COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
16 min read

माहवारी नहीं आना (एमेनोरिया/amenorrhoea)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

परिचय

माहवारी नहीं होने का अर्थ है कि आपकी माहवारी बंद हो गई है या जब तक आप 14-16 वर्ष की नहीं हो गईं, तब तक ये शुरू नहीं हुई।

माहवारी नहीं आने का चिकित्सीय नाम एमेनोरिया है।

कई मामलों में, माहवारी नहीं आना चिंता का कारण नहीं होता है क्योंकि कुछ लड़कियों में सामान्य से कुछ समय बाद माहवारी शुरू होती है और आपकी माहवारी का किसी समय बिंदु पर आकर रुक जाना सामान्य है।

उदाहरण के लिए, जब आप गर्भवती हों या स्तनपान करा रही हों या रजोनिवृत्ति के बाद, आपकी माहवारी रुक जाएगी। कुछ प्रकार के गर्भनिरोधक अस्थायी रूप से आपकी माहवारी आने को बंद कर सकते हैं।

हालांकि, माहवारी नहीं आना कभी-कभी किसी अंदरूनी चिकित्सा स्थिति का संकेत हो सकता है, जैसे :

  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) polycystic ovary syndrome (PCOS) - एक ऐसी स्थिति जिसका अर्थ यह हो सकता है कि आपके अंडाशय से नियमित रूप से डिंबोत्सर्जन नहीं होता (ओव्यूलेशन) है
  • हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया (hypothalamic amenorrhoea) - जिसमें माहवारी को नियंत्रित करने वाला मस्तिष्क का भाग ठीक से काम करना बंद कर देता है (यह अत्यधिक व्यायाम, अत्यधिक वज़न घटाने और तनाव के कारण बढ़ सकता है)
  • हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया (hyperprolactinaemia) - जहां किसी महिला के रक्त में प्रोलैक्टिन नामक हार्मोन का असामान्य रूप से उच्च स्तर होता है
  • समय से पहले ओवरी के काम करने में खराबी - यदि प्राकृतिक रजोनिवृत्ति की उम्र से पहले महिलाओं में अंडाशय ठीक से काम करना बंद कर देता है जो जिनकी उम्र रजोनिवृत्ति की नहिहाई (आम तौर पर 50 वर्ष की आयु से)

माहवारी नहीं आने के कारणों के बारे में और अधिक पढ़ें।

डॉक्टरी सलाह कब लें

यदि आपको अपनी माहवारी को लेकर कोई समस्या है तो आप अपने डॉक्टर से मिलें, ताकि वे इसका कारण जानने की कोशिश कर सकें।

अगर आपके डॉक्टर को जो आपकी माहवारी नहीं आने का कारण लगता है, इस पर निर्भर करते हुए, आपको आगे की जांच और किसी भी आवश्यक उपचार के लिए विशेषज्ञ के पास भेजा जा सकता है।

माहवारी नहीं आने के निदान के बारे में और अधिक पढ़ें।

इससे कौन प्रभावित होते हैं

पहले माहवारी शुरू होने के बाद उनका रुक जाना, जिसे सेकेंडरी एमेनोरिया के नाम से जाना जाता है, यह अपेक्षाकृत सामान्य है - अनुमान है कि इससे 25 महिलाओं में से लगभग एक के जीवन में कुछ बिंदुओं पर प्रभाव होता है।

यह स्थिति किशोर लड़कियों और कम उम्र की महिलाओं में अधिक आम है और कुछ समूहों में बहुत अधिक सामान्य हो सकती है, जैसे पेशेवर एथलीट, नर्तक और जिमनास्ट।

अपेक्षित उम्र तक आपकी माहवारी की शुरुआत नहीं होना, जिसे प्राइमरी एमेनोरिया के नाम से जाना जाता है, बहुत कम होता है। हर 300 लड़कियों और महिलाओं में एक को इससे प्रभावित होने का अनुमान है।

माहवारी नहीं आने का इलाज कैसे किया जाता है?

