COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
30 min read

पेट का कैंसर (Stomach cancer)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

पेट का कैंसर (Stomach cancer) क्या है?

पेट का कैंसर (Stomach cancer) क्या है?

पेट का कैंसर (stomach cancer) तब होता है जब कोशिकाओं का एक असामान्य समूह, जिसे ट्यूमर कहा जाता है, पेट के अंदर विकसित होता है। इसे गैस्ट्रिक कैंसर (gastric cancer) के रूप में भी जाना जाता है।

पेट के कैंसर के शुरूआती लक्षण अस्पष्ट होते हैं और इन्हे आसानी से अन्य स्थितियों के लक्षण समझा जा सकता है। इनमें शामिल हैं-

  • अपच और/या पेट में जलन
  • पेट में दर्द
  • भोजन के बाद पेट बहुत अधिक भरा हुआ महसूस होना

पेट के विकसित कैंसर के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं-

  • आपके मल में रक्त आना या काले रंग का मल आना
  • भूख का कम हो जाना
  • वजन कम होना

पेट के कैंसर के लक्षणों के बारे में और पढ़ें।

क्योंकि इसके लक्षण कई अन्य कम गंभीर स्थितियों जैसे ही होते हैं, इसलिए अक्सर ही जब तक इसका पता चलता है ये काफी विकसित हो जाता है। इस वजह से ये ज़रूरी है कि पेट के कैंसर के किसी भी संभावित लक्षण की जल्द से जल्द जांच करवाई जाए।

पेट के कैंसर के प्रकार (Types of stomach cancer)

पेट के कैंसर के विभिन्न प्रकार हैं। 95% पेट की कोशिकाओं के अस्तर में विकसित होते हैं और इसे पेट के एडेनोकार्सिनोमा (Adenocarcinoma) के रूप में जाना जाता है।

कम आम प्रकारों में शामिल है-

  • पेट का लिम्फोमा (lymphoma), जो लसीका टिशू (lymphatic tissue) में विकसित होता है (टिशू जो तरल को बाहर निकालता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है)
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रॉमल ट्यूमर (gastrointestinal stromal tumours) (GISTs) - पेट की दीवार की मांसपेशी या संयोजी टिशू में

इलाज (Treatment)

पेट के कैंसर के अधिकांश मामलों का इलाज सर्जरी द्वारा पेट के कुछ या सभी हिस्से को हटाने के लिए किया जाता है। इसे गैस्ट्रेक्टोमी (gastrectomy) के रूप में जाना जाता है।

आप गेस्ट्रोक्टॉमी (gastrectomy) के बाद सामान्य रूप से खाने में सक्षम होंगे लेकिन संभावना है कि आपको अपने खाने की मात्रा को कम करने करने की जरूरत पड़ सकती है।

कीमोथेरेपी का भी उपयोग आमतौर पर सर्जरी से पहले ट्यूमर को सिकुड़ने में मदद करने के लिए और कभी-कभी सर्जरी के बाद कैंसर को वापिस लौटने से रोकने में मदद के लिए किया जाता है।

पेट के कैंसर के कई मामलों को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन रेडियोथेरेपी का और कुछ मामलों में कीमोथेरेपी और सर्जरी का इस्तेमाल कर, लक्षणों को राहत देना और जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाना संभव है।

पेट के कैंसर के इलाज (treating stomach cancer) के बारे में और पढ़ें।

किसे अधिक खतरा है? (Who’s at risk?)

पेट के कैंसर का सटीक कारण अभी भी अस्पष्ट है लेकिन जोखिम के कई कारकों की पहचान की गई है जिसमें शामिल हैं-

  • 60 साल या उससे अधिक का होना
  • पुरूष होना
  • सफेद नस्ल का होना
  • कम फल और सब्जियों वाला अस्वस्थ खाना
  • पेट के अंदर एक ख़ास तरह का बैक्टीरिया इंफेक्शन, जिसे हेलिकोबैक्टर पायलोरी (H. Plyori ) कहा जाता है, का होना।

पेट के कैंसर के संभावित कारणों और जोखिम के कारकों (causes and risk factors for stomach cancer) के बारे में और पढ़ें।

पेट के कैंसर के साथ जीवन बिताना (Living with stomach cancer)

पेट के कैंसर के साथ रहना और फिर सर्जरी के बाद के प्रभावों से उबरने के लिए ऐसी कई सेवाएं हैं जो सामाजिक, मनोवैज्ञानिक और कुछ मामलों में, आर्थिक सहायता प्रदान कर सकती हैं।

पेट के कैंसर के साथ रहने (living with stomach cancer) के बारे में और पढ़ें।

कौन प्रभावित होता है? (Who is affected?)

पेट का कैंसर, अपेक्षाकृत असामान्य कैंसर है और इसके हर साल लगभग 6,000 नए मामले सामने आते हैं। पुरूषों में महिलाओं की तुलना में इस से प्रभावित होने का दोगुना खतरा रहता है और जैसा कि उल्लेख किया गया है, यह बीमारी मुख्य रूप से उम्र बढ़ने के साथ होती है।

पुरुषों में रोग निदान की औसत आयु 70 वर्ष है और महिलाओं के लिए ये 74 वर्ष है।

पेट के कैंसर के लक्षण (Stomach cancer symptoms)

पेट के कैंसर (stomach cancer) के कई लक्षण हैं-

चूंकि इसके लक्षण कई कम गंभीर स्थितियों के समान ही होते हैं, इसलिए पेट के कैंसर को पहचानना कभी कभी मुश्किल हो सकता है। इस वजह से, जब तक ये पहचाना जाता है तब तक ये काफी विकसित हो गया होता है।

