COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
25th July, 201914 min read

पोस्टपार्टम साइकोसिस (Postpartum psychosis) : पार्टनर्स के लिए एक गाइड

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

प्रसवोत्तर साइकोसिस (पोस्टपार्टम साइकोसिस) एक गंभीर मानसिक हेल्थ कंडीशन है, जो प्रसव के बाद के दिनों या हफ्तों में हो सकती है। प्रसवोत्तर मनोविकार आम नहीं है, लेकिन यह बहुत तेज़ी से विकसित हो सकती है, और यदि इसका उपचार नहीं किया गया, तो यह विनाशकारी हो सकती है।

पोस्टपार्टम साइकोसिस (Postpartum psychosis) परिवार के सदस्यों और प्रियजनों के लिए भी व्याकुल करने वाला एक अनुभव हो सकता है। यदि आपकी पार्टनर पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित है, तो आप निराश, भ्रमित, या अलग-थलग महसूस कर सकते हैं। अपने पार्टनर की देखभाल करते हुए, या उसकी हेल्थ के लिए भयभीत होकर एक नन्हें बच्चे को पालने की संभावना से अभिभूत हो सकते हैं।

ये भावनाएँ सामान्य हैं, लेकिन यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि जो कुछ हो रहा है, उसके लिए आपकी पार्टनर जिम्मेदार नहीं है। पोस्टपार्टम साइकोसिस सामान्य रूप से अस्थाई होता है। सही उपचार और सपोर्ट के साथ, ज्यादातर महिलाएँ प्रसवोत्तर मनोविकार (पोस्टपार्टम साइकोसिस) से उबर जाती हैं।

इस लेख में, आपको ऐसी जानकारी मिलेगी, जो आपको पोस्टपार्टम साइकोसिस के लक्षणों की पहचान करने, सबसे सामान्य उपचार विकल्पों के विवरण और अपने पार्टनर को रिकवरी प्रक्रिया का प्रबंधन करने में मदद करने की सलाह भी मिलेगी।

आपको ऐसे सलाह भी ममिलेंगे, जो इस कठिन समय से निपटने में आपकी मदद करने के लिए डिज़ाइन की गई है, और तीसरे पक्ष के संसाधनों के लिए लिंक दिए गए हैं, जो अतिरिक्त सहायता प्रदान करने में सक्षम हो सकते हैं।

पोस्टपार्टम साइकोसिस (postpartum psychosis) क्या है?

पोस्टपार्टम साइकोसिस (कभी-कभी प्युपरिकल साइकोसिस (puerperal psychosis) के रूप में जाना जाता है) एक गंभीर मानसिक बीमारी है, जो हर 1,000 महिलाओं में लगभग एक को प्रभावित करती है। यह कंडीशन आमतौर पर बच्चे के जन्म के बाद पहले कुछ दिनों या हफ्तों में अचानक शुरू होती है, और अक्सर लोग इन लक्षणों को महसूस करते हैं:

  • चिड़चिड़ापन या गुस्सा
  • चिंतित, संदिग्ध, या डर की भावना
  • उत्साहित या उत्तेजित
  • अति सक्रिय और ऊर्जावान
  • जैसे उनके मन के विचार अत्यधिक तेज़ी से आ जा रहे हों
  • भ्रम वाले विचार
  • जैसे उन्हें सोने की जरूरत नहीं है
  • असामान्य रूप से थका हुआ या सुस्त
  • चेतना शक्ति अधिक संवेदनशील होना

जैसे-जैसे पोस्टपार्टम साइकोसिस की स्थिति बदतर होती है, प्रभावित लोग भ्रम और मतिभ्रम का अनुभव भी कर सकते हैं। वे आवाज़ों को सुनने का दावा कर सकते हैं, तर्कहीन भय पैदा कर सकते हैं या ऐसा महसूस कर सकते हैं कि टीवी पर अभिनेता उनसे बात करने की कोशिश कर रहे हैं।