माहवारी नहीं आने के लिए उपचार कारण पर निर्भर करेगा।

उदाहरण के लिए, पीसीओएस को अक्सर हार्मोनल उपचारों का उपयोग करके नियंत्रित किया जा सकता है, और हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया से प्रभावित महिलाओं के मामले में यदि वे कसरत कम कर देती हैं और उनका वज़न स्वस्थ स्तर तक पहुंच जाता है तो अधिकांशत: उनकी नियमित माहवारी शुरू हो जाएगी।

कुछ मामलों में, आपके डॉक्टर प्रतीक्षा करने की सलाह दे सकते हैं कि आपकी माहवारी वापस आती है या अपने आप शुरू हो जाती है।

कभी-कभी आपकी माहवारी को उपचार के साथ दोबारा शुरू नहीं किया जा सकता है, जैसा आम तौर पर समय से पहले ओवरी में खराबी के कारण माहवारी नहीं आती।

माहवारी नहीं आने के इलाज के बारे में और अधिक पढ़ें।

कारण

आपकी माहवारी का कुछ बिंदुओं पर रुकना सामान्य है, हालांकि माहवारी नहीं आने का कारण कभी-कभी अंदरूनी स्वास्थ्य समस्या का परिणाम होता है।

कुछ मामलों में, इसका कारण का पता नहीं लगाया जा सकता है।

स्वाभाविक रूप से माहवारी बंद होना

गर्भवती होने या स्तनपान कराते समय माहवारी रुकना सामान्य बात है और अक्सर रजोनिवृत्ति के दौरान इनकी संख्‍या कम हो जाती है (जब अंडाशय नियमित रूप से डिम्‍ब का उत्पादन बंद कर देते हैं, आम तौर पर लगभग 50 वर्ष की आयु में)।

माहवारी नहीं आने का आश्चर्यजनक किंतु सामान्य कारण गर्भवती होना हो सकता है, जिसके बारे में आपको अहसास ही न हो। यह अक्सर तब होता है जब आपकी जानकारी के बिना गर्भनिरोधक की विधि विफल हो जाती है।

गर्भावस्था और स्तनपान के मामले में, आपकी माहवारी अंततः वापस आ जाएगी। रजोनिवृत्ति के बाद, आपकी माहवारी पूरी तरह से आना बंद हो जाएगी।

विकास में होने वाली देर

लड़कियों को अक्सर 12 साल की उम्र से माहवारी होने लगती है। कुछ लड़कियों को पहली माहवारी कुछ देर तक नहीं होती है, खास तौर पर यदि उनकी माँ या बड़ी बहनों के साथ ऐसा हुआ है।

यह आम तौर पर चिंता की कोई बात नहीं है, क्योंकि इनमें से ज्यादातर लड़कियों में अंततः 16-18 साल की उम्र तक माहवारी आना शुरू हो जाएगी।

गर्भनिरोध

कुछ महिलाएं जो गर्भनिरोधक इंप्‍लांट का उपयोग करती हैं, गर्भनिरोधक इंजेक्शन या, सामान्य तौर पर कम ली जाने वाली, गर्भनिरोधक गोली (जिसे कभी-कभी 'मिनी गोली' कहा जाता है) से हो सकता है कि उनकी माहवारी अनियमित हो जाए या पूरी तरह से रुक जाए।

गर्भनिरोधक के इन तरीकों का उपयोग बंद करने के बाद आपकी माहवारी फिर से शुरू होनी चाहिए, हालांकि कभी-कभार इसके प्रभाव लगातार बने रह सकते हैं।

यदि आप छह महीने या उससे अधिक समय से इस प्रकार के गर्भनिरोधक का उपयोग नहीं कर रही हैं और अभी भी आपकी माहवारी नहीं हुई है तो सलाह के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

कोई मेडिकल स्थिति

ऐसी चिकित्सास्थितियां भी हैं जो माहवारी नहीं आने का कारण बन सकती हैं। इन स्थितियों के होने के आधार पर उनका अर्थ यह हो सकता है कि एक लड़की को अपेक्षित आयु तक माहवारी आना शुरू नहीं होती (प्राथमिक एमेनोरिया) हैं, या लड़की या महिला, जिन्‍हें पहले माहवारी होती है, फिर उनका आना बंद हो जाता (सेकेंडरी एमेनोरिया) है।

कुछ मुख्य चिकित्सा स्थितियां जो माहवारी नहीं आने का कारण बन सकती हैं, नीचे बताई गई हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) एक सामान्य स्थिति है जो माहवारी नहीं आने के तीन मामलों में से एक के रूप में जिम्मेदार है।

पीसीओएस में शामिल हैं:

  • आपके अंडाशय में कई कम-विकसित डिम्‍ब (फॉलिकल) होना
  • अंडाशय से नियमित रूप से डिम्‍ब (ओव्यूलेशन) नहीं निकलना
  • आपके शरीर में "पुरुष हार्मोन" (एण्ड्रोजन) का उच्च स्तर है

आपकी माहवारी नहीं आने का कारण होने के साथ-साथ, पीसीओएस के अन्य लक्षणों में शरीर पर अत्यधिक बाल, गर्भवती होने में समस्‍या और वज़न बढ़ने जैसी समस्याएं शामिल हैं।

हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया

आपकी माहवारी को मस्तिष्क के उस भाग द्वारा नियंत्रित किया जाता है जिसे हाइपोथैलेमस कहा जाता है। यहां हार्मोन पैदा होता है जो अंडाशय से डिम्‍ब बाहर निकलने के लिए जिम्‍मेदार होता है। हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया के मामलों में, हाइपोथैलेमस से इन हार्मोनों का उत्पादन बंद हो जाता है और माहवारी बंद हो जाती है।

वास्तव में हाइपोथैलेमस द्वारा ऐसा करने का कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन इसे इन बातों से जोड़ा गया है:

  • अत्यधिक वज़न घटाना, उदाहरण के लिए, आहार से जुड़ी बीमारी जैसे एनोरेक्सिया नर्वोसा के कारण
  • अत्यधिक व्यायाम
  • तनाव
  • पुरानी बीमारियाँ - जैसे हृदय रोग और अनियंत्रित मधुमेह (डायबिटीज़)

हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया उन महिलाओं में अधिक आम है जिनके पेशे में शारीरिक फिटनेस के संयोजन और शरीर के कम वज़न को बनाए रखने की आवश्यकता होती है, जैसे कि एथलीट और डांसर।

यदि आपको लगता है कि आपको हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया है और आप माहवारी नहीं होने के बारे में चिंतित नहीं हैं, तब भी आपको डॉक्‍टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि इससे हड्डियों के कमजोर होने (ऑस्टियोपोरोसिस ) की स्थिति बन सकती है और आपको हड्डी टूटने का जोखिम हो सकता है।

हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया (Hyperprolactinaemia)

हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया का अर्थ है कि आपके शरीर में प्रोलैक्टिन नामक हार्मोन का उच्च स्तर है।

प्रोलैक्टिन के उच्च स्तर आम तौर पर शिशु को जन्म देने के बाद ही आवश्यक होते हैं, क्योंकि वे स्तन के दूध बनने को प्रोत्साहित करने में मदद करते हैं। अन्य समय पर इनका उच्च स्तर होने से आपकी सामान्य माहवारी में बाधा हो सकती है और आपकी माहवारी अनुपस्थिति हो सकती है।

हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया को हर 200 महिलाओं में लगभग एक को प्रभावित करने वाला माना जाता है और इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे :

  • ब्रेन ट्यूमर
  • सिर में गंभीर चोट
  • गुर्दे की बीमारी
  • सिरोसिस (लिवर में जख्म)

हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया उपचार और दवाओं के दुष्प्रभाव के रूप में भी उत्पन्न हो सकता है, जैसे :

  • रेडियो थेरेपी
  • अवसादरोधी
  • कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा)
  • ओम्प्रेजोल (पेट के अल्सर के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा)

जो महिलाएं नियमित रूप से हेरोइन का उपयोग करती हैं, उनमें भी अक्सर हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया विकसित हो जाता है।

समय से पहले ओवेरियन विफलता

समय से पहले ओवेरियन विफलता (डिम्‍ब नहीं बनना) तब होती है जब उन महिलाओं में अंडाशय डिम्‍ब का उत्पादन करना बंद कर देता है जो अभी भी युवा हैं (आम तौर पर 45 या उससे कम)।

यह अनुमान लगाया गया है कि समय से पहले ओवेरियन विफलता की समस्‍या 40 वर्ष से कम आयु वाली प्रत्येक 100 महिलाओं में से एक को और 45 वर्ष से कम आयु की प्रत्येक 20 महिलाओं में से एक को प्रभावित करती है।

यह सोचा जाता है कि समय से पहले ओवेरियन विफलता के कई मामले प्रतिरक्षा प्रणाली की खराबी और अंडाशय पर हमला होने के कारण होते हैं। यह स्थिति कीमोथेरेपी (रसायन चिकित्सा) या रेडियोथेरेपी कराने से भी संबंध रखती है।

