COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
23 min read

हृदय प्रत्यारोपण (Heart transplant)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

हृदय प्रत्यारोपण क्या है? (What is a heart transplant?)

हृदय प्रत्यारोपण एक क्षतिग्रस्त मानव हृदय को एक ऐसे दाता से लिए गए स्वस्थ मानव हृदय के साथ बदलने के लिए किया जाने वाला एक ऑपरेशन है, जिसकी हाल ही में मृत्यु हो गई हो।

हृदय प्रत्यारोपण की जरूरत कब होती है (When a heart transplant is needed)

जब हृदय कुशलता से काम करने लायक नहीं रहता और किसी व्यक्ति का जीवन संभावित रूप से खतरे में हो, तो हृदय प्रत्यारोपण की आवश्यकता हो सकती है।

एक व्यक्ति को आमतौर पर हृदय प्रत्यारोपण की सलाह तब दी जाती है, यदि उसे:

  • गंभीर हार्ट फेलियर हो - जब दिल को शरीर में चारों ओर पर्याप्त रक्त पंप करने में परेशानी हो रही हो, और
  • उसके हृदय प्रत्यारोपण के बिना एक वर्ष के भीतर मर जाने की आशंका है, और
  • उस पर हार्ट फेलियर के पारंपरिक उपचारों का असर नहीं हो रहा हो (हार्ट फेलियर के उपचार के बारे में और पढ़ें)

बहुत कम मामलों में हृदय प्रत्यारोपण उन युवा बच्चों में भी किया जा सकता है जो गंभीर हृदय दोष के साथ पैदा हुए हों, जिसे जन्मजात हृदय रोग कहा जाता है।

हालाँकि, अगर आपने सलाह का अनुपालन नहीं किया है या आप अविश्वसनीय हैं तो आपके मामले में हृदय प्रत्यारोपण पर विचार नहीं किया जाएगा। उदाहरण के लिए, यदि आपने धूम्रपान नहीं छोड़ा या निर्धारित दवा नहीं ली। इसके अलावा, यदि आपके गुर्दे की कार्यक्षमता खराब हो, तो भी आप हृदय प्रत्यारोपण के लिए उपयुक्त नहीं हो सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ऑपरेशन के बाद आवश्यक कुछ दवाओं का किडनी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

ऑपरेशन (The operation)

जब आपको कॉल आती है, तो आपको तुरंत प्रत्यारोपण केंद्र में जाना चाहिए। दाता हृदय को दाता से निकाले जाने के चार घंटे के भीतर प्रत्यारोपित करने की आवश्यकता होगी।

हृदय प्रत्यारोपण के दौरान हार्ट बाईपास मशीन आपके रक्त को प्रसारित करती रहेगी।

पेट में एक कट लगाया जाता है, क्षतिग्रस्त हृदय को हटा दिया जाता है और दाता का हृदय मुख्य धमनियों से जोड़ दिया जाता है। हृदय को तब सामान्य रूप से धड़कना शुरू करना चाहिए।

एक हृदय प्रत्यारोपण सामान्य रूप से तीन से पांच घंटे के बीच होता है।

हृदय प्रत्यारोपण के लिए तैयार होने और हृदय प्रत्यारोपण कैसे किया जाता है, इसके बारे में और पढ़ें।

जोखिम (Risks)

हृदय प्रत्यारोपण एक जटिल और जोखिम भरी प्रक्रिया है।

संभावित जटिलताओं में शामिल हैं:

  • प्रत्यारोपित हृदय की ठीक से पंप करने में विफलता (प्राथमिक ग्राफ्ट शिथिलता)
  • शरीर दाता हृदय को अस्वीकार करता है

उपचार में उन्नति के कारण हृदय प्रत्यारोपण से जुड़े जोखिम कम हो गए हैं लेकिन समाप्त नहीं हुए हैं। यह अनुमान है कि सर्जरी के बाद पहले वर्ष में जटिलताओं के कारण 10 लोगों में से 1 की मृत्यु हो जाती है। ज्यादातर मौतें सर्जरी के बाद पहले 30 दिनों में होती हैं और इस समय के बाद बचने की संभावना में नाटकीय रूप से सुधार होता है।

हृदय प्रत्यारोपण से जुड़े जोखिमों के बारे में और पढ़ें।

स्वास्थ्य लाभ (Recovery)

हृदय प्रत्यारोपण के प्रभावों से उबरने में कई महीने लग सकते हैं और ट्रांसप्लांट सेंटर में लगातार फॉलो-अप अपॉइंटमेंट की जरूरत होगी।

शरीर को दान किए गए हृदय को अस्वीकार करने से रोकने के लिए इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवा की भी आवश्यकता होगी।