पेट के कैंसर के शुरुआती लक्षणों में शामिल हो सकते हैं-

  • लगातार अपच रहना
  • फंसी हुई हवा और बार बार डकार आना
  • सीने में जलन
  • खाते वक्त जल्दी ही पेट भरा महसूस होना
  • खाने के बाद फूला हुआ महसूस होना
  • आपके पेट या स्तन की हड्डी में दर्द (स्टर्नम)(उरोस्थि) (sternum)
  • निगलने में मुश्किल (डिस्फेगिया) (dysphagia)
  • बीमार महसूस होना
  • उल्टी(जो खून से भरी हुई हो सकती है)

इन लक्षणों के प्रति सतर्क रहें (Alarm symptoms)

पेट के कैंसर के किसी भी संभावित लक्षण को जल्द से जल्द जांचना महत्वपूर्ण है।

अगर आप नीचे दिए गए किसी भी चेतावनी वाले लक्षण का अनुभव करते हैं, तो अपने चिकित्सक को जल्द से जल्द दिखाएं।

आपको निगलने में दिक्कत महसूस हो रही हो।

आपको निम्न में से एक या एक से अधिक के मेल में अपच का अनुभव करते हैं-

  • वजन कम होना
  • बीमार महसूस होना
  • एनीमिया (लाल रक्त कोशिकाओं का कम होना जिससे आपको थकान महसूस हो सकती है और सांस फूल सकती है)

आपकी उम्र 55 वर्ष से अधिक है और आपको लगातार अपच रहता है।

आपको अपच और निम्न में से एक या अधिक स्थिति हो चुकी है-

  • परिवार में किसी को पेट का कैंसर रहा हो। ]
  • पेट के अल्सर के पहले हुई सर्जरी
  • बैरेट्स इसोफ़ेगस (Barrett’s oesophagus)- एक स्थिति जिसमें इसोफ़ेगस के अंदरूनी अस्तर पर असमान्य कोशिकाएं विकसित होती हैं।
  • पारनिसियस एनीमिया (pernicious anaemia)- वो स्थिति जिसमें पेट खाने से विटामिन B12 अवशोषित नहीं कर पाता है।
  • डिस्प्लेसिया (dysplasia)- डिस्प्लेसिया(dysplasia) कोशिकाओं का एक असामान्य संग्रह है जो वास्तव में कैंसर नहीं है लेकिन आगे के समय में कैंसर में बदल सकता है।
  • गैस्ट्रिटिस(gastritis)- पेट के अस्तर की सूजन
  • आप अपनी आंखों और त्वचा में पीलेपन का अनुभव करते हैं (पीलिया) (jaundice) ,
  • आपके ऊपरी पेट में प्रत्यक्ष
  • रूप से दिखने वाली सूजन

विकसित पेट का कैंसर (Advanced Stomach cancer)

विकसित पेट के कैंसर के लक्षणों में शामिल हैं:

  • आपके मल में खून, या काला मल
  • खुराक में कमी
  • वजन कम होना
  • थकान महसूस होना
  • आपके पेट में गांठ होना (द्रव का निर्माण)
  • एनीमिया

पेट के कैंसर के कारण (Stomach cancer causes)

डीएनए की संरचना में परिवर्तन से कैंसर शुरू होता है। डीएनए हमारी कोशिकाओं को निर्देशों का एक मूल सेट प्रदान करता है, जैसे कि कब ग्रो करना है और कब दोबारा पैदा करना है

डीएनए संरचना में बदलाव को उत्परिवर्तन के रूप में जाना जाता है, और यह उन निर्देशों को बदल सकता है जो कोशिका वृद्धि को नियंत्रित करते हैं। इसका मतलब यह है कि कोशिकाओं का बढ़ना तब भी जारी रहता है जब इसे रूक जाना चाहिए। जिसकी वजह से ये कोशिकाओं के बेकाबू तरीके से दोबारा उत्पन्न होने का कारण बनता है, और ऊतक की एक गांठ को बनाता है जिसे ट्यूमर कहते हैं।

सटीक रूप से क्या कारण डीएनए में बदलाव के लिए ज़िम्मेदार होते हैं जिससे पेट का कैंसर होता है और क्यो केवल कुछ लोगों में ही पेट का कैंसर होता है, ये अनिश्चित है।

हालांकि, इस बात के सबूत हैं कि पेट के कैंसर के लिए कई महत्वपूर्ण जोखिम कारक हैं।

इनका विवरण नीचे दिया गया है-

उम्र (Age)

 आपको पेट के कैंसर होने का खतरा उम्र के साथ बढ़ता है। अधिकांश मामले 55 वर्ष से उम्र के लोगों में देखे गए हैं जिनकी औसत उम्र लगभग 70 वर्ष के आस पास हो।

लिंग (Gender)

पुरूषों में पेट के कैंसर का खतरा महिलाओं से दोगुना रहता है। इसके पीछे क्या वजह है ये स्पष्ट नहीं है।

धूम्रपान (Smoking)

धूम्रपान करने वालों में पेट के कैंसर होने का खतरा धूम्रपान ना करने वाले लोगों की तुलना में दोगुना हो सकता है। तम्बाकू के धुएँ को अंदर खींचने पर उसका कुछ हिस्सा हमेशा आपके पेट में जाता है, और तंबाकू में ऐसे कई हानिकारक तत्व होते हैं जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

आप जितना अधिक धूम्रपान या जितने अधिक वक्त से धूम्रपान कर रहे हैं, उतना ही अधिक आपको खतरा है। औसत रूप से धूम्रपान करने वाले लोगों में, धूम्रपान ना करने वालों की तुलना में पेट के कैंसर का खतरा डेढ़ गुना अधिक होता है।

एच. पाइलोरी संक्रमण (H. pylori infection)

एच. पाइलोरी संक्रमण (H. pylori infection) एक प्रकार का बैक्टीरिया है जो दुनिया की आधी आबादी तक में मौजूद माना जाता है।

ज्यादातर लोगों में ये नुकसानदायक नहीं होते हैं लेकिन कुछ लोगों में एच. पाइलोरी संक्रमण (H. pylori infection), पेट के अल्सर, बार-बार अपच या पेट के अस्तर की दीर्घ