ध्यान दें: पोस्टपार्टम साइकोसिस और पोस्टपार्टम डिप्रेशन (postpartum depression) के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है। प्रसव के बाद के दिनों या हफ्तों में दोनों कंडीशन विकसित हो सकती हैं, लेकिन प्रसवोत्तर अवसाद (पोस्टपार्टम डिप्रेशन) एक अधिक सामान्य बीमारी है, जो ख़राब मूड, नकारात्मक विचार और लो एनर्जी लेवल का कारण बनती है।

यदि आपकी पार्टनर में उन्माद (mania), चिंता (anxiety) या उत्तेजना के लक्षण के बिना लो मूड या अवसाद के लक्षण दिख रहे हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, और उन्हें बताना चाहिए कि आप अपनी पार्टनर के मानसिक स्वास्थ्य (mental health) के बारे में चिंतित हैं। वे पोस्टपार्टम डिप्रेशन के लिए स्क्रीनिंग करने और आपकी पार्टनर के लिए उपचार के विकल्प प्रदान करने में सक्षम होंगे।

पोस्टपार्टम साइकोसिस (postpartum psychosis) के क्या कारण हैं?

पोस्टपार्टम साइकोसिस के सटीक कारण का पता नहीं चल पाया हैं, लेकिन रिसर्च से पता चलता है कि जिन लोगों को पहले बाइपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder ) या कोई अन्य गंभीर मानसिक बीमारी थी, उनमें यह कंडीशन विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।

रिसर्च एक आनुवांशिक लिंक भी सुझाता है, जिसमें यह दिखाया गया है कि जिनकी माताओं या बहनों को पहले पोस्टपार्टम साइकोसिस हुआ था, उनमें यह कंडीशन विकसित होने की संभावना छह गुना अधिक होती है।

यदि आपकी पार्टनर इन श्रेणियों में से एक में फिट बैठती है, तो आपको उनके व्यवहार पर पूरा ध्यान देना चाहिए, और पोस्टपार्टम साइकोसिस के लक्षणों पर नज़र रखनी चाहिए।

प्रसवोत्तर मनोविकार (पोस्टपार्टम साइकोसिस) की शुरुआत गंभीर नींद की कमी (severe sleep deprivation) और आपके पार्टनर के हार्मोन लेवल से जुड़ी हो सकती है, लेकिन ऐसा कोई सुझाव नहीं है कि प्रसवोत्तर अवसाद (पोस्टपार्टम डिप्रेशन) आपके या आपके पार्टनर की गलती की वज़ह से है।

यह आपके या आपके पार्टनर द्वारा सोचे या किए गए किसी भी चीज के कारण नहीं है, और यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि रिश्ते की समस्याएँ, पारिवारिक आय, या बच्चे के अवांछित होने के कारण प्रसवोत्तर मनोविकार नहीं होता है।

पोस्टपार्टम साइकोसिस (postpartum psychosis) का पता लगाना

प्रसवोत्तर मनोविकार (पोस्टपार्टम साइकोसिस) के लक्षणों को देखना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। प्रारंभिक संकेत आमतौर पर बच्चे के जन्म के दो से तीन दिन बाद ही दिखाई देने लगते हैं, लेकिन कभी-कभी इस कंडीशन को सामने आने में दो या दो से अधिक सप्ताह लग सकते हैं। पोस्टपार्टम साइकोसिस के शुरुआती लक्षण (signs of postpartum psychosis) प्रसवोत्तर महिलाओं में भी काफी आम हैं, जो भ्रामक हो सकती हैं।

प्रारंभ में, आप देख सकते हैं कि आपकी पार्टनर असामान्य रूप से बेचैन, उत्तेजित या उत्साहित लगती है। आप यह भी देख सकते हैं कि वो बहुत ज्यादा बातें करने लगी है, या उन्हें रात को सोने में परेशानी होती है। यह बताना मुश्किल हो सकता है कि इस तरह की हाई मूड प्राकृतिक है, या एक गंभीर मानसिक बीमारी का लक्षण है।