यदि आपको समय से पहले ओवरी के काम नहीं करने की शंका है तो आपको चिकित्सीय सलाह लेनी चाहिए, भले ही आप माहवारी के बारे में चिंतित न हों। इसका कारण यह है कि इस स्थिति में आगे चलकर आपको ऑस्टियोपोरोसिस और हृदय रोग का खतरा हो सकता है।

थायराइड की स्थितियां

थायरॉइड ग्रंथि गले में पाई जाती है। यह हार्मोन का उत्पादन करती है जो शरीर के विकास और मेटाबलिज़म को नियंत्रित करने के लिए रक्तप्रवाह में आता रहता है। ये हार्मोन हृदय गति और शरीर के तापमान जैसी प्रक्रियाओं को प्रभावित करते हैं और शरीर को चालू रखने के लिए भोजन को ऊर्जा में बदलने में मदद करते हैं।

कुछ महिलाओं में, थायरॉयड ग्रंथि से ये स्थितियां पैदा हो सकती हैं :

  • थायराइड हार्मोन का बहुत अधिक उत्पादन - यह एक अति सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि या हाइपरथायरॉइडिज्म के रूप में जाना जाता है
  • थायराइड हार्मोन बहुत कम उत्पादन - इसे कम सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि या हाइपोथायरॉइडिज्‍म के नाम से जाना जाता है

हाइपरथायरॉइडिज्‍म और हाइपोथायरॉइडिज्‍म दोनों ही माहवारी नहीं आने का कारण बन सकते हैं।

आनुवंशिक स्थितियां

ऐसा आम तौर पर नहीं होता, फिर भी माहवारी नहीं आने का कारण आपके जीन की समस्याओं से जुड़ी कई स्थितियां भी हो सकती हैं। इसमें शामिल हैं :

  • टर्नर सिंड्रोम (Turner syndrome) - प्रत्येक 2,000 लड़कियों में लगभग एक को प्रभावित करने वाली स्थिति, जो उन लोगों में होती है जिनमें अंडाशय से माहवारी को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक हार्मोन का उत्पादन नहीं होता है।
  • कल्मन सिंड्रोम (Kallmann syndrome) - प्रत्येक 10,000 बच्चों के जन्म में लगभग एक पर प्रभाव डालने वाली, बहुत कम होने वाली स्थिति, जिसमें आम तौर पर यौन विकास को बढ़ावा देने वाले हार्मोन नहीं पाए जाते हैं
  • एंड्रोजेनिक असंवेदनशीलता सिंड्रोम (androgen insensitivity syndrome) - प्रत्येक 20,000 जन्मों में से लगभग एक को प्रभावित करने वाली, बहुत कम होने वाली स्थिति जिसमें एक बच्चा आनुवंशिक रूप से पुरुष होता है, लेकिन उनके जननांग महिला जैसे दिखाई दे सकते हैं

जन्मजात दोष (Birth defects)

बहुत कम मामलों में, माहवारी नहीं आने का कारण एक लड़की में जन्म से ही मौजूद प्रजनन प्रणाली में विकास की समस्या हो सकती है, जैसे कि गर्भाशय या योनि का न होना।

पहचान

यदि आप अपनी माहवारी की समस्याओं से चिंतित हैं तो आपको अपने डॉक्‍टर से मिलना चाहिए, वे इसके कारण का पता लगा सकते हैं।

डॉक्टर आम तौर पर गर्भावस्था परीक्षण की सलाह देंगे क्योंकि गर्भावस्था माहवारी नहीं आने का सबसे आम कारण है और यदि आपको अंदाज़ा हुए बिना गर्भनिरोधक की विधि का उपयोग विफल हो जाता है तो बिना योजना के कभी कभी ऐसा हो सकता है।

डॉक्टर आपके मेडिकल इतिहास, आपके परिवार के मेडिकल इतिहास, आपके यौन इतिहास, आपको महसूस हो रहे किसी भी भावनात्मक मुद्दों और आपके शरीर के वज़न में किसी भी तरह के बदलाव पर भी ध्यान देगा।