सूजन एट्रोफिक गैस्ट्रिटिस (atrophic gastritis) का कारण बन सकता है।

शोध में पाया गया है कि गंभीर एट्रोफिक गैस्ट्रिटिस (atrophic gastritis) वाले लोगों में पेट के कैंसर के विकास का खतरा सबसे अधिक होता है, हालांकि यह जोखिम अभी भी बहुत कम है।

आहार (Diet)

मसालेदार सब्जियों से भरपूर आहार (जैसे कि मसालेदार प्याज़ या piccalilli), नमकीन मछली, सामान्य रूप से नमक और स्मोक्ड मीट (जैसे कि पास्टरमी या स्मोक्ड बीफ़) से पेट के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

जिन देशों में इस प्रकार का आहार लोकप्रिय है जैसे कि जापान, वहां पेट के कैंसर की दर सामान्य रूप से अपेक्षित दर से काफी अधिक होती है।

पारिवारिक इतिहास (Family history)

आप को पेट के कैंसर होने का खतरा अधिक रहता है अगर आपके किसी करीबी रिश्तेदार को ये स्थिति रही हो, जैसे कि आपके माता-पिता में से किसी एक को या आपके भाई या बहन को। एक शोध में इस बात अनुमान लगाया गया है कि अगर आपके परिवार के किसी सदस्य को पेट का कैंसर रहा हो तो आपमें भी इसका खतरा डेढ़ गुना तक बढ़ जाता है।

ऐसा क्यों होता है, इसे पूरी तरह समझाया नहीं जा सकता लेकिन शायद ऐसा इसलिए है क्योकि परिवार के सदस्यों में जोखिम के कुछ कारक एक समान होते हैं।

पेट के कैंसर के लगभग 50 में से 1 मामले के परीक्षण में पाया गया है कि इन लोगों में E -कढेरिन (E -cadherin ) नामक जीन उत्परिवर्तन सांझा होता है

पेट के कैंसर से जुड़े शोध इस बात को भी बताते हैं कि आप में पेट के कैंसर होने का खतरा ज्यादा है अगर आपका ब्लड ग्रुप ए है। आपका ब्लड ग्रुप आपके माता - पिता से ही आप में आता है, तो इसलिए ये एक और तरीका हो सकता है जिससे फैमिली हिस्ट्री, आप में पेट के कैंसर होने के खतरे को बढ़ा देती है।

कई परिवारों में पाई जाने वाली स्तिथि, जिसे फैमिलियल एडिनोमेटस पॉलीपोसिस (FAP ) कहा जाता है, जिससे पेट के कैंसर का विकास होने की संभावना अधिक हो सकती है। FAP आपके पाचन तंत्र में छोटी छोटी सूजन का कारण बनती है, जिसे पॉलीप्स कहा जाता है, और यह आप में आंत के कैंसर के विकसित होने के जोखिम को बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

अन्य प्रकार का कैंसर होना (Having another type of cancer)

ऐसे अन्य कैंसर भी हैं जो पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए पेट का कैंसर विकसित होने की संभावना को बढ़ा सकते हैं। यदि आप एक पुरुष हैं, तो आप में पेट के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है अगर आपको कभी प्रोस्टेट, मूत्राशय, आंत्र या अंडकोष का कैंसर हुआ है। यदि आप एक महिला हैं, तो अंडाशय, स्तन या गर्भाशय ग्रीवा का कैंसर होने पर आप में, पेट के कैंसर के विकास का खतरा बढ़ जाता है।

कुछ चिकित्सीय स्थितियाँ (Certain medical conditions)

कुछ विशेष मेडिकल स्थितियों का होना, आप में पेट के कैंसर के विकसित होने के खतरे को बढ़ा सकता है।

इनका नीचे उल्लेख किया गया है-

एसोफैगिटिस (Oesophagitis)– पेट के एसिड के प्रतिवाह के कारण,आपकी ग्रासनली (इसोफेगस) में सूजन

गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीओआरडी) Gastroesophageal reflux disease (GORD):: एसोफैगिटिस का एक गंभीर रूप

प्रणाशी रक्‍ताल्पता (Pernicious anaemia)- विटामिट बी12 की कमी, जो तब होती है जब आपका शरीर सही तरह से इसे अवशोषित नहीं कर सकता है।

पेप्टिक पेट अल्सर (Peptic stomach ulcers)- आपके पेट के अस्तर में होने वाला अल्सर, जो अक्सर , एच. पाइलोरी संक्रमण (H. pylori infection) के कारण होता है।

Barrett's इसोफेगस- ग्रासनली की कोशिकाओं में असामान्य परिवर्तन। ये स्थिति इसोफेगस के कैंसर के विकास के आपके जोखिम को भी बढ़ाती है।

पेट को प्रभावित करने वाली सर्जरी (Surgery affecting the stomach)

यदि आपके पेट की सर्जरी हुई है, या आपके शरीर के किसी ऐसे हिस्से में सर्जरी हुई है जो आपके पेट को प्रभावित करता है, तो आपको पेट के कैंसर होने की संभावना अधिक हो सकती है।

इसमें आपके पेट के हिस्से को निकालने के लिए सर्जरी शामिल हो सकती है (जिसे आंशिक गैस्ट्रेक्टॉमी (partial gastrectomy) के रूप में जाना जाता है), आपके वेगस नर्व के हिस्से को हटाने के लिए सर्जरी (वह तंत्रिका जो आपके मस्तिष्क से आपके दिल, फेफड़े और पाचन तंत्र जैसे अंगों तक जानकारी ले जाती है) या पेट का अल्सर ठीक करने के लिए सर्जरी।

पेट का कैंसर कैसे फैलता है?