इस बात पर सोचना पूरी तरह से सामान्य है कि इस समय आपके पार्टनर को मदद की ज़रूरत है या नहीं, खासकर यदि आप समझ नहीं पा रहे हों कि 'सामान्य' व्यवहार किसे कहते हैं, और यह नहीं जानते कि आपके नए बच्चे के जन्म के बाद के दिनों में क्या देखने को मिलेगा।

प्रसवोत्तर मनोविकार (पोस्टपार्टम साइकोसिस) के अधिकांश मामलों में बहुत जल्दी प्रगति होती है। बेचैनी या हाई एनर्जी के शुरुआती संकेत अधिक स्पष्ट हो सकते हैं, और आप नोटिस कर सकते हैं कि आपकी पार्टनर में निम्न लक्षण दिखाई दे रहे हैं:

  • चिड़चिड़ापन (irritability) या गुस्सा
  • अचानक और नाटकीय मनोदशा में परिवर्तन (mood changes)
  • चिंता, भय या व्यामोह (paranoia)
  • मन में तेजी से ख्याल आना विचार और माइंड का अति सक्रिय होना (overactive mind)
  • भ्रम (confusion) या भटकाव (disorientation)
  • ऊर्जा की कमी
  • भूख की कमी
  • लोगों से अलग-थलग रहना या आँखों में आंसू आना
  • बहुत अधिक या अज़ीब सामाजिक व्यवहार (उदाहरण के लिए हर समय फोन पर बात करना)

आपको यह भी महसूस हो सकता है कि आपकी पार्टनर लंबे समय तक अपने चरित्र के विपरीत व्यवहार कर रही है। वे असामान्य लग सकते हैं और उनके व्यवहार में लापरवाही दिख सकती है, जैसे कि वह अपने मूल्यवान संपत्ति को किसी को भी अचानक दे सकती है, या अत्यधिक खरीदारी कर सकती है।

वे ठीक से सो भी नहीं पाएँगी और उन चीजों के बारे में इन्हें चिंता सताने लगेगी जो आमतौर पर उन्हें परेशान नहीं करते थे।

कुछ मामलों में, पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित महिलाएँ भ्रम का भी अनुभव करती हैं। उदाहरण के लिए, वे मान सकती हैं कि टीवी पर अभिनेता उन्हें संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैं, कि उनके पास विशेष शक्तियाँ हैं, या नए बच्चे को किसी चीज़ से बचाने की ज़रूरत है।

पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित लोग मतिभ्रम (hallucinations) का अनुभव भी कर सकते हैं, जहाँ वे ऐसी चीजें देखते हैं या सुनते हैं जो वास्तव में वहाँ नहीं होती हैं।

पोस्टपार्टम साइकोसिस का इलाज किया जा सकता है और कई महिलाएँ पूरी तरह से ठीक हो जाती हैं, लेकिन यह कंडीशन खतरनाक भी हो सकता है। पोस्टपार्टम सपोर्ट इंटरनेशनल के अनुसार, इस बीमारी के साथ 5% आत्महत्या दर और 4% शिशु मृत्यु दर शामिल है, इसलिए जल्द-से-जल्द मेडिकल प्रोफेशनल से परामर्श लेने की कोशिश करनी चाहिए।

यदि आपको लगता है कि आपके पार्टनर को प्रसवोत्तर मनोविकार है, तो अपने पार्टनर के व्यवहार से भयभीत या भ्रमित होना सामान्य बात होती है। हालांकि यह याद रखना भी महत्वपूर्ण है कि वे एक गंभीर मानसिक बीमारी से पीड़ित हो सकती हैं, और वे इस समय अपने विचारों, भावनाओं या कार्यों को नियंत्रित करने में सक्षम नहीं हो सकती हैं।

