अंदाजा लगाया जा सकता है ।

हल्के एक्यूट अग्नाशयशोथ वाले लोग एक सप्ताह के भीतर बेहतर होने लगते हैं और या तो वे किसी समस्या का अनुभव नहीं करते हैं या फिर होने वाली समस्याएं 48 घंटों के भीतर ही ठीक हो जाती हैं। गंभीर एक्यूट अग्नाशयशोथ वाले लोगों में समस्याएं स्थायी या लगातार और गंभीर होती हैं।

आपकी स्थिति की गंभीरता को जानने के लिए कई परीक्षणों का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें रक्त जाँच (blood tests) और कभी-कभी एक्स-रे (X-rays) और एक सीटी स्कैन (CT scan) भी शामिल हो सकते हैं।

एक्यूट अग्नाशयशोथ का इलाज (Acute pancreatitis treatment)

एक्यूट अग्नाशयशोथ का कोई विशिष्ट उपचार उपलब्ध नहीं है परंतु अधिकांश लोगों में यह स्थिति एक हफ्ते के भीतर अपने आप ही ठीक हो जाती है।

इस समय के दौरान आप पर गंभीर समस्याओं के संकेतों के लिए निकटता से जांच की जाएगी। सहायक उपचार, जैसे तरल पदार्थ (fluids) और ऑक्सीजन (oxygen) का उपयोग किया जाएगा। बहुत सारे लोग 5 से 10 दिनों के भीतर ही अस्पताल से घर जाने के लायक हो जाते हैं

गंभीर मामलों में, जटिलताओं का विकास हो सकता है, जिसके लिए विशिष्ट अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता होती है। इन मामलों में सुधार के लिए अधिक समय लग सकता है, और स्थिति घातक हो सकती है।

गंभीर मामलों के बारे में अधिक जानकारी के लिए एक्यूट अग्नाशयशोथ की जटिलताओं को देखें।

तरल पदार्थ (Fluids)

ऐसा संभव है कि एक्यूट अग्नाशयशोथ के एक दौर के दौरान आपका शरीर निर्जलित (dehydrated) हो जाए, इसलिए आपकी नसों में जुड़ी एक ट्यूब के माध्यम से तरल पदार्थ डाले जाएंगे। इसे अंतःशिरा द्रव्य (intravenous fluid) (IV) कहते है।

तीव्र अग्नाशयशोथ के गंभीर मामलों में, आईवी तरल पदार्थ (IV fluids) हाइपोवॉल्मिक शॉक (hypovolemic shock ) नामक एक गंभीर समस्या को रोकने में मदद कर सकते हैं, यह तब होता है जब आपके द्रव के स्तर में गिरावट आ जाती है और उस से आपके शरीर में रक्त की मात्रा में कमी हो जाती है।

पोषण संबंधी सहायता (Nutritional support)

हालांकि कई लोग जिन्हे हल्का एक्यूट अग्नाशयशोथ है, उनके आहार पर कोई प्रतिबंध नहीं होता है, जबकि कुछ लोगों को भोजन कम करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि ठोस आहार को पचाने की कोशिश से आपके अग्न्याशय (pancreas) पर बहुत अधिक तनाव पड़ सकता है।

हालत की गंभीरता के आधार पर, आप कुछ दिनों या उससे अधिक समय के लिए ठोस खाद्य पदार्थ खाने में सक्षम नहीं हो सकते हैं।

यदि आपको ठोस भोजन से बचने की आवश्यकता है, तो आपके शरीर को पोषक तत्व प्रदान करने के लिए एक फीडिंग ट्यूब का उपयोग किया जा सकता है। इसे एंटरल फीडिंग (enteral feeding) कहते है और इसमें अक्सर एक ट्यूब (नसोगैस्ट्रिक ट्यूब/nasogastric tube) का उपयोग करते है, जो आपके नाक के माध्यम से आपके पेट में डाला जाता है।

ऑक्सीजन (Oxygen)

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके महत्वपूर्ण अंगों (vital organs) में पर्याप्त ऑक्सीजन (oxygen) है, इसे आमतौर पर ट्यूब (tubes) के माध्यम से आपकी नाक में पहुंचाया जाएगा और एक बार यह स्पष्ट हो जाए कि आपकी हालत में सुधार हो रहा है, तो कुछ दिनों में ही इन ट्यूब (tubes) को हटाया जा सकता है।

कुछ गंभीर मामलों में, वेंटिलेशन उपकरण (ventilation equipment) का उपयोग आपको साँस लेने में सहायता के लिए भी किया जा सकता है।

पेनकिलर/दर्द निवारक (Painkillers)