इन तीन तरीकों से पेट का कैंसर फैल सकता है-

  • सीधे तौर पर - कैंसर सीधे पेट से बाहर और पास के ऊतकों और अंगों में जैसे कि अग्न्याशय, बृहदान्त्र और छोटी आंत में फैल सकता है।
  • लसीका प्रणाली (lymphatic system) के ज़रिए से - लसीका प्रणाली ग्रंथियों (या नोड्स) की एक श्रृंखला है जो आपके पूरे शरीर में रक्त संचार प्रणाली के समान स्थित होती है; ग्रंथियां कई विशेष कोशिकाओं का उत्पादन करती हैं जिनकी संक्रमण से लड़ने के लिए आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को ज़रूरत होती है।
  • खून के ज़रिए- जो कईं मामलों में पेट से लिवर में फैले कैंसर में दिखाई देगा।

पेट का कैंसर जो शरीर के दूसरे हिस्से में फैलता है, उसे मेटास्टैटिक पेट कैंसर (metastatic stomach cancer) के रूप में जाना जाता है।

पेट के कैंसर का इलाज (Stomach cancer treatment)

पेट के कैंसर के इलाज के लिए कई अस्पताल मल्टी डिस्पलिनरी टीमों (MDT) का उपयोग करते हैं। एमडीटी, विशेषज्ञों की टीम होती है जो ईस विषय में निर्णय लेती है कि आपके इलाज को आगे बढ़ाने के लिए सबसे अच्छा तरीका क्या है

आपके एमडीटी के सदस्यों में शामिल हो सकते हैं-

  • सर्जन
  • क्लीनिकल ​​ऑन्कोलॉजिस्ट (कैंसर के नॉन-सर्जिकल उपचार के लिए एक विशेषज्ञ)
  • पैथोलॉजिस्ट ( रोगग्रस्त ऊतक के लिए विशेषज्ञ)
  • रेडियोलॉजिस्ट (रेडियोथैरेपी में विशेषज्ञ)
  • एक आहार विशेषज्ञ
  • सोशल वर्कर
  • एक मनोवैज्ञानिक
  • कैंसर विशेषज्ञ नर्स, जो आमतौर पर आपके और बाकी की टीम के बीच में संपर्क का पहला बिंदु होगी।

आपके उपचार की योजना (Your treatment plan)

आपके लिए कौन सा उपचार सबसे अच्छा है, ये तय करने के लिए आपके डॉक्टर इस पर विचार करेंगे:

  • आपके कैंसर का चरण और श्रेणी (यह कितना बड़ा है और यह कितनी दूर तक फैल चुका है)
  • आपका सामान्य स्वास्थ्य

 किसी भी समय अपने देखभाल करने वाली टीम से अपने इलाज के बारे में चर्चा करने और सवाल पूछने से ना हिचकिचाएं।

पेट के कैंसर के लिए मुख्य इलाज हैं-

आपको इनमें से एक या अधिक उपचारों की जरूरत पड़ सकती है। उपचार का प्रकार या उपचार का संयोजन इस बात पर निर्भर करेगा कि कैंसर का निदान कैसे किया गया और यह किस स्तर और श्रेणी पर है।

उपचार का पहला उद्देश्य, अगर संभव हो, तो आपके शरीर से ट्यूमर और किसी भी अन्य कैंसर कोशिकाओं को पूरी तरह से समाप्त करना (निकालना) है। अगर ऐसा संभव नहीं है, तो आपके डॉक्टर आपके ट्यूमर को किसी भी तरह बड़े होने से रोकने की कोशिश करने और इसे आपके शरीर को और नुकसान पहुंचाने से रोकने पर ध्यान केंद्रित करेंगे यह आमतौर पर सर्जरी और कीमोथेरेपी के संयोजन का उपयोग करके किया जाता है।

कुछ मामलों में, ना तो कैंसर को खत्म करना और ना ही उसकी प्रगति को धीमा करना संभव है। इस मामले में, आपके उपचार का मुख्य लक्ष्य , आपके लक्षणों को राहत देना और आपको जितना संभव हो, उतना आराम देना होगा। यह आमतौर पर रेडियोथेरेपी का उपयोग करके किया जाता है। कुछ मामलों में, सर्जरी और कीमोथेरेपी का उपयोग किया जा सकता है।

Trastuzumab नामक एक नई दवा का उपयोग कुछ प्रकार के विकसित पेट के कैंसर के इलाज के लिए भी किया जा सकता है।

आपकी चिकित्सक टीम आपके साथ चर्चा करेगी कि कौन सा इलाज आप के लिए सबसे अधिक उपयुक्त है

सर्जरी (Surgery)

अगर आपके पेट के कैंसर का पता शुरूआती स्टेज पर चल जाता है, तो आपको कैंसर को हटाने के लिए सर्जरी की ज़रूरत हो सकती है।

हालांकि, अगर कैंसर आपके पेट के बाहर फैल गया है तो इसे सर्जरी के द्वारा पूरी तरह हटाना संभव नहीं हो सकता है। अगर ये मामला है , तो आपके लक्षणों को आराम देने के लिए आपके पेट को अवरुद्ध करने वाले किसी भी कैंसर को हटाने के लिए अभी भी सर्जरी हो सकती है। यह आपके लक्षणों के नियंत्रण और प्रमुख सर्जिकल प्रक्रिया को करने के जोखिमों और दुष्प्रभावों को संतुलित करने पर निर्भर करेगा।

पेट के कैंसर के लिए सर्जरी के बाद (After surgery for stomach cancer)

किसी भी प्रकार की पेट की सर्जरी में बड़ा ऑपरेशन और लंबा रिकवरी का समय शामिल होता है। अगर आपको पेट के कैंसर के लिए सर्जरी हुई है, तो आमतौर पर आपको लगभग दो हफ्तों के लिए अस्पताल में रहना पड़ेगा। आपको घर पर रिकवर होने में और कई हफ्तों की ज़रूरत होगी।

पेट के कैंसर को हटाने के लिए सर्जरी (Surgery to remove stomach cancer)

अगर आपने पेट के कैंसर को हटाने के लिए सर्जरी करवाई है, और आपके पेट में कैंसर कहां है, इसके आधार पर, यह संभावना है कि आपके पेट के कुछ या सभी हिस्से को निकालने की आवश्यकता होगी।

