10 min read

माहवारी(Periods)

मेडिकली रिव्यूड

माहवारी क्या है?

माहवारी मासिक चक्र का वह भाग है जिसमे एक स्त्री के योनि मार्ग से कुछ दिनों के लिए रक्तस्राव होता है। अधिकांश स्त्रियों में यह हर 28 दिन के बाद होता है।

स्त्रियों के लिए इस चक्र का इस अवधि से लम्बा या छोटा होना, जैसे कि 24 या 35 दिन का हो जाना सामान्य बात है।

माहवारी कब शुरू होती है(When do periods start)?

लड़कियों में पहली माहवारी किशोरावस्था शुरू होने के बाद होती है। यह 8 से 16 साल के बीच हो सकती है मगर अधिकांश लड़कियां सामान्यतया लगभग 12 साल की उम्र में माहवारी से होना शुरू करती हैं। आपकी माहवारी तब तक चलती रहेगी जब तक 45 से 55 की उम्र के लगभग आपकी रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज़ न हो जाये।

मासिक चक्र(The menstrual cycle)

हर मासिक चक्र आपकी माहवारी के पहले दिन शुरू होता है और आपके अगले मासिक चक्र के पहले दिन तक रहता है।

माहवारी और मासिक चक्र को समझने के लिए एक स्त्री के शरीर के अंदर के जननांगों को जानने से मदद मिलती है। ये निम्न हैं :

  • दो ओवरीज या अंडाशय(two ovaries), जहां अंडे एकत्रित व विकसित होते हैं और बाहर भेजे जाते हैं
  • गर्भाशय(womb), जहां निषेचित अंडा स्थापित या प्रत्यारोपित होता है और गर्भावस्था आगे विकसित होती है
  • दो पतली नलिकाएं जिन्हे फैलोपियन ट्यूब्स(fallopian tubes) कहते हैं, जो अंडाशय को गर्भाशय से जोड़ती हैं
  • सर्विक्स(cervix), गर्भाशय का वह निचला भाग जो उसे योनि से जोड़ता है
  • योनि, मांस-पेशियों की बनी वह नलिका जो सर्विक्स को शरीर के बाहर खोलती है

प्रत्येक मासिक चक्र में एस्ट्रोजन हॉर्मोन का बढ़ता हुआ स्तर ओवरीज में अंडे के विकसित होने और उसके बाहर निकलने (इस प्रक्रिया को ओव्यूलेशन कहते हैं)को शुरू करवा देता है। संभावित गर्भावस्था की तैयारी में गर्भाशय का अंतरस्तर मोटा होने लगता है।

अंडा फैलोपियन ट्यूब से नीचे जाता है और अब अगर वो किसी स्पर्म या शुक्राणु से मिल जाता है तो आप गर्भवती हो सकती हैं।

अंडा लगभग 24 घंटे तक जीवित रह सकता है। अगर इस बीच में गर्भावस्था नहीं हुई, तो यह अंडा आपके शरीर में वापस अवशोषित कर लिया जाता है। गर्भाशय का अंतरस्तर जगह छोड़ देता है और रक्त के साथ मिलकर माहवारी (मासिक धर्म का बहाव) के रूप में शरीर के बाहर आ जाता है।

गर्भवती होना

आपका वह समय जब आप उर्वर हैं (गर्भवती हो सकती हैं) को सटीक तरह से बताना मुश्किल हो सकता है। यह  उस समय के आसपास होता है जब आप ओव्युलेट कर रही होती हैं, जो कि अधिकतर स्त्रियों में उनके अगले मासिक चक्र शुरू होने से 12 -14 दिन पहले होता है।

अगर कोई स्त्री ओव्युलेट नहीं करती है तो वह गर्भवती नहीं हो सकती है। गर्भनिरोधन के कुछ हॉर्मोनल तरीके, जैसे मिली-जुली गोलियां, पैच और इंजेक्शन ओव्यूलेशन को रोक कर ही काम करते हैं।