सबसे अच्छी बात जो आप कर सकते हैं, वह है उनके लिए मेडिकल हेल्प पाने की कोशिश करना। आप इसे किसी क्राइसिस हॉटलाइन को कॉल करके या दाई (मिडवाइफ), स्वास्थ्य विजिटर, मानसिक स्वास्थ्य क्राइसिस टीम या स्थानीय अस्पताल से सीधे संपर्क करके कर सकते हैं।

इसकी संभावना बेहद कम है कि आपकी पार्टनर अपने व्यवहार के बारे में कोई चिंता शेयर करेगी। एक्शन ऑन पोस्टपार्टम साइकोसिस (Action on Postpartum Psychosis) के अनुसार, पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित महिलाओं के लिए यह महसूस करना सामान्य है कि वे प्रसव और नए बच्चे के साथ अच्छी तरह से सामना कर रही हैं, इसके बावज़ूद कि वे उन लक्षणों को प्रदर्शित कर रही हैं जो बाद में एक गंभीर मानसिक बीमारी के शुरुआती लक्षणों के रूप में पहचाने जाएँगे।

अपने पार्टनर के व्यवहार में किसी भी अचानक बदलाव के लिए नज़र रखने की कोशिश करें, और यदि कोई करीबी दोस्त या परिवार कोई चिंता व्यक्त करते हैं, तो ध्यान से सुनें। सही सपोर्ट के साथ, अधिकांश महिलाएँ पूर्ण रूप से रिकवर कर सकती हैं, लेकिन समय पर हस्तक्षेप करने से उचित उपचार की संभावना अधिक होती है, इसलिए यदि आप अपने पार्टनर के व्यवहार के बारे में चिंतित हैं, तो जितनी जल्दी हो सके एक स्वास्थ्य पेशेवर (हेल्थ प्रोफेशनल) से संपर्क करें।

प्रसवोत्तर मनोविकार (पोस्टपार्टम साइकोसिस) का इलाज करना (Treating postpartum psychosis)

यदि आपकी पार्टनर पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित हैं, तो उन्हें तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता है। ज्यादातर मामलों में, पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित महिलाओं को एक मनोचिकित्सा इकाई (psychiatric unit) में भर्ती करने की जरुरत होती है, ताकि उनका इलाज ठीक से हो सके।

कुछ देशों में, हेल्थ प्रोफेशनल्स को एक साइकियाट्रिक (मनोरोगी) होल्ड या मानसिक स्वास्थ्य सेक्शन को अनुरोध करने की आवश्यकता होगी, ताकि आपके पार्टनर को अस्पताल में भर्ती कराया जा सके और उनका इलाज किया जा सके।

यदि आप यूके, फ्रांस, जर्मनी, बेल्जियम या ऑस्ट्रेलिया में रहते हैं, तो आपके पार्टनर को एक विशेषज्ञ मदर एंड बेबी यूनिट (माँ और शिशु इकाई) (MBU) में भर्ती कराया जा सकता है। ये इकाइयाँ प्रसवोत्तर मानसिक स्वास्थ्य (postnatal mental health) स्थितियों के उपचार के लिए समर्पित हैं, और डॉक्टरों को नियुक्त करती हैं, जो पोस्टपार्टम साइकोसिस जैसे कंडीशन में विशेषज्ञ होते हैं।

एक विशेषज्ञ माँ और शिशु इकाई में भर्ती होने का मतलब है कि आपकी पार्टनर आपके बच्चे की देखभाल कर पाएगी, जब उनका भी इलाज किया जा रहा होगा। वे हर समय बारीकी से देखरेख करेंगे, लेकिन फिर भी अपने बच्चे के साथ संबंध बनाने में सक्षम होंगे।

