COVID-19: नवीनतम सूचनाओं के लिए यहाँ क्लिक करें

×
11 min read

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism)

मेडिकल समीक्षा के साथ

स्वास्थ्य संबंधी सभी लेखों की चिकित्सीय सुरक्षा जांच की जाती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जानकारी चिकित्सकीय रूप से सुरक्षित है। अधिक जानकारी के लिए हमारी सम्पादकीय नीति देखें।

यह लेख मूल रूप से अंग्रेजी में लिखा गया था। इस लेख का मूल संस्करण यहां देखा जा सकता है।

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) और हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism) दुर्लभ हार्मोन विकार हैं जो गर्दन में पैराथायरायड ग्रंथियों (parathyroid gland) बहुत कम या बहुत अधिक पैराथायराइड हार्मोन (parathyroid hormone) पैदा करने की वजह से होते हैं।

आपकी चार छोटी पैराथायरॉइड ग्रंथियां (parathyroid glands) होती हैं, प्रत्येक ग्रंथि चावल के एक दाने के आकार की होती है और आपकी गर्दन में थायरॉयड ग्रंथि के पीछे स्थित होती है। वे हड्डियों और रक्त के भीतर कैल्शियम, फास्फोरस और विटामिन डी के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए पैराथाइरॉइड हार्मोन (पीटीएच) (PTH) का उत्पादन करते हैं।

यह ज़रूरी है, क्योंकि इनके स्तर में स्वाभाविक रूप से उतार-चढ़ाव हो सकता है और शरीर के ठीक से काम करने के लिए एक स्वास्थ्यवर्धक स्तर के भीतर रखने की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, अगर आप डेयरी से उत्पन्न भोजन अधिक मात्रा में खाते हैं तो आपके कैल्शियम का स्तर बढ़ सकता है और अगर आप कुछ विशेष दवाईयां लेते हैं तो यह स्तर कम हो सकता है।

हमारे शरीर को कैल्शियम और फास्फोरस की ज़रूरत क्यो होती है, इस बारे में और पढ़ें।

पैराथायरॉइड ग्रंथियों (parathyroid glands) का थायरॉयड ग्रंथि से कोई लेना-देना नहीं है। 'पैराथाइरॉइड' का अर्थ है 'थायरॉइड के पास'। पैराथाइरॉइड विकार को एक अंडरएक्टिव थायरॉयड या ओवरएक्टिव थायरॉइड के साथ भ्रमित नहीं किया जाना चाहिए।

ये पेज हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) और हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism) दोनों के लक्षणों, कारणों, निदान, इलाज और संभावित जटिलताओं के बारे में समझाता है।

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism)

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) का मतलब पैराथायरॉइड ग्रंथियों का बहुत कम PTH उत्पादित करना है। इसके कारण रक्त में कैल्शियम का स्तर कम हो जाता है (हाइपोकैल्सीमिया) (hypocalcaemia) और रक्त में फास्फोरस का स्तर बढ़ जाता है (हाइपरफोस्फेटेमिया) (hyperphosphataemia).

इनके स्तर को सही रखने के लिए आपको पूरे जीवन सप्लीमेंट्स लेने की ज़रूरत हो सकती है। हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म ( Hypoparathyroidism) के इलाज के बारे में और पढ़ें।

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म के लक्षण (Hypoparathyroidism symptoms)

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) के लक्षण इसके कारण, जिस गति से स्थिति विकसित होती है और उपचार की प्रभावशीलता के आधार पर भिन्न होते हैं।

जिन लोगों में जल्दी से हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) विकसित होता है (उदाहरण के तौर पर, गर्दन की सर्जरी के बाद) में निम्न लक्षण हो सकते हैं-

  • हाथ या पैर या मुंह के आसपास झुनझुनी का एहसास (पैरेस्थेसिया) (paraesthesia)
  • असमान्य मांसपेशी मूवमेंट जैसे कि मरोड़, झटके से खींचना या मांसपेशियों में ऐंठन
  • मांसपेशियों में दर्द
  • थका हुआ, चिड़चिड़ा, चिंतित या उदास महसूस करना

