COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
7 min read

एनोस्मिया (सूंघने की शक्ति कम होना) ( Anosmia)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

इस लेख में

एनोस्मिया सूंघने की शक्ति की कमी के लिए इस्तेमाल होने वाला एक मेडिकल टर्म है। यह आमतौर पर नाक की स्थिति या मस्तिष्क की चोट के कारण होता है, लेकिन कुछ लोग सूंघने की शक्ति के बिना पैदा होते हैं (जन्मजात एनोस्मिया)।

गंध लेने की अपनी शक्ति को खोना बहुत निराशाजनक (depressing) और दूसरो से अलग कर देने वाला (isolating) हो सकता है। इसका मतलब यह है कि हम में से अधिकांश अनुभवों को खो सकते हैं, जिनके महत्व को अभी तक हम लोग नहीं समझते थे। जैसे कि ताजा फूल, इत्र, या किसी प्रियजन की खुशबू।

चीजों का स्वाद लेने में गंध भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। एनोस्मिया (anosmia) वाले कई लोग भोजन में रुचि खो देते हैं क्योंकि भोजन का 80 फीसदी स्वाद इसकी गंध से आता है।

यदि आप अचानक अपनी गंध खो चुके हैं और यह नहीं जानते कि ऐसा क्यों हुआ है, तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए। वे अंतर्निहित कारण (underlying cause) (नीचे देखें) का निदान करने में सक्षम हो सकते हैं और सूंघने की आपकी शक्ति फिर से लाने के लिए उपचार की कर सकते हैं।

डॉक्टर को दिखाएं

आपके डॉक्टर को आपके मेडिकल का पूरा इतिहास चाहिए होगा। वह अपनी नाक के अंदर की जांच करेंगे, और एक प्रयोगशाला (laboratory) में परीक्षण के लिए रक्त का नमूना लेगा।

आपका डॉक्टर आपको अस्पताल में कान, नाक और गले (ईएनटी) (ENT) विशेषज्ञ (specialist) के पास भेज सकता है। आगे के परीक्षण, जैसे कि सीटी स्कैन (CT scan), एमआरआई स्कैन (MRI), या नेसल एंडोस्कोपी (nasal endoscopy) (जहां कैमरे के साथ एक पतली ट्यूब को आपकी नाक में डाला जाता है), इसका उपयोग कारण की जांच करने के लिए किया जा सकता है।

कारण

गंध के खत्म होने के साथ कई चिकित्सा स्थितियां और दवाएं जुड़ी हुई हैं। संभावित कारणों में शामिल हैं:

  • एक वायरल संक्रमण (viral infection) जो ऊपरी श्वसन पथ (upper respiratory tract) को प्रभावित करता है, जैसे कि सर्दी-जुकाम
  • लगातार (क्रोनिक) (chronic) साइनसाइटिस (sinusitis), पॉलिप नाक (nasal polyps) के साथ या बिना
  • नाक की असामान्यताएं (nose abnormality), जैसे मुड़ी हुई नाक (crooked nose) या नाक सेप्टम (nasal septum) (नाक को सीधा करने वाली दीवार को विभाजित करना)
  • परागज ज्वर (नासिका प्रदाह) (rhinitis) • जो नाक मार्ग में गंभीर सूजन का कारण बनता है।
  • कुछ दवाएं (certain medication), जिनमें एंटीबायोटिक्स (antibiotics) शामिल हैं जैसे कि मेट्रोनिडाजोल (metronidazole)
  • रिक्रिएशनल दवा (recreational drug) का उपयोग, जैसे कोकीन या ऐम्फिटेमिन्स
  • मधुमेह (diabetes)
  • लंबे समय तक शराब का दुरुपयोग (alcohol misuse)
  • अंडरएक्टिव थायराइड (underactive thyroid)
  • कुशिंग सिंड्रोम (Cushing's syndrome) (रक्त में हार्मोन कोर्टिसोल का उच्च स्तर)
  • रसायन (chemical) का प्रदर्शन जो नाक के अंदर जलता है।
  • सिर में चोट (head injury)
  • ब्रेन ट्यूमर (brain tumour)
  • सिर और गर्दन की रेडियोथेरेपी (radiotherapy )
  • मिर्गी (epilepsy)
  • पार्किंसन रोग (Parkinson's disease)
  • अल्जाइमर की बीमारी (Alzheimer's disease)
  • स्ट्रोक (stroke)
  • लीवर औक किडनी की बीमारी (liver or kidney disease)
  • विटामिन बी12 की कमी (vitamin B12 deficiency)
  • स्किजोफ्रेनिया (schizophrenia)
  • पॉलिएंजिआइटिस (polyangiitis) के साथ ग्रैनुलोमैटोसिस (granulomatosis) - रक्त वाहिकाओं (blood vessels) का एक असामान्य विकार (uncommon disorder)
  • सारकॉइडोसिस (sarcoidosis)- एक दुर्लभ बीमारी (rare disease) जिसके कारण शरीर की कोशिकाएं (cells) गुच्छों (clumps) में बदल जाती हैं