पोस्टपार्टम साइकोसिस के लिए उपचार में सामान्य रूप से देखभाल, मनोचिकित्सक के साथ नियमित मीटिंग्स और विशेषज्ञ मेंटल हेल्थ डॉक्टर्स द्वारा निगरानी शामिल है। पोस्टपार्टम साइकोसिस के इलाज के लिए दवाओं, जैसे कि एंटीसाइकोटिक्स (antipsychotics), मूड स्टेबिलाइजर्स (mood stabilizers) और बेंजोडायजेपाइन (benzodiazepines) का उपयोग किया जाता है। कुछ मामलों में, इलेक्ट्रोशॉक थेरेपी (ईसीटी) (electroshock therapy) (ECT) की सलाह दी जा सकती है।

मेडिकल हेल्थ प्रोफेशनल्स को शामिल करने के विचार से डर लग सकता है, और आप अपने पार्टनर को उस सेक्शन में ले जाने में संकोच कर सकते हैं। अपने पार्टनर को मनोरोगी इकाई में रखने के लिए खुद को दोषी महसूस करना भी आम बात होती है, लेकिन आपके पार्टनर को विशेषज्ञ मानसिक स्वास्थ्य सुविधा में उनकी सही देखभाल और सहायता मिलने की संभावना अधिक है।

यदि इस कंडीशन का ठीक से इलाज किया जाता है, तो ज्यादातर महिलाएँ प्रसवोत्तर मनोविकार से उबर जाती हैं। रिकवरी का समय व्यक्ति के आधार पर अलग-अलग हो सकता है, और उन्हें पूरी तरह से ‘बैक टू नॉर्मल’ महसूस करने में कई महीने लग सकते हैं, लेकिन सामान्य दृष्टिकोण सकारात्मक है।

मेरे पार्टनर को अस्पताल से आने के बाद उसकी देखभाल कैसे कर्मी होगी?

एक बार अस्पताल से घर आ जाने के बाद, आपके पार्टनर को आमतौर पर सामुदायिक मानसिक स्वास्थ्य टीम या विशेषज्ञ प्रसवकालीन मानसिक स्वास्थ्य (perinatal mental health) टीम द्वारा सपोर्ट किया जाएगा।

भोजन पकाने, या घर के काम करने और खरीदारी करने जैसे कुछ व्यावहारिक कार्य करके आप उसे ठीक होने में मदद कर सकते हैं। मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों से उबरने वाले लोग अक्सर बुनियादी तौर पर स्वयं की देखभाल करने के लिए संघर्ष करते हैं और रिकवरी की प्रक्रिया के लिए समय समर्पित करने की जरुरत होती है, इसलिए छोटे-मोटे घरेलू काम करना मददगार हो सकता है।

आप अपने पार्टनर को उसके बच्चे की देखभाल करने के लिए और अधिक आश्वस्त होने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं:

  • अपने बच्चे के साथ एक संबंध स्थापित करने के लिए उसे समय देना
  • उसे स्वतंत्र रूप से शिशु की देखभाल की दिशा में छोटे कदम उठाने की अनुमति देना

उसे यह बताने में मदद मिल सकती है कि आप भी कुछ चीजों के बारे में अनिश्चित हैं। पोस्टपार्टम साइकोसिस से उबरने वाले लोग अक्सर अपनी पेरेंटिंग क्षमताओं में विश्वास खो देते हैं, और यह जानकर वे आश्वस्त हो सकते हैं कि वे माता-पिता के रूप में पीछे नहीं हैं।

इन सबसे ऊपर, सहायक और शांत होने की कोशिश करें। किसी ऐसे व्यक्ति को सपोर्ट करना मुश्किल हो सकता है, जो प्रसवोत्तर मनोविकार से उबर रहा हो और आप अपने पार्टनर के डिस्चार्ज के बाद के दिनों (या सप्ताह) में अभिभूत महसूस कर सकते हों, लेकिन ज्यादातर लोग पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं और पूरी तरह से सामान्य जीवन व्यतीत करते हैं।