लोग जिन्हे लंबे समय तक रहने वाला (और धीरे-धीरे विकसित होने वाला) हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) होता है वो अन्य मेडिकल स्थितियों के कारण हो सकता है जैसे:

  • ऊपर दिए गए लक्षण, अगर उनका इलाज ना किया जाए
  • आंखों की समस्याएं, जैसे मोतियाबिंद
  • सूखी, मोटी त्वचा
  • बाल जो आसानी से टूट सकते हैं और गिर सकते हैं।
  • नाखून जो आसानी से टूटते हैं, लकीरें जो बाएं से दाएं जाती हैं।

सैद्धांतिक रूप से, बहुत कम कैल्शियम फिट्स की वजह बन सकता है लेकिन ये बहुत दुर्लभ है। खासकर तब, जब आपको कुछ समय के लिए ये स्थिति रही हो और दवाईयों से इलाज किया गया हो।

अक्सर, चिंता की वजह से आप तेज सांस ले सकते हैं (हाइपरवेंटिलेट) (hyperventilate)। यह आपको बीमार महसूस करा सकता है और आगे भी आपके कैल्शियम स्तर को गिरा सकता है, इसलिए शांत रहना महत्वपूर्ण है।

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म के कारण (Hypoparathyroidism causes)

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) का सबसे आम कारण, सिर और नाक की सर्जरी के कारण पैराथायरॉइड ग्रन्थि में लगने वाली चोट है। सर्जरी से गुजरने वाले लगभग 12% रोगियों में यह केवल कुछ समय के लिए रहता है। 3% से कम रोगियों में स्थायी रूप से हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) होता है।

अन्य कारणों में शामिल हैं-

  • ऑटोइम्यून बीमारियों (autoimmune diseases), जिसमें शरीर गलती से अपने ही टिश्यूज़ पर हमला करता है, वाले लोगों में इम्यून सिस्टम द्वारा पैराथायरॉइड ग्लैंड्स का नाश।
  • कैंसर के लिए गर्दन की विकिरण चिकित्सा
  • कैंसर की वजह से पैराथायरॉइड ग्रंथियों (parathyroid glands) को सर्जरी के जरिये निकाल देना
  • खून में मैग्नीशियम का कम स्तर, उदाहरण के तौर पर शराब के अधिक सेवन की वजह से

कौन प्रभावित होता है? (Who is affected)

आपको हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) होने की संभावना अधिक है अगर:

  • आपकी हाल ही में थायराइड या गर्दन की सर्जरी हुई है।
  • आपके परिवार में पैराथायरॉइड डिसऑर्डर का कोई अन्य मामला रहा हो।
  • एडिसन रोग (गुर्दे के ऊपर अधिवृक्क ग्रंथियों का एक दुर्लभ विकार) हो।

इसके अलावा, आनुवंशिक बीमारी डिजॉर्ज सिंड्रोम (DiGeorge syndrome) वाले बच्चों या वयस्कों को हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) होगा क्योंकि जन्म के समय उनकी पैराथायरॉइड ग्रंथिया गायब होती हैं।

निदान (Diagnosis)

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) का पता नीचे दिए गए ब्लड टेस्ट्स से चलता है-

  • खून में कैल्शियम का कम स्तर
  • खून में फास्फोरस का अधिक स्तर
  • खून में PTH का कम स्तर

अगर आपको हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) है तो इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECD) असमान्य हृदय गति दिखा सकता है और यूरिनेरी कैल्शियम के उच्च स्तरों को यूरिन टेस्ट द्वारा देखा जाएगा (बहुत अधिक कैल्शियम शरीर से निकल रहा है)

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म का इलाज (Treatment for hypoparathyroidism)

इलाज का उद्देश्य खून में कैल्शियम और अन्य खनिजों के स्तर को वापिस सामान्य करना होता है।