आपके पेट के एक हिस्से को हटाने के लिए की जाने वाली सर्जरी को आंशिक गैस्ट्रेक्टॉमी (partial gastrectomy), और आपके पूरे पेट को हटाने के लिए सर्जरी को पूर्ण गैस्ट्रेक्टॉमी (total gastrectomy) के रूप में जाना जाता है। कुछ मामलों में, आपका सर्जन आपकी इसोफेगस (ग्रासनली) के साथ-साथ आपके पेट के पूरे हिस्से को भी हटा सकता है, जिसे oesophagogastrectomy कहा जाता है।

इन दोनों ऑपरेशनों के दौरान, आपका सर्जन आपके पेट में कैंसर के निकटतम लिम्फ नोड्स (ऊतक जो आपके शरीर से बैक्टीरिया को हटाते हैं) को भी हटा देंगे। यह संभव है कि आपका पेट का कैंसर इन लिम्फ नोड्स में फैल गया हो, इसलिए उन्हें हटाने से कैंसर को दोबारा होने से रोकने में मदद मिलती है।

आंशिक गैस्ट्रेक्टॉमी (Partial gastrectomy)

यदि आपको कैंसर आपके पेट के निचले हिस्से में है, तो आप आंशिक गेस्ट्रोक्टॉमी (**Partial gastrectomy)** करवा सकते हैं, जिससे आपके पेट का केवल एक हिस्सा हटा दिया जाता है। इसका मतलब है कि आपके पेट का निचला हिस्सा निकाल दिया जाएगा। परिणाम स्वरूप आपका पेट उससे छोटा हो जाएगा जितना वो सर्जरी से पहले था। हालांकि, ऑपरेशन आपके पेट के शीर्ष भाग को प्रभावित नहीं करेगा, जहां सेइसोफेगस (ग्रासनली)पेट में प्रवेश करती है

पूर्ण गैस्ट्रेक्टॉमी (Total gastrectomy) या oesophagogastrectomy

अगर आपका कैंसर आपके पेट के बीच या ऊपरी हिस्से में है तो आपको पूर्ण गैस्ट्रेक्टॉमी (Total gastrectomy) करवाने की ज़रूरत हो सकती है जिसमें आपके पेट का पूरा हिस्सा निकाल दिया जाता है। अगर आपका कैंसर आपके इसोफेगस (ग्रासनली के) के अंत के पास है, जहां ये पेट से मिलती है तो हो सकता है आपको ग्रासनली के कुछ हिस्से को भी निकलवाने की ज़रूरत पड़ सकती है। , इस प्रकार की सर्जरी को oesophagogastrectomy कहा जाता है।

यदि आपके पूर्ण गेस्ट्रोक्टॉमी की जाती है, तो आपका पेट हटा दिया जाएगा और आपके ग्रासनली का अंत आपके ग्रहणी (आपकी छोटी आंत के ऊपरी भाग) के शीर्ष से जोड़ दिया जाएगा। यदि oesophagogastrectomy की जाती है, तो आपका पेट और आपकी ग्रासनली का अंत हटा दिया जाएगा, और इसका शेष हिस्सा आपके ग्रहणी में शामिल हो जाएगा।

आपके लक्षणों को राहत देने के लिए सर्जरी (Surgery to ease your symptoms)

यदि आपके पेट का कैंसर, आपके पेट से बाहर फैल गया है, तो सर्जरी के माध्यम से उसे निकालना संभव नहीं हो सकता है।

हालांकि, यदि आपके पेट में बड़ी मात्रा में कैंसर है, तो यह रुकावट पैदा कर सकता है जो भोजन को ठीक से पचने से रोकता है। एक अवरुद्ध पेट खाने के बाद पेट में दर्द, उल्टी और बहुत भरा महसूस करने जैसे लक्षण पैदा कर सकता है।

यदि पेट अवरुद्ध है, तो कुछ विकल्प हैं जिन पर गौर किया जा सकता है।

जहां रुकावट है वहां एक स्टेंट डाला जा सकता है । स्टेंट एक प्लास्टिक या वायर मेश ट्यूब है जिसे एंडोस्कोपी के दौरान डाला जाता है। डालने के बाद, स्टेंट अपनी जगह में विस्तार करेगा और पेट को खोल देगा।

रुकावट को कम करने और अपने लक्षणों में सुधार करने के लिए आप आंशिक या पूर्ण गैस्ट्रेक्टोमी करवाने की ज़रूरत हो सकती है।

आपकी बाईपास सर्जरी की जा सकती है। एक बाईपास ऑपरेशन में, ब्लॉकेज के ऊपर आपके पेट का हिस्सा आपके ग्रहणी (आपकी छोटी आंत के ऊपर का हिस्सा) से जुड़ जाता है, जिससे आपके पेट का अवरुद्ध हिस्सा आपके पाचन तंत्र से बाहर निकल जाता है। यह रुकावट के संपर्क में आए बिना भोजन को आपके पेट के बिना रूकावट वाले हिस्से और आपकी आंतों में स्थानांतरित करने की अनुमति देता है।

कीमोथैरेपी (Chemotherapy)

कीमोथेरेपी कैंसर के लिए एक विशेषज्ञ उपचार है जिसमें कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने के लिए दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है। इन दवाओं को साइटोटोक्सिक के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है कि वे तेजी से बढ़ती कैंसर कोशिकाओं को लक्षित कर उन्हें विभाजित करने और गुणा करने से रोकते हैं। चूंकि यह आपके रक्त के द्वारा आपके शरीर में फलता है,इसलिए दवा आपके पेट की कैंसर कोशिकाओं के साथ ही आपके शरीर में कहीं भी फैल सकने वाली कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करती हैं।

आपके पेट के कैंसर के लिए सर्जरी से पहले कैंसर की मात्रा को कम करने के लिए कीमोथैरेपी की ज़रूरत हो सकती है। सर्जरी के बाद शेष कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए और कैंसर को दोबारा होने से रोकने के लिए भी कीमोथेरेपी की जा सकती हैं,