एक्यूट अग्नाशयशोथ अक्सर गंभीर पेट (tummy/abdominal) दर्द का कारण बन सकता है, इसलिए ज्यादा असर करने वाली दर्द निवारक (पेन किलर) दवा की आवश्यकता होती है, जैसे मोर्फिन (morphine)।

कुछ दर्द निवारक दवाओं का इस्तेमाल आपको सुस्त महसूस करा सकते हैं। आप यदि किसी एक्यूट अग्नाशयशोथ वाले व्यक्ति को अस्पताल में मिलने जा रहे हैं,और वे आपको अनुत्तरदायी या सुस्त (अधिक निंद्रा में) लगें तो चिंतित न हो और घबराए नहीं ।

अंतर्निहित कारण का इलाज करना (Treating the underlying cause)

एक बार हालत नियंत्रण में होने के बाद, अंतर्निहित (underlying) कारण का इलाज करने की आवश्यकता पड़ सकती है। एक्यूट अग्नाशयशोथ के सबसे सामान्य कारणों - पित्ताशय की पथरी (gallstones) और शराब की खपत (alcohol consumption) - के उपचार नीचे उल्लिखित हैं।

पित्ताशय की पथरी (Gallstones)

यदि एक पित्त पथरी (gallstone) अग्नाशयशोथ के लिए जिम्मेदार है, तो आपके लिए एक प्रक्रिया की आवश्यकता होती है जिसे एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड कोलेजनोपैन्ट्रोग्राफी (endoscopic retrograde cholangiopancreatography) (ईआरसीपी) (ERCP) कहा जाता है, या आपके पित्ताशय की थैली (gallbladder) को हटाने की आवश्यकता हो सकती है।

जब आप अस्पताल में होते हैं, तो पित्ताशय की थैली हटाने की सर्जरी (Gallbladder removal surgery) की जा सकती है, या कई हफ्तों के समय के लिए इसकी योजना बनाई जा सकती है। कुछ खाद्य पदार्थों जैसे वसायुक्त (fatty) या चटपटा भोजन (spicy foods) को पचाने में मुश्किल के अलावा आपके पित्ताशय की थैली को हटाने से स्वास्थ्य पर कोई महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं पड़ता है।

ईआरसीपी (ERCP) प्रक्रिया पित्ताशय की पथरी (gallstones) के लिए एक वैकल्पिक उपचार है। इसमें एक पतली, लचीली ट्यूब का उपयोग करते है, इसके एक छोर पर एक कैमरा होता है, जिसे एंडोस्कोप (endoscope) कहते है।

आपके पाचन तंत्र में एंडोस्कोप को मार्गदर्शित कराने के लिए अल्ट्रासाउंड स्कैन (ultrasound scan) का उपयोग किया जाएगा और शल्य चिकित्सा उपकरण (सर्जिकल उपकरणों) को एंडोस्कोप के नीचे पारित किया जाएगा ताकि पित्त पथरी (gallstone) को हटाया जा सके।

शराब पीना

हर किसी व्यक्ति को, जिसे एक्यूट अग्नाशयशोथ है उसे कम से कम छह महीने तक शराब से पूरी तरह से बचना चाहिए, चाहे अग्नाशयशोथ का कारण कुछ भी हो। ऐसा इसलिए है क्योंकि शराब आपके सुधार के दौरान अग्न्याशय को नुकसान पहुंचा सकती है।

अगर आपको ऐसा करना मुश्किल लगता है, तो आपको संभवतः अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता होगी।

शराब पर निर्भरता के उपचार के विकल्पों में शामिल हैं:

  • व्यक्तिगत परामर्श
  • स्वयं सहायता समूह, जैसे शराब की लत वाले अज्ञात व्यक्तियों का एक समूह जिसे अल्कोहलिक एनोनिमस कहा जाता है
  • एक दवा जिसे एम्पोप्रोसैट (acamprosate) कहते है, जो शराब के लिए आपकी उत्कट इच्छा
  • (cravings) को कम करने में मदद करती है

शराब के अत्यधिक सेवन के उपचार .के बारे में और पढ़ें।

एक्यूट अग्नाशयशोथ को कैसे रोकें (How to prevent acute pancreatitis)

तीव्र अग्नाशयशोथ का कारण अक्सर पित्त पथरी और शराब का सेवन होता है, और एक स्वस्थ जीवन शैली ही इन संभावनाओं को कम कर सकती है।

पित्ताशय की पथरी (Gallstones)

पित्ताशय की पथरी को रोकने का सबसे प्रभावी तरीका है कम वसा वाले ( low fat) स्वस्थ आहार, जिसमें बहुत सारे ताजे फल और सब्जियां हो। (प्रतिदिन कम से कम ५ मध्यम कटोरे )