इम्यूनोसप्रेसेन्ट शक्तिशाली दवाएं हैं जिनके विभिन्न दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिसमें आपको संक्रमण और कमजोर हड्डियों (ऑस्टियोपोरोसिस) के प्रति अधिक संवेदनशील बनाना शामिल है।

हृदय प्रत्यारोपण से उबरने के बारे में और पढ़ें।

हृदय प्रत्यारोपण के जोखिम

हृदय प्रत्यारोपण के जोखिमों में शामिल हैं:

  • दाता हृदय की अस्वीकृति
  • प्रत्यारोपित हृदय की ठीक से पंप करने में विफलता (प्राथमिक ग्राफ्ट शिथिलता)
  • संक्रमण
  • नए हृदय से जुड़ी धमनियों का संकुचित होना

इन जटिलताओं को नीचे अधिक गहराई से समझाया गया है।

अस्वीकृति (Rejection)

हृदय प्रत्यारोपण की सबसे आम जटिलताओं में से एक यह है कि प्रतिरक्षा प्रणाली - संक्रमण के खिलाफ शरीर की रक्षा करने वाली प्रणाली - प्रत्यारोपित हृदय को एक बाहरी वस्तु मान लेती है और इस पर हमला करना शुरू कर देती है। इसे अस्वीकृति के रूप में जाना जाता है।

यह अक्सर तब भी हो सकता है जब आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यूनोसप्रेसेन्ट) को दबाने के लिए दवा के साथ इलाज कर रहे हों

अस्वीकृति के दो प्रकार हैं:

  • तीव्र अस्वीकृति - जहां अस्वीकृति सर्जरी के ठीक बाद होती है
  • पुरानी अस्वीकृति - जहां अस्वीकृति सर्जरी के कई महीनों या वर्षों बाद होती है

संकेत जो बताते हैं कि आपका शरीर आपके हृदय को अस्वीकृत कर रहा है, इनमें शामिल हैं:

  • अत्यधिक थकान (थकावट)
  • आपके हाथों और पैरों में सूजन
  • भार बढ़ना
  • 38 ° C (100.4 ° F) या उससे अधिक तापमान (बुखार)
  • धड़कन - आपके दिल की धड़कन तेज या अनियमित रूप से धड़कना
  • सांस लेने में कठिनाई

यदि आपमें इन लक्षणों में से कोई भी है, तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर और / या अपने प्रत्यारोपण केंद्र से संपर्क करें। अस्वीकृति का ईलाज आमतौर पर इम्यूनोस्प्रेसेंट दवा की आपकी खुराक को बढ़ाकर किया जा सकता है।

प्राथमिक ग्राफ्ट शिथिलता (Primary graft dysfunction)

हृदय प्रत्यारोपण के बाद होने वाली सबसे गंभीर जटिलताओं में से एक यह है कि दान किया गया हृदय काम करने में विफल रहता है और धड़कना शुरू नहीं करता है, या सर्जरी पूरी होने के तुरंत बाद धड़कना बंद कर देता है।

इसे प्राथमिक ग्राफ्ट डिसफंक्शन के रूप में जाना जाता है। यह सर्जरी के बाद पहले 30 दिनों में होने वाली मौत का प्रमुख कारण है और 32 मामलों में से लगभग 1 में होता है।

प्राथमिक ग्राफ्ट शिथिलता कई कारणों से हो सकती है जैसे:

  • दाता हृदय को नुकसान (जैसे ही मस्तिष्क की मृत्यु हो जाती है, हृदय धीरे धीरे से क्षतिग्रस्त हो जाएगा, भले ही इसे वेंटिलेटर के साथ पंप किया जा रहा हो)
  • दाता हृदय से जुड़ी रक्त वाहिकाओं की अंतर्निहित समस्याएं

प्राथमिक ग्राफ्ट शिथिलता के उपचार के विकल्पों में वेंटिलेटर का उपयोग करना शामिल है जो शरीर में ऑक्सीजन युक्त रक्त को प्रसारित करने और दान किए गए हृदय पर तनाव को कम करने के लिए दवा का उपयोग करने में मदद करता है।

जैसे ही हृदय विफल होने लगता है, यदि जल्द से जल्द प्रदान उपचार किया जा सके तो मामला अक्सर अनुकूल होता है। एक विशेषज्ञ इकाई ने प्राथमिक ग्राफ्ट शिथिलता वाले रोगियों में हर पांच में से चार लोगों को बचाने में सक्षम होने की सूचना दी।

संक्रमण (Infection)

इम्यूनोसप्रेसेन्ट दवा आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देगी और आपको संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना देगी। तीन सबसे आम प्रकार के संक्रमण जो उन लोगों को प्रभावित करते हैं जिनके हृदय प्रत्यारोपण हुए हैं, वो हैं:

सीएमवी एक सामान्य वायरस है जो वायरस के हर्पस परिवार का हिस्सा है।

जीवाणु संक्रमण (Bacterial infection)

प्रत्यारोपण के बाद पहले कुछ हफ्तों में फेफड़ों का एक जीवाणु संक्रमण (निमोनिया) आम है।

निमोनिया के लक्षणों में शामिल हैं:

  • साँस की तकलीफ
  • खांसी में कफ (गाढ़ा बलगम) जो कि पीले, हरे, भूरे रंग का या खून से सना हुआ हो सकता है
  • घरघराहट
  • दिल की तेज़ धड़कन (टैचीकार्डिया)
  • 38 ° C (100.4 ° F) या उससे अधिक तापमान (बुखार)
  • आपके सीने में दर्द

यदि आपको लगता है कि आपको निमोनिया हो सकता है, तो अपने डॉक्टर और/या अपनी प्रत्यारोपण टीम से संपर्क करें। इस स्थिति का एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज करने की आवश्यकता होगी।

संक्रमण को रोकने में मदद करने के लिए, आपको अपने प्रत्यारोपण के बाद पहले कुछ हफ्तों तक एंटीबायोटिक्स भी दी जा सकती हैं।

निमोनिया के इलाज के बारे में और पढ़ें।

फ़ंगल संक्रमण (Fungal infections)

फफूंद संक्रमण जीवाणु संक्रमण जितने आम नहीं हैं, लेकिन वे भी कभी-कभी प्रत्यारोपण होने के बाद पहले कुछ हफ्तों में विकसित हो सकते हैं।

कम गंभीर फफूंद संक्रमण त्वचा, नाखून, मुंह, पैर और महिलाओं में योनि में विकसित हो सकते हैं।

इन फफूंद संक्रमणों के लक्षण इस बात पर निर्भर करेंगे कि आपके शरीर का कौन सा अंग प्रभावित है, हालांकि साझा लक्षणों में शामिल हैं:

  • त्वचा पर पपड़ी जमना और लालिमा
  • खुजली
  • योनि से एक गाढ़े सफेद तरल पदार्थ का निर्वहन (योनि संक्रमण के मामलों में)

अधिक गंभीर फफूंद संक्रमण शरीर के अंदर विकसित हो सकते हैं (आक्रामक फफूंद संक्रमण), जैसे कि फेफड़ों में (फंगल न्यूमोनिया) या रक्त प्रवाह में।

एक आक्रामक फफूंद संक्रमण के लक्षणों में शामिल हैं:

  • 38° C (100.4° F) या उससे अधिक तापमान (बुखार)
  • सांस लेने में कठिनाई
  • सिर चकराना
  • छाती में दर्द
  • मानसिक व्यवहार में बदलाव, जैसे भ्रम या भटकाव

यदि आपको लगता है कि आपको एक आक्रामक फफूंद संक्रमण हो सकता है, तो आपको जल्द से जल्द अपने डॉक्टर और/या प्रत्यारोपण केंद्र से संपर्क करना चाहिए

गैर-आक्रामक फफूंद संक्रमण का इलाज ऐंटिफंगल क्रीम और गोलियों का उपयोग करके किया जा सकता है। आक्रामक फफूंद संक्रमणों के ईलाज के लिए अस्पताल में भर्ती होने और एंटी-फंगल दवा के इंजेक्शन (अंतःशिरा एंटी-फंगल) लेने की आवश्यकता हो सकती है।

फफूंद संक्रमण के खिलाफ एहतियात के रूप में, आपको अपने प्रत्यारोपण के बाद कई महीनों तक एंटी-फंगल दवा लेने का कोर्स दिया जा सकता है।

साइटोमेगालोवायरस संक्रमण (Cytomegalovirus infection)

प्रत्यारोपण के बाद दूसरे महीने के दौरान साइटोमेगालोवायरस (सीएमवी) संक्रमण आम है।

सीएमवी संक्रमण के लक्षणों में शामिल हैं:

  • 38° C (100.4° F) या उससे अधिक तापमान (बुखार)
  • सांस लेने में कठिनाई
  • बड़े, दर्दनाक मुंह के अल्सर दिखाई देना, दृष्टि की गड़बड़ जैसे कि ब्लाइंड स्पॉट्स, धुंधलापन और फ्लोटर्स (छोटे काले या छायादार डॉट्स या रेखाएं जो आपके दृष्टि क्षेत्र में तैरती दिखाई देती हैं)

यदि आपको लगता है कि आपको सीएमवी संक्रमण है, तो आपको जल्द से जल्द अपने डॉक्टर और/या प्रत्यारोपण केंद्र से संपर्क करना चाहिए।