शारीरिक बदलाव

आप का शरीर अपने चक्र के अलग-अलग समय के दौरान हॉर्मोन्स की अलग-अलग मात्रा पैदा करता हैं। यह आपके शरीर और भावनाओं में परिवर्तन पैदा कर सकता है।

उदाहरण के लिए, आपके मासिक चक्र के दौरान आपका योनि स्राव पूरे समय बदलता रहता है। ओव्यूलेशन के समय यह पतला और खिंचने वाला, थोड़ाथोड़ा कच्चे अंडे की सफेदी की तरह हो जाता है।

आपको अपनी माहवारी से कुछ दिन पहले मूड स्विंग्स हो सकते हैं, या आप ध्यान देंगी कि आपके स्तन सूजे हुए और दर्द भरे हो गए हैं।

प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) (Premenstrual syndrome (PMS) उन लक्षणों की एक शृंखला है, जो औरतों को माहवारी होने के पहले दिनों में प्रभावित कर सकते हैं।

इस बारे में और जानें :

  • ज्यादा रक्त स्राव या भारी माहवारी होना
  • दर्दनाक माहवारी
  • गर्भनिरोध के 15 तरीके

माहवारी के लक्षण

अपनी माहवारी के दौरान आप अपनी योनि से कुछ दिनों के लिए रक्तस्राव करेंगी जिसमे शुरू के दो दिनों में सबसे ज्यादा रक्तस्राव होता है।

आप कितने दिन तक रक्तस्राव करती हैं यह आपके मासिक चक्र पर निर्भर करता है। आपकी माहवारी तीन से आठ दिन तक रह सकती है मगर यह अक्सर लगभग पांच दिनों तक रहती है।

आप रक्त की कितनी मात्रा खोती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी माहवारी कितनी भारी है। सामान्यतया यह लगभग पांच से बारह चाय के चम्मच भर देने जितनी मात्रा होनी चाहिए। कुछ स्त्रियां ज्यादा रक्तस्राव करती हैं, पर अगर भारी माहवारी आपके लिए एक समस्या है तो इसके लिए मदद मौजूद है। भारी माहवारी के इलाज के बारे में जानें।

आप रक्त को सोखने के लिए सैनिटरी टॉवल्स या टेम्पोंस, या रक्त को योनि के अंदर ही इकट्ठा कर लेने के लिए मेंस्ट्रुअल कप (मुलायम सिलिकॉन से बने हुए) का इस्तेमाल कर सकती हैं। टॉवल्स और टेम्पोंस डिस्पोजेबल होते हैं(फेंक दिया जाते हैं)I मेंस्ट्रुअल कप को धो कर फिर इस्तेमाल किया जा सकता है।

अगर आप टेम्पोंस इस्तेमाल करती हैं तो आपको उन्हें बराबर बदलते रहना होता है। उस पैकेट के साथ आने वाले निर्देशों का पालन करें। यह टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम, जो कि एक बहुत कम होने वाला पर गंभीर संक्रमण है जो किसी को भी हो सकता है पर टेम्पोंस इस्तेमाल करने वाली महिलाओं में ज्यादा आम है, के खतरे को कम करता है I

आपकी माहवारी से पहले

आपकी माहवारी से पहले आपके शरीर में हॉर्मोन्स के बदलते हुए स्तर शारीरिक और भावात्मक बदलाव ला सकते हैं। आप महसूस कर सकती कि आपके स्तन बड़े हो गए हैं, आप फूला हुआ महसूस कर रही है या आप आसानी से रो पड़ती हैं।

आपको अपने पेट व पीठ के निचले हिस्से में दर्द या असुविधा महसूस हो सकती है। यह दर्द माहवारी के कुछ समय या पूरी माहवारी में भी रह सकता है। अगर दर्द- भरी माहवारी एक समस्या है तो मदद उपलब्ध है , इसलिए चुपचाप सहने की कोई जरूरत नहीं है। दर्द-भरी माहवारी के इलाज के बारे में और जानें।

प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस)