कीमोथेरेपी का उपयोग कैंसर की प्रगति को धीमा करने और अधिक विकसित पेट के कैंसर के उन लक्षणों को कम करने के लिए भी किया जा सकता है, जो शायद सर्जरी के लिए उपयुक्त नहीं हो।

यदि आपको कीमोथेरेपी की आवश्यकता है, तो दवा , गोलियों के रूप में या अंतशिरा (इंजेक्शन द्वारा या ड्रिप के माध्यम से सीधे आपके रक्तप्रवाह में) या दोनों के संयोजन के रूप में दी जा सकती है।

अंतशिरा कीमोथेरेपी आमतौर पर अस्पताल में दी जाती है, जबकि घर पर ओरल कीमोथेरेपी ली जाती है।

कीमोथेरेपी अक्सर तीन सप्ताह के चक्र मेंदीजातीहै

वैकल्पिक रूप से, दवा को आपके शरीर में एक छोटे पंप के माध्यम से डाला जा सकता है, जो आपको कुछ हफ्तों या महीनों की अवधि तक में कीमोथेरेपी की लगातार कम खुराक देता है। पंप पोर्टेबल होता है और इसे घर पर पहना जा सकता है, जिसका मतलब है कि अस्पताल बार बार जाने की ज़रूरत नहीं हो सकती है।

कीमोथैरेपी के साइड इफेक्ट्स (Side effects of chemotherapy)

कीमोथेरेपी उन कोशिकाओं को तेज़ी से बढ़ने से रोकती है जो कैंसर संबधी हैं।

हालांकि, आपके शरीर में स्वाभाविक रूप से पैदा होने वाली अन्य कोशिकाएं भी होती हैं जो तेजी से विभाजित और गुणा होती हैं, जिनमें बालों के रोम और लाल और सफेद रक्त कणिकाएं शामिल हैं।

कीमोथैरेपी इन नॉन- कैंसर कोशिकाओं को भी नष्ट कर देती है, जिससे कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं-

  • बालों का झड़ना
  • बीमार महसूस करना (मतली) और बीमार होना (उल्टी)
  • भूख में कमी
  • आपके मुंह के आस-पास घाव
  • एनीमिया(जो लाल रक्त कोशिकाओं की कमी के कारण होता है और जिससे थकान और सांस की तकलीफ हो सकती है।
  • संक्रमण होने की अधिक सम्भावना

 अगर आपको कीमोथेरेपी करवाने की ज़रूरत होती है, तो आपके द्वारा अनुभव किए जाने वाले दुष्प्रभाव, आप जो साइटोटोक्सिक दवा लेते हैं उसके प्रकार पर, आपको कितने उपचार सत्रों की ज़रूरत होती है, और उपचार के लिए आपकी व्यक्तिगत प्रतिक्रिया कैसी है, इस पर निर्भर करेंगे। आपको यह बताया जाएगा कि कीमोथैरेपी के गंभीर दुष्प्रभावों का सामना करने पर आपको किससे संपर्क करना है और यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप इस संपर्क जानकारी को सावधानी से नोट करें।

अगर आपको कीमोथेरेपी के परिणामस्वरूप मतली और उल्टी का अनुभव होता है, तो आप इसके इलाज के लिए मतली विरोधी दवा दी जाएगी। यह आपकी कीमोथेरेपी के समय ही अंतशिरा में (सीधे आपके रक्तप्रवाह में इंजेक्शन द्वारा) दिया जा सकता है।

कीमोथेरेपी के दुष्प्रभाव केवल तब तक रहेंगे जब तक आपके उपचार चलता है। एक बार जब आपका इलाज खत्म हो जाता है, तो आपके शरीर में स्वाभाविक रूप से होने वाली तेज़ी से बढ़ती कोशिकाएं खुद को रिपेयर कर लेंगी। इसका मतलब यह है कि आपके बाल वापस उग आएंगे, हालांकि यह आपके कीमोथेरेपी से पहले के बालों से अलग दिख सकते हैं या महसूस हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, रंग थोड़ा अलग हो सकता है, या ये पहले की तुलना में नरम या घुंघराले हो सकते हैं।

रेडियोथैरेपी (Radiotherapy)

रेडियोथेरेपी उच्च ऊर्जा एक्स-रेज़ का उपयोग करती है और कीमोथैरेपी की तरह ही, तेज़ी से बढ़ती कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करके उन्हें मार देती है। रेडियोथेरेपी का उपयोग अक्सर पेट के कैंसर के इलाज के लिए नहीं किया जाता है क्योंकि ऐसा जोखिम होता है कि अन्य अंग जो आपके पेट के बहुत करीब होते हैं, उपचार द्वारा क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।

हालांकि, अगर आपको पेट का कैंसर विकसित है और ये दर्द या रक्तस्त्राव का कारण बन रहा है तो आपको रेडियोथेरेपी करवाने की आवश्यकता हो सकती है।

कुछ मामलों में, सर्जरी के बाद, आपको साथ में दोनों , कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी करवाना पड़ सकता है, जिससे पेट के कैंसर को दोबारा होने से रोका जा सके।

हालांकि, इस प्रकार के उपचार पर अभी भी शोध किया जा रहा है और, यदि यह आपको प्रदान किया जाता है, तो ऐसा संभव है कि ये क्लीनिकल ट्रायल का एक हिस्सा होगा। [पेट के कैंसर के लिए क्लीनिकल ट्रायल] के बारे में और पढ़ें।

यदि आपको रेडियोथेरेपी की आवश्यकता है, तो आपके शरीर को ठीक होने का मौका देने के लिए सर्जरी या कीमोथेरेपी के कईं महीनों बाद आपका उपचार शुरू होगा। यह एक दर्द रहित प्रक्रिया है जिसमें आपको रेडियोथेरेपी मशीन के नीचे लिटाया जाता है। आप अपने रेडिओथेरपिस्ट (रेडियोथेरेपी के एक विशेषज्ञ) द्वारा एक स्थिति में लिटाए जाएंगे ताकि मशीन केवल कैंसर कोशिकाओं को लक्षित करे और जितना संभव हो उतना स्वस्थ ऊतक को बचाया जाए।