कैल्शियम का सामान्य स्तर लगभग 2.10–2.50 मिलीमोल्स प्रति लीटर (mmol/L) है। आपको अपने रक्त के कैल्शियम स्तर को 2.00-2.25 mmol/L पर बनाए रखने का लक्ष्य रखना चाहिए।

कैल्शियम कार्बोनेट और विटामिन डी सप्लीमेंट्स - आमतौर पर कैल्सीट्रियोल रोक्लेटोल (calcitriol Rocaltrol) या अल्फाकल्सिडोल (alfacalcidol) । वन-अल्फा - इन स्तरों को सुधारने के लिए लिया जा सकता है। उन रोगियों को छोड़कर, जिनकी गर्दन की सर्जरी के बाद अल्पकालिक हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म होता है, इन्हें सामान्य रूप से जीवनभर लेना पड़ता है। आपके ब्लड लेवल्स को नियमित रक्त जांचों के द्वारा मॉनिटर करना ज़रूरी है। चिकित्सा का उद्देश्य लक्षणों को दूर करना और कैल्शियम को सामान्य या निम्न-सामान्य रेंज में रखना है।

आपको अधिक कैल्शियम, कम फास्फोरस वाला भोजन लेने की सलाह भी दी जाती है।

कैल्शिय के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:

  • दूध, चीज़ और अन्य डेयरी प्रोडक्ट्स
  • हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे कि ब्रॉकली, पत्तागोभी और भिंडी लेकिन पालक नहीं
  • सोया बीन
  • टोफू
  • एडेड कैल्शियम के साथ सोया ड्रिंक्स
  • नट्स
  • रोटी और दृढ़ आटे से बनी कोई भी चीज़
  • मछली जिस्मीं आप हड्डियों को खाते हैं, जैसे कि सार्डिन (sardines) और पिलचार्ड्स (pilchards)

फास्फोरस इनमें पाया जाता है:

  • लाल मांस
  • डेयरी फूड्स
  • मछली
  • मुर्ग़ी
  • ब्रेड
  • चावल
  • ओट्स

यदि आपके रक्त में कैल्शियम का स्तर खतरनाक रूप से कम हो जाता है या आपको मांसपेशियों में ऐंठन रहती है, तो आपको ड्रिप के माध्यम से कैल्शियम दिया जा सकता है (सीधे आपकी नस में) और आपके ह्दय गति की निगरानी तब तक की जाएगी जब तक कि यह स्थिर न हो जाए। फिर आप पूरक आहार के साथ उपचार जारी रखेंगे।

जटिलताएं (Complications)

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) से कभी कभी निम्न हो सकता है:

  • अवरुद्ध विकास
  • खराब विकसित दांत
  • धीमा मानसिक विकास
  • मोतियाबिंद

हाइपोपैराथायरॉइडिज़्म (Hypoparathyroidism) अन्य ऑटोइम्यून स्थितियों जैसे कि एडिसन डिसीज़ और हानिकारक रक्त की कमी (pernicious anaemia) के साथ हो सकता है।

अत्याधिक कैल्शियम सप्लीमेंट्स से जटिलताएं हो सकती हैं, जैसे कि किडनी की पथरी.

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism)

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism) का मतलब पैराथायरॉइड ग्रंथि बहुत अधिक PTH बना रही है। इसकी वजह से ब्लड कैल्शियम लेवल्स बढ़ सकते हैं (हाइपरकैल्सीमिया) (hypercalcaemia) और ब्लड फास्फोरस लेवल कम हो सकते हैं। (हाइपोफॉसफेटेमिया) (hypophosphataemia).

