COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
6 min read

आईये सेक्स के बारे में बात करें

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

यदि आपका यौन जीवन (sex life) संतोषजनक नहीं है तो आप कुछ कदम उठाकर उसे बेहतर बना सकते हैं। आप सेक्स के बारे में क्या महसूस करते हैं इसको लेकर अपने साथी से बात करना एक अच्छी शुरुआत हो सकती है।

डेनिस नोल्स रिलेट से जुड़े एक साइकोसेक्सुअल थेरेपिस्ट (psychosexual therapist) हैं। यह एक चैरिटी है जो सेक्स और रिश्तों के बारे में आलोचना रहित मदद प्रदान करती है।

डेनिस यहां सेक्स के बारे में बात करने पर सलाह दे सकते हैं चाहे यह किसी परेशानी पर चर्चा करना हो या बात बस अपने साथी को अपनी पसन्द और ना पसन्द बताने की हो।

सेक्स के बारे में बात करना सही क्यों है?

बातचीत किसी भी अच्छे रिश्ते में ज़रूरी होती है क्योंकि यह आपको अपनी भावनाओं को साझा करने और समस्याओं से एक साथ निपटने की सुविधा देता है। यह आपके यौन जीवन के विषय में भी सही है। खासकर जब आपको कोई बात परेशान कर रही हो।

यदि आप अपने यौन जीवन में चल रही चीज़ों के ऊपर बात सकेंगे फिर आपको अपनी समस्याओं को दबाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। ऐसा डेनिस का कहना है।

यह अक्सर तब होता है जब समस्या छिप जाती है और लोग परेशान होने लगते हैं कि क्या गलत हो सकता है। जब रोजाना के रिश्ते में दूरी बढ़ने लगती है तब ऐसा होता है।

उदाहरण के लिए, यदि आप अपने साथी की तुलना में कम सेक्स चाहते हैं लेकिन आप इस विषय में बात नहीं करते हैं। तो आपके साथी को चिंता हो सकती है कि आप उन्हें प्यार नहीं करते हैं या आपका अफेयर चल रहा है।

शायद आप काम को लेकर तनाव में हो या आप ऐसी स्थिति में हों जहां आपकी उम्र बढ़ने के साथ शरीर में परिवर्तन हो रहे हों । यदि आप इसके बारे में बात करेंगे तब आपका साथी सच जान पायेगा और आप दोनों परेशानी को संभालने के लिये उसपर काम कर सकेंगे।

सेक्स के प्रति अरुचि (loss of libido) के बारे में और पढ़ें।

सेक्स के बारे में कुछ भी कैसे और कब बोलें

डेनिस इस बात से सहमत हैं कि बहुत से लोग सेक्स के बारे में खुलकर बात करने को मुश्किल पाते हैं। खासकर अगर उन्होंने इसके बारे में अपने साथी से कभी बात नहीं की हो।

डेनिस बताते हैं आपको सही मौके की तलाश करनी चाहिए। यदि आप अपने यौन जीवन को लेकर परेशान हैं तो इसके बारे में तब चर्चा ना करें जब आप बस प्यार करने की कोशिश कर रहे हों और यह काम ना करे।

वह बताते हैं, कि सेक्स एक भावनात्मक विषय है और आप उस समय भावनात्मक स्थिति में होते हैं। सुनिश्चित होकर कहें, “ठीक है, लेकिन मुझे लगता है हमें इसके बारे में किसी और समय बात करनी चाहिए। उन्हें यह दिलासा न दें कि सबकुछ ठीक है क्योंकि ऐसा नहीं है।"

उस समय का चयन करें जब आप साथ में अकेले हों और फोन बजने या बच्चों के स्कूल से वापस आने से परेशान ना हो रहे हों।

डेनिस बताते हैं, जो बात आपको बोलनी है उसके बारे में सोचिये, बहुत से युगल अपने साथी की भावनाओं को चोट पहुँचाने के डर से कुछ नहीं बोलते हैं।

लेकिन यदि आप अपने यौन जीवन से खुश नहीं है तो यह आपको कैसे प्रभावित कर रहा है इसको लेकर ईमानदार होना सही है।

प्यार भरी साझेदारी में अपने लिए उपयुक्त समाधान खोजने के लिए आप दोनों साथ-साथ काम कर सकते हैं।

अपने साथी की भावनाओं को लेकर संवेदनशील रहें

बिना अपने साथी की भावनाओं को चोट पहुँचाए आप सुझाव या परेशानी को सामने ला सकते हैं। संवेदनशील और सुनिश्चित होकर अपने साथी से उनके विचार आपके साथ साझा करने के लिए कहें।

डेनिस सलाह देते हैं कुछ ऐसा बोलना जैसे कि "मैंने गौर किया है कि हम अब वैसे प्यार नहीं करते जैसे हमेशा किया करते थे और यह मुझे परेशान कर रहा है। तुम्हारा इसके बारे में क्या ख्याल है?"