सीएमवी संक्रमण का इलाज एंटी वायरल दवा से किया जा सकता है। सीएमवी के खिलाफ एहतियात के तौर पर, आपको अपने प्रत्यारोपण के बाद कई महीनों तक एंटी-वायरल दवा का एक कोर्स दिया जा सकता है।

साइटोमेगालोवायरस संक्रमण के इलाज के बारे में और पढ़ें।

दीर्घकालिक संक्रमण को रोकना (Preventing long-term infection)

हृदय-फेफड़े के प्रत्यारोपण के बाद यह संभावना है कि आपको अपने जीवनभर के लिए इम्यूनोसप्रेस्सेंट लेने की आवश्यकता होगी क्योंकि आप संक्रमण के लिए अधिक कमजोर होंगे। इसका मतलब है कि आपको ज्यादातर लोगों की तुलना में अधिक सावधानी बरतनी होगी। इनमें शामिल है:

  • भीड़ से बचना (यदि यह अपरिहार्य हो तो आपको एक फेस मास्क पहनना चाहिए, विशेष रूप से अपने प्रत्यारोपण के बाद पहले वर्ष के दौरान)
  • संक्रमण वाले किसी भी व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से बचना
  • किसी भी ऐसी चीज से बचना जो आपके फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकती है और उन्हें संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकती है, जैसे कि धुआं, रासायनिक स्प्रे या रासायनिक धुएं
  • संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए अपने घर को बहुत साफ रखना

धमनियों का सिकुड़ना (Narrowing of the arteries)

दाता हृदय से जुड़ी छोटी और मध्यम आकार की रक्त वाहिकाओं का संकीर्ण और सख्त होना, हृदय प्रत्यारोपण की एक सामान्य दीर्घकालिक जटिलता है।

इस जटिलता के लिए चिकित्सा शब्द है कार्डियक एलोग्राफ़्ट वास्कुलोपैथी (CAV)।

माना जाता है कि CAV इनमें विकसित होती है:

  • सर्जरी के बाद पहले वर्ष के दौरान 12 में से 1 हृदय प्रत्यारोपण रोगियों में
  • सर्जरी के बाद पहले पांच वर्षों के दौरान 3 में से 1 रोगी में
  • सर्जरी के बाद पहले आठ वर्षों के दौरान सभी रोगियों के सिर्फ आधे से कम(43%)रोगियों में

CAV के लिए ज्ञात जोखिम कारकों में शामिल हैं:

  • प्रत्यारोपण के तुरंत बाद तीव्र अस्वीकृति का अनुभव करना
  • प्रत्यारोपण के तुरंत बाद एक संक्रमण विकसित होना
  • उच्च रक्तचाप वाले व्यक्ति से दान प्राप्त करना

CAV संभावित रूप से गंभीर है क्योंकि यह हृदय की रक्त की आपूर्ति को प्रतिबंधित कर सकता है जो कभी-कभी दिल के दौरे को ट्रिगर कर सकता है या हृदय की विफलता की आशंका को जन्म दे सकता है।

इस जोखिम के कारण आमतौर पर यह सिफारिश की जाती है कि आपको नियमित रूप से कोरोनरी एंजियोग्राफी (हृदय के अंदर का अध्ययन करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक विशेष प्रकार का एक्स-रे) करवानी चाहिए ताकि यह पता चल सके कि हृदय को पर्याप्त रक्त मिल रहा है|

CAV के उपचार के विकल्पों में शामिल हैं:

  • स्टैटिन - एक दवा जो रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती है, जो बदले में हृदय को रक्त की आपूर्ति में सुधार कर सकती है
  • कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स - जो हृदय में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने के लिए रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करने में मदद कर सकते हैं

एंडी की कहानी (Andy's story)

1998 में, एंडी कुक को बताया गया कि उनके पास जीने के लिए सिर्फ दो दिन हैं, लेकिन जब एक दाता का हृदय उपलब्ध हो गया, तो एक प्रत्यारोपण ने उसकी जान बचा ली। अब वह एक आउटडोर नौकरी में पूरे समय काम करता है जिसे वह प्यार करता है और अन्य प्रत्यारोपण प्राप्तकर्ताओं से मिलने के लिए दुनिया की यात्रा करता है।

एंडी, मिडलैंड्स के हेल्सोवन से, 37 वर्ष के थे जब उनमें कार्डियोमायोपैथी विकसित हुई, एक ऐसी बीमारी जिसके कारण उनका हृदय आकर में बड़ा हो गया।