लक्षण (Symptoms)

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism) की वजह से हमेशा लक्षण दिखाई नहीं देते हैं।

जब कैल्शियम का उच्च स्तर लक्षण पैदा करता है, तो वे हल्के या सामान्य हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • डिप्रेशन
  • थकान
  • अधिक प्यास लगना और बहुत अधिक मात्रा में पेशाब आना
  • और भूख कम लगना
  • मांसपेशियों की कमज़ोरी
  • कब्ज़
  • पेट में दर्द
  • एकाग्रता में कमी
  • हल्का कन्फ्यूजन

लेकिन अगर इनका इलाज ना किया जाए तो कैल्शियम के बढ़े हुए स्तर से निम्न परेशानियां हो सकती हैं:

  • उल्टी
  • उनींदापन
  • पानी की कमी
  • भ्रम की स्थिति
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • हड्डी में दर्द या संवेदनशीलता
  • अनियमित ह्दय गति
  • उच्च रक्तचाप

गंभीर मामलों में, कैल्शियम का उच्च स्तर चेतना खोने और कोमा का कारण बन सकता है। इससे संभावित जटिलताएं क्या हो सकती हैं, नीचे दखें।

आपके लक्षणों की गंभीरता हमेशा आपके रक्त में कैल्शियम के स्तर से मेल नहीं खाती है। केवल थोड़े उच्च या निम्न कैल्शियम स्तर वाले लोगों में गंभीर लक्षण हो सकते हैं।

कारण (Causes)

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (Hyperparathyroidism) के दो मुख्य प्रकार है-

  • प्राथमिक – जब एक या अधिक पैराथाइरॉइड ग्रंथिया बढ़ी हुई हो या अधिक सक्रिय हो, इसके कारण नीचे दिए गए हैं और यह होने वाली असामान्यता ग्रंथि के भीतर ही है
  • गौण- जब ग्रंथि में कुछ भी गलत नहीं होता है, लेकिन एक बीमारी या स्थिति होती है (जैसे कि किडनी का फेल होना या विटामिन डी की कमी) जो कैल्शियम को कम करती है। कैल्शियम के स्तर को बहुत कम स्तर तक गिरने से रोकने के लिए शरीर बहुत अधिक पैराथाइरॉइड हार्मोन का उत्पादन करके प्रतिक्रिया करता है।
  • कुछ दुर्लभ मामलों में, जब सैकेंडरी हाइपरपैराथायरायडिज्म (hyperparathyroidism) का बहुत लंबे समय तक इलाज न हुआ हो, तो ग्रंथि हर समय अति सक्रिय रहती है। इसे तृतीयत हाइपरपैराथायरायडिज्म (hyperparathyroidism) के रूप में जाना जाता है। यह उन मरीजों में सबसे अधिक देखा जाता है, जिन्हें लंबे समय किडनी फेल की समस्या रही हो।

प्राइमरी हाइपरपैराथायरॉइडिज्म (primary hyperparathyroidism) का मुख्य कारण एक गैर-कैंसरग्रस्त ट्यूमर है, जिसे एडेनोमा (adenoma) कहा जाता है जो पैराथायरॉइड ग्रंथियों में से एक पर बढ़ता है, जिससे यह अतिसक्रिय हो जाता है।

प्राइमरी हाइपरपैराथायरॉइडिज्म (primary hyperparathyroidism) के मुख्य कारण हैं:

  • दो या अधिक ग्रंथियों का बढ़ना (hyperplasia)
  • सर या गर्दन में रेडियोथैरेपी उपचार

शायद ही कभी, वंशानुगत जीन के परिणामस्वरूप प्राइमरी हाइपरपैराथायरॉइडिज्म (primary hyperparathyroidism) हो सकता है जिसकी पहचान कम उम्र में की जाती है।

बहुत ही दुर्लभ मामलों में, ये पैराथायरॉइड ग्रंथि के कैंसर के कारण हो सकता है।

कई मामलों में, डॉक्टरों को हाइपरपैराथायरॉइडिज्म (hyperparathyroidism) का कारण नहीं पता होता है।

कौन प्रभावित होते हैं? (Who is affected?)