यह आपके पार्टनर में फिर से लक्षण दिखने पर एक प्लाननाने में मदद करता है। यदि अस्पताल से आपके पार्टनर के डिस्चार्ज होने के बाद, आप उनके व्यवहार से चिंतित हैं, तो आपको अपने डॉक्टर या मानसिक स्वास्थ्य संकट टीम (mental health crisis team) से सीधे संपर्क करना चाहिए।

पोस्टपार्टम साइकोसिस (postpartum psychosis) का सामना करना

यह जानना मुश्किल हो सकता है कि आपकी पार्टनर पोस्टपार्टम साइकोसिस से पीड़ित है या नहीं। उनके व्यवहार में अचानक बदलाव से आप भ्रमित, भयभीत या अभिभूत महसूस कर सकते हैं। आप उनके व्यवहार से निराश होकर या अपनी पार्टनर की बीमारी के परिणामस्वरूप थककर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के लिए सहमत होने से भी चिंतित हो सकते हैं।

ये सभी भावनाएँ सामान्य हैं, और अपनी भावनाओं के बारे में आपको दोषी महसूस करने का कोई कारण नहीं है। हालाँकि, याद रखें कि जो कुछ भी उनके साथ हो रहा है, उसके लिए आपकी पार्टनर जिम्मेदार नहीं है, और जिस तरह से वे व्यवहार कर रही हैं, उसमें वे अपनी कुछ मदद नहीं कर सकते। यह अपने आप को याद दिलाने में मददगार हो सकता है कि इस कंडीशन से रिकवर करना आम बात है।

यह सुनिश्चित करने का प्रयास करें कि आप स्वयं के मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रख रहे हैं। आपके पार्टनर के लक्षणों की शुरुआत के कुछ सप्ताह और महीने तनावपूर्ण होने की संभावना है। माता-पिता बनने की आपकी ख़ुशी पर पानी फिर गया है और आप अपनी परिस्थितियों में अचानक बदलाव के बीच संघर्ष कर रहे हैं, ऐसा आपको महसूस हो सकता है।

आपको ऐसा भी महसूस हो सकता है आप अपने पार्टनर के सहयोग के बिना अपने बच्चे की परवरिश करने की जिम्मेदारी को नहीं उठा सकते हैं, और इस कठिन समय के दौरान चिंतित या अभिभूत महसूस करना सामान्य है।

यदि आप अपनी भावनाओं के बारे में चिंतित हैं और ऐसा महसूस करते हैं कि आपको सपोर्ट की आवश्यकता है, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। वे आपके मुद्दों के बारे में बात करने और आपकी मदद करने में सक्षम होंगे।

आप अपने करीबी दोस्त या परिवार के सदस्य से अपनी चिंताओं के बारे में बात करने की कोशिश कर सकते हैं। वे आपको कुछ अतिरिक्त सहायता प्रदान करने में सक्षम हो सकते हैं, और किसी भी व्यावहारिक कार्यों की देखभाल कर सकते हैं, जैसे भोजन बनाना या लोगों को आपके पार्टनर और बच्चे के बारे में अपडेट देना। आपके दोस्त और परिवार आपके आराम करने के दौरान आपके बच्चे की देखभाल करने में सक्षम हो सकते हैं, जो अमूल्य हो सकता है यदि आप अपने काम से थकान महसूस कर रहे हैं।

यदि आप अपने बच्चे की देखभाल करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं - या आपको ऐसा लगता है कि इस स्थिति से आपको बहुत ज्यादा तनाव हो रहा है - तो अपनी नर्स, डॉक्टर या सहायता समूह तक पहुँचने की कोशिश करें।

सहायता समूह अतिरिक्त सहायता प्रदान करने में सक्षम हो सकते हैं।

PSI के वेबसाइट पर जाएँ। list of international support groups.

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।