"मुझे खांसी थी जिसका मेरा डॉक्टर इलाज नहीं कर सका और कई बार जाने के बाद, मुझे सांस में दिक्कत हो गई" एंडी कहते हैं। “मुझे स्टॉरब्रिज के वर्डस्ले अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ मुझे छाती पर द्रव होने का पता चला था जो मेरे हृदय को प्रभावित कर रहा था। थोड़ी देर बाद, मुझे बताया गया कि मुझे कार्डियोमायोपैथी है। ”

अस्पताल में भर्ती होने के छह दिन बाद, एंडी को दो दिल के दौरे पड़े। उनका इलाज किया गया, लेकिन उनकी हालत खराब हो गई और उन्हें प्रत्यारोपण के आकलन के लिए बर्मिंघम के क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल में भेज दिया गया। उन्हें उनके सलाहकार ने बताया कि प्रत्यारोपण की जरूरत थी। उन्हें ट्रांसप्लांट सूची में डाल दिया गया था और प्रतीक्षा करने के लिए वापस वर्डस्ले भेज दिया गया था।

“अगले कुछ हफ्तों में, मेरी हालत खराब हो गई और दाता के हृदय की ज़रूरत और अधिक गहरी हो गई। मेरा वजन 11 स्टोन से घटकर सिर्फ 7 हो गया।”

समय बीतने के साथ, एक दाता हृदय उपलब्ध हो गया और एंडी को क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल में वापस स्थानांतरित कर दिया गया।

“ऑपरेशन से पहले मुझे जो आखिरी बात याद है, वह थी मेरे हाथ के पीछे सुई का लगना। जब मैं उठा, मुझे दो दिनों की बेहोशी के बाद गहन देखभाल से एक वार्ड में स्थानांतरित किया जा रहा था। ”

धीरे-धीरे, एंडी ने अपनी ताकत वापस पा ली, लेकिन वापस स्वस्थ होने की उनकी यात्रा में कुछ दिक्कतें थीं।

“जब मुझे घर जाने दिया गया, तो मैंने अगले छह हफ्ते एक अस्वीकृति के साथ, एक पेट की समस्या, एक खराब हुए फेफड़े और एक अन्य संबंधित समस्या के साथ अस्पताल आने और जाने में बिताए। मैं आखिरकार क्रिसमस 1998 से एक सप्ताह पहले अस्पताल से बाहर आया और प्रत्यारोपण के 13 सप्ताह बाद माली के रूप में काम पर लौट आया।

“मैं वास्तव में विश्वास करता हूं कि यदि आप चिकित्सा सलाह का पालन करते हैं, तो आप अपनी पिछली फिटनेस और जीवन के तरीके पर वापस आ जाएंगे। मुझे मिली सभी मदद और उपचार के लिए मैं बहुत आभारी हूं।”

हृदय प्रत्यारोपण की तैयारी (Preparing for a heart transplant)

यदि हृदय प्रत्यारोपण को आपके लिए एक संभावित उपचार मान लिया जाता है, तो संभावना है कि प्रारंभिक मूल्यांकन के लिए आपको अपने स्थानीय अस्पताल में आमंत्रित किया जाएगा। मूल्यांकन यह जांचने के लिए होगा कि क्या आप हृदय प्रत्यारोपण के लिए उपयुक्त उम्मीदवार हैं (नीचे देखें)।

आगे का आंकलन (Further assessment)

प्रारंभिक मूल्यांकन के बाद, यदि आपको उपयुक्त समझा जाता है, तो संभावना है कि आपको अपने निकटतम प्रत्यारोपण केंद्र में आमंत्रित किया जाएगा ताकि अधिक गहराई से मूल्यांकन किया जा सके।

अधिक गहराई से मूल्यांकन करने का उद्देश्य आपके वर्तमान स्वास्थ्य की अधिक विस्तृत तस्वीर का निर्माण करना है, और यह जांचना है कि क्या कोई अंतर्निहित समस्याएं हैं जो प्रत्यारोपण के लिए आपकी उपयुक्तता को प्रभावित कर सकती हैं।

आपके पास प्रत्यारोपण टीम से मिलने और प्रक्रिया के बारे में अधिक जानने का अवसर भी होगा। प्रत्यारोपण केंद्र का दौरा करने से पहले, आपके लिए उन सवालों की एक सूची लिख लेना उपयोगी हो सकता है जिन्हें आप प्रत्यारोपण टीम से पूछना चाहते हैं।

आपके मूल्यांकन के भाग के रूप में, आपके नीचे वर्णित कुछ परीक्षण हो सकते हैं:

  • वायरल या बैक्टीरियल संक्रमणों की जांच करने के लिए और आपके लीवर जैसे अंगों के स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए रक्त परीक्षण और मूत्र परीक्षण
  • छाती का एक्स-रे
  • रक्तचाप परीक्षण
  • फेफड़े का कार्य परीक्षण, जो आपके रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को मापने के लिए पल्स ऑक्सीमीटर नामक मशीन का उपयोग करता है
  • कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन और चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन, जिसका उपयोग कुछ अंगों के स्वास्थ्य की जांच करने के लिए किया जाता है, जैसे कि आपका हृदय और फेफड़े
  • कोरोनरी एंजियोग्राफी, आपके दिल के अंदर का अध्ययन करने के लिए एक विशेष प्रकार का एक्स-रे
  • एक इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी), आपके हृदय की विद्युत गतिविधि को मापता है

पूरी मूल्यांकन प्रक्रिया को पूरा होने में आमतौर पर दो से चार दिन लगते हैं।

क्या आप हृदय प्रत्यारोपण के लिए उपयुक्त हैं, इस बारे में अंतिम निर्णय एक व्यक्ति द्वारा नहीं लिया जाता, यह एक प्रत्यारोपण टीम द्वारा समग्र रूप से किया गया संयुक्त निर्णय होता है।

प्रत्यारोपण केंद्र से जाने से पहले आपको निर्णय के बारे में सूचित किया जा सकता है। हालाँकि, यदि आपका मामला सीधा न हो, तो आपको निर्णय के बारे में सूचित करने में कई सप्ताह लग सकते हैं।

उपयुक्त दाता की प्रतीक्षा करना

सही आकार और रक्त समूह वाला हृदय दान के लिए उपलब्ध होने में कुछ महीने लग सकते हैं।

जब आप एक उपयुक्त दाता के मिल जाने की प्रतीक्षा कर रहे होते हैं, तो आपका

प्रत्यारोपण केंद्र आपको सहायता, मार्गदर्शन और जानकारी प्रदान करता है । वे पूरी तरह से जानते हैं कि, कई लोगों के लिए, यह एक निराशा और भयावह अनुभव दोनों हो सकता है।

हृदय प्रत्यारोपण देखें - प्रत्यारोपण प्रक्रिया से गुजरने वाले लोगों की जानकारी और समर्थन के लिए सहायता प्राप्त करना।

कुछ मामलों में, एक नियोजित प्रत्यारोपण नहीं किया जा सकता । ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि आपका स्वास्थ्य इस हद तक बिगड़ जाता है कि प्रत्यारोपण को अब सुरक्षित या प्रभावी उपचार नहीं माना जा सकता है। दान किए गए हृदय के उपलब्ध होने से पहले ही कुछ लोगों की मृत्यु हो जाती है।

हृदय प्रत्यारोपण कब उपयुक्त नहीं होता (When a heart transplant is not suitable)

दाता हृदयों की उपलब्धता की तुलना में प्रत्यारोपण की अधिक आवश्यकता है, इसलिए यह तय करने के लिए मूल्यांकन प्रक्रिया सख्त है कि हृदय प्रत्यारोपण कौन करवा सकता है।

इसके अलावा, ऑपरेशन शरीर पर एक प्रमुख दबाव डालता है जिसका अर्थ है कि कई मामलों में जोखिम संभावित लाभ से अधिक हो सकते हैं।

इसलिए, एक व्यक्ति को आमतौर पर केवल एक तभी एक उपयुक्त उम्मीदवार माना जाता है यदि वह अपेक्षाकृत अच्छी स्वास्थ्य स्थिति में हैं (उस स्थिति के अलावा जिसके लिए उन्हें प्रत्यारोपण की आवश्यकता है)।

आप आमतौर पर हृदय प्रत्यारोपण करवाने के लिए अनुपयुक्त माने जाएंगे यदि आप:

  • 65 वर्ष से अधिक आयु के हैं - हालांकि अपवाद हो सकते हैं
  • आपको लाइलाज रूप का कैंसर है
  • आपको एक और गंभीर स्वास्थ्य स्थिति है जो आपके हृदय से असंबंधित है जैसे कि क्रोनिक किडनी रोग
  • आपको एचआईवी और एड्स हुआ था - दान के बाद आपको जिन दवाओं की आवश्यकता होती है, उनसे प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है जो एचआईवी या एड्स होने पर बेहद खतरनाक हो सकती है।
  • आप वर्तमान में शराब या ड्रग्स का दुरुपयोग कर रहे हैं
  • आप वर्तमान में धूम्रपान कर रहे हैं
  • आपमें एक दीर्घकालिक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है, जैसे कि सिज़ोफ्रेनिया, जिसका अर्थ है कि यह संभावना नहीं है कि आप नियमित रूप से दवा लेंगे या रिकवरी अवधि के दौरान आवश्यक मीटिंग में भाग लेंगे।

प्रतीक्षा सूची (The waiting list)