अधिकांश मामलों में हाइपरपैराथायरॉइडिज्म (hyperparathyroidism) उन लोगों में होता है जिनकी कोई फैमिली हिस्ट्री नहीं रही होती है। केवल 5 प्रतिशत मामले अनुवांशिक परेशानियों से जुड़े होते हैं।

महिलाओं में पुरुषों के मुकाबले इसके विकसित होने की संभावना दोगुनी होती है और उम्र के साथ जोखिम बढ़ता है।

निदान (Diagnosis)

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म का पता खून की इन जांचों के बाद चलता है:

  • PTH का उच्च स्तर
  • खून में कैल्शियम का उच्च स्तर
  • फॉस्फोरस का कम स्तर

एक्स-रे हड्डी की हानि, फ्रैक्चर या हड्डी के मुलायम होने का पता करने में मदद कर सकते हैं और एक्स-रेज़, सीटी स्कैन्स या अल्ट्रासाउंड कैल्शियम का इकट्ठा होना या ब्लॉक पैदा करना दिखा सकते हैं।

इलाज (Treatments)

अगर आपका हाइपरपैराथायरॉइडिज्म हल्का है, तो इलाज की ज़रूरत नहीं है। आपको डॉक्टर के साथ नियमित चेकअप की ज़रूरत हो सकती है।

आपको एक स्वस्थ संतुलित आहार रखना चाहिए और कैल्शियम से पूरी तरह बचने की आवश्यकता नहीं है। यदि आपके भोजन में कैल्शियम नहीं है, तो पैराथायरॉइड हार्मोन के स्केलटन से कैल्शियम लेने की अधिक संभावना है, जिससे नाज़ुक हड्डियां (ऑस्टियोपोरोसिस) हो सकती हैं। उच्च कैल्शियम आहार से बचने की कोशिश करें और डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए खूब पानी पिएं।

यदि आपके लक्षण परेशान करने वाले हैं या आपका रक्त कैल्शियम बहुत अधिक है, तो आपको बहुत अधिक PTH बनाने वाली पैराथायरॉइड ग्रंथि को सर्जरी द्वारा हटाने की ज़रूरत हो सकती है। ऑपरेशन के 95% मामलों में सर्जरी हाइपरपैराथायराइडिज्म को ठीक करती है।

अगर सर्जरी संभव नहीं है तो आपको दवाईयां दी जा सकती हैं। दवाईयां हो सकती हैं:

  • बोन डेन्सिटी में सुधार के लिए बिसफ़ॉस्फ़ोनेट्स (Bisphosphonates )। कैल्शियम के बहुत बढ़े हुए स्तर को ठीक करने में के लिए नसों में ड्रिप (सीधे शिरा में दिया गया) की आवश्यकता हो सकती है।
  • अपने रक्त कैल्शियम और PTH के स्तर को कम करने और फॉस्फेट के स्तर को बढ़ाने के लिए सिनाकाल्सेट (Cinacalcet)

सेकेंड्री हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म का इलाज बुनियादी कारण पर निर्भर कर सकता है। किडनी डिसीज़ के इलाज के बारे में और पढ़े, जो सेकेंड्री हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (secondary hyperparathyroidism) का सबसे आम कारण है। कैल्शियम लेवल को सही करने और बुनियादी परेशानी को ठीक करने से आमतौर पर हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म ठीक हो जाएगा।

जटिलताएं (Complications)

हाइपरपैराथायरॉइडिज़्म (hyperparathyroidism) की जटिलताएं दुर्लभ हैं, लेकिन इनमें शामिल हैं-

  • ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) और फ्रैक्चर
  • किडनी स्टोन और ब्लॉकेज, और किडनी डैमेज या फेलियर
  • पेप्टिक अल्सर
  • पैंक्रीयटायटिस (पैनक्रियाज में सूजन)
NHS के मूल कॉन्टेंट का अनुवादHealthily लोगो
क्या यह लेख उपयोगी था?

महत्वपूर्ण सूचना: हमारी वेबसाइट उपयोगी जानकारी प्रदान करती है लेकिन ये जानकारी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई निर्णय लेते समय आपको हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।