वे यह भी आकलन करेंगे कि क्या आप यौवन के सामान्य शारीरिक चरणों से गुजर रही हैं।

किसी विशेषज्ञ से मिलना

आपके डॉक्टर आपकी माहवारी नहीं आने का कारण जानने के लिए आपको आगे की जांच के लिए या तो स्त्री रोग विशेषज्ञ (महिला की प्रजनन प्रणाली को प्रभावित करने वाली स्थितियों में विशेषज्ञ डॉक्‍टर) या और किसी आवश्यक उपचार के लिए एंडोक्राइनोलॉजिस्ट (हार्मोनल स्थितियों का इलाज करने वाला विशेषज्ञ डॉक्‍टर) के पास भेज सकते हैं।

आपका विशेषज्ञ डॉक्‍टर आपकी पूरी स्त्री रोग संबंधी जांच कर सकता है और विभिन्न परीक्षण कर सकता है, जिसमें शामिल हैं :

  • यह देखने के लिए खून की जांचें कराना, कि क्या आपमें कुछ हार्मोन, जैसे कि प्रोलैक्टिन, थायरॉयड-स्‍टीमुलेटिंग हार्मोन, फॉलिकल स्‍टीमुलेटिंग हार्मोन या ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन का स्तर असामान्य है
  • अल्ट्रासाउंड स्कैन, कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन या चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन - ये स्कैन आपके शरीर के अंदर की विस्तृत तस्वीरें लेते हैं और आपकी प्रजनन प्रणाली या आपके मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि के साथ किसी भी समस्या को प्रकट करते हैं।

यदि आपका कम वज़न है (18.5 से कम का बॉडी मास इंडेक्स) या अधिक (30 या इससे अधिक का बॉडी मास इंडेक्स) या मनोचिकित्‍सक डॉक्‍टर या मनोवैज्ञानिक से संपर्क करें या यदि आपके डॉक्टर को लगता है कि आपको खाने संबंधी बीमारी है तो आपको डायटिशियन के पास भेजा जा सकता है।

इलाज

माहवारी नहीं आने का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि यह स्थिति बनने का कारण क्या है।

कुछ मामलों में, आपकी माहवारी शुरू होने या स्वयं वापस आने की स्थिति में 'प्रतीक्षा करें और देखें' का दृष्टिकोण अपनाया जा सकता है। यह दृष्टिकोण उन लड़कियों के लिए सबसे अधिक उपयोग किया जाता है, जिनकी माहवारी अभी तक शुरू नहीं हुई है, क्योंकि इनमें से कई मामलों में माहवारी स्वाभाविक रूप से 18 साल की उम्र से शुरू होगी।

यदि परीक्षणों में सुझाव मिलता है कि आपकी माहवारी नहीं आने का कारण एक अंदरूनी चिकित्सा स्थिति है तो इसका उपचार खास स्थिति पर निर्भर करेगा। आपके डॉक्‍टर द्वारा इलाज करना कभी-कभी संभव होता है, हालांकि कुछ उपचार केवल विशेषज्ञों के पास ही उपलब्ध होते हैं।

माहवारी नहीं आने के सभी मामलों का इलाज नहीं किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, आपको एण्ड्रोजन असंवेदनशीलता सिंड्रोम होने पर आपकी माहवारी शुरू करने का कोई तरीका नहीं है।

माहवारी नहीं आने के कुछ और सामान्य कारणों के लिए उपचार नीचे बताए गए हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम का उपचार कई तरीकों से किया जा सकता है, लेकिन सामान्य माहवारी के लिए अक्सर हार्मोन थेरेपी की सलाह दी जाती है।

इसमें आम तौर पर या तो गर्भनिरोधक गोली लेना शामिल है या प्रोजेस्टेरोन नामक हार्मोन युक्त गोलियां ली जा सकती हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के इलाज के बारे में और पढ़ें।

हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया

अत्यधिक वज़न घटाने, अत्यधिक व्यायाम, तनाव और क्रॉनिक (पुरानी) स्थितियों जैसे कारणों से होने वाली माहवारी नहीं आने की स्थिति को हाइपोथैलेमिक एमेनोरिया कहते हैं। इसका इलाज अंदरूनी कारण को ठीक करने पर किया जा सकता है।

यदि आपके लक्षण अत्यधिक वज़न घटाने का परिणाम हैं तो आपको आहार विशेषज्ञ के पास भेजा जा सकता है, जो स्वस्थ वज़न दोबारा पाने के सुरक्षित तरीकों को अपनाने पर सलाह दे सकता है।

