COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
13th July, 20205 min read

सोरायसिस के इलाज के लिए 5 प्राकृतिक तरीके

Medical Reviewer: Healthily's medical team
Author: Alex Bussey
मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है। यह Alex Bussey द्वारा लिखा गया है और Healthily's medical team ने इसकी मेडिकल समीक्षा की है।

सोरायसिस (Psoriasis) एक आम त्वचा संबंधी समस्या है जिसमें त्वचा पर उभरे हुए लाल चकत्ते होते हैं।

यह एक ऑटोइम्यून स्थिति है जो आपके शरीर में सामान्य से अधिक तेज़ी से नई त्वचा कोशिकाओं का उत्पादन करती है। सोरायसिस परिवारों में पीढ़ी दर पीढ़ी हो सकता है और कई बार यह समस्या तनाव, कुछ दवाओं या त्वचा पर नुकसान जैसे सनबर्न जैसी चीजों से भी शुरू हो सकता है।

इसका इलाज स्टेरॉयड क्रीम और कोल टार (या गाढ़े तेल) जैसी दवाइयों से किया जाता है। ये आमतौर पर प्रभावी होते हैं, लेकिन इनके दुष्प्रभाव हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, स्टेरॉयड क्रीम त्वचा को पतला कर सकती है।

अगर आप सोरायसिस से ग्रसित हैं और अपने लक्षणों के इलाज करने के लिए अन्य तरीकों को देख रहे हैं, तो इन चीजों को घर पर ही कर सकते हैं।

स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक खुराक लें (Eat a healthy diet)

अगर आप अपनी खुराक में थोड़ा परिवर्तन करते हैं तो सोरायसिस की समस्या सही हो जाएगी या नहीं, यह निश्चित नहीं है। लेकिन ऐसा करने से आपको स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद मिलेगी, जिससे सोरायसिस (Psoriasis) की समस्‍या ज्‍यादा बढ़ेगी नहीं।

ऐसा अभी तक साफ नहीं हो पाया है कि वजन घटाने से सोरायसिस (Psoriasis) के लक्षणों में कैसे राहत मिलती है, लेकिन विशेषज्ञ सोचते हैं कि ऐसा इम्‍यून सिस्‍टम द्वारा उत्पादित प्रोटीन के समूह से संबंधित हो सकता है।

इन प्रोटीन को साइटोकिन्स कहा जाता है और अध्ययनों से पता चला है कि शरीर में वसा की मात्रा अधिक होने पर साइटोकिन का स्तर भी उच्च हो जाता है जिससे कोशिकाओं और ऊतकों में सूजन आ जाती है।

यह व्याख्या कर सकता है कि क्यों अधिक वज़न के लोगों को अक्सर सोरायसिस (Psoriasis) के लक्षण नजर आते हैं बजाय दूसरों के।

ऐसा भी माना जाता है कि स्‍वास्‍थ्‍यवर्द्धक खाने से और वजन को घटाने से सोरायसिस (Psoriasis) की दवाइयों का सेवन करने जैसा ही असर होता है। ये क्रियाएँ विकासशील स्थितियों के आपके जोखिम को भी कम कर सकती हैं जो अक्सर सोरायसिस से जुड़ी होती हैं, जैसे हृदय रोग heart disease, उच्च रक्तचाप (high blood pressure) और मधुमेह (diabetes)।

कोशिश करें कि संतुलित और स्वस्थ खुराक का सेवन करें, जिसमें बहुत सारे फल और सब्जियां हों।

ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें जिससे सूजन बढ़ सकती है। इनमें लाल मीट, बहुत अधिक संसाधित खाद्य और डेयरी उत्पाद शामिल हैं।

धूम्रपान करना छोड़ दें (Quit smoking)

सोरायसिस से ग्रसित लोगों के लिए धूम्रपान करना एक बुरी आदत है और इसके पीछे कई कारण होते हैं जैसे:

  • धूम्रपान करने से इस स्थिति के विकसित होने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • इससे दोबारा इनके वापस आने की सम्भावना बढ़ सकती है।
  • उस अवधि में जहां लक्षण समय के साथ कम हो जाते हैं, उसकी सम्भावना कम हो जाती है।

सिगरेट को छोड़ देना बहुत मुश्किल हो सकता है, लेकिन आप इसे छोड़ने के लिए इन सुझावों का पालन कर सकते हैं।

आप निकोटिन रिप्‍लेसमेंट थेरेपी जैसे पैच, नेजल स्प्रे या निकोटिन गम को भी ट्राई कर सकते हैं, लेकिन निकोटिन के इस्तेमाल से पहले डॉक्टर से बात कर लें क्योंकि इससे आपके सोरायसिस के लक्षण और गंभीर हो सकते हैं।

शारीरिक गतिविधि (Physical activity)

शोध से पता चलता है कि नियमित रूप से व्यायाम करने से आपको सोरायसिस के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद मिलती है क्यूँकि ये वजन घटाने और सूजन को कम करने में सहायता करते हैं।

व्यायाम करने से एक या एक से अधिक स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं जैसे - डायबिटीज या हृदय रोग के विकसित होने का जोखिम कम करने में भी मदद मिल सकती है।

इस बात के भी कुछ प्रमाण हैं कि नियमित व्यायाम से आपकी मानसिक भलाई में सुधार हो सकता है और आपको लक्षणों का सामना करने में आसानी हो सकती है।

यदि सोरायसिस आपके लिए व्यायाम करना मुश्किल बना देता है, तो कुछ हल्के व्यायाम से शुरू करें। तेजी से टहलना (ब्रिस्क वॉक) या स्ट्रेचिंग व्यायाम अभी भी फायदेमंद हो सकते हैं। एक बार जब आपके शरीर को सक्रिय होने की आदत हो जाती है, तो आप कठिन व्यायाम को भी कर सकते हैं।

कुछ लोगों ने पाया है कि एक्‍सरसाइज करने के बाद हल्‍का शॉवर लेने से भी लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद मिलती है। आप जिन स्थानों पर खुजली या जलन महसूस करते हैं वहां पर मॉश्‍चराइजर लगा सकते हैं।

हल्‍दी (Turmeric)

हल्दी में करक्यूमिन नाम का एक रासायनिक तत्व होता है जो एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है।

अध्ययनों में पाया गया है कि अपने भोजन में या आप जो कुछ भी खा रहे हों उसमें हल्की को मिलाना, सोरायसिस के लक्षणों को ठीक करने में मददगार साबित होता है।

हालांकि, इन अध्ययनों में निकले निष्कर्ष से अभी तक सिद्ध नहीं हुआ है कि हल्दी इस स्थिति के लिए प्रभावी उपचार है। आगे भी शोध आवश्यक है।

हर्बल सप्लीमेंट कुछ दवाओं के साथ भी परस्पर प्रभाव डाल सकते हैं, और यदि आप गर्भवती हैं, स्तनपान करवा रही हैं या यदि आप मधुमेह या हृदय रोग जैसी किसी पहले से चल रही चिकित्सा स्थिति से ग्रसित हैं तो वे खतरनाक हो सकती हैं।

अधिक शोध किए जाने तक, अपने आहार और जीवनशैली में परिवर्तन करने पर ध्यान केंद्रित करना अधिक उपयोगी हो सकता है जो कि सोरायसिस के लक्षणों को कम करने के लिए सिद्ध हुआ है।

यदि आपको लगता है कि आपको सोरायसिस है, और आप अपने लक्षणों को लेकर चिंतित हैं या यदि आपके लक्षण खराब होते जा रहे हैं तो आपको अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।