एनोस्मिया (anosmia) आमतौर पर या तो नाक के शीर्ष पर आने वाली गंध के कारण होने वाली समस्या (सूजन या नाक में रुकावट) या नाक से मस्तिष्क तक तंत्रिका संकेतों की समस्या के कारण होती है।

हालांकि, लगभग 20 फीसदी मामलों में, इसका कारणों को नहीं पाया जा सकता। इसे आइडियोपैथिक एनोस्मिया (idiopathic anosmia) के रूप में जाना जाता है।

जन्मजात एनोस्मिया (Congenital anosmia)

ब्रिटेन में अनुमानित 6,000 लोग एक आनुवंशिक स्थिति (genetic condition) या दोषपूर्ण जीन (faulty gene) के कारण गंध की शक्ति के बिना पैदा होते हैं। इसे जन्मजात एनोस्मिया (congenital anosmia) के रूप में जाना जाता है।

यह अकर अलोन (आइसोलेटिड कन्जेनिटल एनोस्मिया) (isolated congenital anosmia) हो सकता है या यह एक अन्य आनुवंशिक स्थिति (genetic condition) का लक्षण हो सकता है, जैसे कि कल्मन सिंड्रोम (Kallmann syndrome) या क्लाइनफेल्टर सिंड्रोम (Klinefeltersyndrome)।

क्या एनोस्मिया का इलाज है?

एनोस्मिया को ठीक किया जा सकता है या नहीं, यह अंतर्निहित कारण (underlying cause) पर निर्भर करता है।

जन्मजात एनोस्मिया (congenital anosmia) वाले लोगों को जीवनभर गंध लेने में असमर्थता होती है और यहां तक कि वह यह भी नहीं जानते कि गंध क्या है, वर्तमान में, जन्मजात एनोस्मिया के लिए कोई इलाज या उपचार नहीं है।

हालांकि, अंतर्निहित स्थिति (underlying condition) का इलाज होने पर अन्य प्रकार के एनोस्मिया (anosmia) में सुधार या वह ठीक हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि कारण नाक में सूजन या साइनस है, तो स्टेरॉयड्स (steroids) आमतौर पर इसे साफ कर सकते हैं और आपकी गंध की भावना को ठीक कर सकते हैं।

आपकी स्थिति के आधार पर उपचार जो मदद कर सकते हैं, वे हैं:

• नाक धोना (डूशिंग) (douching)

• स्टेरॉयड नेजल स्प्रे (steroid nasal spray)

एंटीहिसटामाइन (antihistamine)

स्टेरॉयड टेबलेट्स (steroid tablets)

नेजल पॉलिप्स (nasal polyps) को निकालने के लिए एक ऑपरेशन (operation)

नाक सेप्टम (nasal septum) को सीधा करने के लिए एक ऑपरेशन (operation)

साइनस को साफ करने के लिए किये जाने वाले ऑपरेशन को एंडोस्कोपिक साइनस सर्जरी (ईएसएस) (endoscopic sinus surgery (ESS)) (नीचे देखें)