यदि आपका वज़न कम खाने की गड़बड़ी का परिणाम है, जैसे कि एनोरेक्सिया, तो आपको मनोचिकित्‍सक (मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों का इलाज करने में विशेषज्ञ डॉक्टर) के पास जाने की आवश्यकता होगी जो खाने से जुड़ी बीमारियों के इलाज में अनुभव रखते हैं। एनोरेक्सिया नर्वोसा के इलाज के बारे में और पढ़ें।

यदि आपके लक्षण अत्यधिक व्यायाम का परिणाम हैं, तो आपको अपने शारीरिक गतिविधि के स्तर को कम करने की सलाह दी जाएगी। यदि आप एक पेशेवर एथलीट या इसी तरह के पेशे में हैं तो आप ऐसे डॉक्टर के रेफरल से लाभ ले सकती हैं जो खेल चिकित्सा में माहिर होते हैं। वे इस बारे में सलाह देने में सक्षम होते हैं कि आप अपनी माहवारी को बाधित किए बिना फिटनेस और शारीरिक प्रदर्शन को कैसे बनाए रख सकती हैं।

यदि आपके लक्षण तनाव का परिणाम हैं तो एक प्रकार की टॉकिंग थेरेपी से मदद मिल सकती है जिसे संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) कहा जाता है। सीबीटी एक प्रकार की चिकित्सा है जिसका उद्देश्य आपकी सोच और कार्य करने के तरीके को बदलकर आपकी समस्याओं का प्रबंधन करने में मदद करना है।

यदि आपके लक्षण लंबे समय से अंदरूनी स्वास्थ्य स्थिति का परिणाम हैं तो इस बीमारी का इलाज करने से आपकी माहवारी को बहाल करने में मदद मिल सकती है। उदाहरण के लिए, यदि आपको टाइप 1 डायबिटीज़ (मधुमेह) है तो आपको इंसुलिन का नियमित इंजेक्शन लेने की आवश्यकता हो सकती है।

हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया (Hyperprolactinaemia)

हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया का उपचार (जहां व्यक्ति में असामान्य रूप से प्रोलैक्टिन नामक हार्मोन का उच्च स्तर होता है) इसके अंदरूनी कारण पर निर्भर करेगा।

उदाहरण के लिए, यदि हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया मस्तिष्क ट्यूमर का परिणाम है तो ट्यूमर को हटाने या काम करने के लिए सर्जरी, रेडियोथेरेपी या कीमोथेरेपी की आवश्यकता हो सकती है। यदि हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया एक दवा के साइड इफेक्ट के रूप में हुआ है तो आपकी दवा की समीक्षा करने की आवश्यकता हो सकती है।

समय से पहले ओवेरियन विफलता

यदि आपको समय से पहले ओवेरी की विफलता होती है (जब उन महिलाओं में अंडाशय से डिम्‍ब का उत्पादन बंद हो जाता है जो अभी भी ओवुलेशन के लिए तैयार हैं), तो आपका इलाज आम तौर पर हार्मोन की दवा के साथ किया जाएगा।

इसमें गर्भनिरोधक गोली लेना या हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) नामक उपचार शामिल हो सकता है।

इन उपचारों से समय से पहले ओवेरियन विफलता से जुड़ी जटिलताओं के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती हैं, जैसे कि ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों का कमजोर होना), लेकिन ज़रूरी नहीं है कि इससे आपकी माहवारी फिर से नियमित हो जाए।

थायराइड सम्बंधित स्थितियां

एक अति सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि के लिए उपचार के विकल्पों में थिओनेमाइड (thionamide) दवा शामिल है, जो थायरॉयड गतिविधि को कम करने में मदद करती है, और रेडियोआयोडीन उपचार नामक एक प्रकार की रेडियोथेरेपी, जिसका उपयोग थायरॉयड ग्रंथि के आकार को कम करने के लिए किया जा सकता है।

कम सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि के लिए उपचार के विकल्प में लेवोथायरोक्सिन नामक दवा शामिल है जो थायरॉयड गतिविधि को बढ़ावा दे सकती है।

अधिक सक्रिय थायरॉयड के इलाज और कम सक्रिय थायराइड के इलाज के बारे में और अधिक पढ़ें।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।