यदि आपका साथी पूछता है कि आपने यह पहले क्यों नहीं बताया तो ईमानदार रहें। शायद इसलिए क्योंकि आप निश्चित नहीं थे कि यह कैसे बोलें, या आप कामना कर रहे थे कि चीज़ें सुधर जाएंगी।

डेनिस कहते हैं, एक बार ये बात शुरू करने के बाद आपको अपने साथी को थोड़ा समय देने की ज़रूरत पड़ सकती है। यह आपके साथी के लिए एक झटके की तरह साबित हो सकता है। एक बार जब विषय पर बात शुरू हो जाये तो आप दोनों के लिए एक दूसरे से दूर रहकर अपनी भावनाओं के बारे में सोचना ज़रूरी होगा कि आप किन चीज़ों में बदलाव कर सकते हैं।

लेकिन इस विषय पर आप वापस ज़रूर आएँ। कोई बात शुरू करने का कोई मतलब नहीं रह जाता अगर आप उसके बाद उसको किसी प्रतिक्रिया द्वारा आगे नहीं बढ़ा रहे हैं चाहे उस प्रतिक्रिया का मतलब दुबारा बात करना ही क्यों ना हो।

आप साथ में स्थिति को संभालने के लिए कार्य कर सकते हैं । यदि आप दोनों अपनी भावनाओं को लेकर ईमानदार हैं तो आपको समाधान खोजने का एक अच्छा मौका मिला है जो आप दोनों के लिए सही रहेगा। यदि आपको लगता है कि आप साथ में इसपर काम नहीं कर सकते हैं तो सेक्सुअल थेरपी आपकी सहायता कर सकती है।

एक सेक्सुअल थेरेपिस्ट उन समस्याओं का पता लगाने में आपकी मदद कर सकता है जिसका सामना करना शायद आपको मुश्किल लग सकता है। वे आपको अपनी इंटिमेसी और यौन जीवन को सुधारने में मदद के लिए सलाह दे सकते हैं जो आप दोनों के लिए सही हो।

सेक्स थेरेपिस्ट क्या करते हैं इसके बारे में और पता लगाएं।

विश्वासघात का सामना करना (dealing with infidelity)

यदि एक साथी जो सम्बन्ध में है उसका अफेयर हो तो भरोसा ख़त्म हो जाता है। आपको लग सकता है कि अब आप उन पर बिल्कुल भरोसा नहीं करेंगे।

डेनिस बताते हैं - यदि मैं इस स्थिति में एक युगल से पूछता हूँ क्या वे एक दूसरे पर बच्चों को स्कूल से लाने और एक दूसरे की कार चलाने पर भरोसा करते हैं तो वे हाँ बोलते हैं।

इसका मतलब है कि भरोसा पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है। हम जिस बारे में बात कर रहे हैं वह यह है कि मैं उसपे रिश्ते से जी ना चुराने के लिए भरोसा नहीं कर सकता/सकती। यह हमें उन चीजों पर ध्यान देने में मदद कर सकता है जो शायद रिश्ते में नहीं थी या नहीं हो रही थी।

यदि एक जोड़ा चाहता है तो अफेयर से उबर सकता है लेकिन उन्हें समझने की ज़रूरत है कि उनका रिश्ता फिर से पहले जैसा नहीं रहेगा। उन्हें पुराने सबंध को छोड़कर फिर से बातचीत के माध्यम से नया रिश्ता बनाना पड़ेगा, डेनिस बताते हैं।

डेनिस कहते हैं, यदि पहले आपके साथी ने आपको धोखा दिया है तो किसी नए पर भरोसा करना मुश्किल हो सकता है । आपको समझना होगा कि यह नया व्यक्ति वह नहीं है जिसने आपको धोखा दिया था।

धोखे का आपके ऊपर क्या प्रभाव पड़ा इसे समझिए और अपने नए साथी को बताईये। यदि वे आपके साथ सम्बंध में रहना चाहते हैं तो वे आपकी मदद करेंगे।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।