ऐसी संभावना है कि आपके लगभग पांच सप्ताह तक, सप्ताह में पांच दिन रेडियोथेरेपी सत्र होंगे, प्रत्येक सत्र केवल कुछ मिनट तक चलेगा। विकिरण आपके सिस्टम में बाद में नहीं रहता है, और आपके उपचारों के बीच, आपका दूसरों के आसपास होना पूरी तरह से सुरक्षित है।

रेडियोथैरेपी के दुष्प्रभाव (Side effects of radiotherapy)

अगर रेडियोथैरेपी आपके विकसित पेट के कैंसर के लक्षणों में आराम देने के लिए उपयोग की जाती है तो आमतौर पर इसकी कम डोज़ दी जाती है जिससे आपको इसके किसी भी महत्वपूर्ण दुष्प्रभाव को महसूस नहीं करना चाहिए।

अगर ये कीमोथैरेपी के साथ संयोजन में दी जाती है तो रेडियोथैरेपी की मात्रा ज़्यादा हो सकती है और आप निम्न दुष्प्रभाव अनुभव कर सकते हैं-

  • मतली, उल्टी के साथ या बिना
  • दस्त
  • थकान
  • पेट में दर्द
  • शरीर के उस हिस्से की त्वचा में जलन या उसका रंग गहरा होना जहां इलाज किया जाता है।

ट्रास्टुजुमब (trastuzumab)

ट्रास्टुजुमब (trastuzumab) (जिसे ब्रांड नाम Herceptin के तहत बेचा जाता है) एक दवा है जो पहले स्तन कैंसर के इलाज के लिए इस्तेमाल की गई थी और अब विकसित पेट के कैंसर के कुछ मामलों के इलाज में उपयोगी पाई गई है।

कुछ पेट के कैंसर एक प्रकार के प्रोटीन से बड़ हैं जिसे मानव एपिडर्मल ग्रोथ फैक्टर रिसेप्टर 2 (HER2) कहा जाता है। इसलिए ट्रास्टुजुमब (trastuzumab), HER2 प्रोटीन के प्रभाव को अवरुद्ध करके काम करता है।

यह पेट के कैंसर का इलाज नहीं करता है लेकिन यह इसके विकास को धीमा कर सकता है और जीवन की अवधि बड़ सकती है।

अगर आप में विकसित(स्टेज 4) के पेट के कैंसर का निदान होता है और टेस्टिंग इस बात को दिखाते हैं कि आपकी कैंसर कोशिकाओं में HER2 प्रोटीन का उच्च स्तर है तो आपको डॉक्टर आपको कीमोथैरेपी और ट्रास्टुजुमब (trastuzumab),के संयोजन से इलाज करवाने की सलाह दे सकते हैं।

ट्रास्टुजुमब (trastuzumab), ड्रिप के ज़रिए अंतशिरा में दिया जाता है, और आपको अस्पताल में इलाज करवाना होगा।

प्रत्येक उपचार सत्र में एक घंटे तक का समय लगता है और आपको आमतौर पर हर तीन सप्ताह में एक बार सत्र की आवश्यकता होगी।

ट्रास्टुजुमब (trastuzumab) दिल की समस्याओं समेत कईं दुष्प्रभाव की वजह बन सकता है। इसका मतलब है कि यह उपयुक्त नहीं है अगर आपको हृदय की समस्या है, जैसे कि एंजाइना, अनियंत्रित उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन) या हृदय वाल्व रोग। यदि आपको ट्रास्टुजुमब (trastuzumab लेने की आवश्यकता है, तो आपको अपने दिल के नियमित जांच करवाने की ज़रूरत होगी ये जांचने के लिए कि कही इससे कोई समस्याएं तो नहीं हो रही हैं।

ट्रास्टुजुमब (trastuzumab) के अन्य दुष्प्रभावों में शामिल हैं-

  • दवा के लिए एक प्रारंभिक एलर्जी प्रतिक्रिया, जो मतली, साँस लेने में तकलीफ़ , ठंड लगना और बुखार का कारण बन सकती है।
  • दस्त ;’
  • थकावट
  • दर्द और पीड़ा

ट्रास्टुजुमब (trastuzumab) के बारे में और पढ़ें।

सच्ची कहानियां (Real stories)

यहां, कैंसर के इलाज से गुजरने वाले लोग इस बारे में बात करते हैं कि क्या उन्हे आगे बढ़ाता रहा और उपचार की व्यावहारिकता क्या है।

रिकवरी और फॉलो अप

पेट का कैंसर

रिकवरी और फॉलो अप

रिकवरी

सर्जरी के बाद सामन्य जीवन में वापिस आने समय लग सकता है। ये ज़रूरी है कि चीज़ों को धीरे किया जाए और अपने आप को रिकवर करने का समय दिया जाए। इस समय में, चीज़ों को उठाने से बचे (जैसे कि बच्चे या भारी शॉपिंग बैग्स) और भारी घर के काम को करने से बचें। आपको ड्राइव ना करने की सलाह दी जा सकती है।

कुछ अन्य इलाज, विशेष रूप से रेडियोथैरेपी और कीमोथैरेपी आपको थका हुआ महसूस करवा सकती है। आपको कुछ वक्त तक अपनी सामान्य गतिविधियो से ब्रेक लेने की ज़रूरत हो सकती है। परिवार और दोस्तों से प्रैक्टिकल मदद मांगने से ना डरें।

फॉलो-अप (Follow-up)