ये उपचार अप्रिय दुष्प्रभावों (unpleasant side effects) के साथ आ सकते हैं। अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें कि क्या इनमें से कोई भी उपचार (treatments) आपके लिए उपयुक्त हो सकता है और यदि हां, तो आपको किन दुष्प्रभावों (side effects) का अनुभव हो सकता है।

ईएसएस

दोनो तरफ एंडोस्कोपिक साइनस सर्जरी (ईएसएस) (endoscopic sinus surgery (ESS)) में, सर्जन आपके सभी साइनस को खोलता है और सूजन को कम करने के लिए उन्हें बाहर निकालते हैं और नाक साफ करना और स्प्रे को उन तक पहुंचने देता है। कुछ केंद्रों में, यह आपके साइनस का पता लगाने के लिए इमेज गाइडेंस सिस्टम (IGS) के उपयोग कर सकते हैं। ईएसएस (ESS) में एक ही समय में मौजूद किसी भी पॉलीप को निकालना शामिल है।

यह उपचार एनोस्मिया (anosmia) वाले कई लोगों के लिए गंध की शक्ति को वापस ला सकता है, जब दवा से फायदा न हो रहा हो। हालांकि, यदि आप अपनी नाक की दवाओं को बाद में नहीं लेते हैं, तो एनोस्मिया वापस आने की संभावना है।

यदि आपने नेजल पॉपली को हटाने के लिए सर्जरी की है, तो इसका वापस बढ़ना काफी आम है, और कई लोगों को लगता है कि उन्हें एक और ऑपरेशन की आवश्यकता है। हालांकि, ईएसएस (ESS) आगे की सर्जरी की आवश्यकता को कम कर सकता है।

हाल ही में एक पत्रिका के प्रकाशन ने देखा कि आईजीएस (IGS) के साथ ईएसएस (ESS) क्रोनिक फ्रॉनटल साइनसाइटिस (chronic frontal sinusitis) के रोगियों के इलाज में कितना सफल था, जिनमें से कुछ में नेजल पॉपली भी थे। पांच साल की अवधि के डेटा से पता चला कि 141 रोगियों में से केवल चार रोगियों को आईजीएस (IGS) के साथ उनके पहले ऑपरेशन के रूप में ईएसएस (ESS) होने के बाद आगे की सर्जरी की आवश्यकता थी। आईजीएस (IGS) सभी अस्पतालों में उपलब्ध नहीं है, लेकिन जहां संभव हो विशेषज्ञ केंद्रों द्वारा किया जा सकता है।

सुरक्षा

यदि आपको एनोस्मिया (anosmia) है, तो आपको विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी, क्योंकि आप आग, जहरीले धुएं, गैस या भोजन को सूंघ नहीं पाएंगे।

आपको सलाह दी जाती है कि आपः

• घर के सभी क्षेत्रों में, विशेष रूप से रसोई में और चिमनी के पास धूम्रपान अलार्म (smoke alarms) स्थापित करें

• प्राकृतिक गैस उपकरणों (natural gas appliances) को बिजली के उपकरणों में परिवर्तन या प्राकृतिक गैस डिटेक्टर स्थापित करने पर विचार करें।

• भोजन पर स्पष्ट रूप से खराब होने की तारीखों (expiry dates) को चिह्नित करें और उनमें तारीखों को चिह्नित करें, ताकि आप जान सकें कि उन्हें कब फेंकना है।

• संभावित रसायनों (potent chemicals) के बारे में जागरूक होने के लिए बाथरूम और रसोई क्लीनर और कीटनाशक जैसे उत्पादों पर चेतावनी लेबल को ध्यान से पढ़ें।

एनोस्मिया (anosmia) वाले कुछ लोगों को भूख में कमी का भी अनुभव होता है, लेकिन आपके पोषण स्तर (nutrition levels) को बनाए रखना महत्वपूर्ण है। यह खाने की चीजों के लिए अनुस्मारक सेट करने और आपको स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से अपना वजन नापने में मदद कर सकता है।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।