प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) Premenstrual syndrome (PMS), (कभी-कभी प्री-मेंस्ट्रुअल टेंशन ,पीएमटी (premenstrual tension, PMT) भी कहते हैं) शारीरिक, मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक लक्षणों के उस समूह का नाम है जो किस स्त्री को उसकी माहवारी शुरू होने के पहले कुछ दिनों में हो सकते हैं। माहवारी से होने वाली हर स्त्री को पीएमएस नहीं होते। अगर ये आपको होते हैं, तो लक्षणों में आ सकते हैं :

  • चिड़चिड़ा और गुस्से में होना
  • मूड स्विंग्स
  • द्रव्यों का शरीर में रुकना और फूलना

सामान्यतया अगर आपको ये लक्षण होते हैं तो जब आपकी माहवारी शुरू होती है, ये लक्षण खुद-ब-खुद सुधर जाते हैं और कुछ दिन बाद गायब ही हो जाते हैं।

आपकी माहवारी में बदलाव

स्त्रियों की माहवारी बदल सकती है , उदाहरण के लिए वह लम्बी चल सकती है या हल्की हो सकती है। इसका अर्थ यह नहीं है कि कोई गंभीर समस्या है , मगर इसकी जांच किये जाने की जरूरत है। आप किसी डॉक्टर या स्त्री क्लिनिक या गर्भ-निरोध क्लिनिक में जा सकती हैं। अपने इलाके में सुविधाएँ व् डॉक्टर ढूंढें I

आपकी माहवारी के बीच में , यौन संबंध स्थापित करने के बाद मेनोपॉज़ के बाद अगर रक्तस्राव होता है तो डॉक्टर से जांच कराने की जरूरत है। इस तरह का रक्तस्राव संक्रमण, सर्विक्स की असामान्यताओं, या बहुत ही कम मामलों में, कैंसर के कारण हो सकता है। माहवारी के बीच में रक्तस्राव किन कारणों से होता है के बारे में और जानें I

अगर आपको माहवारी नहीं हुई है और आपने यौन संबंध बनाये हैं तो आप गर्भवती हो सकती हैं। गर्भावस्था परीक्षण करके इस बारे में पता करें। अगर आप गर्भवती नहीं हैं और आपको दो या तीन बार माहवारी नहीं हुई है तो डॉक्टर से मिलें।

इनके बारे जानें :

माहवारी की जटिलताएं

पीएमएस

माहवारी की जटिलताएं

कुछ स्त्रियों को उनकी माहवारी में समस्याएं होती हैं। ये मत समझें कि आपको उनको सहन करना होगा। बात करें क्योंकि ऐसे कई इलाज हो सकते हैं जो मदद कर सकते हैं।माहवारी की समस्याओं में आते हैं :

  • भारी माहवारी या अधिक रक्तस्राव (मीनोरेजिया, menorrhagia)
  • दर्द भरी माहवारी (डिसमेनोरिया, dysmenorrhoea)
  • अनियमित माहवारी
  • माहवारी का बिलकुल ना होना (एमेनोरिया, amenorrhoea)
  • भारी माहवारी या अधिक रक्तस्राव (मीनोरेजिया, menorrhagia)

माहवारी में स्रावित हुए रक्त की मात्रा अलग-अलग स्त्रियों में अलग-अलग होती है। लेकिन अगर आपको लगता है कि आपकी माहवारी इतनी ज्यादा है की आपके जीवन में बाधा दाल रही है और आपको परेशान कर रही है तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए। ऐसे इलाज हैं जो लाभ कर सकते हैं।

आपको ज्यादा या भारी माहवारी है अगर :

  • आपको लगता है कि आप असामान्य रूप से ज्यादा संख्या में टेम्पोंस और सेनेटरी टॉवेल्स का इस्तेमाल करती हैं
  • आपके कपड़ों में से खून रिस जाता है
  • आपको खून के रिसने को रोकने के लिए सैनिटरी टॉवल या टैम्पॉन का इस्तेमाल करना पड़ता है