एक बार जब आप सक्रिय प्रतीक्षा सूची में होते हैं, तो प्रत्यारोपण केंद्र आपको एक पेजर दे सकता है, ताकि आपसे शॉर्ट नोटिस पर संपर्क किया जा सके।

सही हृदय कुछ दिनों के भीतर भी उपलब्ध हो सकता है या इसमें कई साल भी लग सकते हैं। आपको जितने समय का इंतजार करना पड़ेगा, वह आपके ब्लड ग्रुप, दाता की उपलब्धता और कितने अन्य मरीज सूची में हैं, (और उनके केस कितने जरूरी हैं) इस पर निर्भर करेगा।

प्रत्यारोपण सूची में लगभग तीन में से एक मरीज इतना बीमार होता है कि वह घर नहीं जा सकता और उसे अस्पताल में रहना पड़ता है, जब वे दाता हृदय की प्रतीक्षा करते हैं। प्राथमिकता आमतौर पर इन रोगियों को दी जाती है।

जब आप प्रतीक्षा करते हैं, तो आपकी देखभाल उस चिकित्सक द्वारा की जाएगी जिसने आपको प्रत्यारोपण केंद्र में भेजा था। आपका डॉक्टर आपकी स्थिति में परिवर्तन से प्रत्यारोपण टीम को अपडेट रखेगा। कभी-कभी, यह सुनिश्चित करने के लिए एक और मूल्यांकन आवश्यक होता है कि क्या आप अभी भी प्रत्यारोपण के लिए उपयुक्त हैं।

फोन आना (Getting the call)

जब एक उपयुक्त दाता का हृदय मिल जाता है, तो प्रत्यारोपण केंद्र आपसे संपर्क करेगा और आपको केंद्र में जाने के लिए कहेगा।

जब आपको प्रत्यारोपण केंद्र से बुलावा आए:

  • कुछ भी न खाएं और न पियें ।
  • सभी मौजूदा दवाओं को अपने साथ ले जाएं।
  • अस्पताल में अपने रहने के लिए कपड़े और आवश्यक सामान ले जाएं।

प्रत्यारोपण केंद्र में, आपका यह सुनिश्चित करने के लिए जल्दी से पुनर्मुल्यांकन किया जाएगा कि कोई नई चिकित्सा स्थिति विकसित तो नहीं हुई है। वहीं, उसी समय एक दूसरी मेडिकल टीम दाता हृदय की जांच करेगी। प्रत्यारोपण की सफलता के लिए सबसे अच्छा यह होता है कि दाता के हृदय को दाता से निकालने के चार घंटे के भीतर प्रत्यारोपित कर दिया जाए (छह घंटे के बाद, हृदय अनुपयुक्त हो जाता है)।

जब मेडिकल टीम पुष्टि कर देती है कि हृदय उपयुक्त है, तो आपको एक सामान्य संवेदनाहारी दिया जाएगा (सुला दिया जाएगा।) प्रत्यारोपण की सफलता का सबसे अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रक्रिया को जितनी जल्दी हो सके, कर लिया जाना चाहिए।

हृदय प्रत्यारोपण से उबरना (Recovery from a heart transplant)

सर्जरी के बाद, आपको इंटेंसिव केयर यूनिट में ले जाया जाएगा। आप बेहोश होंगे और सांस लेने में मदद करने के लिए वेंटिलेटर से जुड़े होंगे।

विशेषज्ञ टीम लगातार आपकी स्थिति की जांच और निगरानी करेगी। आपको तरल पदार्थ और दवा अंतःशिरा (सीधे एक नस में) दी जाएगी और एक्स-रे लिया जाएगा। जब आपकी स्थिति स्थिर होती है, तो आपको आमतौर पर एक उच्च-निर्भरता वार्ड में ले जाया जाएगा।

वापस सामान्य होना (Getting back to normal)

आपको आमतौर पर सर्जरी के दो से तीन सप्ताह बाद अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी, और आपको एक महीने के लिए प्रत्यारोपण केंद्र के पास रहने के लिए कहा जाएगा।

दूसरे महीने में, आपको चार सप्ताह तक साप्ताहिक रूप से आना होगा। उसके बाद, आपके शेष जीवन के लिए, आपको हर छह सप्ताह में एक रक्त परीक्षण करवाना होगा और हर तीन महीने में प्रत्यारोपण केंद्र में दिखाना होगा।

सर्जरी के बाद पहले छह हफ्तों के लिए, आपको किसी भी चीज़ को धकेलने, खींचने या उठाने से बचने की आवश्यकता होती है। आपको एक पुनर्वास कार्यक्रम में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा जिसमें अपनी ताकत बनाने के लिए व्यायाम शामिल होंगे।

इम्यूनोसप्रेसेन्ट (Immunosuppressants)