आपके आहार में साबुत अनाज भी शामिल होने चाहिए, जो रोटी, साबुत पावरोटी (wholemeal ब्रेड ), जई (oat ) और भूरे चावल में पाए जाते हैं। इससे आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने में मदद मिलेगी।

अधिक वजन (मोटापे) की वजह से भी पित्ताशय में पथरी होने की संभावना बढ़ जाती हैं।

इसीलिए, संतुलित आहार और नियमित व्यायाम द्वारा एक स्वस्थ वजन बनाए रख कर आप पथरी होने की जोखिम कम कर सकते हैं।

शराब (Alcohol)

अगर आप शराब पीते हैं तो, शराब की मात्रा को सीमित रखने से आपके अग्न्याशय (pancreas) के हानिग्रस्त होने से रोकने में मदद मिल सकती है और तीव्र पैन्क्रियाटाइटिस (pancreatitis) होने की जोखिम को कम किया जा सकता है। इससे अन्य गंभीर बीमारियों जैसे लिवर कैंसर (liver cancer) होने की संभावना भी कम हो सकती हैं।

बताई गई उपयुक्त मात्रा : पुरुषों को एक दिन में 3-4 यूनिट से अधिक शराब नहीं पीनी चाहिए और महिलाओं को एक दिन में 2-3 यूनिट से अधिक नहीं पीनी चाहिए।

शराब की एक यूनिट, सामान्य बियर का एक बड़ा गिलास - आधा पाईन्ट (normal lager-half pint ), वाइन का छोटा गिलास , शराब का एक पब नाप (२५ ml) के बराबर हैं।

एक्यूट अग्नाशयशोथ की जटिलताएँ (Acute pancreatitis complications)

हालांकि एक्यूट अग्नाशयशोथ वाले अधिकांश लोग अधिक समस्याओं का अनुभव किए बिना ठीक हो जाते हैं, गंभीर मामलों में कष्टपूर्ण समस्याएं हो सकती हैं।

स्यूडोसिस्ट/गाँठ (Pseudocysts)

स्यूडोसिस्ट तरल पदार्थ की एक थैली होती हैं जो पैंक्रियास/अग्न्याशय की सतह पर बन सकती हैं । यह पैन्क्रियाटाइटिस (pancreatitis) की एक आम जटिलता है जिससे, अनुमानतः करीब हर बीस रोगियों मे एक प्रभावित होता हैं।

आमतौर पर, स्यूडोसिस्ट, एक्यूट अग्नाशयशोथ के लक्षण शुरू होने के करीब ४ सप्ताह बाद, बन जाते हैं। काफी मामलों में, इनके कोई लक्षण दिखाई नहीं देते और केवल सीटीस्कैन (CT SCAN ) के दौरान ही इनका पता चलता हैं।

लेकिन, कुछ लोगों में स्यूडोसिस्ट के कारण पेट फूलना (वातविकार), अपच और पेट में हल्का सा दर्द हो सकता हैं।

अगर स्यूडोसिस्ट (pseudocysts ) छोटे हैं और कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं तो उपचारों की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं क्योंकि ये आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाते हैं।

स्यूडोसिस्ट का उपचार, सामान्य तौर पे तब किया जाता है, जब स्यूडोसिस्ट बड़े हो या इनके कारण आपको कोई लक्षण महसूस हो। बड़े स्यूडोसिस्ट फट जाने का खतरा होता हैं, जिससे अंदरूनी खून का रिसाव (internal bleeding ) या रोग का संक्रमण (इन्फेक्शन) हो सकता है।

स्यूडोसिस्ट के उपचार में, आपकी त्वचा में बाहर से सुई घुसाकर , स्यूडोसिस्ट की गाँठ में से द्रव पदार्थ (fluid) बाहर बहा कर निकाल दिया जाता हैं। यह उपचार एंडोस्कोपी (endoscopy) द्वारा भी किया जा सकता है, जिसमें एक पतली लचीली ट्यूब (नलिका,जिसे एण्डोस्कोप कहते हैं) गले से हो कर प्रविष्ट कराई जाती हैं और छोटे औजारों के द्वारा गाँठ में से द्रव पदार्थ निकाला जाता है।

संक्रमित अग्नाशयी परिगलन

(परिगलन - मृत कोशिकाए) (Infected pancreatic necrosis)

एक्यूट अग्नाशयशोथ के तीन गंभीर मामलों में से लगभग एक में, संक्रमित पैंक्रियाज नेक्रोसिस नामक एक आम और गंभीर समस्या पायी जाती है।

संक्रमित अग्नाशयी नेक्रोसिस में, अत्यधिक सूजन के कारण आपके पैंक्रियास की रक्त आपूर्ति में रुकावट पैदा होती हैं। रक्त की लगातार आपूर्ति के बिना, आपके पैंक्रियास के कुछ टिश्यू (ऊतक कोशिकाएँ) मर जाते हैं। चिकित्सा शब्दावली में टिश्यू कोशिकाएँ मृत होने को नेक्रोसिस (परिगलन) कहते हैं।