अधिक जानकारी के लिए देखें :

भारी या ज्यादा माहवारी

भारी या ज्यादा माहवारी का इलाज करना

दर्द भरी माहवारी (डिसमेनोरिया) (dysmenorrhoea)

अधिकांश स्त्रियों को उनके जीवन के किसी न किसी मौके पर दर्द भरी माहवारी का अनुभव होता है। यह दर्द आपके निचले पेट, पेल्विस या जांघ और योनि के जोड़, निचली पीठ, जांघों और योनि में माहवारी के दौरान या उसके शुरू होने से कुछ पहले हो सकता है।

यह दर्द हल्का या बहुत तेज हो सकता है। अगर दर्द बहुत बुरा है और आप को झेलने में मुश्किल हो रही हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

नॉन स्टेरॉईड्ल एंटी-इन्फ्लैमटरी ड्रग्स (एनएसएआईडीज, non-steroidal anti-inflammatory drugs (NSAIDs)) जैसे दर्द निवारकों का दर्द को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

इस बारे में और जानें:

  • दर्द भरी माहवारी
  • दर्दभरी माहवारी का उपचार करना

अनियमित माहवारी

माहवारी दो से आठ दिन तक रह सकती है और मासिक चक्र (एक माहवारी के शुरू होने से लेकर अगली माहवारी के एक दिन पहले तक की अवधि) सामान्यतया 24 से 35 दिन तक रहता है।

अगर आपकी माहवारी अनियमित है तो आपकी माहवारी के बीच की अवधि बदलती रहेगी और साथ ही आपके रक्तस्राव की मात्रा (आपकी माहवारी कितनी ज्यादा है) और आपकी माहवारी कितने दिन चलती है ये भी बदलेगाI

अनियमित माहवारी के बहुत से संभावित कारण होते हैं और इलाज उसके मूल कारण पर निर्भर करता है। संभावित इलाजों में अपने गर्भनिरोध के तरीकों को बदलना, सुकून पाना और परामर्श लेना शामिल है।

और जानें :

  • अनियमित माहवारी के कारण
  • अनियमित माहवारी का उपचार करना

माहवारी का बिलकुल ना होना (एमेनोरिया, amenorrhoea)

कभी-कभी एक स्त्री को माहवारी होना बिलकुल बंद भी हो सकता है। इसे माहवारी का ना होना या (एमेनोरिया, amenorrhoea) कहते हैं। सामान्यतया इसका अर्थ होता है कि अंडे नहीं बन रहे। अगर आप अंडे विकसित (ओव्यूलेशन) नहीं करती है तो आप गर्भवती नहीं हो सकती हैं।

माहवारी के ना होने के कई संभावित कारण होते हैं, जिसमे तनाव, बहुत अधिक वजन गिरना, बहुत सी दवाएँ और पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम शामिल हैं। मूल कारण का इलाज करने से अक्सर आपकी माहवारी वापस शुरू हो जाती है।

इनके बारे में और जानें :

माहवारी न होने के कारण

माहवारी ना होने का इलाज करना

सामग्री का स्त्रोतNHS लोगोnhs.uk
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आगे क्या पढ़ें
मासिक चक्र में माहवारी और प्रजनन क्षमता(Periods and fertility in the menstrual cycle)
हर महिला के मासिक चक्र की अवधि अलग-अलग होती है लेकिन औसत रूप से हर 28 दिन पर मासिक धर्म होता है।
पीरियड्स की शुरुआत
ज्यादातर लड़कियों में पीरियड्स की शुरुआत तब होती हैं जब उनकी उम्र क़रीब 12 साल हो जाती है, लेकिन उनमें 8 साल की उम्र में भी पीरियड्स की शुरुआत हो सकती...
प्रागार्तव(पीएमएस)
महिलाओं द्वारा मासिक धर्म से पहले अनुभव किए जाने वाले लक्षणों के एक समूह को प्रागार्तव(पीएमएस) कहते हैं।