इलाज खत्म होने के बाद, आपको नियमित चेकअप के लिए आमंत्रित किया जा सकता है, पहले साल में आमतौर पर हर तीन महीनों में। चेकअप के दौरान आपका डॉक्टर आपकी जांच करेगा और आपका कैंसर, इलाज के प्रति किस तरह से प्रतिक्रिया दे रहा है, ये जानने के लिए कुछ खून की जांचे और एक्स-रे भी कर सकता है ।

सर्जरी के बाद डाइट (Diet after surgery)

अगर आपने आंशिक गैस्ट्रेक्टोमी (partial gastrectomy) करवाई है, तो आप अपने ऑपरेशन के कुछ वक्त बाद तक कम मात्रा में ही भोजन कर पाएंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका पेट उतने भोजन को रखने में अब सक्षम नहीं हो पाएगा जितना वो सर्जरी से पहले रखा करता था और आपके शरीर को पेट की नईं क्षमता के साथ एडजस्ट करने की ज़रूरत होगी। आप धीरे-धीरे अपने खाने की मात्रा बढ़ाने में सक्षम हो पाएंगे जैसे आपका पेट विस्तार करना शुरू होता है।

यदि आपके पेट के सभी हिस्से को हटाने के लिए सर्जरी की जाती है, तो इससे पहले कि आप सामान्य रूप से फिर से खा सकें, कुछ समय लग सकता है। आंशिक गैस्ट्रेक्टॉमी (partial gastrectomy) के साथ, आप केवल तब तक कम मात्रा में भोजन कर पाएंगे जब तक आपका शरीर समायोजित नहीं हो जाता। आपको कम और अक्सर भोजन करना पड़ सकता है, और आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन के प्रकारों में परिवर्तन करना होगा। आपकी कैंसर टीम आपको यह सलाह दे पाएगी कि आपको कब और क्या खाना चाहिए।

पेट को हटाने के लिए सर्जरी करवाने का ये भी मतलब है कि आपको नियमित रूप से विटामिन बी12 के इंजेक्शन लेने होंगे। ये आमतौर पर जो खाना आम खाते हैं उसमें से आपके पेट के ज़रिए अवशोषित हो जाता है और एनीमिया( लाल रक्त कणिकाओं की कमी के कारण थकान और कमज़ोरी) और तंत्रिका से जुड़ी परेशानियों से बचाव में मदद करने के लिए ज़रूरी होता है।

दूसरों के साथ रिलेशनशिप (Relationships with others)

कैंसर के बारे में बात करना हमेशा आसान नहीं होता है, चाहे आपके लिए या आपके परिवार और दोस्तों के लिए । आपको लग सकता है कि कुछ लोग आपके आसपास अजीब महसूस करते हैं या आप से बचते हैं। आप कैसा महसूस करते हैं और आपके परिवार और दोस्त आपकी मदद के लिए क्या कर सकते हैं, इसके बारे में स्पष्ट रहने से उन्हें आसानी हो सकती है लेकिन उन्हें यह बताने में शर्म महसूस न करें कि आपको अपने लिए कुछ समय चाहिए, अगर आपको इसकी आवश्यकता है।

दूसरों से बात करें (Talk to others)

 यदि आपके पास प्रश्न हैं, तो आपका डॉक्टर या नर्स आपको आश्वस्त करने में सक्षम हो सकते हैं। आपको किसी प्रशिक्षित परामर्शदाता, मनोवैज्ञानिक या विशेषज्ञ हेल्पलाइन में किसी से बात करने से मदद मिल सकती है। आपकी डॉक्टर सर्जरी में इन के बारे में जानकारी होगी। कुछ लोगों को पेट के कैंसर वाले अन्य लोगों से बात करने से मदद मिलती है, या तो स्थानीय सहायता समूह में या इंटरनेट चैटरूम में।

पेट के कैंसर वाले किसी व्यक्ति की देखभाल करना (Caring for someone with stomach cancer)

देखभाल करने वाले का काम बिल्कुल भी आसान नहीं होता। जब आप दूसरों की जरूरतों का ख्याल रखने में व्यस्त होते हैं, तो यह आपके भावनात्मक और शारीरिक ऊर्जा के भंडार को समाप्त कर सकता है और आपके लिए अपनी हैल्थ और मानसिक तंदरूस्ती को भूलना आसान बना सकता है। देखभाल करने वालों के स्वास्थ्य पर किए गए शोध से पता चलता है कि देखभाल करने के दौरान, काफी देखभाल कर्ताओं का स्वास्थ्य प्रभावित होता है और अगर आप नौकरी या परिवार की देखरेख के साथ बीमार व्यक्ति की देखभाल करने की कोशिश कर रहे हैं, तो यह और भी अधिक तनाव का कारण बन सकता है।

लेकिन खुद को सूची में अंतिम स्थान पर रखना ज्यादा वक्त तक काम नहीं करता है। यदि आप किसी और की देखभाल कर रहे हैं, तो खुद की देखभाल करना और जितना ज्यादा हो सके,उतनी मदद लेना ज़रूरी है। यह आपके और आप जिस व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, दोनों के हित में है।

अपने स्वास्थ्य की देखभाल करना (Look after your health)

नियमित और स्वास्थ्यवर्धक भोजन खाएं। अगर आपके पास हर भोजन को बैठ कर आराम से खाने का समय नहीं है तो कोशिश कीजिए कि कम से कम आप दिन के किसी एक मील को बैठ कर खाएं । फास्ट फूड स्नैक्स पर निर्भर रहने के बजाय फल जैसे स्वस्थ विकल्पों पर जाए।

अपने भावनात्मक स्वास्थ्य की देखभाल करना (Look after your emotional health)

यह समझ में आता है अगर कई बार आप क्रोधित महसूस करते हैं और फिर इस तरह महसूस करने के लिए आपको गिल्टी भी महसूस होता है। इसे उस व्यक्ति के बारे में थकावट, अलगाव और चिंताओं के साथ जुड़ें जिसकी आप देखभाल कर रहे हैं। लेकिन आप इंसान हैं और वे भावनाएं स्वाभाविक हैं।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।