हृदय प्रत्यारोपण होने के बाद, सबसे बड़ा जोखिम यह होता है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली नए हृदय को एक बाहरी वस्तु के रूप में मानेगी और उस पर हमला करना शुरू कर देगी। इसे अस्वीकृति के रूप में जाना जाता है।

अस्वीकृति के बारे में अधिक जानकारी के लिए हृदय प्रत्यारोपण के जोखिम देखें।

अपने नए हृदय को अस्वीकृत होने से रोकने के लिए, आपको अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने के लिए दवा की आवश्यकता होगी, जिसे इम्यूनोसप्रेसेन्ट्स के रूप में जाना जाता है। ये टी-कोशिकाओं नामक विशेष सफेद रक्त कोशिकाओं की सामान्य गतिविधियों में हस्तक्षेप करके काम करते हैं।

प्रतिरक्षा प्रणाली बाहरी कोशिकाओं जैसे बैक्टीरिया, वायरस और प्रत्यारोपण के मामले में, दान किए गए ऊतक, आपके नए हृदय और फेफड़ों पर हमला करने के लिए टी कोशिकाओं का उपयोग करती है।

ज्यादातर लोग जिनके दिल का प्रत्यारोपण होता है, उन्हें अपने जीवनभर के लिए दो से तीन अलग-अलग इम्यूनोसप्रेसेन्ट्स के संयोजन की आवश्यकता होती है। हालांकि, यदि आप उपचार के प्रति अच्छी तरह से प्रतिक्रिया करते हैं, तो दीर्घकाल में इम्यूनोसप्रेसेन्ट्स की खुराक कम की जा सकती है।

इम्यूनोसप्रेसेन्ट्स शक्तिशाली दवाएं हैं जिनके विभिन्न दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

संभावित दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

हालांकि ये दुष्प्रभाव परेशान करने वाले हो सकते हैं, आपको कभी भी इम्यूनोसप्रेसेन्ट्स की अनुशंसित खुराक लेना बंद करना या कम करना नहीं चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं, तो यह आपके हृदय और फेफड़ों को अस्वीकृति की ओर ले जा सकता है।

इम्यूनोसप्रेसेन्ट लेने के बाद होने वाले किसी भी दुष्प्रभाव को कम करने में मदद करने के लिए आपकी प्रत्यारोपण टीम आपको अतिरिक्त उपचार प्रदान करने में सक्षम हो सकती है।

शल्य चिकित्सा (Surgery)

एक हृदय प्रत्यारोपण में सामान्य रूप से तीन से पांच घंटे के बीच लगते हैं।

यह प्रक्रिया सामान्य संवेदनाहारी के तहत की जाती है, जिसका अर्थ है कि आपको सुला दिया जाएगा।

जब आप सो रहे होते हैं, तो आप अपनी पीठ के बल ऑपरेटिंग टेबल पर लेटेंगे और आपकी बाजू साइड में होंगी। ऑपरेशन के दौरान और बाद में आपके मूत्राशय को खाली करने के लिए एक पतली लचीली ट्यूब (कैथेटर) डाली जाएगी और आप एक हृदय बायपास मशीन से जुड़ जाएंगे। जब हृदय प्रत्यारोपण किया जा रहा होता है, तब यह एक कृत्रिम हृदय के रूप में कार्य करता है और आपके रक्त को प्रसारित और ऑक्सीजनित करता है।

आपके ब्रेस्टबोन के ऊपर एक छोटा सा कट लगाया जाता है और हड्डी को अलग किया जाता है ताकि सर्जन आपके हृदय तक पहुंच सके। दाएं और बाएं एट्रिया (शीर्ष दाएं कक्षों) के एक हिस्से को पीछे छोड़ते हुए आपका हृदय निकाल लिया जाता है। नए हृदय को तब महाधमनी (हृदय से मुख्य धमनी), पल्मोनरी धमनी और अटरिया के शेष भाग से जोड़ा जाता है। जब हृदय काम करना शुरू कर देता है और मेडिकल टीम संतुष्ट हो जाती है, तो आपको बाईपास मशीन से हटा लिया जाएगा।

जब प्रक्रिया खत्म हो जाती है, तो आपकी छाती से नालियां (नलियां) बाहर आ जाएंगी। आपके ब्रेस्टबोन को स्टेनलेस स्टील के तारों के साथ बंद कर दिया गया होगा और ऊतकों और त्वचा को घुलने योग्य टांकों के साथ बंद कर दिया गया होगा।

आप इंटेंसिव केयर यूनिट में जागेंगे, एक नलिका द्वारा आपके गले में एक वेंटिलेटर जुड़ा होगा और

आपकी बाहों और गर्दन में कई ड्रिप्स होंगे।

NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।