मृत ऊतक आसानी से बैक्टीरिया (bacteria) द्वारा संक्रमित हो सकता हैं। एक बार संक्रमण हो जाने से यह बड़ी तेजी से खून में फैल सकता हैं (ब्लड पोइज़निंग/ रक्त विषाक्तता) जिससे शरीर के विभिन्न अंग काम करना बंद कर सकते हैं (multiple organ failure)। अगर संक्रमित पैंक्रियास नेक्रोसिस का उपचार न किया जाए तो मौत लगभग निश्चित होती है

संक्रमित पैंक्रियास नेक्रोसिस, आमतौर पर, तीव्र पैन्क्रियाटाइटिस के लक्षण शुरू होने के दो से छह सप्ताह बाद पाया जाता हैं। बढ़ा हुआ पेट दर्द और उच्च ताप (बुखार) इसके लक्षण हैं। (प्रतिजैविक) एंटीबायोटिक इंजेक्शन द्वारा इसका उपचार किया जाता है, और पुनःसंक्रमण न हो इसलिए मृत टिश्यू निकालने की आवश्यकता होती हैं।

कुछ मामलों में कैथेटर (catheter) नामक एक पतली ट्यूब द्वारा मृत टिश्यू को बहा कर बाहर निकाला जा सकता हैं। यह ट्यूब बाहर से सुई की तरह त्वचा में डाली जाती है।

वैकल्पिक रूप से, लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (कीहोल सर्जरी) का उपयोग किया जा सकता है। आपकी पीठ में एक छोटा सा छेद बनाया जाता है और किसी भी मृत टिश्यू को निकालने के लिए एंडोस्कोप डाला जाता है।

लेप्रोस्कोपी द्वारा उपचार, हर बार संभव नहीं होता हैं, जैसे मृत ऊतक पहुंच के बहार यानी दुर्गम हों (inaccessible) या आप अत्यधिक मोटे हों। ऐसे मामलों में मृत टिश्यू निकालने के लिए, आपके पेट में एक छेद किया जाता है।

संक्रमित पैंक्रियास नेक्रोसिस एक गंभीर समस्या हैं। उच्चतम स्तर के चिकित्सा उपचारों के बावजूद, अंग विफलता से मरने का खतरा लगभग पांच ऐसे रोगी में से एक को है।

सिस्टमिक इन्फ्लेमेटरी रिस्पांस सिंड्रोम (सर्वांगी सूजन- पूरे देह में व्याधि और सूजन के लक्षण)

(Systemic Inflammatory Response Syndrome-SIRS)

अत्यधिक एक्यूट अग्नाशयशोथ से उत्पन्न होने वाली एक और आम एवं गंभीर समस्या हैं सिस्टमिक इन्फ्लेमेटरी रिस्पॉन्स सिंड्रोम

(Systemic Inflammatory Response Syndrome) अर्थात (SIRS) सर्वांगी सूजन।

तीव्र पैन्क्रियाटाइटिस के अनुमानतः १० गंभीर मामलों में से १ में, पैंक्रियाटाइटिस सर्वांगी सूजन (SIRS) के रूप में बदलता हैं।

सर्वांगी सूजन (SIRS) में, पैंक्रियाज की सूजन सारे शरीर में फैलती हैं जिसके कारण शरीर के एक या कई अंग काम करना बंद कर सकते हैं। आमतौर पर लक्षण दिखाई देने के प्रथम सप्ताह में और अधिकतर मामलों में तो पहले दिन ही यह होता है।

सर्वांगी सूजन (SIRS) के लक्षणों में शामिल हैं:

  • शरीर का तापमान 38 डिग्री सेल्सियस (100.4 डिग्री फारेनहाइट) से ऊपर या 36 डिग्री सेल्सियस (96.8 डिग्री फारेनहाइट) से नीचे ।
  • दिल की तेज धड़कन (गति ९० से अधिक प्रति मिनट)।
  • साँस लेने की दर का असामान्य रूप से तेज़ होना (20 से अधिक प्रति मिनट) ।

अभी SIRS का कोई इलाज उबलब्ध नहीं है, तो इलाज के रूप में शरीर को कार्य करने में अतिरिक्त सहायता देना और कोशिश करना कि सूजन ख़त्म हो जाए, शामिल है। परिणाम इस बात पर निर्भर करता है कि कितने अंग विफल हो चुके हैं (अकार्यक्षम हैं) । प्रभावित अंगों की संख्या जितनी अधिक होता है, मृत्यु का खतरा भी उतना ही अधिक होता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।